7 Effective Yoga for Varicocele in Hindi (जानिए वैरीकोसेल के लिए योग हिंदी में)

वैरीकोसेल के लिए योग (Yoga for Varicocele in Hindi) : शारीरिक समस्याएं कई प्रकार की हैं और इनमें से कुछ समस्याओं को बिलकुल भी अनदेखा नहीं किया जाना चाहिये। ऐसी ही एक समस्या है वैरीकोसेल। वैरीकोसेल पुरुषों में होने वाली एक काफी आम समस्या है, जो 15-25 साल की उम्र के पुरुषों को प्रभावित करती है।

वैरिकोसेले की समस्या में, अंडकोष में नसें बढ़ जाती हैं और अंडकोष फूल जाता है। अंडकोश की सूजन वाली नसों को मेडिकल की भाषा में वैरिकोसेले कहा जाता है। ये नसें पुरुष की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती हैं। लेकिन आपको बता दें कि सभी वैरीकोसेल के मामले शुक्राणु के उत्पादन को प्रभावित नहीं करते हैं।

वैरिकोसेल कोई ज्यादा गंभीर समस्या नहीं है। यदि इस समस्या की शुरुआत में इस पर ध्यान दिया जाए, तो बहुत कम समय में इसे जड़ से मिटाया जा सकता है। इसके इलाज के कई माध्यम हैं। इन्ही में से एक है योगासन इन योग की मदद से इस समस्या को दूर किया जा सकता है। इस लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है वैरीकोसेल के लिए योग (Yoga for Varicocele in Hindi) इस लेख में हम आपको बताएंगे की वो कौन कौन से योग है जो इस समस्या से राहत दिला सकते है।

वैरीकोसेल के लिए योग में कौन-कौन से योग करने चाहिए? (Yoga for Varicocele in Hindi):

  1. वज्रासन योग (Vajrasana Yoga)
  2. सेतुबंधासन योग (Setu Bandhasana Yoga)
  3. धनुरासन योग (Dhanurasana Yoga)
  4. अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग (Ardha Matsyendrasana Yoga)
  5. सर्वांगासन योग (Sarvangasana Yoga)
  6. विपरीत करनी आसन योग (Viprita Karani Asana Yoga)
  7. हलासन योग (Halasana Yoga)

योग के माध्यम से पूरे शरीर को स्वस्थ रखा जाता है। लेकिन अगर आप वैरीकोसेल की समस्या को लेकर परेशान हैं तो चिंता न करे वैरिकोसल भी अन्य आम बीमारियों की तरह है। यह एक गंभीर बीमारी नहीं है और इसके उपचार के कई प्रभावी तरीके उपलब्ध हैं।

इन्ही उपचार में हम आज आपको ऐसे कई योगा के बारे में बता रहे जो वैरीकोसेल समस्या से राहत दिला सकते है, बस आपको यहाँ बताएं गये योगसनो का नियमित रूप से का अभ्यास करना है। जो इस प्रकार से हैं, योगा फॉर वैरीकोसेल (Varicocele Treatment by Yoga in Hindi) :

1. वैरीकोसेल के लिए योग में वज्रासन योग करे (Vajrasana Yoga for Varicocele in Hindi):

वैरीकोसेल के लिए योग में वज्रासन योग कैसे लाभदायक है:

वज्रासन एक प्रसिद्ध मुद्रा है जो वैरिकोसेले के उपचार में बहुत प्रभावी है। वज्रासन यौन अंगों को मजबूत करने के लिए जाना जाता है। यह पैल्विक मांसपेशियों को मजबूत करता है, दर्द को कम करता है। वज्रासन योग मुद्रा श्रोणि क्षेत्र में रक्त के प्रवाह को भी बढ़ाता है और इस प्रकार वैरिकोसेले की समस्या को और आगे बढ़ने से रोकता है। तो आइये जानते है वैरीकोसेल के लिए योग में वज्रासन योग करने की विधि क्या है-

वैरीकोसेल के लिए योग - Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)
वैरीकोसेल के लिए योग – Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)

वज्रासन योग करने की विधि (How To Do Vajrasana Yoga for Varicocele in Hindi):

