प्रोस्टेट के लिए योग (7 Effective Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)

Show Some Love By Sharing!

प्रोस्टेट के लिए योग – Prostate Ke Liye Yoga (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi): प्रोस्टेट का बढ़ना और प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों में एक गंभीर समस्या बनता जा रहा है। बेनिन प्रोस्टेटिक हाइपरप्लासिया (BPH) हार्मोन के स्तर में बदलाव के कारण होता है क्योंकि एक आदमी बूढ़ा हो जाता है। यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया का एक सामान्य हिस्सा है।

इस बीमारी का मुख्य कारण खराब जीवनशैली और अनुवांशिक समस्याएं माना जाता है। प्रोस्टेट का आकार आमतौर पर 20 ग्राम होता है। लेकिन कभी-कभी इसका आकार 80 से 100 ग्राम तक बढ़ जाता है जो प्रोस्टेट कैंसर समेत कई बीमारियों का कारण बनता है।

एक बढ़े हुए प्रोस्टेट की समस्याएं परेशान कर सकती हैं, और कई पुरुष ऐसे तरीकों की तलाश करते हैं जिससे वे अपने लक्षणों में सुधार कर सकें।

यहाँ निचे इस लेख में हमने प्रोस्टेट की समस्याएं के लिए आसन (Asanas For Prostate Enlargement in Hindi) बताये है, जिन्हें आपको जानना चाहिए-

विषय सूची:

प्रोस्टेट इज़ाफ़ा क्या है? (What is Prostate Enlargement in Hindi?):

बीपीएच प्रोस्टेट ग्रंथि का इज़ाफ़ा है। प्रोस्टेट एक छोटी ग्रंथि है, जो एक अखरोट के आकार की होती है, जो एक आदमी की प्रजनन प्रणाली का हिस्सा है। यह मूत्रमार्ग को घेरता है, जो एक ट्यूब है जो मूत्राशय से मूत्र को शरीर से बाहर निकालती है।

जब प्रोस्टेट बड़ा हो जाता है, तो यह मूत्रमार्ग पर दबाव डालता है। इससे आदमी के लिए पेशाब करना मुश्किल हो सकता है।

इसके परिणामस्वरूप BPH वाले पुरुष पा सकते हैं:

  • पेशाब करना शुरू करना और बंद करना कठिन होना।
  • उनके पेशाब की धारा उतनी तेज नहीं है जितनी पहले हुआ करती थी।
  • उन्हें ऐसा लगता है कि उन्हें बार-बार पेशाब करने की जरूरत है।
  • उन्हें ऐसा लगता है कि उन्हें पेशाब करने के बाद फिर से जाने की जरूरत है।

प्रोस्टेट की समस्या में योग कैसे मदद कर सकता है? (How Can Yoga Help With Prostate Problems?):

2006 के एक अध्ययन से पता चला है कि व्यायाम बीपीएच के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। योग जैसे व्यायाम करना इस स्थिति को रोकने में सहायक हो सकता है।

योग BPH के लक्षणों को सुधारने में भी मदद कर सकता है, क्योंकि यह व्यायाम करने और श्रोणि तल में मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद कर सकता है। 2011 के एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि योगाभ्यास से मांसपेशियों की ताकत में सुधार होता है।

पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को मजबूत करना और पेल्विक तनाव को कम करने से मूत्राशय पर नियंत्रण में सुधार हो सकता है, जिससे पेशाब करना आसान हो जाता है।

इसी अध्ययन से पता चला है कि योग तनाव को कम करने में मदद कर सकता है, और माना जाता है कि तनाव बीपीएच के लक्षणों को बदतर बना देता है। योग के माध्यम से तनाव कम करने का मतलब है कि बीपीएच के लक्षणों के बढ़ने की संभावना कम है।

प्रोस्टेट के लिए योग के नाम (Names Of Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

