माइग्रेन के लिए योग (7 Effective Yoga for Migraine in Hindi)

0

माइग्रेन के लिए योग – Migraine Ke Liye Yoga (Yoga For Migraine in Hindi): हर कोई एक स्वस्थ जीवन शैली जीना चाहता है लेकिन वर्तमान समय में हर कोई काम में इतना व्यस्त है कि उनके लिये खुद के लिए भी समय निकालना मुश्किल हो गया है, जिसके कारण शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की परेशानी बढ़ने लगती है।

इसीलिए देश से विदेश तक आज हर कोई स्वास्थ्य और सेहत के लिए योगासन के लाभों को देखकर, योग को सक्रिय रूप से अपनी दिनचर्या में शामिल कर रहे हैं। यह तथ्य अब किसी से छिपा नहीं है, की योग कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से राहत दिला सकता है। विज्ञान भी अब इसकी पुष्टि करता है की योग के जरिए शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ रहा जा सकता है।

योग में ऐसे कई आसन हैं, जिनके कई फायदे हैं, योग की मदद से आप जीवन भर युवा और स्वस्थ रह सकते हैं। योग आपको कई तरह से स्वस्थ रहने में मदद कर सकता है। इसीलिए आज हम आपके लिये माइग्रेन के लिए योग (Migraine Yoga in Hindi) यह लेख लाए है, यहां आपको माइग्रेन के लिए योगासन (Yoga For Migraine in Hindi) से संबंधित सभी जानकारी मिलेगी। इस लेख में आप जानेंगे कि माइग्रेन के लिए योग वो कौन-कौनसे होते है औरयहस्वस्थ जीवन शैली के लिए कैसे मददगार हो सकते है।

माइग्रेन के लिए योग के नाम [Names Of Yoga For Migraine in Hindi]:

  1. बालासन योग [Balasana Yoga (Child Pose)]
  2. सेतुबंधासन योग [Setu Bandhasana Yoga (Bridge Pose)]
  3. अधोमुखश्वानासन योग [Adho Mukha Svanasana Yoga (Downward-Facing Dog Pose)]
  4. शवासन योग [Savasana Yoga (Corpse Pose)]
  5. मार्जरी आसन [Marjariasana Yoga (Cat Pose)]
  6. विपरित करनी आसन [Viparita Karani Yoga (Legs Up The Wall Pose)]
  7. उत्तानासन योग [Uttanasana Yoga (Standing Forward Bend Pose)]

1. बालासन योग [Balasana (Child Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

माइग्रेन के लिए योग में बालासन योग कैसे लाभदायक है:

बालासन आपके ऊपरी शरीर से तनाव मुक्त करने और अपने कंधों, पीठ और रीढ़ को खोलने का एक शानदार तरीका है, जिससे आपके सिर में रक्त का प्रवाह बढ़ सकता है। इसके अलावा, अपने माथे को जमीन पर टिकाकर, आप अपने माथे में दबाव बिंदुओं को सक्रिय कर रहे हैं जो माइग्रेन और सिरदर्द से राहत दिला सकते हैं। तो आइये जानते है माइग्रेन के लिए योग में बालासन योग करने की विधि क्या है?

माइग्रेन के लिए योग, Migraine Ke Liye Yoga, Yoga for Migraine in Hindi, Migraine Treatment By Yoga in Hindi,
बालासन योग [Balasana (Child Pose) Yoga For Migraine in Hindi]

कैसे करें [Steps To Do Balasana (Child Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

