इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (7 Effective Pranayama And Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi)

Show Some Love By Sharing!

स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi) : यह पुरुषों में होने वाली एक यौन समस्या हैं। इरेक्टाइल डिसफंक्शन (स्तंभन दोष) जिसे नपुंसकता भी कहा जाता हैं। इस समस्या का मुख्य कारण धुम्रपान, शराब और अन्य नशीले पदार्थों का सेवन करना हैं।

एक निश्चित उम्र के बाद इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्या बहुत से पुरुषों को प्रभावित करती हैं। यह एक ऐसी समस्या है जो 40 वर्ष और उससे अधिक आयु के लगभग 5 प्रतिशत पुरुषों को प्रभावित करती है और 65 वर्ष या उससे अधिक आयु के लगभग 25 प्रतिशत पुरुषों को भी प्रभावित करती है।

योग आसन की मदद से स्तंभन दोष को ठीक किया जा सकता है, साथ ही यह सेक्स से जुड़ी समस्याओं को भी ठीक कर सकते है। इसीलिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi इस लेख में बताये गये योगासन को दैनिक आधार पर अभ्यास करने से पुरुषों को स्तंभन दोष से उबरने में मदद मिल सकती है।

आइये जानते है की वो कौनसे इरेक्टाइल डिसफंक्शन या स्तंभन दोष (नपुंसकता) की समस्या से छुटकारा पाने के लिए योग आसन हैं जिनको करने से इस समस्या से राहत मिल सकती है, आइये विस्तार से जानते है:-

(यह भी पढ़े- स्तंभन दोष के लिए सर्वश्रेष्ठ घरेलू उपचार (8 Effective Home Remedies For Erectile Dysfunction And Premature Ejaculation In Hindi))

विषय सूची:

स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग, प्राणायाम और एक्सरसाइज कौन-कौन से होते है? (Names Of Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

  1. पश्चिमोत्तानासन योग [Paschimottanasana Yoga (Seated Forward Bend Pose)]
  2. उत्तानासन योग [Uttanasana (Standing Forward Bend Pose)]
  3. बद्धकोणासन योग [Baddha Konasana (Butterfly Pose)]
  4. धनुरासन योग [Dhanurasana Yoga (Bow Pose)]
  5. उत्तानपादासन योग [Uttanapadasana (Raised Leg Pose)]
  6. कपालभाती प्राणायाम (Kapalbhati Pranayama)
  7. किगल एक्सरसाइज (Kegel Exercise)

स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

योग न केवल शरीर को स्वस्थ्य बनाये रखते है। बल्कि यह हमारे शरीर की चर्बी को भी कम करने में मदद करते है, यह न केवल पेट की चर्बी को घटा सकते है, बल्कि यह हमारे कूल्हों और स्तनो पर उपस्थित अतिरिक्त चर्बी को भी कम करने में मदद कर सकते है। यहाँ निचे हमने स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi) के बारे में विस्तार से बताया है, जिसे आपको जानना चाहिए-

1. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में करें पश्चिमोत्तानासन योग [Paschimottanasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi]:

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में पश्चिमोत्तानासन योग कैसे लाभदायक है (How Paschimottanasana Yoga is Beneficial in Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

इसे “सीटेड फॉरवर्ड बेंड” भी कहा जाता है। यह आपकी पैल्विक मांसपेशियों को मजबूत करके आपके धीरज को बेहतर बनाता है। यह आपके संभोग से ठीक पहले समान मांसपेशियों को अनुबंधित करके स्तंभन दोष और विलंब स्खलन को हरा देगा। तो आइये जानते है की इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में पश्चिमोत्तानासन योग करने की विधि क्या है?:

स्तंभन दोष के लिए व्यायाम, इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग, Erectile Dysfunction Ke Liye Yoga (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi)
Paschimottanasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi

पश्चिमोत्तानासन योग करने की विधि:

  1. अपने पैरों को सामने फैलाकर बैठें, रीढ़ को सीधा रखें, और अंगुलिया तनी हुयी होनी चाहिए।
  2. सांस लेते हुए दोनों हाथों को सिर के ऊपर उठाएं और खींचे।
  3. अब साँस छोड़ते हुए, अपने नितम्ब के जोड़ से आगे झुकने का प्रयास करे अब जहां तक आपसे संभव हो अपने शरीर को आगे की और झुकाए और अपनी दृष्टि को पंजो की ओर केन्द्रित करे।
  4. आखिरी स्टेप में आपको अपने दोनों हाथों को पैरों के तलवों और नाक को घुटनों तक चुने का प्रयास करे, जितना आप से हो सके उतना की खिचाव डाले।
  5. शुरू में 5 सेकंड तक ऐसा करें और धीरे-धीरे तब तक आसन में बने रहने की कोशिश करें जब तक आप सहज महसूस न कर लें।
  6. साँस लें और अपनी शुरुवाती स्थिति में लौट जाए।
  7. यहाँ एक चक्र पूरा हुआ। शुरुवात में 30-60 सेकंड के लिए करें। स्वास्थ्य लाभ के लिए हर दिन 3 – 5 मिनट पर्याप्त है।

(यह भी पढ़े – डिप्रेशन क्या है?, लक्षण, कारण, प्रकार और उपचार (All About Depression in Hindi))

2. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में करें उत्तानासन योग [Uttanasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi]:

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में उत्तानासन योग कैसे लाभदायक है (How Uttanasana Yoga is Beneficial in Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

इसे “स्टैंडिंग फॉरवर्ड बेंड” के रूप में भी जाना जाता है, उत्तानासन कई योगासनों में एक प्रधान योग है। यह गहन खिंचाव देता है जो आपको चिंता से मुक्त होने में मदद कर सकता है। कुछ का कहना है कि यह पाचन में सुधार और पेट में अंगों को उत्तेजित करते हुए नपुसंकता को दूर करने में भी मदद करता है। तो आइये जानते है की इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में उत्तानासन योग करने की विधि क्या है?:

स्तंभन दोष के लिए व्यायाम, इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग, Erectile Dysfunction Ke Liye Yoga (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi)
Uttanasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi

उत्तानासन योग करने की विधि:

  1. उत्तानासन योग में आगे की ओर झुकते हुए कदमों को छुना होता है, जिसमे आपको निचे बताई गयी विधि का उपयोग करना आवश्यक है –
  2. अब जब आप ताड़ासन करने की विधि जान ही चुके है तो ताड़ासन किर्या या सबसे पहले अपने पैरों की मदद से सीधे खड़े हो जाएं। फिर एक गहरी साँस ले, और अपनी बाहों को ऊपर की ओर बढ़ाएं।
  3. अपने धड़ को लंबा करते हुए 90 डिग्री के कोण पर थोड़ा आगे झुकते हुए साँस छोड़ें।
  4. अब अपनी हथेलियों को जमीन से टिकाएं और अपने हाथों से पैरों को स्पर्श करें।
  5. इसके बाद अपने धड़ को इस तरह मोड़ें कि आपका धड़ और छाती आपकी जांघों को छुए।
  6. अब 50-60 सेकंड के लिए इस मुद्रा में रहे फिर सीधे खड़े हो जाये।

(यह भी पढ़े – ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए योग (8 Effective Yoga For Reduce Breast Fat in Hindi))

3. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में करें बद्धकोणासन योग [Baddha Konasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi]:

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में बद्धकोणासन योग कैसे लाभदायक है (How Baddha Konasana Yoga is Beneficial in Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