  1. जमीन पर शरीर को सीधा करके घुटनों के बल बैठ जाएं।
  2. अपने पैरों के घुटनों को मोड़ें ओर निचले पैरों को पीछे की ओर खींचते हुए उन्हें एक साथ रखें।
  3. अब इस स्थति में आपके पैर की बड़ी उंगलियां ओर अंगूठे एक दूसरे से मिलने चाहिए और दोनों पैर की एड़ियां अलग-अलग होनी चाहिए ।
  4. अब घुटनों को मोड़कर इस तरह से बैठ जाए कि आपके नितंब (Hips) दोनों एड़ियों के बीच में आ जाएं, दोनों पैरों के अंगूठे आपस में मिले रहें और एड़ियों में अंतर भी बना रहे।
  5. अपने सिर और कमर को सीधा रखें।
  6. अब अपने दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रखें और दृष्टि बिल्कुल सामने की ओर रखें।
  7. अपनी आंखें बंद कर लें और दिमाग को शांत रखें, और अपनी सांसों की गति पर ध्यान केंद्रित करे, इस बात का पूरा ध्यान रखें कि आप कैसे सांस ले रहे हो सांस आने और जाने पर बराबर ध्यान बनाए रखें।
  8. यदि आप योग करना शुरू कर रहे हैं, तो इसे शुरू में केवल 5–10 मिनट के लिए करें।
  9. इसके बाद इसमें अभ्यस्त हो जाने पर अपने समय को बढ़ाकर 20 से 30 मिनट तक कर सकते हैं।

(यह भी पढ़े – एलोपेसिया का होम्योपैथिक उपचार, इलाज और दवा (Alopecia Treatment in Homeopathy in Hindi))

2. वैरीकोसेल के लिए योग में सेतुबंधासन योग आजमाए (Setu Bandhasana Yoga for Varicocele in Hindi):

वैरीकोसेल के लिए योग में सेतुबंधासन योग कैसे लाभदायक है:

यह आसन थायरॉयड ग्रंथि को विनियमित करने में मदद करता है, तनाव और डिप्रेशन को कम करने में भी मदद करता है और यह रक्त परिसंचरण में सुधार करता है है जो वैरीकोसेल की समस्या को दूर करने के लिए फायदेमंद हो सकता है। तो आइये जानते है वैरीकोसेल के लिए योग में सेतुबंधासन योग करने की विधि क्या है-

वैरीकोसेल के लिए योग - Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)
वैरीकोसेल के लिए योग – Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)

सेतुबंधासन योग करने की विधि (How To Do Setu Bandhasana Yoga for Varicocele in Hindi):

  1. सेतुबंधासन करने के लिये सबसे पहले एक योग चटाई बिछाकर अपनी पीठ के बल लेट जाएं।
  2. अपने घुटनों को मोड़ें।
  3. घुटनों और पैरों को सीधी रेखा में रखते हुए दोनों पैरों को एक-दूसरे से थोड़ा गैप रखते हुए फैलाएं।
  4. हाथों को शरीर से सटाकर रखें और हाथों की हथिलियो को जमीन पर सटा कर रखे।
  5. धीरे-धीरे साँस लेते हुए, अपनी पीठ के निचले, मध्य और ऊपरी हिस्सों को धीरे से जमीन से ऊपर उठाएं।
  6. धीरे-धीरे अपने कंधों को अंदर की ओर ले जाएं।
  7. अपनी ठोड़ी को हिलाए बिना, अपनी ठोड़ी के साथ अपनी छाती लगाएं और अपने वजन के साथ अपने कंधों, हाथों और पैरों का समर्थन करें। इस दौरान निचले शरीर को स्थिर रखें और ध्यान रहे की इस दौरान दोनों जांघें एक साथ रहेंगी।
  8. यदि आप चाहें तो इस समय के दौरान, आप अपने ऊपरी शरीर को जमीन पर हाथों से दबाकर उठा सकते हैं। आप अपने हाथों से अपनी कमर का सहारा भी ले सकते हैं।
  9. साँस छोड़ते हुए आसन को 1-2 मिनट तक करें फिर आसन को समाप्त करे।

3. वैरीकोसेल के लिए योग में धनुरासन योग करे (Dhanurasana Yoga for Varicocele in Hindi):

वैरीकोसेल के लिए योग में धनुरासन योग कैसे लाभदायक है:

धनुरासन योग मुद्रा के नियमित अभ्यास से वैरिकोसेले के लक्षणों को काफी हद तक कम किया जा सकता है। धनुरासन प्रजनन अंगों को उत्तेजित करता है और पूरे शरीर में रक्त परिसंचरण में भी सुधार करता है। यह कमर और पीठ दोनों को एक अच्छा स्ट्रेच देता है, जिससे हमारे कमर और पीठ के दर्द से राहत मिलती है। शारीरिक लाभ के अलावा, धनुरासन चिंता और डिप्रेशन से भी छुटकारा दिलाता है और हमारे शरीर को चिकित्सा की सुविधा प्रदान करता है। तो आइये जानते है वैरीकोसेल के लिए योग में धनुरासन योग करने की विधि क्या है-

