नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (10 Effective Yoga for Normal Delivery in Hindi)

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi) : नॉर्मल डिलीवरी आपके और आपके बच्चे के लिए सीजेरियन डिलीवरी से बेहतर है। सामान्य प्रसव को ठीक होने में 40 दिन लगते हैं। जबकि सीजेरियन डिलीवरी को ठीक होने में 6 महीने लगते हैं। सिजेरियन डिलीवरी का महिला की सेहत पर बुरा असर पड़ता है।

गर्भावस्था में योग नॉर्मल डिलीवरी के लिए फायदेमंद होता है और यह गर्भवती महिला को शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत भी बनाता है।

गर्भावस्था में योगासन करने से गर्भाशय की मांसपेशियां नॉर्मल डिलीवरी प्रक्रिया के लिए तैयार हो जाती हैं। प्रसव पूर्व योग कूल्हों की मांसपेशियों में लचीलापन लाता है, जो नॉर्मल डिलीवरी में सहायक होता है।

गर्भावस्था के दौरान रीढ़ की हड्डी कमजोर हो जाती है। प्रसव पूर्व योग रीढ़ की हड्डी को मजबूत बनाता है और प्रसव के बाद पीठ दर्द नहीं होता है।

प्रसव पूर्व योग नॉर्मल डिलीवरी में सहायक होता है, लेकिन योग करने से पहले अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें और अनुभवी योग शिक्षक के मार्गदर्शन में प्रसव पूर्व योग करें। प्रसव पूर्व योग से श्रोणि की मांसपेशियां मजबूत होती हैं जो नॉर्मल डिलीवरी में सहायक है।

विषय सूची :

गर्भावस्था में योग कैसे मदद करता है? (How Does Yoga Help in Pregnancy?) :

योग का अभ्यास करना गर्भावस्था में व्यायाम करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। योग न केवल इस दौरान शरीर को स्वस्थ रखता है, बल्कि यह आपके शरीर को आगामी श्रम के लिए भी तैयार करता है। श्रम और जन्म की प्रक्रिया के दौरान विभिन्न आसन बेहद उपयोगी होते हैं।

आप नॉर्मल डिलीवरी के लिए गर्भावस्था के दौरान योग का अभ्यास कर सकती हैं, क्योंकि योग से पेल्विक हड्डियों और मांसपेशियों के बेहतर लचीलेपन के निर्माण में मदद मिलती है।

प्रसव पूर्व योग आसन वे आसन हैं जिन्हें आप अपनी गर्भावस्था के दौरान सुरक्षित रूप से कर सकती हैं। गर्भावस्था में योग करने का मुख्य उद्देश्य किसी भी गर्भावस्था से संबंधित जटिलताओं या समस्याओं को कम करना है।

नोट : हालाँकि योग मुद्राएँ एक उम्मीद से होने वाली माँ के लिए बेहद फायदेमंद होती हैं। लेकिन, आपको किसी भी योग आसन को करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना अनिवार्य है।

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग के फायदे और लाभ (Benefits Of Yoga For Normal Delivery in Hindi):

योग से उम्मीद से होने वाली माँ को स्वास्थ्य लाभ होता है, और यह नॉर्मल डिलीवरी में भी मदद करता है। यहाँ नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग के कुछ फायदे बताये गए हैं, जिन्हें आपको जानना चाहिये-

  • श्रम में मदद करता है : योग न केवल मां के समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है बल्कि यह भ्रूण के विकास के लिए भी उत्कृष्ट है। योग मांसपेशियों की शक्ति और ऊर्जा को बढ़ाने में भी मदद करता है जो नॉर्मल डिलीवरी को सहायक बनाता है।
  • दर्द से राहत देने में मदद करता है : जैसे-जैसे गर्भावस्था आगे बढ़ती है, आपको पीठ दर्द, सिरदर्द और अन्य दर्द का अनुभव हो सकता है। योग उचित रक्त परिसंचरण, बेहतर मांसपेशियों की ताकत और बेहतर श्वसन तकनीकों के माध्यम से दर्द को कम करने में मदद करता है।
  • अच्छी नींद लेने में मदद करता है : योग तनाव, चिंता और दर्द को कम करता है, जिससे मन और शरीर को आराम मिलता है। योग का अभ्यास करने से आपको बेहतर नींद आती है।
  • सहनशक्ति के निर्माण में मदद करता है : योग आपको सहनशक्ति का निर्माण करने में मदद करता है, जिसकी आवश्यकता श्रम के दौरान लंबे समय तक काम करने के दौरान पड़ सकती है।
  • आपके बच्चे के लिए बेहतर जन्म स्थिति में मदद करता है : योग पेट में पल रहे बच्चे के लिए सबसे अच्छा होता है, जो पैल्विक मांसपेशियों और हड्डियों के लचीलेपन में सुधार करने में मदद करता है।

तो आइये जानते है नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग (Yoga For Normal Delivery in Hindi) कौन–कौन से होते है?