आपने इस योग को बाउंड एंगल पोज़ या बटरफ्लाई पोज़ के रूप में भी सुना होगा। आंतरिक जांघों और कमर को खींचने के साथ, यह मूत्राशय, गुर्दे और पेट के अंगों के साथ प्रोस्टेट ग्रंथि को भी उत्तेजित करता है। जो आप में इरेक्टाइल डिसफंक्शन को दूर करने में मदद कर सकता है।तो आइये जानते है की इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में बद्धकोणासन योग करने की विधि क्या है?:

स्तंभन दोष के लिए व्यायाम, इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग, Erectile Dysfunction Ke Liye Yoga (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi)
Baddha Konasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi

बद्धकोणासन योग करने की विधि:

  1. अपनी योग चटाई बिछाकर उस पर दंडासन में बैठे।
  2. फिर अपने घुटनों को मोड़ें और पैरों के तलवों को एक दूसरे से मिलायें, और आप से जहाँ तक संभव हो अपनी एडियों को शरीर के करीब ले जायें।
  3. जांघ की मांसपेशियों को पूरी तरह से आराम दें और अपने हाथों के साथ-साथ अपने पैरों को पकड़ें।
  4. गहरी सांस लें। साँस छोड़ते हुए, अपने घुटनों को ऊपर-नीचे करें। जरूरत पड़ने पर घुटनों को दबाने के लिए कोहनी का इस्तेमाल करें।
  5. अब दोनों पैरों को तितली के पंखों की तरह ऊपर-नीचे करना शुरू करें।
  6. घुटनों को नीचे ले जाते समय जमीन को छूने की कोशिश करें। लेकिन ध्यान रखें कि ऐसा करने के लिए बल प्रयोग न करें।
  7. 30 से 50 बार टांगो को ऊपर निचे करें / लगभग दो से पांच मिनट के लिए इस मुद्रा को करें।

(यह भी पढ़े – Hair Growth Tips for Man in Hindi | 10 टिप्स जो पुरुषों के हेयर ग्रोथ में करेंगे मदद!)

4. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में करें धनुरासन योग [Dhanurasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi]:

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में धनुरासन योग कैसे लाभदायक है (How Dhanurasana Yoga is Beneficial in Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

इसे “बो पोज़” के रूप में भी जाना जाता है, यह शक्तिशाली योग प्रजनन अंगों को उत्तेजित करने और इन क्षेत्रों में जाने वाले रक्त को प्राप्त करने में मदद करता है। यह आपके शरीर के सामने की सभी मांसपेशियों को फैलाने में मदद करता है, जिसमें जांघ और कमर भी शामिल हैं। धनुरासन योग आपके समग्र शरीर के विकास में भी मदद कर सकता है। तो आइये जानते है की इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में धनुरासन योग करने की विधि क्या है?:

स्तंभन दोष के लिए व्यायाम, इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग, Erectile Dysfunction Ke Liye Yoga (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi)
Dhanurasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi

धनुरासन योग करने की विधि:

  1. धनुरासन करने के लिए, सबसे पहले, एक साफ हवादार जगह चुनें।
  2. उसके बाद अपनी योग चटाई बिछाकर पेट के बल लेट जाएं। अपने नितंबों के बीच गैप रखें और दोनों हाथों को सीधा रखें।
  3. अपने घुटनों को मोड़ते हुए सांस छोड़ें, अपनी एड़ी को अपने नितंबों के जितना करीब लाएं। और धनुषाकार होते हुए, अपनी एड़ियों को अपने हाथों से पकड़ें।
  4. अब अपनी छाती को सांस लेते हुए जमीन से ऊपर ले जाएं।
  5. अब पैरों को थोड़ा और ऊपर उठाएं और सांस लेते हुए अपनी एड़ियों को हाथ से खींचने की कोशिश करें।
  6. इस दौरान, आपके घुटने आपके कूल्हों की चौड़ाई से अधिक चौड़े नहीं होते हैं।
  7. एड़ियों को खींचते समय पेट के वजन का संतुलन बनाए रखें और सिर को बिल्कुल सीधा रखें।
  8. आपके शरीर के लचीलेपन के आधार पर, आप अपने शरीर को आगे बढ़ा सकते हैं।
  9. इस धनुषाकार मुद्रा का प्रदर्शन करते हुए सांस लेने और छोड़ने पर ध्यान दें।
  10. जब तक संभव हो इस स्थिति में रहें।
  11. प्रारंभिक अवस्था में वापस आने के लिए, धीरे-धीरे शरीर की मांसपेशियों को ढीला छोड़े और अपनी नितंबों और जांघों को जमीन की ओर लाएं।
  12. अब शरीर के सामने के हिस्से को जमीन पर लाएं।
  13. इसके बाद, दोनों हाथों से एड़ी को छोड़ दें और अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

