बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (9 Effective Yoga For Piles in Hindi)

बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi) : तनावपूर्ण जीवन शैली और व्यायाम की कमी से बवासीर हो सकता है। बवासीर के इलाज या उसे रोकने के लिए योग फायदेमंद होता है। यह कब्ज और बवासीर दोनों को कम कर सकता है।

बवासीर को रोकने और नियंत्रित करने के लिए योग थेरेपी बहुत मदद करती है। कुछ योग और प्राणायाम की तकनीक का अभ्यास शरीर को शुद्ध करता है, जो पाचन और आंतों की समस्याओं को रोकता है। बवासीर की स्थिति में, किसी को बवासीर का अनुभव हो सकता है या मल पास करने में मुश्किल हो सकता है।

योग अक्सर बवासीर के हल्के दर्द और सूजन से राहत दे सकता है। आप बस क्रिया, (Piles Treatment Yoga in Hindi) आसन और प्राणायाम का नियमित अभ्यास जरुर करें।

योग नसों पर दबाव को कम कर सकता है, जो लंबे समय तक खड़े रहने या बैठने के साथ हो सकता है।

मल को पास करने की कोशिश करते समय सांस लेने और रोकने से बचें, क्योंकि यह निचले मलाशय में नसों में अधिक दबाव पैदा करेगा। कोशिश करें कि शौचालय में ज्यादा देर तक न बैठें।

मल को नरम रखने में मदद करने के लिए बहुत सारा पानी पिए। ऐसे फल, सब्जियां और भोजन खाएं जिनमें फाइबर होता है। यह बवासीर को दूर करने और आसान उन्मूलन में सहायता करता है।

Table Of Contents :

बवासीर के लिए योगासन – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga For Piles in Hindi):

क्या आप भी बवासीर से परेशान हैं और बवासीर की समस्या का उपचार ढूंड रहे हैं? आज हम आपके लिए यह लेख लाये है जिसमे आप जानेगें की वें कौन-कौन से बवासीर के लिए योग हैं जो बवासीर की समस्या को दूर करने में आपकी मदद कर सकते हैं, तो चलिए जानते है बवासीर के लिए योग (Piles Treatment Yoga in Hindi) कौन कौन से हैं-

1. बवासीर के लिए योग में लाभदायक है ताड़ासन योग [Bawasir Ke Liye Yogasan Tadasana Yoga (Mountain Pose)]:

बवासीर के लिए योग में ताड़ासन योग कैसे लाभदायक है (Bawasir Ke Liye Yogasan Me Tadasana Yoga Kare):

यह योग मुद्रा विशेष रूप से आपके पेट, जोड़ों और नितंबों के क्षेत्र के लिए लाभ प्रदान करती है। इसके लिए मांसपेशियों में खिंचाव की आवश्यकता होती है जो आपकी मुद्रा को बेहतर बनाने और आपके जोड़ों को मजबूत करने में मदद कर सकती है।

इसके साथ ही कहा गया, ताड़ासन उन लोगों को भी लाभ पहुंचा सकता है जो बवासीर / कब्ज से पीड़ित हैं। बवासीर के लिए योग में बेहद फायदेमंद मुद्रा है क्योंकि यह पेट के निचले हिस्से को मजबूत करता है।

और आपकी पेट से जुडी कई समस्याओ को दूर करने में भी मदद करता है। आपको बवासीर से राहत पाने के लिए इस योगासन का अभ्यास जरुर करना चाहिए।

बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)
बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)

(Bawasir Ke Liye Yogasan Me Tadasana Yoga Kaise Kare) कैसे करे:

  1. एक साफ और खुली जगह चुनें और योग मैट, दरी या कंबल बिछा कर उस पर खड़े हो जाये।
  2. अब पैरों और कमर को सीधा करके योगा मैट पर खड़े हो जाएं।
  3. सीधे खड़े होकर पैरों के बीच कुछ दूरी रखें।
  4. अपने दोनों हाथों को अपने शरीर के करीब रखें।
  5. अब गहरी सांस लें, अपनी दोनों बाहों को सिर से ऊपर उठाएं और अपनी उंगलियों को एक साथ बांध लें।
  6. अब अपने हाथ सीधे रखें और स्ट्रेच करें, इस दोरान आपकी हथेलियों की दिशा आकाश की तरफ होनी चाहिए।
  7. अब आपको अपनी एड़ी ऊपर करते हुए अपने पेरो की उंगलियों पर खड़े होना है।
  8. इस दौरान आपके शरीर को पैरों से लेकर हाथों की उंगलियों तक खिंचाव महसूस करना चाहिए।
  9. अब 10 सेकंड तक इस पोजीशन में रहें और सांस लेते रहें।
  10. फिर सांस छोड़ते हुए शुरु की अवस्था में आ जाएं और इस आसन को कम से कम 10 बार जरुर दोहराएं।