10 प्रभावी नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग (Yoga For Normal Delivery in Hindi):

1. ताड़ासन [Tadasana Yoga (Mountain Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में ताड़ासन योग कैसे लाभदायक है (How Tadasana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

ताड़ासन योग के मौलिक पदों में से एक है, जो गर्भवती महिलाओं पर अद्भुत कार्य करती है। यह आपके शरीर को संरेखित करने में मदद करता है और संतुलन में सुधार करता है, खासकर जब आपके गुरुत्वाकर्षण का केंद्र बढ़ते बच्चे के साथ बदल जाता है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में ताड़ासन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Tadasana Yoga (Mountain Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  1. एक साफ और खुली जगह चुनें और योग मैट, दरी या कंबल बिछा कर उस पर खड़े हो जाये।
  2. अब पैरों और कमर को सीधा करके योगा मैट पर खड़े हो जाएं।
  3. सीधे खड़े होकर पैरों के बीच कुछ दूरी रखें।
  4. अपने दोनों हाथों को अपने शरीर के करीब रखें।
  5. अब गहरी सांस लें, अपनी दोनों बाहों को सिर से ऊपर उठाएं और अपनी उंगलियों को एक साथ बांध लें।
  6. अब अपने हाथ सीधे रखें और स्ट्रेच करें, इस दोरान आपकी हथेलियों की दिशा आकाश की तरफ होनी चाहिए।
  7. अब आपको अपनी एड़ी ऊपर करते हुए अपने पेरो की उंगलियों पर खड़े होना है।
  8. इस दौरान आपके शरीर को पैरों से लेकर हाथों की उंगलियों तक खिंचाव महसूस करना चाहिए।
  9. अब 10 सेकंड तक इस पोजीशन में रहें और सांस लेते रहें।
  10. फिर सांस छोड़ते हुए शुरु की अवस्था में आ जाएं और इस आसन को कम से कम 10 बार जरुर दोहराएं।

(यह भी पढ़े – पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम PCOS के लिए योगा – PCOD & PCOS Ke Liye Yoga (10 Effective Yoga For PCOS in Hindi))

2. वज्रासन [Vajrasana Yoga (Thunderbolt Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में वज्रासन योग कैसे लाभदायक है (How Vajrasana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

गर्भावस्था में वज्रासन पाचन संबंधी शिकायत को दूर करता है। यह श्रोणि क्षेत्र में रक्त की आपूर्ति को बढ़ाता है और श्रोणि की मांसपेशियों को मजबूत करता है और प्रसव में मदद करता है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में वज्रासन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Vajrasana Yoga (Thunderbolt Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  1. जमीन पर शरीर को सीधा करके घुटनों के बल बैठ जाएं।
  2. अपने पैरों के घुटनों को मोड़ें ओर निचले पैरों को पीछे की ओर खींचते हुए उन्हें एक साथ रखें।
  3. अब इस स्थति में आपके पैर की बड़ी उंगलियां ओर अंगूठे एक दूसरे से मिलने चाहिए और दोनों पैर की एड़ियां अलग-अलग होनी चाहिए ।
  4. अब घुटनों को मोड़कर इस तरह से बैठ जाए कि आपके नितंब (Hips) दोनों एड़ियों के बीच में आ जाएं, दोनों पैरों के अंगूठे आपस में मिले रहें और एड़ियों में अंतर भी बना रहे।
  5. अपने सिर और कमर को सीधा रखें।
  6. अब अपने दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रखें और दृष्टि बिल्कुल सामने की ओर रखें।
  7. अपनी आंखें बंद कर लें और दिमाग को शांत रखें, और अपनी सांसों की गति पर ध्यान केंद्रित करे, इस बात का पूरा ध्यान रखें कि आप कैसे सांस ले रहे हो सांस आने और जाने पर बराबर ध्यान बनाए रखें।
  8. यदि आप योग करना शुरू कर रहे हैं, तो इसे शुरू में केवल 5–10 मिनट के लिए करें।
  9. इसके बाद इसमें अभ्यस्त हो जाने पर अपने समय को बढ़ाकर 20 से 30 मिनट तक कर सकते हैं।

