अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (9 Effective Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)

Show Some Love By Sharing!

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम – (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi) : हमारी लगातार बदलती जीवन शैली कई बीमारियों को आमंत्रित करने का काम करती है। हमें इन बीमारियों से बचने के लिए न केवल अपनी दिनचर्या को ठीक करने की जरूरत है बल्कि हमें अपनी दिनचर्या में प्रतिदिन योग को शामिल करने की भी आवश्यकता है। स्वस्थ रहने का सबसे आसान और सटीक तरीका योग है। योग के नियमित अभ्यास से जीवन में अनुशासन आता है।

रोजाना सुबह जल्दी उठकर स्वच्छ वातावरण में योग करने से यें आपको शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते है। इसलिए प्रतिदिन रोज सुबह योग करना हमारे लिए महत्वपूर्ण है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi) कौन-कौन से होते है, तो चलिए शुरू करते है।

विषय सूची:

अस्थमा क्या है? (What Is Asthma in Hindi?):

अस्थमा एक सांस सम्भंदित बीमारी है। इस समस्या में रोगी को श्वास, श्वसन नलिकाओं और फेफड़ों पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होती है। अस्थमा में गला और छाती बहुत ज्यादा प्रभावित होती है। अस्थमा में फेफड़ों को सही मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल पाती और सांस लेने में दिक्कत होती है।

अस्थमा के लिए योग का रोज अभ्यास करना बहुत फायदेमंद हो सकता है। रोजाना कुछ योगो का अभ्यास करने से अस्थमा के मरीजों को राहत मिल सकती है। आज के इस आधुनिक युग में अस्थमा से बहुत से लोग परेशान रहते हैं।

अगर सही समय पर अस्थमा का इलाज न किया जाए तो यह गंभीर रूप ले सकता है और कई स्थितियों में यह जानलेवा भी साबित हो सकता है। कुछ लोग अस्थमा के लिए घरेलू नुस्खे भी आजमाते हैं जो लाभदायक हो सकते हैं लेकिन योग का रोजाना अभ्यास करना भी जरूरी है।

वैसे तो अस्थमा का इलाज चिकित्सक की देखरेख और सलाह से करें, लेकिन आप अपने जीवन में कुछ अस्थमा के लिए व्यायाम और योग अपनाकर भी इससे राहत पा सकते हैं। वैसे तो योग हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है, लेकिन अस्थमा के रोगियों के लिए योग अद्भुत हो सकता है। तो आइये जानते है, अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (Asthma Treatment in Yoga And Pranayama in Hindi) कौन-कौन से योग करें-

यहां निचे हमने कुछ महत्वपूर्ण योगासन बताए गए हैं, जिन्हें करने से अस्थमा से छुटकारा पाया जा सकता है।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम कौन-कौन से है? (Names Of Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi):

  1. सुखासन योग [Easy Pose (Sukhasana Yoga)]
  2. धनुरासन योग [Bow Pose (Dhanurasana Yoga)]
  3. अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग [Sitting Half Spinal Twist Pose (Ardha Matsyendrasana Yoga)]
  4. सेतु बंधासन योग [Bridge Pose (Setu Bandhasana Yoga)]
  5. भुजंगासन योग [Cobra Pose (Bhujangasana Yoga)
  6. पवन मुक्तासन योग [Wind-Relieving Pose (Pawanmuktasana Yoga)]
  7. शवासन योग [Corpse Pose (Shavasana Yoga)]
  8. अनुलोम विलोम प्राणायाम (Anulom Vilom Pranayama)
  9. कपालभाती प्राणायाम (Kapalbhati Pranayama)

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi):

यहाँ निचे हमने कुछ महत्वपूर्ण प्राणायाम और योगासन बताये है जो अस्थमा से पीड़ित रोगियों के लिए फायदेमंद साबित हो सकते है, तो आइये जानते है-

1. अस्थमा के लिए योग में करें सुखासन योग (Sukhasana Yoga For Asthma in Hindi):

सुखासन योग के बारे में जानकारी:

“सुखासन” या “आसान पोज” आरामदायक, क्रॉस-लेग्ड, बैठने की स्थिति है और इस योग के अभ्यास से आप के ध्यान देने की किर्या भी  तेज हो सकती है क्युकी यह ध्यान और एकाग्रता को बढ़ाने में उपयोग किए जाने वाले सबसे बुनियादी पोज में से एक है। इस योग में आपको आराम की बैठकर अपनी सांस लेने और छोड़ने की किर्या पर अभ्यास करना होता हैं।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें सुखासन योग (Do Sukhasana Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में सुखासन योग कैसे लाभदायक है?