  1. कीगल एक्‍सरसाइज (Kegel Exercise)
  2. बद्ध कोणासन योग (Cobbler Pose)
  3. वीरासन योग (Hero Pose)
  4. जानुशीर्षासन योग (Head-to-Knee Pose)
  5. सुप्त पादांगुष्ठासन योग (Reclining Big Toe Pose)
  6. धनुरासन योग (Bow Pose)
  7. विपरीत करनी योग (Legs-Up-the-Wall Pose)

(यह भी पढ़े – अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (9 Effective Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi))

बढ़े हुए प्रोस्टेट के लिए योग (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

निम्नलिखित योग मुद्राएं, या आसन, पेल्विक फ्लोर को मजबूत करने के लिए अच्छे हैं और बढ़े हुए प्रोस्टेट के लक्षणों को सुधारने में मदद कर सकते हैं। वे तनाव को कम करने में भी मदद कर सकते हैं। तो आइये जानते है प्रोस्टेट के लिए योग मुद्रा कैसे करें (How To Do Mudras For Prostate Enlargement in Hindi)-

1. कीगल एक्‍सरसाइज है प्रोस्टेट के लिए योग (Kegel Exercise Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

कीगल व्यायाम सरल व्यायाम हैं जो आप अपने श्रोणि तल की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए कर सकते हैं। आप इन व्यायामों को स्वयं कर सकते हैं।

बढ़े हुए प्रोस्टेट के लिए योग (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)
कीगल एक्‍सरसाइज है प्रोस्टेट के लिए योग (Kegel Exercise Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)

कैसे करें? (Steps To Do Kegel Exercise Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

सबसे पहले, अपने श्रोणि तल की मांसपेशियों की सही पहचान करें। वे मांसपेशियों का समूह हैं जो आपके मूत्राशय का समर्थन करते हैं और आपके मूत्र प्रवाह को नियंत्रित करते हैं। इनमें मूत्राशय, स्फिंक्टर मांसपेशियां और श्रोणि तल की मांसपेशियां शामिल हैं।

पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियों की पहचान करने के लिए, कल्पना करें कि आप पेशाब करते समय अपने मूत्र प्रवाह को रोकने की कोशिश कर रहे हैं। वास्तव में पेशाब करते समय ऐसा न करें। मांसपेशियों को कुछ बार निचोड़ें, पकड़ें और छोड़ें। स्फिंक्टर की मांसपेशियों के साथ भी ऐसा ही करें।

अब कल्पना करें कि आप पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को निचोड़ रहे हैं और उठा रहे हैं। आप इन व्यायामों को बैठकर, खड़े होकर, पीठ के बल लेटकर, घुटनों को मोड़कर कर सकते हैं।

सुनिश्चित करें कि आपने श्रोणि तल की मांसपेशियों की सही पहचान की है और व्यायाम को पूरा करने में सहज महसूस करें। प्रति दिन 12 निचोड़ के 3 सेट करने का लक्ष्य रखें। प्रत्येक आवक को 10 सेकंड तक दबाए रखें और छोड़ दें। प्रत्येक पुनरावृत्ति के बीच कुछ सेकंड के लिए आराम करें।

योग सर्जरी या दवाओं के बिना बढ़े हुए प्रोस्टेट के लक्षणों को सुधारने में मदद कर सकता है। दैनिक आधार पर इन अभ्यासों में शामिल होना और स्वस्थ आहार खाने से आपके लक्षणों और आपके जीवन की समग्र गुणवत्ता में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

(यह भी पढ़े – 7 Effective Yoga For Increasing Immunity in Hindi | अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए योग अपनाये)

2. बद्ध कोणासन है प्रोस्टेट के लिए योग (Baddha Konasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

बद्ध कोणासन मुद्रा एक बैठने की स्थिति है जो श्रोणि तनाव को मुक्त करने में मदद कर सकती है। बद्ध कोणासन को करने के लिए व्यक्ति को यहाँ निचे बताई गयी विधि का पालन करना चाहिए:

बढ़े हुए प्रोस्टेट के लिए योग (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)
बद्ध कोणासन है प्रोस्टेट के लिए योग (Baddha Konasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)