  1. बालासन/बच्चे की मुद्रा करने के लिए अपनी योग चटाई पर बैठें।
  2. वज्रासन में अपने घुटनों के बल बैठ जाएं। इस मुद्रा में, अपने हाथो को जांघों पर रखे।
  3. अपने पैरों के दोनों घुटनों को एक दूसरे से या थोड़ी दूरी पर एक-दूसरे से चिपका कर रखें और कमर को बिल्कुल सीधा रखें।
  4. अब सांस लें, दोनों हाथों को सीधे सिर से ऊपर उठाएं। हथेलियों को न जोड़ें।
  5. अब सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुकें। ध्यान रखें कि कूल्हे के जोड़ों को झुकाना है, कमर के जोड़ों को नहीं।
  6. जब तक आपकी हथेलियां जमीन को न छुएं तब तक आगे झुकते रहें।
  7. अब सिर को जमीन पर ले जाएं।
  8. अब आप जिस मुद्रा में है वह बालासन/बच्चे की मुद्रा हैं, अब पूरे शरीर को रिलैक्स करने दे और फिर एक गहरी सांस लें और उसे छोड़े।
  9. दोनों हाथों की उंगलियां कसकर जोड़ ले। आपको उनके बीच में अपना सिर रखकर उनका सहारा देना होगा।
  10. अब सिर को धीरे-धीरे दोनों हथेलियों के बीच में रखें एवम अपनी सांस को सामान्य रखें।
  11. अब आप 1 से 5 मिनट तक बालासन/बच्चे की मुद्रा में रह सकते है।
  12. इस आसान से बाहर निकलने के लिए, सबसे पहले, अपनी हथेलियों को कंधे के नीचे लाएं और धीरे-धीरे अपने ऊपरी शरीर को उठाएं और पिछली स्थिति में वापस आ जाएं और आराम से सांस लें। इन सभी क्रियाओं को आराम से करें।

(यह भी पढ़े – लम्बाई बढ़ाने के लिए योग (9 Effective Yoga For increasing Height in Hindi))

2. सेतुबंधासन योग [Setu Bandhasana (Bridge Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

माइग्रेन के लिए योग में सेतुबंधासन योग कैसे लाभदायक है:

अपने कंधों और गर्दन में तनाव बनाए रखना, माइग्रेन का एक बड़ा कारण है? ब्रिज पोज़ आपके ऊपरी शरीर को आराम देता है और आपके मस्तिष्क में रक्त बढ़ा सकता है क्योंकि आपका दिल आपके सिर से ऊपर उठा हुआ है। तो आइये जानते है माइग्रेन के लिए योग में सेतुबंधासन योग करने की विधि क्या है?

माइग्रेन के लिए योग, Migraine Ke Liye Yoga, Yoga for Migraine in Hindi, Migraine Treatment By Yoga in Hindi,
सेतुबंधासन योग [Setu Bandhasana (Bridge Pose) Yoga For Migraine in Hindi]

कैसे करें [Steps To Do Setu Bandhasana (Bridge Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

  1. सेतुबंधासन करने के लिये सबसे पहले एक योग चटाई बिछाकर अपनी पीठ के बल लेट जाएं।
  2. अपने घुटनों को मोड़ें।
  3. घुटनों और पैरों को सीधी रेखा में रखते हुए दोनों पैरों को एक-दूसरे से थोड़ा गैप रखते हुए फैलाएं।
  4. हाथों को शरीर से सटाकर रखें और हाथों की हथिलियो को जमीन पर सटा कर रखे।
  5. धीरे-धीरे साँस लेते हुए, अपनी पीठ के निचले, मध्य और ऊपरी हिस्सों को धीरे से जमीन से ऊपर उठाएं।
  6. धीरे-धीरे अपने कंधों को अंदर की ओर ले जाएं।
  7. अपनी ठोड़ी को हिलाए बिना, अपनी ठोड़ी के साथ अपनी छाती लगाएं और अपने वजन के साथ अपने कंधों, हाथों और पैरों का समर्थन करें। इस दौरान निचले शरीर को स्थिर रखें और ध्यान रहे की इस दौरान दोनों जांघें एक साथ रहेंगी।
  8. यदि आप चाहें तो इस समय के दौरान, आप अपने ऊपरी शरीर को जमीन पर हाथों से दबाकर उठा सकते हैं। आप अपने हाथों से अपनी कमर का सहारा भी ले सकते हैं।
  9. साँस छोड़ते हुए आसन को 1-2 मिनट तक करें फिर आसन को समाप्त करे।