(यह भी पढ़े – बालों के लिए योगा – Balo Ke Liye Yoga [9 Effective Yoga For Hair Fall in Hindi])

2. बवासीर के लिए योग में फायदेमंद है बालासन योग [Bawasir Ke Liye Yogasan Balasana Yoga (Child Pose)]:

बवासीर के लिए योग में बालासन योग कैसे लाभदायक है (Bawasir Ke Liye Yogasan Me Balasana Yoga Kare):

बालासन को पेट संबंधित विकारों को दूर करने के लिए जाना जाता है जिसमें बवासीर का इलाज भी शामिल है। बालासन को “बच्चे की मुद्रा” भी कहा जाता है क्योंकि यह शरीर को राहत देता है और थकान दूर करने में मदद करता है।

इस आसन को करने के दौरान सांस लेने और छोड़ने से एक प्रकार की शांति मिलती है और तनाव व क्रोध कम होता है। जिसके कारण बालासन के फायदे कब्ज और गैस से राहत दिलाने में भी मदद करते है।

बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)
बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)

(Bawasir Ke Liye Yogasan Me Balasana Yoga Kaise Kare) कैसे करे:

  1. बालासना/बच्चे की मुद्रा करने के लिए अपनी योग चटाई पर बैठें।
  2. वज्रासन में अपने घुटनों के बल बैठ जाएं। इस मुद्रा में, अपने हाथो को जांघों पर रखे।
  3. अपने पैरों के दोनों घुटनों को एक दूसरे से या थोड़ी दूरी पर एक-दूसरे से चिपका कर रखें और कमर को बिल्कुल सीधा रखें।
  4. अब सांस लें, दोनों हाथों को सीधे सिर से ऊपर उठाएं। हथेलियों को न जोड़ें।
  5. अब सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुकें। ध्यान रखें कि कूल्हे के जोड़ों को झुकाना है, कमर के जोड़ों को नहीं।
  6. जब तक आपकी हथेलियां जमीन को न छुएं तब तक आगे झुकते रहें।
  7. अब सिर को जमीन पर ले जाएं।
  8. अब आप जिस मुद्रा में है वह बालासाना/बच्चे की मुद्रा हैं, अब पूरे शरीर को रिलैक्स करने दे और फिर एक गहरी सांस लें और उसे छोड़े।
  9. दोनों हाथों की उंगलियां कसकर जोड़ ले। आपको उनके बीच में अपना सिर रखकर उनका सहारा देना होगा।
  10. अब सिर को धीरे-धीरे दोनों हथेलियों के बीच में रखें एवम अपनी सांस को सामान्य रखें।
  11. अब आप 1 से 5 मिनट तक बालसन/बच्चे की मुद्रा में रह सकते है।
  12. इस आसान से बाहर निकलने के लिए, सबसे पहले, अपनी हथेलियों को कंधे के नीचे लाएं और धीरे-धीरे अपने ऊपरी शरीर को उठाएं और पिछली स्थिति में वापस आ जाएं और आराम से सांस लें। इन सभी क्रियाओं को आराम से करें।

3. बवासीर के लिए योग में लाभदायक है विपरीत करनी आसन [Bawasir Ke Liye Yogasan Viparita Karani Yoga (Legs Up The Wall Pose)]:

बवासीर के लिए योग में विपरीत करनी आसन कैसे लाभदायक है (Bawasir Ke Liye Yogasan Me Viparita Karani Yoga Kare):

विपरीत करनी योगासन रक्त परिसंचरण में सुधार करने में योगदान कर सकते हैं और इस प्रकार वे रक्तस्राव के लक्षणों को कम करने में सहायता करते हैं। यह मल त्याग के दौरान अत्यधिक तनाव के कारण होने वाले तनाव को कम करने में भी मदद करेगा।

बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)
बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)

[How To Do Viparita Karani Yoga For Piles in Hindi] कैसे करे:

  1. अपनी योग चटाई बिछा कर उस पर लेट जाये। अगर आप सहज महसूस न करे तो आप अपनी कमर पर कम्बल या तकिया लगा सकते है और अब सामान्य रूप से सांस लें।
  2. अब धीरे धीरे अपनी टांगो को ऊपर की ओर उठाये और जब टांगो से 45° कोण बन जाये तब अपनी कमर को हाथो से सहारा देते हुए अपने हिप्स को ऊपर उठाए जब तक वह एकदम सीधी ऊपर नही हो जाती।
  3. यह सुनिश्चित करे की आपकी कोहनियाँ जमीन पर हो और आपकी कमर को अच्छे से सहारा दे रहे हो।
  4. अपने पैरों को अपेक्षाकृत मजबूत रखें, बस उन्हें जगह में लंबवत रखने की कोशिश करे।
  5. गहरी सांस लेते रहें और अपनी सहूलियत के अनुसार इस स्थिति में रहें। शुरुआत में 30 – 60 सेकंड तक करें। स्वास्थ्य लाभ के लिए इस योग आसन का अभ्यास हर दिन 3 से 5 मिनट पर्याप्त है। हालांकि आध्यात्मिक लाभ के लिए योगी 15 मिनट तक कर सकते हैं।

(यह भी पढ़े – गैस के लिए योगा [Gas ke Liye Yoga (12 Effective Yoga For Gas Problem in Hindi])

4. बवासीर के लिए योग में लाभदायक होता है पवनमुक्तासन योग [Bawasir Ke Liye Yogasan Pawanmuktasan Yoga]:

बवासीर के लिए योग में पवनमुक्तासन योग कैसे लाभदायक है (Bawasir Ke Liye Yogasan Me Pawanmuktasan Yoga Kare):

पवनमुक्तासन बवासीर के लिए योग है, जो बवासीर में आराम दिला सकता है। जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया था की बवासीर की समस्या का तनाव भी एक सामान्य कारण है।

पवनमुक्तासन को रोजाना करने से आप डिप्रेशन मुक्त रहते हैं और इस से तनाव का खतरा भी कम होता हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। जब आप इस आसन का अभ्यास करते है तब पेट और अन्य इंद्रियों पर दबाव पड़ता है जिससे पेट की मालिश होती है।

नतीजतन, यह आसन पेट से हवा निकालता है और पाचन क्रिया को अच्छा बनाए रखता है।

बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)
बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)

(Bawasir Ke Liye Yogasan Me Pawanmuktasana Yoga Kaise Kare) कैसे करे:

  1. सबसे पहले अपनी योग चटाई पर पीठ के बल सीधे लेट जाएं।
  2. अपने घुटनो को मोड़ें और अपनी जाँघों को छाती की ओर लाएँ।
  3. घुटनों के ठीक नीचे दोनों हाथों की उंगलियों को एक-दूसरे से आपस में फंसा कर पकड़ें ले।
  4. अब “पवनमुक्तासन” अथार्त  एक गहरी श्वास भर कर बहार छोड़ें।
  5. अब सांस छोड़ते हुए हुए दोनों घुटनों को दबा कर जितना संभव हो सके छाती की तरफ लाएं।
  6. अपने सिर को जमीन से ऊपर उठाएं और नाक को घुटने से छूने का प्रयास करेंगे।
  7. अब 30 सेकेंड तक इसी मुद्रा में थोड़ी देर रुके रहें और लंबी गहरी साँसे लेते रहें।
  8. अपने पैरों को खिंच कर रखे और एड़ियो को कुल्हे से लगा कर पैरों के पंजो को निचे की तरफ तने हुए रखें।
  9. फिर धीरे-धीरे साँस छोड़ते हुए सिर और पैरों को पहले की स्थिति में लाएं।
  10. पवनमुक्तासन के सभी चरणों के साथ अपनी ओर से कोई बदलाव न करें। गैस को पाचन तंत्र से बाहर निकालने के लिए इस आसन के सभी चरणों का क्रमबद्ध अभ्यास करना महत्वपूर्ण है।

5. बवासीर के लिए योग में फायदेमंद होता है अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग [Bawasir Ke Liye Yogasan Ardha Matsyendrasana Yoga (Half Lord of the Fishes Pose)]:

बवासीर के लिए योग में अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग कैसे लाभदायक है (Bawasir Ke Liye Yogasan Me Ardha Matsyendrasana Yoga Kare):

अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग आपके पेट को मजबूत और टोन करता है। जिसके कारण यह पाचन को सुधारने के साथ-साथ शरीर से गंदगी को भी खत्म करने में मदद करता है।