कैसे करें? (Steps To Do Baddha Konasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

  1. अपनी योग चटाई बिछाकर उस पर दंडासन में बैठे।
  2. फिर अपने घुटनों को मोड़ें और पैरों के तलवों को एक दूसरे से मिलायें, और आप से जहाँ तक संभव हो अपनी एडियों को शरीर के करीब ले जायें।
  3. जांघ की मांसपेशियों को पूरी तरह से आराम दें और अपने हाथों के साथ-साथ अपने पैरों को पकड़ें।
  4. गहरी सांस लें। साँस छोड़ते हुए, अपने घुटनों को ऊपर-नीचे करें। जरूरत पड़ने पर घुटनों को दबाने के लिए कोहनी का इस्तेमाल करें।
  5. अब दोनों पैरों को तितली के पंखों की तरह ऊपर-नीचे करना शुरू करें।
  6. घुटनों को नीचे ले जाते समय जमीन को छूने की कोशिश करें। लेकिन ध्यान रखें कि ऐसा करने के लिए बल प्रयोग न करें।
  7. 30 से 50 बार टांगो को ऊपर निचे करें / लगभग दो से पांच मिनट के लिए इस मुद्रा को करें।

(यह भी पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (7 Effective Pranayama And Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi))

3. वीरासन योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Virasana For Enlarged Prostate in Hindi):

हीरो पोज़ एक और बैठने की स्थिति है जो प्रोस्टेट के आसपास पैल्विक तनाव को मुक्त करने में मदद कर सकती है। इस आसन को करने के लिए व्यक्ति को यहाँ निचे बताई गयी विधि का पालन करना चाहिए:

बढ़े हुए प्रोस्टेट के लिए योग (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)
वीरासन योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Virasana For Enlarged Prostate in Hindi)

कैसे करें? (Steps To Do Virasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

  1. वीरासन करने के लिए आप सबसे पहले किसी स्थान पर योगा मैट बिछा कर घुटनों के बल बैठ जाएं।
  2. सुनिश्चित करें कि आपके घुटने आपके कूल्हों के ठीक नीचे हैं।
  3. अब अपने हाथों को सीधा करके घुटनों पर रखें।
  4. अपने पैर की उंगलियों को बाहर की ओर रखें।
  5. अब धीरे-धीरे, अपने पैरों को घुटनों के करीब लाने की कोशिश करें।
  6. यदि संभव हो, तो दोनों घुटने एक दूसरे के साथ स्पर्स कराने की कोशिश करें।
  7. आपको जितना संभव हो सके उतना अपने दोनों घुटनों को एक दुसरे से मिलाने की कोशिश करनी है।
  8. अब पैरों को पीछे से धीरे-धीरे बहार की ओर खोलने की कोशिश करें।
  9. दोनों पैरों के बीच एक दूरी होनी चाहिए, यह दूरी आपके कूल्हों की चौड़ाई से अधिक होनी चाहिए।
  10. अब अपने हिप्स या कुल्हों को धीरे धीरे निचे जमीन पर लगाने की कोशिश करें।
  11. यदि आपको शुरुआत में अपने कूल्हों को जमीन पर रखने में कठिनाई होती है तो आप अपने कूल्हों के नीचे एक छोटे तकिया का उपयोग कर सकते हैं।
  12. अपनी नाभि को भीतर की तरफ खींचें और शरीर को पूरी तरह से शांत रखें।
  13. अब आंखें बंद करके ध्यान करने की कोशिश करें और गहरी सांसें लें और छोडें।
  14. अब आपको कम से कम 30 सेकंड के लिए इस मुद्रा में रहने का प्रयास करना है।
  15. आप 3 से 5 बार वीरासन का अभ्यास कर सकते हैं।

(यह भी पढ़े – 8 Best साइनस के लिए योग और प्राणायाम (Sinus Treatment in yoga in Hindi))

4. जानुशीर्षासन योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Janu Sirsasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