वैरीकोसेल के लिए योग - Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)
वैरीकोसेल के लिए योग – Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)

धनुरासन योग करने की विधि (How To Do Dhanurasana Yoga for Varicocele in Hindi):

  1. धनुरासन करने के लिए, सबसे पहले, एक साफ हवादार जगह चुनें।
  2. उसके बाद अपनी योग चटाई बिछाकर पेट के बल लेट जाएं। अपने नितंबों के बीच गैप रखें और दोनों हाथों को सीधा रखें।
  3. अपने घुटनों को मोड़ते हुए सांस छोड़ें, अपनी एड़ी को अपने नितंबों के जितना करीब लाएं। और धनुषाकार होते हुए, अपनी एड़ियों को अपने हाथों से पकड़ें।
  4. अब अपनी छाती को सांस लेते हुए जमीन से ऊपर ले जाएं।
  5. अब पैरों को थोड़ा और ऊपर उठाएं और सांस लेते हुए अपनी एड़ियों को हाथ से खींचने की कोशिश करें।
  6. इस दौरान, आपके घुटने आपके कूल्हों की चौड़ाई से अधिक चौड़े नहीं होते हैं।
  7. एड़ियों को खींचते समय पेट के वजन का संतुलन बनाए रखें और सिर को बिल्कुल सीधा रखें।
  8. आपके शरीर के लचीलेपन के आधार पर, आप अपने शरीर को आगे बढ़ा सकते हैं।
  9. इस धनुषाकार मुद्रा का प्रदर्शन करते हुए सांस लेने और छोड़ने पर ध्यान दें।
  10. जब तक संभव हो इस स्थिति में रहें।
  11. प्रारंभिक अवस्था में वापस आने के लिए, धीरे-धीरे शरीर की मांसपेशियों को ढीला छोड़े और अपनी नितंबों और जांघों को जमीन की ओर लाएं।
  12. अब शरीर के सामने के हिस्से को जमीन पर लाएं।
  13. इसके बाद, दोनों हाथों से एड़ी को छोड़ दें और अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

(यह भी पढ़े – 10 Effective Hair Fall Remedies At Home in Hindi (बालों को झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय))

4. वैरीकोसेल के लिए योग में अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग करे (Ardha Matsyendrasana Yoga for Varicocele in Hindi):

वैरीकोसेल के लिए योग में अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग कैसे लाभदायक है:

यह योग मुद्रा आपकी रीढ़ को उभारती है और फैलाती है एवं आपके कंधों, कूल्हों और गर्दन को खोलने में भी मदद करती है। यह आपके आंतरिक अंगों को भी साफ करता है। अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग मुद्रा के नियमित अभ्यास से वैरिकोसेले के लक्षणों को काफी हद तक कम किया जा सकता है। तो आइये जानते है वैरीकोसेल के लिए योग में अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग करने की विधि क्या है-

वैरीकोसेल के लिए योग - Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)
वैरीकोसेल के लिए योग – Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)

अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग करने की विधि (How To Do Ardha Matsyendrasana Yoga for Varicocele in Hindi):

  1. एक योग चटाई बिछाकर दंडदान में बैठें जायें।
  2. हल्के हाथों से जमीन को दबाते हुए सांस लें, और अपने शरीर को बाईं ओर मोड़ते हुए अपनी रीढ़ को लंबा करें।
  3. बाएं पैर को मोड़कर बाएं पैर को दाएं घुटने से ऊपर लाकर जमीन पर लाएं।
  4. दाएं पैर को मोड़ें और पैर को आराम से बाएं कूल्हे के पास जमीन पर रखें।
  5. दाएं हाथ को बाएं पैर के ऊपर लाएं और बाएं पैर के पंजे को पकड़ें।
  6. साँस छोड़ते समय धड़ और गर्दन को जितना हो सके मोड़ें और अपने बाएं कंधे पर फोकस करें।
  7. अपनी रीढ़ में मोड़ को गहरा करने के लिए अपने कूल्हों को चौकोर रखने की कोशिश करें।
  8. बाएं हाथ को जमीन पर आराम दें और सामान्य रूप से साँस लें।
  9. 30-60 सेकंड के लिए आसन में रहें एवं आसन से बाहर निकलने के लिए सभी चरणों को रिवर्स क्रम में करें।
  10. इन सभी चरणों को दूसरी तरफ भी दोहराएं।