3. अधोमुखश्वानासन योग [Adho Mukha Svanasana (Downward-Facing Dog Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

माइग्रेन के लिए योग में अधोमुखश्वानासन योग कैसे लाभदायक है:

अधोमुखश्वानासन मुद्रा माइग्रेन के लिए लाभदायक मुद्रा है, क्योंकि इस मुद्रा में आपका दिल आपके सिर के ऊपर है, इसका मतलब है कि यह आपके रक्त प्रवाह को उलट सकता है, जिससे आपके मस्तिष्क में ताजा ऑक्सीजन युक्त रक्त की जमाव हो सकती है। तो आइये जानते है माइग्रेन के लिए योग में अधोमुखश्वानासन योग करने की विधि क्या है?

माइग्रेन के लिए योग, Migraine Ke Liye Yoga, Yoga for Migraine in Hindi, Migraine Treatment By Yoga in Hindi,
अधोमुखश्वानासन योग [Adho Mukha Svanasana (Downward-Facing Dog Pose) Yoga For Migraine in Hindi]

कैसे करें [Steps To Do Adho Mukha Svanasana (Downward-Facing Dog Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

  1. सबसे एक योग मैट लेकर उस पर खड़े हो जाएँ।
  2. अब अपने पेरों को सीधा रखते हुए दोनों हाथों को आगे करते हुए नीचे जमीन की ओर झुक जाएँ।
  3. इस स्थति में आपका शरीर एक मेज की आकृति के समान दिखाई देगा।
  4. अब धीरे- धीरे आपनी साँस को बाहर निकालते हुए कूल्हों या नितम्बो (हिप्स) को ऊपर छत की ओर उठाना है।
  5. आपको जितना हो सके उतना अपने हाथों और पारो को सीधा रखना है और अपने सिर को सीधे नीचे की और रखना है।
  6. यह आसान करते हुए आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि शरीर उल्टे “V” आकृति के समान बनता हो।
  7. अब आपको अपनी हथेलियों को जमीन पर सीधा रखते हुए और कंधों से दूर रखते हुए, अपने पैरों को हथेलियों के समानांतर रखना है।
  8. इसके बाद, आप अपने दोनों हाथों को एक साथ जमीन में दबाते हुए गर्दन को लंबा खींचने की कोशिश करें।
  9. ध्यान रखे की आपके कान आपकी बाहों के अंदरुनी हिस्से को स्पर्स करते हों।
  10. कूल्हों को जितना संभव हो ऊपर की ओर उठाएं।
  11. अपनी आंखों को नाभि पर केंद्रित करने का प्रयास करें।
  12. अब धीरे- धीरे गहरी सांस लेते हुए कुछ सेकंड तक इस स्थिति में रहें और फिर अपने घुटनों को मोड़कर वापस मेज की स्थिति में लौटें। आपको इस क्रिया को 1 मिनट तक दोहराना है।

(यह भी पढ़े – इरिटेबल बोवेल सिंड्रोम के लिए योग [5 Effective Yoga For IBS (Irritable Bowel Syndrome) in Hindi])

4. शवासन योग [Savasana (Corpse Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

माइग्रेन के लिए योग में शवासन योग कैसे लाभदायक है:

जब आप शवासन में होते हैं, तो आपका पूरा शरीर पूरी तरह से शिथिल हो जाता है, आपके नीचे की जमीन को सहारा मिलता है। यह रिलीज आपके माइग्रेन को कम करने में मदद कर सकती है, साथ ही इस मुद्रा के साथ गहरी सांस लेने के साथ, जो आपके मस्तिष्क में ऑक्सीजन को बढ़ाती है। तो आइये जानते है माइग्रेन के लिए योग में शवासन योग करने की विधि क्या है?