यह आपके पेट के आंतरिक अंगों को भी साफ करता है। यह योग आपके शरीर के ऊतकों और अंगों से अतिरिक्त विषाक्त पदार्थों और गर्मी को बाहर निकालती है।

बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)
बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)

[How To Do Ardha Matsyendrasana Yoga For Piles in Hindi] कैसे करे:

  1. एक योग चटाई बिछाकर दंडदान में बैठें जायें।
  2. हल्के हाथों से जमीन को दबाते हुए सांस लें, और अपने शरीर को बाईं ओर मोड़ते हुए अपनी रीढ़ को लंबा करें।
  3. बाएं पैर को मोड़कर बाएं पैर को दाएं घुटने से ऊपर लाकर जमीन पर लाएं।
  4. दाएं पैर को मोड़ें और पैर को आराम से बाएं कूल्हे के पास जमीन पर रखें।
  5. दाएं हाथ को बाएं पैर के ऊपर लाएं और बाएं पैर के पंजे को पकड़ें।
  6. साँस छोड़ते समय धड़ और गर्दन को जितना हो सके मोड़ें और अपने बाएं कंधे पर फोकस करें।
  7. अपनी रीढ़ में मोड़ को गहरा करने के लिए अपने कूल्हों को चौकोर रखने की कोशिश करें।
  8. बाएं हाथ को जमीन पर आराम दें और सामान्य रूप से साँस लें।
  9. 30-60 सेकंड के लिए आसन में रहें एवं आसन से बाहर निकलने के लिए सभी चरणों को रिवर्स क्रम में करें।
  10. इन सभी चरणों को दूसरी तरफ भी दोहराएं।

(यह भी पढ़े – पेट कम करने के योगासन [Pet Kam Karne Ke Yogasan (13 Effective Yoga For Reduce Belly Fat in Hindi)])

6. बवासीर के लिए योग में लाभदायक है मालासन योग [Bawasir Ke Liye Yogasan Malasana Yoga (Garland Pose)]:

बवासीर के लिए योग में मालासन योग कैसे लाभदायक है (Bawasir Ke Liye Yogasan Me Malasana Yoga Kare):

मालासन योग बवासीर को रोकने में मदद कर सकती है जो रक्तस्राव के सबसे सामान्य कारणों में से एक है। यह आसन न केवल आपकी रीढ़, कूल्हों और नितंबों पर काम करता है, बल्कि पूरे पाचन तंत्र के कामकाज को संतुलित करते हुए पेट को टोन भी करता है। कोशिश करें और आराम करने से पहले 8-10 सांसों के लिए इस मुद्रा में रहें।

बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)
बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)

[How To Do Malasana Yoga For Piles in Hindi] कैसे करे:

  1. आप ताड़ासन करने का तरीका जानते ही है, तो सबसे पहले, आपको अपनी योग चटाई पर ताड़ासन मुद्रा में खड़ा होना है।
  2. अपने दोनों पैरों के बिच थोडा गैप रखें, दोनों पैरों के बीच 2 से 2.5 फीट की दूरी होनी चाहिए।
  3. अब अपनी कोहनियों को मोड़ते हुए अपनी हथेली को प्रार्थना स्थिति में एक साथ मिलाएं और छाती के पास हाथों रखे।
  4. अब, अपने घुटनों को मोड़ते हुए, धीरे-धीरे नीचे की ओर बैठें, इस मुद्रा में आप मल त्याग की मुद्रा में आएंगे।
  5. इस स्थिति में अपने कूल्हों को ज़मीन की ओर कम करें और पैरों के तलवों पर बैठें।
  6. अपनी जांघों को धड़ के ऊपरी भाग से अधिक चौड़ा रखें।
  7. सुनिश्चित करें कि आपके कूल्हे टखनों के बहुत करीब हो और आपके कंधे को पीछे खींचते हो।
  8. साँस छोड़ते हुए झुकें जैसे कि आपका धड़ आपकी जाँघों के बीच फंस गया हो।
  9. दोनों हाथों को ऐसी स्थिति में मिलाएं कि कोहनी पर 90 डिग्री का कोण बने।
  10. फिर अपने दोनों हाथों की कोहनियों को जांघों के अंदर रखें, इस से आपको अपने धड़ (शरीर) के सामने के भाग का विस्तार करने में मदद मिलेगी।
  11. इस मुद्रा में कम से कम 1 मिनट तक रहें।
  12. अब अपनी शुरुवाती अवस्था में आने के लिए खड़े हो जाये, आप इस मुद्रा का रोज 1 मिनट तक अभ्यास कर सकते है।