(यह भी पढ़े – बच्चों के लिए योग और फायदे – Baccho Ke Liye Yoga (12 Effective Yoga For Kids in Hindi))

3. मार्जरी आसन [Marjari Asana Yoga (Cat Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में मार्जरी आसन योग कैसे लाभदायक है (How Marjari Asana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

गर्भावस्था से संबंधित समस्याओं से निपटने में आपकी मदद करने के लिए प्रसव पूर्व योग न केवल बहुत अच्छा होता है, बल्कि शारीरिक और मानसिक रूप से आपको नॉर्मल डिलीवरी के लिए तैयार करने के लिए भी सबसे अच्छा होता है। मार्जरी आसन मुद्रा एक ऐसी मुद्रा है जो माताओं की अपेक्षा पर अद्भुत काम करती है।

यह आपके मूड को बढ़ाने, आपके शरीर को ऊर्जावान बनाने और यहां तक ​​कि स्तन के दूध के उत्पादन को बढ़ाने में भी मदद करता है। इसके अतिरिक्त, गर्भावस्था के सभी चरणों में इसका अभ्यास किया जा सकता है, जिससे यह सबसे अच्छा जन्मपूर्व योग बन जाता है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में मार्जरी आसन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Marjari Asana Yoga (Cat Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  1. मार्जरी आसन करने के लिए सबसे पहले फर्श पर योग चटाई बिछाकर अपने दोनों घुटनों पर बैठ जाएं।
  2. अब अपने दोनों हाथों को फर्श पर आगे रखें।
  3. अपने दोनों हाथों पर थोड़ा वजन डालते हुए अपने कूल्हों को ऊपर उठाएं।
  4. अपनी जांघों को ऊपर की ओर सीधा करें और पैरों के घुटनों तक 90 डिग्री का एंगल बनाएं।
  5. इस मामले में आपकी चेस्ट फर्श के समानांतर होगी और आपका पोज एक बिल्ली की तरह दिखाई देगा।
  6. अब आप एक लंबी साँस लेते हुए और अपने सिर को पीछे की ओर झुकाएं, और अपने पेट को नीचे से ऊपर की ओर ले जाये और रीढ़ की हड्डी का निचला हिस्सा ऊपर की और उठाएं।
  7. अब सांस छोड़ते हुए अपने सिर को नीचे की ओर झुकाएं और अपने मुंह की ठोड़ी को अपनी छाती पर लगाने की कोशिश करें।
  8. इस पोजीशन में घुटनों के बीच की दूरी का ध्यान रखे और ध्यान रखें कि इस आसन को करते समय आपके हाथो की कोहनी मोड़ने ना पाए।
  9. अपनी सांस को लंबी और गहरी रखते हुए अपने सिर को पीछे की ओर घुमाएं और इस प्रक्रिया को दोहराएं। आपको इस क्रिया को 15-20 बार दोहराना चाहिए।

4. वीरभद्रासन [Virabhadrasana Yoga (The Warrior Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में वीरभद्रासन योग कैसे लाभदायक है (How Virabhadrasana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

इस आसन के अभ्यास से आपकी छाती खुल जाती है, और आपके पैर मजबूत होते हैं। यह रीढ़ के स्वास्थ्य को भी पुनर्स्थापित करता है और इसे बढ़ते हुए गर्भाशय का वजन लेने के लिए तैयार करता है। यह मन को शांत करता है और आपको ध्यान केंद्रित करने और संतुलन बनाने में मदद करता है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में वीरभद्रासन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Virabhadrasana Yoga (The Warrior Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