यह एक आगे की ओर झुकी हुई मुद्रा है जो एक पैर को फैलाने पर केंद्रित है। श्रोणि तनाव को कम करने के साथ-साथ, यह मुद्रा कोर क्षेत्र में ताकत में सुधार करने में मदद कर सकती है।

कुछ योग चिकित्सकों का मानना है कि यह व्यायाम प्रोस्टेट में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है और इसे विषहरण में मदद करता है। जानुशीर्षासन को करने के लिए, एक व्यक्ति को यहाँ निचे बताई गयी विधि का पालन करना चाहिए:

बढ़े हुए प्रोस्टेट के लिए योग (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)
जानुशीर्षासन योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Janu Sirsasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)

कैसे करें? (Steps To Do Janu Sirsasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

  1. सबसे पहले किसी शांत वातावरण में अपनी योग चटाई बिछाए और उस पर खड़े हो जाये।
  2. अब दंडासन की मुद्रा में बैठें। अपने हाथों से जमीन को हल्के से दबाते हुए और सांस अंदर लेते हुए रीढ़ को लंबा करने की कोशिश करें।
  3. सांस अंदर लेते हुए अपने दाहिने पैर को ऊपर उठाएं और दाएं पैर को बायीं जांघ के निचले हिस्से पर टिकाएं।
  4. इस आसन में आपके दाहिने कूल्हे और घुटने पर खिंचाव होगा। और आपका दाहिना घुटना जमीन पर होना चाहिए।
  5. साँस छोड़ते हुए कूल्हे के जोड़ों से झुकें – सावधान रहें कि कमर के जोड़ों से न झुकें। नीचे झुकते हुए सांस छोड़ें।
  6. बाएं पैर को दोनों हाथों से पकड़ें। इस आसन की मुद्रा को समझने के लिए ऊपर दिए गए चित्र को देखें।
  7. कुल पांच बार श्वास लें और छोड़ें ताकि आप आसन में 30 से 60 सेकंड तक रह सकें। धीरे-धीरे, जैसे-जैसे आपका शरीर ताकत और लचीलेपन में वृद्धि करना शुरू करता है, आप समय बढ़ा सकते हैं – 90 सेकंड से अधिक न करें।
  8. आप पांच सांसों के बाद इस मुद्रा से बाहर आ सकते हैं। आसन से बाहर निकलने के लिए सांस भरते हुए धड़ को ऊपर उठाएं। सुनिश्चित करें कि आप अपनी पीठ सीधी रखें और अपने कूल्हे जोड़ों से ही वापस ऊपर आएं।
  9. जब आप पूरी तरह से सीधे बैठ जाएं। दाहिने पैर को आगे लायें और दंडासन में समाप्त करें।
  10. दायीं तरफ करने के बाद ये सभी स्टेप बायीं तरफ भी करें।

(यह भी पढ़े – ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए योग (8 Effective Yoga For Reduce Breast Fat in Hindi))

5. सुप्त पादांगुष्ठासन योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Supta Padangusthasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

यह एक लेटा हुआ, पैर विस्तार मुद्रा है जो श्रोणि तल को मजबूत कर सकता है और तनाव मुक्त कर सकता है। सुप्त पादांगुष्ठासन को करने के लिए, व्यक्ति को यहाँ निचे बताई गयी विधि का पालन करना चाहिए:

कैसे करें? (Steps To Do Supta Padangusthasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