माइग्रेन के लिए योग, Migraine Ke Liye Yoga, Yoga for Migraine in Hindi, Migraine Treatment By Yoga in Hindi,
शवासन योग [Savasana (Corpse Pose) Yoga For Migraine in Hindi]

कैसे करें [Steps To Do Savasana (Corpse Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

  1. शवासन में, बस लेटना होता है। एक कुरसी या चटाई बिछाकर अपनी पीठ के बल लेट जाएँ। जरूरत पड़ने पर अपनी गर्दन के नीचे एक छोटा तकिया रखें। अपनी आँखें बंद करें।
  2. दोनों हाथों को शरीर से कम से कम 4-5 इंच दूर रखें।
  3. अपने पैरों को आराम से फैलाएं, दोनों पैरों के बीच थोड़ी दूरी रखें। दोनों पैरों की अंगुलियां एक दूसरे के विपरीत होनी चाहिए।
  4. हथेलियों को आकाश की ओर रखें और अपने हाथों को शरीर के साथ रखें लेकिन अपने शरीर को न छुएं।
  5. अपना ध्यान धीरे-धीरे शरीर के हर हिस्से पर लगा लें और अपने पूरे शरीर को आराम दें, एवम सम्पूर्ण शरीर को ढीला छोड़ दें।
  6. अपनी आँखें बंद करें। अब थोड़ी सांस लें। धीमी और गहरी सांस लें और हर सांस का आनंद ले। अपने मन में उत्पन्न होने वाली उत्तेजना, जल्दबाजी या किसी भी बात पर ध्यान न दें। बस अपने तन और मन के साथ रहें। अपने पूरे शरीर को पृथ्वी पर समर्पित करें और आराम करें। इस बात का ध्यान रखें कि इस आसन को करते समय आपको नींद न आ जाए।
  7. अब अपना सारा ध्यान अपनी सांसों पर केंद्रित करें।
  8. कम से कम 5 से 10 मिनट के लिए इसी स्थिति में रहें फिर जब आप पूर्णता का अनुभव करते हैं, तो आप धीरे-धीरे अपनी आँखें खोल सकते हैं।
  9. अब उठो और अपने दाहिने हाथ के सहयोग से बैठ जाए।
  10. इस मुद्रा के अंत में सांस लेने पर ध्यान दें। अपने हाथों और पैरों की उंगलियों को हल्के से हिलाना शुरू करें, फिर अपनी कलियों को घुमाएं। अब अपने हाथ ऊपर उठाएं और अपने सम्पूर्ण शरीर को खिचाव या स्ट्रेचिंग दे और धीरे-धीरे उठकर आलथी-पालथी मार कर बैठ जाएं।

(यह भी पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (7 Effective Pranayama And Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi))

5. मार्जरी आसन योग [Marjariasana (Cat Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

माइग्रेन के लिए योग में मार्जरी आसन योग कैसे लाभदायक है:

मार्जरी आसन मुद्रा करने से न केवल आपके ऊपरी शरीर में तनाव से राहत मिलती है बल्कि यह आपके रक्त प्रवाह और परिसंचरण को भी बढ़ावा देता है। यह आपके मस्तिष्क में अधिक ऑक्सीजन लाता है, जो आपके सिरदर्द के दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। तो आइये जानते है माइग्रेन के लिए योग में मार्जरी आसन योग करने की विधि क्या है?

माइग्रेन के लिए योग, Migraine Ke Liye Yoga, Yoga for Migraine in Hindi, Migraine Treatment By Yoga in Hindi,
मार्जरी आसन योग [Marjariasana (Cat Pose) Yoga For Migraine in Hindi]

कैसे करें [Steps To Do Marjariasana (Cat Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