यहाँ निचे वीरभद्रासन 1 योग करने की विधि बताई गई है:-

  1. ताड़ासन में खड़े रहें। सांस लें और अपने पैरो को आपस में 3.5 से 4 फीट खोल लें।
  2. अपने बाएं पैर को 45 से 60 डिग्री अंदर की ओर और दाएं पैर को 90 डिग्री बाहर की ओर मोडे। दाईं एड़ी को बाईं एड़ी से संरेखित करें। साँस छोड़ते हुए, अपने धड़ को दाईं ओर 90 डिग्री तक घुमाने का प्रयास करें। अगर आप 90 डीग्री तक घुमाने में असमर्थ है, तो जितना आपसे संभव हो, उतना ही करें।
  3. धीरे-धीरे अपने हाथों को ऊपर उठाएं जब तक कि हाथ सीधे आपके धड़ के अनुरूप न हों। हथेलियों को मिलाएं और उंगलियों को छत की ओर इंगित करें।
  4. सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ सीधी हो। यदि पीठ मुड़ी हुई होगी, तो आपकी पीठ में दर्द बैठ सकता है। अपनी बाईं एड़ी को जमीन पर मजबूती से जमाये रखे और दाएं घुटने को मोड़ें जब तक कि घुटने सीधे टखने के ऊपर न हो जाएं। यदि आपके पास इतना लचीलापन है, तो अपनी जांघ को जमीन के साथ समानांतर करें।
  5. अपने सिर को ऊपर की ओर उठाएं और अपनी आंखों को उंगलियों पर रखें। अब, 5 बार सांस लें और साँस छोड़ें ताकि आप 30 से 60 सेकंड तक इस मुद्रा में रह सकें। धीरे-धीरे जैसे-जैसे आपका शरीर ताकत और लचीलापन बढ़ाना शुरू करता है, आप समय बढ़ा सकते हैं परन्तु 90 सेकंड से अधिक न बढ़ाये।
  6. अब 5 बार सांस लेने के बाद आप आसानी से इस मुद्रा से बाहर आ सकते हैं। मुद्रा से बाहर आने के लिए, सिर को नीचे लाएँ, फिर दाहिनी जाँघ को उठाएँ, अपने हाथों को नीचे लाएँ, धड़ को सीधा करें और पैरों को वापस ताड़ासन मुद्रा में लाएँ।
  7. दाईं ओर करने के बाद, ये सभी चरण बाईं ओर भी जरुर करें।

(यह भी पढ़े – वीरभद्रासन 2 करने का तरीका और फायदे [Virabhadrasana 2 (The Warrior Pose 2) Steps And Benefits in Hindi])

5. वृक्षासन [Vrikshasana Yoga (Tree Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में वृक्षासन योग कैसे लाभदायक है (How Utthita Vrikshasana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

यह मुद्रा आपकी जांघों, कमर, धड़ और कंधों को फैलाती है। यह आपके पेल्विस को मजबूत करती है और आपको कटिस्नायुशूल से बहुत हद तक दूर रखने में मदद करती है। यह मुद्रा  पैरो में संतुलन बनाने मे और पैरों को मजबूत बनाने में मदद करती है और यह महिलाओ को गर्भावस्था के लिए तैयार करने में भी मददगार मुद्रा होती है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में वृक्षासन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Vrikshasana Yoga (Tree Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  1. सबसे पहले अपने दोनों हाथों को पीछे रखें और सीधे खड़े हो जाएं।
  2. उसके बाद, अपने दाहिने पैर को उठाएं और बाएं पैर के घुटने के ऊपर रखें।
  3. उसके बाद, सांस ले और साँस छोड़ते हुए अब प्रार्थना की मुद्रा में दोनों हाथों को ऊपर की ओर ले जाएं।
  4. सुनिश्चित करें कि आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी हो। साथ ही, आपके शरीर को तना हुआ होना चाहिए, और हर बार जब आप सांस छोड़ते हैं तब एक गहरी सांस लेनी चाहिए।
  5. इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकंड से 1 मिनट तक बने रहने की कोशिश करे।
  6. अब इसी पूरी प्रक्रिया को अपने दूसरे पैर से दोहराए।

(यह भी पढ़े – शुरुवाती लोगो के लिए योग और फायदे (7 Effective Yoga For Beginners in Hindi And Yoga Benefits in Hindi))

6. उत्थित त्रिकोणासन [Utthita Trikonasana Yoga (Extended Triangle Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में उत्थित त्रिकोणासन योग कैसे लाभदायक है (How Utthita Trikonasana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

यह गर्भवती महिलाओं के लिए सबसे अच्छे योग में से एक है क्योंकि यह पैरों को फैलाता है और मजबूत बनाता है। यह गर्भावस्था के अंतिम तिमाही में पैरों में सूजन को कम करने में मदद करता है। इस आसन के जरिए आपके कूल्हे और छाती खुल जाती है। यह रक्त परिसंचरण की अनुमति देता है और पेट के अंगों को उत्तेजित करता है।