7. बवासीर के लिए योग में लाभदायक है सर्वांगासन योग [Bawasir Ke Liye Yogasan Sarvangasana Yoga (Shoulder Stand Pose)]:

बवासीर के लिए योग में सर्वांगासन योग कैसे लाभदायक है (Bawasir Ke Liye Yogasan Me Sarvangasana Yoga Kare):

जैसा कि आप सर्वांगासन और हलासन का अभ्यास करते हैं, तो आप जानते ही होंगे कि ये आसन शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करते हैं विशेष रूप से आपके पेट और आपके गुदा में।

यह बदले में पाचन रस के प्रवाह को विनियमित करने में भी मदद करता है। यह आसन आपको बवासीर से छुटकारा पाने में मदद कर सकते है।

बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)
बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi)

[How To Do Sarvangasana Yoga For Piles in Hindi] कैसे करे:

  1. सबसे पहले स्वच्छ खुले वातावरण में एक योग मैट बिछा लें।
  2. जिससे इस आसन को करते समय शरीर को स्वच्छ ऑक्सीजन मिले।
  3. अब इस आसन को करने के लिए योग मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  4. दोनों हाथ और पैर सीधे जमीन पर होने चाहिए।
  5. हथेलियों को जमीन की तरफ रखें ,और दोनों पैर एक दूसरे से सीधे सटे होने चाहिए।
  6. अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए दोनों पैरों, कूल्हों और कमर को धीरे-धीरे ऊपर की तरफ उठाएं।
  7. अब अपनी कमर और पीठ को ऊपर की ओर उठाने के लिए दोनों हाथों की कोहनी को जमीन पर रखें और हथेलियों से अपनी कमर को सहारा दें।
  8. ध्यान रहे कि इसको करते समय आपके दोनों पैर सीधे रहें, अपने घुटनों को मोड़ने न दें।
  9. इस आसन में शरीर का पूरा भार कंधों और सिर पर होगा।
  10. इसे करते समय ठोड़ी को छाती से स्पर्श कर के रखें।
  11. अपने कंधे से कोहनी तक के क्षेत्र को जमीन के करीब रखें और अपने चेहरे को आकाश या पैरों के अंगूठे की ओर रखें।
  12. अपने शरीर को स्थिर करें और अपनी क्षमता के अनुसार कुछ देर तक इस मुद्रा में बने रहें।
  13. सांस को सामान्य रखें।
  14. सर्वांगासन से बाहर आने के लिए, कमर और पैरों को धीरे-धीरे नीचे लाएं और अपने हाथों को जमीन पर रखें।
  15. अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

(यह भी पढ़े – कब्ज के लिए योग – Kabj Ke Liye Yoga [8 Effective Yoga For Constipation in Hindi])

बवासीर के लिए योग करने से पूर्व आवश्यक बाते (Important Things To Do Yoga for Piles in Hindi):

  1. एक अच्छे योग ट्रेनर की देखरेख में यहां बताए गए सभी योगासन करें।
  2. बवासीर की समस्या को इसके शुरुआती चरण में ही दूर किया जाना चाहिए। अगर समय रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया, तो यह एक खतरनाक श्रोणि रोगों और पेट के अन्य रोगों में बदल सकता है।
  3. बवासीर की समस्या को दूर करने के दौरान आपका खान पान अहम रोल निभाता है। सिर्फ बवासीर के लिए योग करने से आपको बवासीर से छुटकारा नहीं मिल पायेगा। इसके लिए आपको अपने आहार खान पान में भी बदलाव करना पड़ेगा। इसके लिये आपको अपने आहार में ताजा पत्तेदार सब्जियां और फल जैसे फाइबर से भरपूर चीजों को शामिल कर सकते हैं।
  4. इसके साथ साथ अपने भोजन को चबाकर खाना चाहिये ताकि वह आसानी से हजम और बवासीर की समस्या में राहत दिला पाए।
  5. आपको पानी का पर्याप्त सेवन करना चहिये क्योंकी ये आपकी बवासीर को दूर रखने में मदद करेगा।
  6. योग का नियमित अभ्यास शरीर और मन के विकास में मदद करता है, साथ ही इसके कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं, लेकिन फिर भी इनको दवा का विकल्प नहीं समझना चाहिए।

आशा है इन सभी योगासनों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की पाइल्स / बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख पाइल्स / बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी पाइल्स / बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई पाइल्स / बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी पाइल्स / बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (Yoga for Piles in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!