  1. मार्जरी आसन करने के लिए सबसे पहले फर्श पर योग चटाई बिछाकर अपने दोनों घुटनों पर बैठ जाएं।
  2. अब अपने दोनों हाथों को फर्श पर आगे रखें।
  3. अपने दोनों हाथों पर थोड़ा वजन डालते हुए अपने कूल्हों को ऊपर उठाएं।
  4. अपनी जांघों को ऊपर की ओर सीधा करें और पैरों के घुटनों तक 90 डिग्री का एंगल बनाएं।
  5. इस मामले में आपकी चेस्ट फर्श के समानांतर होगी और आपका पोज एक बिल्ली की तरह दिखाई देगा।
  6. अब आप एक लंबी साँस लेते हुए और अपने सिर को पीछे की ओर झुकाएं, और अपने पेट को नीचे से ऊपर की ओर ले जाये और रीढ़ की हड्डी का निचला हिस्सा ऊपर की और उठाएं।
  7. अब सांस छोड़ते हुए अपने सिर को नीचे की ओर झुकाएं और अपने मुंह की ठोड़ी को अपनी छाती पर लगाने की कोशिश करें।
  8. इस पोजीशन में घुटनों के बीच की दूरी का ध्यान रखे और ध्यान रखें कि इस आसन को करते समय आपके हाथो की कोहनी मोड़ने ना पाए।
  9. अपनी सांस को लंबी और गहरी रखते हुए अपने सिर को पीछे की ओर घुमाएं और इस प्रक्रिया को दोहराएं। आपको इस क्रिया को 15-20 बार दोहराना चाहिए।

(यह भी पढ़े – प्रोस्टेट के लिए योग (7 Effective Yoga For Enlarged Prostate in Hindi))

6. विपरित करनी आसन योग [Viparita Karani (Legs Up The Wall Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

माइग्रेन के लिए योग में विपरित करनी आसन योग कैसे लाभदायक है:

विपरित करनी आसनएक अविश्वसनीय रूप से पुनर्स्थापनात्मक मुद्रा है। इस तरह, आपका खून अब विपरीत दिशा में बह रहा है – आपके मस्तिष्क की ओर। और आपके मस्तिष्क में जितना अधिक रक्त और ऑक्सीजन होगा, आपका सिरदर्द उतना ही कम दर्दनाक होगा। तो आइये जानते है माइग्रेन के लिए योग में विपरित करनी आसन योग करने की विधि क्या है?

माइग्रेन के लिए योग, Migraine Ke Liye Yoga, Yoga for Migraine in Hindi, Migraine Treatment By Yoga in Hindi,
विपरित करनी आसन योग [Viparita Karani (Legs Up The Wall Pose) Yoga For Migraine in Hindi]

कैसे करें [Steps To Do Viparita Karani (Legs Up The Wall Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

  1. अपनी योग चटाई बिछा कर उस पर लेट जाये। अगर आप सहज महसूस न करे तो आप अपनी कमर पर कम्बल या तकिया लगा सकते है और अब सामान्य रूप से सांस लें।
  2. अब धीरे धीरे अपनी टांगो को ऊपर की ओर उठाये और जब टांगो से 45° कोण बन जाये तब अपनी कमर को हाथो से सहारा देते हुए अपने हिप्स को ऊपर उठाए जब तक वह एकदम सीधी ऊपर नही हो जाती।
  3. यह सुनिश्चित करे की आपकी कोहनियाँ जमीन पर हो और आपकी कमर को अच्छे से सहारा दे रहे हो।
  4. अपने पैरों को अपेक्षाकृत मजबूत रखें, बस उन्हें जगह में लंबवत रखने की कोशिश करे।
  5. गहरी सांस लेते रहें और अपनी सहूलियत के अनुसार इस स्थिति में रहें। शुरुआत में 30 – 60 सेकंड तक करें। स्वास्थ्य लाभ के लिए इस योग आसन का अभ्यास हर दिन 3 से 5 मिनट पर्याप्त है। हालांकि आध्यात्मिक लाभ के लिए योगी 15 मिनट तक कर सकते हैं।

7. उत्तानासन योग [Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

माइग्रेन के लिए योग में उत्तानासन योग कैसे लाभदायक है:

यह मुद्रा आपकी रीढ़ को फैलाती है और आपके कंधों को खोलती है, जो दोनों अक्सर सिरदर्द से जुड़े कुछ तनाव को दूर करते हैं। इसके अलावा, विशेष रूप से आपके ऊपरी शरीर और गर्दन को पूरी तरह से आराम करने में मदद करती है, ताकि आपका सिर बिना किसी प्रयास के आपके पैरों पर आराम कर सके। तो आइये जानते है माइग्रेन के लिए योग में उत्तानासन योग करने की विधि क्या है?