इस से आपकी पीठ और रीढ़ की हड्डी में खिंचाव और मालिश होती है और दर्द कम होता है। यह आसन सहनशक्ति को बढ़ाने में भी मदद करता है। यह कब्ज से छुटकारा दिलाता है, जो गर्भावस्था की पहली तिमाही में एक बड़ी समस्या है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में उत्थित त्रिकोणासन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Utthita Trikonasana Yoga (Extended Triangle Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  1. अपनी बिछाई हुयी योग चटाई पर सीधे खड़े हों जाए।
  2. दोनों पैरों के बीच 3.5 से 4 फीट की दूरी पर गैप रखें।
  3. दायां पैर 90 डिग्री पर बाहर की ओर होना चाहिए और बायां पैर 15 डिग्री पर रखा जाना चाहिए।
  4. अपने दाहिने पैर की उंगलियों को आगे की ओर मोड़ें, और अपने बाएं पैर की उंगलियों को एक कोण पर रखें सुनिश्चित करें कि आपका पैर जमीन को दबा रहा है।
  5. गहरी सांस लें और धीरे-धीरे छोड़ें।
  6. साँस छोड़ते समय, शरीर को कूल्हों के नीचे से मोड़ें।
  7. शरीर को झुकाते समय कमर सीधी रहेगी।
  8. बाएं हाथ को ऊपर उठाएं और दाएं हाथ से जमीन को छुएं।
  9. दोनों हाथ एक सीधी रेखा बनाएंगे।
  10. दाहिने हाथ को पिण्डली, टखने या जमीन पर रखे पैर पर रखने का प्रयास करे।
  11. हाथों को वहीं रहना चाहिए जहां वे हैं, लेकिन कमर का ध्यान रहे की वो हिले ना।
  12. बाएं हाथ को कंधे से ऊपर छत की ओर ले जाए।
  13. सिर को सामान्य स्थिति में रखें या बाईं ओर झुकें।
  14. आदर्श स्थिति में, आपकी दृष्टि बाईं हथेली पर रखे।
  15. शरीर एक पक्ष की ओर झुका हुआ होना चिहिये, न आगे और न पीछे।
  16. आपकी छाती और श्रोणि (पेल्विस) चौड़ी और खुली होनी चाहिए।
  17. लंबी और गहरी सांसें लेते हुए जितना संभव हो सके उतना स्ट्रेच करें और शरीर को स्थिर रखने पर ध्यान दें।
  18. साँस छोड़ते हुए शरीर को अधिक आराम महसूस करें।
  19. गहरी साँस खींचें और शरीर को ढीला छोड़ दें।
  20. हाथों को बगल में छोड़ें और पैरों को सीधा करें।
  21. अब यही प्रक्रिया बाएं पैर के साथ भी दोहराएं
  22. इस मुद्रा को 2 मिनट तक करे।

(यह भी पढ़े – बवासीर के लिए योग – Bawasir Ke Liye Yoga (9 Effective Yoga For Piles in Hindi))

7. तितली आसन [Titli Asana Yoga (Butterly Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में तितली आसन योग कैसे लाभदायक है (How Titli Asana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

तितली आसन एक साधारण व्यायाम हो सकता है, लेकिन इसके बहुत सारे फायदे हैं, खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए। यह एक ध्यान मुद्रा के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है और, यह शारीरिक और मानसिक विश्राम के माध्यम से, तनाव को दूर करने में मदद करता है।

यह आसन पाचन को भी ठीक करता है, जिससे गर्भवती महिलाओं को राहत मिलती है, जो गर्भावस्था के दौरान नाराज़गी और पाचन विकार से पीड़ित होती हैं। यह कूल्हों, जांघों और श्रोणि की मांसपेशियों को भी फैलाता है और खोलता है, जो एक आसान, नॉर्मल डिलीवरी होने में मदद करता है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में तितली आसन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Titli Asana Yoga (Butterly Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  1. अपनी योग चटाई बिछाकर उस पर दंडासन में बैठे।
  2. फिर अपने घुटनों को मोड़ें और पैरों के तलवों को एक दूसरे से मिलायें, और आप से जहाँ तक संभव हो अपनी एडियों को शरीर के करीब ले जायें।
  3. जांघ की मांसपेशियों को पूरी तरह से आराम दें और अपने हाथों के साथ-साथ अपने पैरों को पकड़ें।
  4. गहरी सांस लें। साँस छोड़ते हुए, अपने घुटनों को ऊपर-नीचे करें। जरूरत पड़ने पर घुटनों को दबाने के लिए कोहनी का इस्तेमाल करें।
  5. अब दोनों पैरों को तितली के पंखों की तरह ऊपर-नीचे करना शुरू करें।
  6. घुटनों को नीचे ले जाते समय जमीन को छूने की कोशिश करें। लेकिन ध्यान रखें कि ऐसा करने के लिए बल प्रयोग न करें।
  7. 30 से 50 बार टांगो को ऊपर निचे करें / लगभग दो से पांच मिनट के लिए इस मुद्रा को करें।