(यह भी पढ़े – झड़ते बालों और डैंड्रफ के लिए घरेलु उपाय (Home Remedies For Dandruff And Hair Fall in Hindi))

5. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में करें उत्तानपादासन योग [Uttanapadasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi]:

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में उत्तानपादासन योग कैसे लाभदायक है (How Uttanapadasana Yoga is Beneficial in Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

इस विशेष योग आसन को “राइज़ड लेग पोज़” के रूप में भी जाना जाता है। उत्तानपादासन करने से, आप खुद को क्वाड्स में व्यस्त रखते हैं और ग्लूट्स मिशनरी पोजीशन में लंबे समय तक रहने में मदद करते हैं।

यह आसन आपके पेसो (काठ क्षेत्र में कशेरुक स्तंभ के दोनों ओर एक पुरुष शरीर में स्थित मांसपेशियां) और कूल्हे फ्लेक्सर मांसपेशियों (जो आपको आपके घुटनों को मोड़ने की अनुमति देता है) को फैलाता है, जिससे ताकत बढ़ती है और रक्त प्रवाह में सुधार होता है, जो आप में स्तंभन दोष को खत्म करने के लिए श्रोणि क्षेत्र को मजबूत में मदद कर सकता है। तो आइये जानते है की इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग मेंउत्तानपादासन योग करने की विधि क्या है?:

स्तंभन दोष के लिए व्यायाम, इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग, Erectile Dysfunction Ke Liye Yoga (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi)
Uttanapadasana Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi

उत्तानपादासन योग करने की विधि:

  1. सबसे पहले योग मेट बिछा कर उस पर पेट के बल लेट जाएं।
  2. दोनों पैरों को आपस में सटाकर रखें, पैरों के बीच ज्यादा दूरी नहीं होनी चाहिए।
  3. अपने हाथों को शरीर के बगल में रखें।
  4. हाथों की हथेली को नीचे फर्श पर अपने नितम्बो (कूल्हों) के पास रखें।
  5. अब धीरे-धीरे सांस अन्दर लेते हुए अपने दोनों पैरों को ऊपर उठाएं।
  6. आपको पैरो को 35 से 60 डिग्री तक ही उठाना है।
  7. अपने शरीर को 20 से 30 सेकंड के लिए वहीं स्थिर रखें और पंजे को बाहर की तरफ खींचें।
  8. ध्यान रखे की पैर ऊपर उठाते समय घुटनों को न मोड़ें।
  9. इस मुद्रा से बाहर आने के लिए सांस छोड़ें और धीरे-धीरे अपने पैरों को फर्श से नीचे लाएं।
  10. अपने दोनों हाथों को अपने शरीर के साथ रखें।
  11. अपने पैर को सीधा रखें और एक गहरी सांस लें और कुछ सेकंड के लिये आराम करें।
  12. इसे लगभग 3 – 5 बार दोहराएं।
  13. उत्तानपादासन का अभ्यास एक पैर से भी किया जा सकता है। इस तरह अभ्यास के लिये पैरों को वैकल्पिक रूप से बारी बारी उपर उठाये।

(यह भी पढ़े – 7 Effective Yoga for Varicocele in Hindi (जानिए वैरीकोसेल के लिए योग हिंदी में))

6. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में करें कपालभाती प्राणायाम [Kapalbhati Pranayama Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi]:

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में कपालभाती प्राणायाम कैसे लाभदायक है (How Kapalbhati Pranayama is Beneficial in Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

कपालभाति प्राणायाम में गुर्दे की समस्याओं को ठीक करने के लिए फुफ्फुसीय कार्यों को बढ़ाने में कई फायदे प्रदान करता हैं। यह प्रजनन प्रणाली के लिए भी अच्छा है और प्राकृतिक रूप से स्तंभन दोष को दूर करने में मदद करता है। इस से अग्न्याशय को एक अच्छा बढ़ावा मिलता है ताकि अधिक इंसुलिन हार्मोन रिलीज हो। तो आइये जानते है की इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में कपालभाती प्राणायाम करने की विधि क्या है?:

स्तंभन दोष के लिए व्यायाम, इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग, Erectile Dysfunction Ke Liye Yoga (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi)
Kapalbhati Pranayama Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi

कपालभाती प्राणायाम करने की विधि:

  1. सर्वप्रथम योग चटाई पर आराम से बैठ जाये।
  2. अब हाथों को घुटनों पर ज्ञान मुद्रा में रखें और सिर एवम रीड की हड्डी को सीधा रखे।
  3. अब अपनी आँखों को बंद कर लें और सम्पूर्ण शरीर को ढीला छोड़ दें।
  4. अब दोनों नाक के गुहाओं से गहरी सांस लें और पेट की मांसपेशियों को सिकोड़ते हुए सांस छोड़ें। लेकिन सांस छोड़ते समय बहुत ज्यादा जोर न लगा दें, सावधान रहें।
  5. अब जब आप फिर से सांस ले, तो पेट की मांसपेशियों पर बिना किसी प्रयास के सांस लेवे। एवं आराम से सांस लें, इसमें कोई जोर न करें।
  6. शुरू में कम से कम दस बार सांस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया करें।
  7. इस किर्या को 4 से 5 बार दोहराएं।

(यह भी पढ़े – Skin Care Tips in Hindi at Home | चमकदार फेस ग्लो पाने के लिए आजमाए 10 Best स्किन केयर टिप्स और घरेलु उपाय)

7. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में करें किगल एक्सरसाइज [Kegel Exercise Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi]:

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में किगल एक्सरसाइज कैसे लाभदायक है (How Kegel Exercise is Beneficial in Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

केगेल एक्सरसाइज, स्तंभन दोष को दूर करने में प्रभावी साबित हुई हैं, और इसे उपचार की पहली पंक्ति के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। श्रोणि क्षेत्र में Ischiocavernosus और Bulbocavernosus मांसपेशियां लिंग को घेरती हैं और एक निर्माण के दौरान सक्रिय होती हैं। केगेल एक्सरसाइज के अभ्यासों का उद्देश्य इन मांसपेशियों को मजबूत करना है। तो आइये जानते है की इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग में किगल एक्सरसाइजकरने की विधि क्या है?:

स्तंभन दोष के लिए व्यायाम, इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग, Erectile Dysfunction Ke Liye Yoga (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi)
Kegel Exercise Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi

किगल एक्सरसाइज करने की विधि:

  1. आप इसे कहीं भी कर सकते हैं, लेकिन अगर आप घर पर हैं, तो बैठने या लेटने के लिए एक शांत जगह चुनें।
  2. कीगल की मांसपेशियों को जानें। ये वे मांसपेशियां हैं जिनका उपयोग आप पेशाब करते समय मूत्र के प्रवाह को रोकने के लिए करते हैं।
  3. एक बार जब आप इन मांसपेशियों को पहचान लेते हैं, तो सामान्य रूप से साँस लेते हुए पाँच सेकंड के लिए इन मांसपेशियों को टाइट करे।
  4. फिर, पांच सेकंड के लिए मांसपेशियों को आराम दें और फिर से उसी प्रक्रिया को दोहराएं। जब आप इस एक्सरसाइज को करते हैं, तो आपके पेट, कमर और जांघ की मांसपेशियां तंग नहीं होनी चाहिए।
  5. इस प्रक्रिया को 10 से 20 बार दोहराएं।
  6. इसे पूरे दिन में तीन बार करें।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग करते समय बरती जाने वाली सावधानियां (Precautions To Be Taken While Doing Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi):