  1. सबसे पहले किसी शांत वातावरण में अपनी योग चटाई बिछाए और उस पर शवासन योग की मुद्रा में लेट जाएं।
  2. अब अपने दोनों पैरों और पंजों को धीरे-धीरे स्ट्रेच करें और पैरों को टखनों से दबाएं।
  3. सांस छोड़ते हुए दाएं घुटने को छाती के पास लाएं और दाहिने तलवे पर गैप पर एक पट्टा बांधें।
  4. हो सके तो पैर के अंगूठे को दो अंगुलियों से पकड़ें।
  5. अब दाहिने पैर को छत की ओर सीधा करने का प्रयास करें। इस मुद्रा में आपके हाथ सीधे रहेंगे और कंधे फर्श पर दबाव देंगे।
  6. दबाव डालते हुए बाएं पैर को आगे बढ़ाएं। आप बाएं जांघ के ऊपरी हिस्से को बाएं हाथ से दबा सकते हैं।
  7. दाहिने पैर के खिंचाव के साथ पैर के पिछले हिस्से पर ज्यादा दबाव न डालें।
  8. आसन को कठिन बनाने के लिए पैर को दायीं ओर झुकाया या घुमाया भी जा सकता है।
  9. जब पैर मुड़ा हुआ होगा, तो बाएं पैर से 90 डिग्री का कोण बनाया जाएगा।
  10. इस दौरान बायां नितम्ब पूरी तरह से जमीन के संपर्क में रहना चाहिए।
  11. 30 सेकेंड के बाद पट्टा ढीला करें और पैर को जमीन पर लाएं।

(यह भी पढ़े – जल्दी प्रेगनेंट होने के लिए योग और प्राणायाम (12 Effective Jaldi Pregnant Hone Ke Liye Yoga Aur Pranayama))

6. धनुरासन योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Dhanuarasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

यह लेट-डाउन बैक बेंडिंग पोज़ है जो पेट, पेल्विक फ्लोर और पीठ के निचले हिस्से को मजबूत कर सकता है। धनुरासन करने के लिए, व्यक्ति को यहाँ निचे बताई गयी विधि का पालन करना चाहिए:

धनुरासन योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Dhanuarasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)

कैसे करें? (Steps To Do Dhanuarasana Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

  1. धनुरासन करने के लिए, सबसे पहले, एक साफ हवादार जगह चुनें।
  2. उसके बाद अपनी योग चटाई बिछाकर पेट के बल लेट जाएं। अपने नितंबों के बीच गैप रखें और दोनों हाथों को सीधा रखें।
  3. अपने घुटनों को मोड़ते हुए सांस छोड़ें, अपनी एड़ी को अपने नितंबों के जितना करीब लाएं। और धनुषाकार होते हुए, अपनी एड़ियों को अपने हाथों से पकड़ें।
  4. अब अपनी छाती को सांस लेते हुए जमीन से ऊपर ले जाएं।
  5. अब पैरों को थोड़ा और ऊपर उठाएं और सांस लेते हुए अपनी एड़ियों को हाथ से खींचने की कोशिश करें।
  6. इस दौरान, आपके घुटने आपके कूल्हों की चौड़ाई से अधिक चौड़े नहीं होते हैं।
  7. एड़ियों को खींचते समय पेट के वजन का संतुलन बनाए रखें और सिर को बिल्कुल सीधा रखें।
  8. आपके शरीर के लचीलेपन के आधार पर, आप अपने शरीर को आगे बढ़ा सकते हैं।
  9. इस धनुषाकार मुद्रा का प्रदर्शन करते हुए सांस लेने और छोड़ने पर ध्यान दें।
  10. जब तक संभव हो इस स्थिति में रहें।
  11. प्रारंभिक अवस्था में वापस आने के लिए, धीरे-धीरे शरीर की मांसपेशियों को ढीला छोड़े और अपनी नितंबों और जांघों को जमीन की ओर लाएं।
  12. अब शरीर के सामने के हिस्से को जमीन पर लाएं।
  13. इसके बाद, दोनों हाथों से एड़ी को छोड़ दें और अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

7. विपरीत करनी योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Viparita Karani Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

यह एक अधिक उन्नत स्थिति है लोगों को केवल तभी इसका अभ्यास करना चाहिए जब उन्होंने अपने श्रोणि तल और पीठ के निचले हिस्से में कुछ ताकत का निर्माण करना हो।

योग चिकित्सकों का मानना है कि यह मुद्रा यौन ग्रंथियों की नसों और मांसपेशियों को उत्तेजित करके प्रोस्टेट के स्वास्थ्य में सुधार करती है। विपरीत करनी मुद्रा करने के लिए, व्यक्ति को यहाँ निचे बताई गयी विधि का पालन करना चाहिए:

बढ़े हुए प्रोस्टेट के लिए योग (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)
विपरीत करनी योग है प्रोस्टेट के लिए योग (Viparita Karani Yoga For Enlarged Prostate in Hindi)

कैसे करें? (Steps To Do Viparita Karani Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

  1. अपनी योग चटाई बिछा कर उस पर लेट जाये। अगर आप सहज महसूस न करे तो आप अपनी कमर पर कम्बल या तकिया लगा सकते है और अब सामान्य रूप से सांस लें।
  2. अब धीरे धीरे अपनी टांगो को ऊपर की ओर उठाये और जब टांगो से 45° कोण बन जाये तब अपनी कमर को हाथो से सहारा देते हुए अपने हिप्स को ऊपर उठाए जब तक वह एकदम सीधी ऊपर नही हो जाती।
  3. यह सुनिश्चित करे की आपकी कोहनियाँ जमीन पर हो और आपकी कमर को अच्छे से सहारा दे रहे हो।
  4. अपने पैरों को अपेक्षाकृत मजबूत रखें, बस उन्हें जगह में लंबवत रखने की कोशिश करे।
  5. गहरी सांस लेते रहें और अपनी सहूलियत के अनुसार इस स्थिति में रहें। शुरुआत में 30 – 60 सेकंड तक करें। स्वास्थ्य लाभ के लिए इस योग आसन का अभ्यास हर दिन 3 से 5 मिनट पर्याप्त है। हालांकि आध्यात्मिक लाभ के लिए योगी 15 मिनट तक कर सकते हैं।

प्रोस्टेट के लिए योग करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए (What Precautions Should Be Taken While Doing Yoga For Enlarged Prostate in Hindi):

योग प्रोस्टेट के लिए अत्यधिक लाभ प्रदान करता है। लेकिन विभिन्न योग आसनों को करते समय सावधानी बरतना भी उतना ही आवश्यक है। यहां कुछ बिंदु दिए गए हैं, जिन्हें आपको प्रोस्टेट के लिए योग करते समय याद रखना चाहिए:

  1. इन अभ्यासों को अकेले करने की कोशिश न करें क्योंकि एक पेशेवर की देखरेख में उन्हें प्रदर्शन करना किसी भी प्रकार की ऐंठन या चोट से बचने में मदद कर सकता है।
  2. हमेशा वार्म अप के साथ योग का अभ्यास शुरू करें, योग से पहले अपने शरीर को थोड़ा सा खुलने दें।
  3. अपने चिकित्सक से परामर्श करें यदि आप किसी भी प्रकार की असुविधा का अनुभव करते हैं जो व्यायाम के किसी भी रूप में या उसके बाद आपको प्रभावित करता है।
  4. सही तरीके से योग आसन और विभिन्न श्वास तकनीकों का अभ्यास करना बहुत महत्वपूर्ण है।
  5. आपको अधिक समय तक सांस लेने से बचना चाहिए।
  6. योग आसनों को संतुलित करते हुए आपको सावधानी बरतनी चाहिए।
  7. योग के सत्र से पहले और बाद में आपके शरीर के पोषण और जलयोजन की जरूरतों पर ध्यान देने की सिफारिश की जाती है।
  8. आपको योग के लिए आरामदायक कपड़े पहनने चाहिए।
  9. आपको ओवर-स्ट्रेचिंग से बचना चाहिए।
  10. आपको योग के सत्र के बाद आराम करना चाहिए।

आशा है इन सभी योगासनों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की प्रोस्टेट के लिए योग – Prostate Ke Liye Yoga (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख प्रोस्टेट के लिए योग – Prostate Ke Liye Yoga (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी प्रोस्टेट के लिए योग – Prostate Ke Liye Yoga (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई प्रोस्टेट के लिए योग – Prostate Ke Liye Yoga (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी प्रोस्टेट के लिए योग – Prostate Ke Liye Yoga (Yoga For Enlarged Prostate in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!