8. उत्कटासन [Utkatasana Yoga (Chair Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में उत्कटासन योग कैसे लाभदायक है (How Utkatasana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

यह आसन आपके पैरों, खासकर कूल्हों और जांघों की मांसपेशियों को उत्तेजित करता है। आपके शरीर का भार आपकी जांघों और पैरों पर होता है। यह आसन उन्हें टोन और मजबूत करता है।

गर्भावस्था के दौरान यह आवश्यक है कि आपकी पीठ और पेट से कुछ तनाव और वजन आपके पैरों में स्थानांतरित हो। यह आसन आपके अंगों में रक्त के संचार को भी बढ़ाता है, इस प्रकार यह सूजन को कम करता है और रोकता है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में उत्कटासन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Utkatasana Yoga (Chair Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  • अपनी योग चटाई पर ताड़ासन मुद्रा में खड़े हो जाये। सांस ले और घुटनों से पैरों को मोड़ते हुए कूल्हों को नीचे लाएं। पीठ सीधी रखें, झुकें नहीं। कल्पना करे की आपकी मुद्रा ऐसी होनी चाहिए कि आप कुर्सी पर बैठे हों।
  • बिना संतुलन खोए जितना हो सके उतना नीचे आएं। सुनिश्चित करें कि घुटने आपके पैरों से आगे नहीं बढ़े।
  • इस मुद्रा में 1-2 साँस लें और अपना संतुलन सुनिश्चित करें।
  • अब सांस लें, दोनों हाथों को सिर के ऊपर उठाएं और हथेलियों को मिलाएं। आपके हाथ सीधे होने चाहिए।
  • सिर को उठाएं और हाथों की उंगलियों पर ध्यान केंद्रित करें। एवम अपनी पीठ को सीधा रखने की कोशिश करें।
  • धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए घुटनों को आगे की ओर उठाएं और जांघों को फर्श के समानांतर ले जाएं। नितंबों को जितना संभव हो सके उतना ही निचे करे, एवम एक काल्पनिक कुर्सी पर बैठने का अनुभव करे।
  • अब 5 बार सांस लें और छोड़ें ताकि आप 30 से 60 सेकंड तक इस मुद्रा में रह सकें। धीरे-धीरे जैसे-जैसे आपका शरीर ताकत और लचीलापन बढ़ाना शुरू करता है, आप समय बढ़ा सकते हैं परन्तु, 90 सेकंड से अधिक नहीं।
  • आप 5 बार सांस लेने के बाद इस मुद्रा से बाहर आ सकते हैं।
  • इस मुद्रा से बाहर आने के लिए, साँस लें, घुटने को सीधा करें, साँस छोड़ें और पैरों को सीधा करें। अब ताड़ासन मुद्रा में वापस आ जाएं।

(यह भी पढ़े – बालों के लिए योगा – Balo Ke Liye Yoga [9 Effective Yoga For Hair Fall in Hindi])

9. मालासन [Malasana Yoga (Garland Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में मालासन योग कैसे लाभदायक है (How Malasana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

मालासन एक और मुद्रा है जो मुख्य रूप से पैरों, विशेष रूप से कूल्हों और जांघों पर काम करता है। यह उन्हें मजबूत बनाता है ताकि वे आपके भारी पेट का समर्थन कर सकें। यह रक्त के परिसंचरण को भी बढ़ाता है और आपके कूल्हों और जांघों में एक अच्छा खिंचाव सुनिश्चित करता है। यह आपके कूल्हों को चौड़ा करता है और श्रोणि क्षेत्र को खोलता है। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में मालासन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Malasana Yoga (Garland Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  1. सबसे पहले, आपको अपनी योग चटाई पर ताड़ासन मुद्रा में खड़ा होना है।
  2. अपने दोनों पैरों के बिच थोडा गैप रखें, दोनों पैरों के बीच 2 से 2.5 फीट की दूरी होनी चाहिए।
  3. अब अपनी कोहनियों को मोड़ते हुए अपनी हथेली को प्रार्थना स्थिति में एक साथ मिलाएं और छाती के पास हाथों रखे।
  4. अब, अपने घुटनों को मोड़ते हुए, धीरे-धीरे नीचे की ओर बैठें, इस मुद्रा में आप मल त्याग की मुद्रा में आएंगे।
  5. इस स्थिति में अपने कूल्हों को ज़मीन की ओर कम करें और पैरों के तलवों पर बैठें।
  6. अपनी जांघों को धड़ के ऊपरी भाग से अधिक चौड़ा रखें।
  7. सुनिश्चित करें कि आपके कूल्हे टखनों के बहुत करीब हो और आपके कंधे को पीछे खींचते हो।
  8. साँस छोड़ते हुए झुकें जैसे कि आपका धड़ आपकी जाँघों के बीच फंस गया हो।
  9. दोनों हाथों को ऐसी स्थिति में मिलाएं कि कोहनी पर 90 डिग्री का कोण बने।
  10. फिर अपने दोनों हाथों की कोहनियों को जांघों के अंदर रखें, इस से आपको अपने धड़ (शरीर) के सामने के भाग का विस्तार करने में मदद मिलेगी।
  11. इस मुद्रा में कम से कम 1 मिनट तक रहें।
  12. अब अपनी शुरुवाती अवस्था में आने के लिए खड़े हो जाये, आप इस मुद्रा का रोज 1 मिनट तक अभ्यास कर सकते है।