माइग्रेन के लिए योग, Migraine Ke Liye Yoga, Yoga for Migraine in Hindi, Migraine Treatment By Yoga in Hindi,
उत्तानासन योग [Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) Yoga For Migraine in Hindi]

कैसे करें [Steps To Do Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) Yoga For Migraine in Hindi]:

  1. उत्तानासन योग में आगे की ओर झुकते हुए कदमों को छुना होता है, जिसमे आपको निचे बताई गयी विधि का उपयोग करना आवश्यक है –
  2. अब जब आप ताड़ासन करने की विधि जान ही चुके है तो ताड़ासन किर्या या सबसे पहले अपने पैरों की मदद से सीधे खड़े हो जाएं। फिर एक गहरी साँस ले, और अपनी बाहों को ऊपर की ओर बढ़ाएं।
  3. अपने धड़ को लंबा करते हुए 90 डिग्री के कोण पर थोड़ा आगे झुकते हुए साँस छोड़ें।
  4. अब अपनी हथेलियों को जमीन से टिकाएं और अपने हाथों से पैरों को स्पर्श करें।
  5. इसके बाद अपने धड़ को इस तरह मोड़ें कि आपका धड़ और छाती आपकी जांघों को छुए।
  6. अब 50-60 सेकंड के लिए इस मुद्रा में रहे फिर सीधे खड़े हो जाये।

(यह भी पढ़े – अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (9 Effective Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi))

माइग्रेन के लिए योग करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए (What Precautions Should Be Taken While Doing Yoga For Migraine in Hindi):

  1. योग माइग्रेनके लिए अत्यधिक लाभ प्रदान करता है। लेकिन विभिन्न योग आसनों को करते समय सावधानी बरतना भी उतना ही आवश्यक है। यहां कुछ बिंदु दिए गए हैं, जिन्हें आपको माइग्रेनके लिए योग करते समय याद रखना चाहिए:
  2. इन अभ्यासों को अकेले करने की कोशिश न करें क्योंकि एक पेशेवर की देखरेख में उन्हें प्रदर्शन करना किसी भी प्रकार की ऐंठन या चोट से बचने में मदद कर सकता है।
  3. हमेशा वार्म अप के साथ योग का अभ्यास शुरू करें, योग से पहले अपने शरीर को थोड़ा सा खुलने दें।
  4. अपने चिकित्सक से परामर्श करें यदि आप किसी भी प्रकार की असुविधा का अनुभव करते हैं जो व्यायाम के किसी भी रूप में या उसके बाद आपको प्रभावित करता है।
  5. सही तरीके से योग आसन और विभिन्न श्वास तकनीकों का अभ्यास करना बहुत महत्वपूर्ण है।
  6. आपको अधिक समय तक सांस लेने से बचना चाहिए।
  7. योग आसनों को संतुलित करते हुए आपको सावधानी बरतनी चाहिए।
  8. योग के सत्र से पहले और बाद में आपके शरीर के पोषण और जलयोजन की जरूरतों पर ध्यान देने की सिफारिश की जाती है।
  9. आपको योग के लिए आरामदायक कपड़े पहनने चाहिए।
  10. आपको ओवर-स्ट्रेचिंग से बचना चाहिए।
  11. आपको योग के सत्र के बाद आराम करना चाहिए।

आशा है इन सभी योगासनों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की माइग्रेन के लिए योग – Migraine Ke Liye Yoga (Yoga For Migraine in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख माइग्रेन के लिए योग – Migraine Ke Liye Yoga (Yoga For Migraine in Hindi) पसंद आया होगा, अगर आपको भी माइग्रेन के लिए योग – Migraine Ke Liye Yoga (Yoga For Migraine in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई माइग्रेन के लिए योग – Migraine Ke Liye Yoga (Yoga For Migraine in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी माइग्रेन के लिए योग – Migraine Ke Liye Yoga (Yoga For Migraine in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here