सुखासन बैठकर अभ्यास करने की आसान मुद्रा है। यह विन्यास योग मुद्रा है। यह आसन तब तक किया जा सकता है जब तक आप इसे आराम से बैठकर सकें। सुकासन अस्थमा के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद होता है। चूंकि यह सांस लेने और छोड़ने पर केंद्रित है, इसलिए यह अस्थमा के लिए उपचार में प्रभावी है और तो और यह हमारे फेफड़ों को भी स्वस्थ रखता है।

सुखासन योग करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- सुखासन योग

(यह भी पढ़े – 7 Effective Yoga For Increasing Immunity in Hindi | अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए योग अपनाये)

2. अस्थमा के लिए योग में करें धनुरासन योग (Dhanurasana Yoga For Asthma in Hindi):

धनुरासन योग के बारे में जानकारी:

धनुरासन 12 हठ योग के साथ-साथ आधुनिक योग शैली में एक विशेष आसन है। इस आसन को करने से शरीर का आकार “धनुष” जैसा हो जाता है, इसलिए इस आसन को “धनुरासन” या “धनुष मुद्रा” कहा जाता है।

“धनुरासन” आसन जिसे “उर्ध्व धनुरासन” या “धनुष मुद्रा” और अंग्रेजी में इसे “बो पोज” भी कहा जाता है। यह सबसे महत्वपूर्ण योग आसनों में से एक है।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें धनुरासन योग (Do Dhanurasana Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में धनुरासन योग कैसे लाभदायक है?

अस्थमा / दमा के मरीजों के लिए धनुरासन योग का रोजाना अभ्यास करना काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। इस अवस्था में शरीर धनुष की तरह दीखता है। इस योगासन में सांस लेने का पूरा अभ्यास किया जाता है। जो आपके फेफड़ों को मजबूत बना सकता है। अस्थमा के मरीज इस आसन को रोजाना घर पर ही किसी एकांत जगह पर कर सकते हैं। शुरुआत में इसका अभ्यास करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है लेकिन धीरे-धीरे इसमें निपूर्ण हो जायेंगे।

धनुरासन योग करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- धनुरासन योग

3. अस्थमा के लिए योग में करें अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग (Ardha Matsyendrasana Yoga For Asthma in Hindi):

अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग के बारे में जानकारी:

अर्ध मत्स्येन्द्रासन मुद्रा प्रमुख आसन हैं जिन्हें हठ योग में प्रभावी रूप से अभ्यास किया जाता है। इस आसन का नाम अर्ध मत्स्येन्द्रासन संस्कृत भाषा के चार शब्दों से मिलकर बना है – अर्ध+ मत्स्य+ इंद्र+ आसन।

अर्ध – “आधा”

मत्स्य – “मछली”

इंद्र – “राजा या भगवान”

आसन – “मुद्रा”

इसे अंग्रेजी में हाफ लॉर्ड ऑफ़ द फिशेस पोज़ (Half Lord of the Fishes Pose) कहा जाता है।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग (Do Ardha Matsyendrasana Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग कैसे लाभदायक है?

अर्ध मत्स्येन्द्रासन आपकी छाती को चौड़ा करता है और उसे खोलने में मदद करता है। यह आपको फेफड़ों में अधिक ऑक्सीजन ले जाने की अनुमति देता है। अर्ध मत्स्येन्द्रासन के अभ्यास से शरीर की ऑक्सीजन अवशोषित करने की क्षमता बढ़ सकती है। योग के इन्ही गुणों के कारण अस्थमा के दौरे का खतरा काफी कम हो जाता है।

अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग

(यह भी पढ़े – 8 Best साइनस के लिए योग और प्राणायाम (Sinus Treatment in yoga in Hindi))

4. अस्थमा के लिए योग में करें सेतु बंधासन योग (Setu Bandhasana Yoga For Asthma in Hindi):

सेतु बंधासन योग के बारे में जानकारी:

सेतुबंधासन को दो शब्दों के नाम पर रखा गया है: “सेतु” और “बंध”।  “सेतु” का अर्थ है पुल और “बंध” का अर्थ है बाँधना। इस आसन में आप अपने शरीर को एक पुल मुद्रा में बांधे या संयमित रखते हैं, इसलिए इसका नाम “सेतुबंधासन” है। सेतु बंधासन शरीर को शक्ति और खिंचाव देने के लिए सबसे अच्छे आसनों में से एक है, इस आसन को करने से पीठ दर्द और सिरदर्द से राहत मिलती है।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें सेतु बंधासन योग (Do Setu Bandhasana Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में सेतु बंधासन योग कैसे लाभदायक है?