(यह भी पढ़े – गैस के लिए योगा – Gas ke Liye Yoga (12 Effective Yoga For Gas Problem in Hindi])

10. शवासन [Savasana Yoga (Corpse Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में शवासन योग कैसे लाभदायक है (How Savasana Yoga is Beneficial in Yoga for Normal Delivery in Hindi):

यह आसन मन और शरीर को पूरी तरह से शांत करता है। यह आपकी ऊर्जा को बढ़ावा देता हैत। इसलिए, यह गर्भावस्था के दौरान होने वाली थकान से लड़ने में चमत्कार का काम करता है। यह आसन गर्भावस्था के दुष्प्रभावों से लड़ने में भी मदद करता है, और दर्द, मतली और आदि बीमारीयो से राहत देता है।

हर बार जब आप उदास या थके हुए महसूस करते हैं, तो इस आसन को करें और तुरंत अच्छा महसूस करें। तो आइये जानते है की नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग में शवासन योग कैसे किया जाता है?:

सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग - Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)
सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi)

कैसे करें [Steps To Do Savasana Yoga (Corpse Pose) Yoga For Normal Delivery in Hindi]:

  1. एक कुर्सी या योग चटाई बिछाकर अपनी पीठ के बल लेट जाएँ। जरूरत पड़ने पर अपनी गर्दन के नीचे एक छोटा तकिया रखें। अपनी आँखें बंद करें।
  2. दोनों हाथों को शरीर से कम से कम 4-5 इंच दूर रखें।
  3. अपने पैरों को आराम से फैलाएं, दोनों पैरों के बीच थोड़ी दूरी रखें। दोनों पैरों की अंगुलियां एक दूसरे के विपरीत होनी चाहिए।
  4. हथेलियों को आकाश की ओर रखें और अपने हाथों को शरीर के साथ रखें लेकिन अपने शरीर को न छुएं।
  5. अपना ध्यान धीरे-धीरे शरीर के हर हिस्से पर लगा लें और अपने पूरे शरीर को आराम दें, एवम सम्पूर्ण शरीर को ढीला छोड़ दें।
  6. अपनी आँखें बंद करें। अब थोड़ी सांस लें। धीमी और गहरी सांस लें और हर सांस का आनंद ले। अपने मन में उत्पन्न होने वाली उत्तेजना, जल्दबाजी या किसी भी बात पर ध्यान न दें। बस अपने तन और मन के साथ रहें। अपने पूरे शरीर को पृथ्वी पर समर्पित करें और आराम करें। इस बात का ध्यान रखें कि इस आसन को करते समय आपको नींद न आ जाए।
  7. अब अपना सारा ध्यान अपनी सांसों पर केंद्रित करें।
  8. कम से कम 5 से 10 मिनट के लिए इसी स्थिति में रहें फिर जब आप पूर्णता का अनुभव करते हैं, तो आप धीरे-धीरे अपनी आँखें खोल सकते हैं।
  9. अब उठो और अपने दाहिने हाथ के सहयोग से बैठ जाए।
  10. इस मुद्रा के अंत में सांस लेने पर ध्यान दें। अपने हाथों और पैरों की उंगलियों को हल्के से हिलाना शुरू करें, फिर अपनी कलियों को घुमाएं। अब अपने हाथ ऊपर उठाएं और अपने सम्पूर्ण शरीर को खिचाव या स्ट्रेचिंग दे और धीरे-धीरे उठकर आलथी-पालथी मार कर बैठ जाएं।

गर्भावस्था में योग करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए (What Precautions Should Be Taken While Doing Yoga For Normal Delivery in Hindi):