(यह भी पढ़े – 7 Effective Yoga for Varicose Veins in Hindi (योगा फॉर वैरिकोज वेन्स))

5. वैरीकोसेल के लिए योग में सर्वांगासन योग करे (Sarvangasana Yoga for Varicocele in Hindi):

वैरीकोसेल के लिए योग में सर्वांगासन योग कैसे लाभदायक है:

यह आसन अंडकोष में रक्त परिसंचरण में सुधार और शरीर को साफ करने के लिए एक महान व्यायाम है। यह आसन आंत्र और पाचन स्वास्थ्य में सुधार, तनाव और चिंता को कम करता है, वृषण रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, प्रजनन क्षमता और पौरूष समस्याओं का इलाज करता है, शरीर की मुद्रा में सुधार और मांसपेशियों में संतुलन और तनाव को कम करता है। तो आइये जानते है वैरीकोसेल के लिए योग में सर्वांगासन योग करने की विधि क्या है-

वैरीकोसेल के लिए योग - Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)
वैरीकोसेल के लिए योग – Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)

सर्वांगासन योग करने की विधि (How To Do Sarvangasana Yoga for Varicocele in Hindi):

  1. सबसे पहले स्वच्छ खुले वातावरण में एक योग मैट बिछा लें।
  2. जिससे इस आसन को करते समय शरीर को स्वच्छ ऑक्सीजन मिले।
  3. अब इस आसन को करने के लिए योग मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  4. दोनों हाथ और पैर सीधे जमीन पर होने चाहिए।
  5. हथेलियों को जमीन की तरफ रखें ,और दोनों पैर एक दूसरे से सीधे सटे होने चाहिए।
  6. अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए दोनों पैरों, कूल्हों और कमर को धीरे-धीरे ऊपर की तरफ उठाएं।
  7. अब अपनी कमर और पीठ को ऊपर की ओर उठाने के लिए दोनों हाथों की कोहनी को जमीन पर रखें और हथेलियों से अपनी कमर को सहारा दें।
  8. ध्यान रहे कि इसको करते समय आपके दोनों पैर सीधे रहें, अपने घुटनों को मोड़ने न दें।
  9. इस आसन में शरीर का पूरा भार कंधों और सिर पर होगा।
  10. इसे करते समय ठोड़ी को छाती से स्पर्श कर के रखें।
  11. अपने कंधे से कोहनी तक के क्षेत्र को जमीन के करीब रखें और अपने चेहरे को आकाश या पैरों के अंगूठे की ओर रखें।
  12. अपने शरीर को स्थिर करें और अपनी क्षमता के अनुसार कुछ देर तक इस मुद्रा में बने रहें।
  13. सांस को सामान्य रखें।
  14. सर्वांगासन से बाहर आने के लिए, कमर और पैरों को धीरे-धीरे नीचे लाएं और अपने हाथों को जमीन पर रखें।
  15. अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

(यह भी पढ़े – झड़ते बालों के लिए आयुर्वेदिक उपाय (10 Effective Hair Fall Solution in Ayurveda in Hindi))

6. वैरीकोसेल के लिए योग में विपरीत करनी आसन योग करे (Viprita Karani Asana Yoga for Varicocele in Hindi):

वैरीकोसेल के लिए योग में विपरीत करनी आसन कैसे लाभदायक है:

विपरीत करनी योग मुद्रा एक बहुत ही आसान योग आसन है जो वैरिकोसेले की समस्या में अद्भुत योगासन साबित हो सकती है। विपरीत करनी मुद्रा का नियमित अभ्यास आपके दर्द को कम करता है और रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। यह अंडकोष की नसों में जमा रक्त को निष्कासित करता है, जिससे वृषण ठंडा होता है। इसके विपरीत यह योग मुद्र टेस्टोस्टेरोन उत्पादन को बढ़ाती है और बांझपन का इलाज करती है। तो आइये जानते है वैरीकोसेल के लिए योग में विपरीत करनी आसन योग करने की विधि क्या है-

वैरीकोसेल के लिए योग - Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)
वैरीकोसेल के लिए योग – Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)

विपरीत करनी आसन योग करने की विधि (How To Do Viprita Karani Asana Yoga for Varicocele in Hindi):