योग के बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ होते हैं, परन्तु जब आप योग का अभ्यास करना शुरू करते हैं तब आपको सावधान रहना चाहिए, खासकर यदि आप योग में एक नौसिखिया हैं। हालांकि यह एक उच्च-तीव्रता या उच्च-प्रभाव वाला व्यायाम नहीं हो सकता है, इसके लिए बहुत अधिक लचीलेपन की आवश्यकता होती है।

जब आप योग करते हैं तो आपके शरीर के सभी जोड़ों और मांसपेशियों पर काम किया जाता है, इसलिए यदि आपको योग करने की आदत नहीं है, तो दर्द और ऐंठन से सावधान रहें! स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग का उपयोग करते समय आपको कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए, जो यहाँ निचे दर्शायी गयी है।

1. हमेशा योग मैट का उपयोग करें: यह सभी आसनों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जिसमें आपको फर्श पर बैठने की आवश्यकता होती है। यदि आप योग चटाई नहीं खरीदना चाहते हैं, तो आप मोटे कंबल या कालीन पर वर्क-आउट कर सकते हैं। बस सुनिश्चित करें कि यह दृढ़ता से एक जगह टिका हो ताकि यह स्थानांतरित न हो (फिसलने और गिरने से रोकने के लिए)।

2. स्ट्रेचेबल कपड़े पहने: योग करते समय विशेषकर योग पैंट का उपयोग करें। योग आपके शरीर के लचीलेपन को बेहतर बनाने में आपकी मदद करेगा। लेकिन अगर आपके कपड़े तंग होंगे, तो आप झुक और मुड़ नहीं सकते हैं!

3. हमेशा अपने शरीर को सुनो: यदि आप एक आसन पूरी तरह से करने में असमर्थ हैं, तो अपने आप को जबरदस्ती न धकेले। यह विचार है कि पहले अपनी मांसपेशियों और शरीर को एक निश्चित तरीके से हर दिन अभ्यास करके, झुकने, खींचने की आदत डालें और फिर धीरे-धीरे अपने आप को सही मुद्रा प्राप्त करने की ओर धकेलें।

4. मधुर संगीत का उपयोग करें: योग केवल आपके शारीरिक आत्म पर ध्यान केंद्रित करने के लिए नहीं है, बल्कि आपके मानसिक और भावनात्मक आत्म पर भी है। मधुर संगीत का उपयोग करने से आपको योग में मन लगेगा। जप का संगीत भी एक अच्छा विकल्प है।

5. योग सत्र से पहले भारी कसरत न करें: जबकि यह किसी भी तरह की कसरत के लिए सही है, योग करते समय यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि बहुत सारे आसन आपके पेट पर दबाव डालेंगे। पूर्ण पेट पर उन्हें करने का प्रयास करने से ऐंठन, मतली और उल्टी आदि भी हो सकता है।

6. पानी पीना न भूलें: योग भले ही आपको ‘पसीना’ न दे, लेकिन फिर भी आपके शरीर को हाइड्रेट रखना महत्वपूर्ण है। सबसे अच्छी टिप जिसे आप यहाँ अपना सकते हैं: हर आसन के बाद दो घूँट पानी पीना।

हमेशा योग के आसन पहले करते हैं, फिर प्राणायाम, और फिर ध्यान। इन क्रम को आपस में मिलाएं नहीं।

आशा है इन सभी योगासनों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!
×