योग गर्भावस्था के दौरान एक महिला को अत्यधिक स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। लेकिन विभिन्न योग आसनों को करते समय सावधानी बरतना भी उतना ही आवश्यक है। यहां कुछ बिंदु दिए गए हैं, जिन्हें आपको गर्भावस्था में योग (Yoga For Normal Delivery in Hindi) करते समय याद रखना चाहिए:

  • किसी भी प्रकार के योग आसन का प्रयास न करें, गर्भवती महिला के लिए उपयुक्त कुछ ही आसन होते हैं।
  • इन अभ्यासों को अकेले करने की कोशिश न करें क्योंकि एक पेशेवर की देखरेख में उन्हें प्रदर्शन करना किसी भी प्रकार की ऐंठन या चोट से बचने में मदद कर सकता है।
  • हमेशा वार्म अप के साथ योग का अभ्यास शुरू करें, योग से पहले अपने शरीर को थोड़ा सा खुलने दें।
  • अपने चिकित्सक से परामर्श करें यदि आप किसी भी प्रकार की असुविधा का अनुभव करते हैं जो व्यायाम के किसी भी रूप में या उसके बाद आपको प्रभावित करता है।
  • सही तरीके से योग आसन और विभिन्न श्वास तकनीकों का अभ्यास करना बहुत महत्वपूर्ण है।
  • आपको योग आसन करने की आदत नहीं डालनी चाहिए, इसके लिए आपको अपनी पहली तिमाही खत्म होने के बाद ही योग करने का अभ्यास करना चाहिए।
  • आपको अधिक समय तक सांस लेने से बचना चाहिए।
  • योग आसनों को संतुलित करते हुए आपको सावधानी बरतनी चाहिए।
  • योग के सत्र से पहले और बाद में आपके शरीर के पोषण और जलयोजन की जरूरतों पर ध्यान देने की सिफारिश की जाती है।
  • आपको योग के लिए आरामदायक कपड़े पहनने चाहिए।
  • आपको ओवर-स्ट्रेचिंग से बचना चाहिए।
  • आपको योग के सत्र के बाद आराम करना चाहिए।
  • गर्भावस्था के दौरान योग के कई फायदे हैं। यह गर्भावस्था के दौरान न केवल माँ को स्वस्थ रखता है, बल्कि प्रसव के दौरान भी फायदेमंद होता है। हालांकि, आपको किसी भी योग आसन को करने या अभ्यास करने से पहले चिकित्सकीय मार्गदर्शन लेना अनिवार्य है।

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग के लिए खुद को कैसे तैयार करें (How To Prepare Yourself For Yoga For Normal Delivery in Hindi):

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग (Yoga For Normal Delivery in Hindi) का अभ्यास कैसे शुरू करना है, तो आइए जल्दी से जानते है-

  • पहली और सबसे महत्वपूर्ण बात जो आपको चाहिए वह है कपड़े का एक उचित सेट, ऐसे कपड़े पहनना जो आपके शरीर के आंदोलनों में किसी भी असुविधा का कारण नहीं बनते हैं जैसे कि ट्रैकसूट या एक्टिववियर योग के लिए उपयुक्त है।
  • अपनी खुद की योग चटाई आपके लिए महत्वपूर्ण है हमेशा अपनी योग चटाई पर ही योग का अभ्यास करे।
  • व्यायाम करते समय हाइड्रेटेड रहना बहुत ज़रूरी है, चाहे वह योग हो या किसी अन्य प्रकार का व्यायाम। सुनिश्चित करें कि आप अपनी तरफ से पानी की बोतल रखें और नियमित अंतराल पर पानी की चुस्की लेते रहें।
  • एक्सरसाइज करें लेकिन समय पर खाना और अच्छी नींद लेना न भूलें क्योंकि केवल एक्सरसाइज करने से किसी भी तरह का फायदा नहीं हो सकता है। सही भोजन करना और अच्छी नींद लेना, आपके लिए अच्छा होगा।
  • योग निस्संदेह व्यायाम के सर्वोत्तम रूपों में से एक है क्योंकि सभी आयु वर्ग के लोग बहुत पैसा खर्च किए बिना इसमें शामिल हो सकते हैं। यह फिट रहने का एक बहुत ही सुरक्षित तरीका है, जबकि इससे अन्य लाभ भी मिलते है।

आशा है इन सभी योगासनों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की सामान्य प्रसव /  नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी सामान्य प्रसव /  नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग – Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी सामान्य प्रसव / नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग- Normal Delivery Ke Liye Yoga (Yoga for Normal Delivery in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!