  1. अपनी योग चटाई बिछा कर उस पर लेट जाये। अगर आप सहज महसूस न करे तो आप अपनी कमर पर कम्बल या तकिया लगा सकते है और अब सामान्य रूप से सांस लें।
  2. अब धीरे धीरे अपनी टांगो को ऊपर की ओर उठाये और जब टांगो से 45° कोण बन जाये तब अपनी कमर को हाथो से सहारा देते हुए अपने हिप्स को ऊपर उठाए जब तक वह एकदम सीधी ऊपर नही हो जाती।
  3. यह सुनिश्चित करे की आपकी कोहनियाँ जमीन पर हो और आपकी कमर को अच्छे से सहारा दे रहे हो।
  4. अपने पैरों को अपेक्षाकृत मजबूत रखें, बस उन्हें जगह में लंबवत रखने की कोशिश करे।
  5. गहरी सांस लेते रहें और अपनी सहूलियत के अनुसार इस स्थिति में रहें। शुरुआत में 30 – 60 सेकंड तक करें। स्वास्थ्य लाभ के लिए इस योग आसन का अभ्यास हर दिन 3 से 5 मिनट पर्याप्त है। हालांकि आध्यात्मिक लाभ के लिए योगी 15 मिनट तक कर सकते हैं।

(यह भी पढ़े – सिल्की बालों के लिए शैम्पू (Silky Balo Ke Liye Shampoo in Hindi))

7. वैरीकोसेल के लिए योग में हलासन योग करे (Halasana Yoga for Varicocele in Hindi):

वैरीकोसेल के लिए योग में हलासन योग कैसे लाभदायक है:

इस योग का अभ्यास जहरीले वैरीकोसेल रक्त पूलिंग को फ्लश करने में मदद करता है, और वैरिकोसेले लक्षणों को कम करने में सुधार करता है और रक्त परिसंचरण में वृद्धि करता है। इसका नियमित अभ्यास आपकी वैरीकोसेल की समस्या को दूर करने में लाभदायक साबित हो सकती है। तो आइये जानते है वैरीकोसेल के लिए योग में हलासन योग करने की विधि क्या है-

वैरीकोसेल के लिए योग - Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)
वैरीकोसेल के लिए योग – Varicocele Ke Liye Yoga (Yoga for Varicocele in Hindi)

हलासन योग करने की विधि (How To Do Halasana Yoga for Varicocele in Hindi):

  1. सबसे पहले, स्वच्छ वातावरण में एक योग चटाई बिछा लें और उस पर सीधे लेट जाएँ।
  2. अपनी भुजाओं को शरीर से सटा कर अपने बगल में जमीं पर लिका कर रखें लें।
  3. हाथो की हथेलियों की दिशा निचे जमीन की ओर कर के रखें।
  4. श्वास अंदर लेते हुए पैरों को 90 डिग्री तक ऊपर की ओर उठाएं।
  5. यदि पैरों को उठाने में कठिनाई होती है, तो आप हाथों से कमर को सहारा दे सकते हैं।
  6. ध्यान रखे की पांव मुड़े हुये ना हों।
  7. सांस को धीरे धीरे अन्दर लें और धीरे धीरे सांस छोड़े और सुनिश्चित करें कि आपका संतुलन सही है।
  8. अब धीरे से सांस छोड़ते हुए पैरों को सीधा रखते हुए, धीरे-धीरे सिर के उपर से होते हुए पीछे की ओर ले जाएं।
  9. इस स्धिती में पैर के अंगूठे से जमीन को छूने की कोशिश करें।
  10. अब अपने हाथों को कमर से हटाकर जमीन पर सीधा रखें।
  11. हाथो की हथेलियों की दिशा निचे जमीन की ओर रहेंगी।
  12. सामान्य गति से सांस लेते रहें और जितना संभव हो हलासन योग मुद्रा में बने रहने की कोशिश करें।
  13. कुछ समय इस मुद्रा में रहने के बाद वापस सांस लेते हुए धीरे-धीरे प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।
  14. आप अपनी क्षमता के अनुसार इस योगासन को 3 से 5 बार कर सकते हैं।

आशा है इन सभी योगासनों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की वैरीकोसेल के लिए योग (Yoga for Varicocele in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख वैरीकोसेल के लिए योग (Yoga for Varicocele in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी वैरीकोसेल के लिए योग (Yoga for Varicocele in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई वैरीकोसेल के लिए योग (Yoga for Varicocele in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी वैरीकोसेल के लिए योग (Yoga for Varicocele in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!