अस्थमा के मरीजों के लिए सेतु बंधासन योग का नियमित अभ्यास करना बहुत कारगर साबित हो सकता है। यह आपकी छाती और फेफड़ों को खोलकर शरीर का संतुलन बनाए रखता है। यह थायरॉयड ग्रंथि को भी नियंत्रित रखता है और हमारे शरीर में पाचन किर्या में भी सुधार करने में मदद करता है।

सेतु बंधासन योग करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- सेतु बंधासन योग

5. अस्थमा के लिए योग में करें भुजंगासन योग (Bhujangasana Yoga For Asthma in Hindi):

भुजंगासन योग के बारे में जानकारी:

भुजंगासन को कोबरा पोज़ के नाम से जाना जाता है, क्युकी इस मुद्रा में हमारा शरीर कोबरा के फन के रूप में दिखाई देता है। भुजंगासन एक शुरुआती स्तर का अष्टांग योग आसन है। इस योग का अभ्यास करने के लिए अपने पेट को खाली रखें और सुबह उठने के बाद इसे करने की कोशिश करें। इस योग का अभ्यास रोज 5 मिनट तक करें।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें भुजंगासन योग (Do Bhujangasana Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में भुजंगासन योग कैसे लाभदायक है?

भुजंगासन के अभ्यास से अस्थमा के लक्षणों पर काबू पाया जा सकता है। क्युकी इसके अभ्यास से शरीर में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाती है और यह शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करने में भी मदद करता है। इसके अभ्यास से छाती खुल जाती है और फेफड़ों तक जाने का रास्ता साफ हो जाता है। यह आसन हमारे लचीलेपन को बढ़ाता है और मूड को बेहतर बनाता है। यह छाती की मांसपेशियों में एक अच्छा खिंचाव भी देता है।

भुजंगासन योग करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- भुजंगासन योग

(यह भी पढ़े – YOGA FOR 30 MINUTES in Hindi | जानिए 30 मिनट के लिए योगासन में कौन-कौन से योग करें!)

6. अस्थमा के लिए योग में करें पवनमुक्तासन योग (Pawanmuktasana Yoga For Asthma in Hindi):

पवनमुक्तासन योग के बारे में जानकारी:

पवनमुक्तासन (Pawanamuktasana) दो संस्कृत शब्दों पवन (Pawan) और मुक्ता (mukta) से बना है, जहां पवन का अर्थ है (वायु) और मुक्ता का अर्थ है निकालना (रिलीज करना)। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, यह आसन पेट (पाचन तंत्र) से अनावश्यक गैस को निकालने में मदद करता है। इसलिए इसे अंग्रेजी में (Wind-Relieving Pose) कहा जाता है।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें पवनमुक्तासन योग (Do Pawanmuktasana Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में पवनमुक्तासन योग कैसे लाभदायक है?

अस्थमा के लिए योग में पवनमुक्तासन योग (Yoga For Asthma in Hindi) भी शामिल है। पवनमुक्तासन योग का रोजाना अभ्यास करने से अस्थमाके रोगियों को कई फायदे प्राप्त हो सकते है। अस्थमा के मरीजों के लिए यह आसान लाभदायक माना गया है। इस आसन को करने से शरीर की दूषित हवा बाहर निकल जाती है। योग अस्थमा का प्राकृतिक इलाज साबित हो सकता है। इस आसान को करने से आपकी गैस की समस्या भी दूर हो सकती है।

पवनमुक्तासन योग करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- पवनमुक्तासन योग

7. अस्थमा के लिए योग में करें शवासन योग (Shavasana Yoga For Asthma in Hindi):

शवासन योग के बारे में जानकारी:

शवासन योग मन और शरीर की थकान के साथ-साथ आपके मन और आपकी भावनाओं को नियंत्रित करता है। शवासना एक आराम देने वाला मुद्रा है जिसमें आपको आराम से लेटने की आवश्यकता होती है। शरीर को आराम देने के लिए आमतौर पर योग सत्र के अंत में इसका अभ्यास किया जाता है। शवासन शुरुआती स्तर का एक अष्टांग योग आसन है।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें शवासन योग (Do Shavasana Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में शवासन योग कैसे लाभदायक है?

शवासन योग में सांस लेना काफी आसान है। इस अभ्यास को करने से आप अस्थमा में आसानी से लाभ प्राप्त कर सकते हैं। प्रतिदिन शवासन का अभ्यास करने से अस्थमा के रोगियों को राहत मिल सकती है। यह आसन रोगियों में तनाव, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, मनोभ्रंश, हृदय रोग से राहत दिलाने के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। इस योग का निरंतर अभ्यास करने से याददाश्त और एकाग्रता को भी बढ़ाया जा सकता है।

शवासन योग करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- शवासन योग

(यह भी पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (7 Effective Pranayama And Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi))

8. अस्थमा के लिए योग में करें अनुलोम विलोम प्राणायाम (Do Anulom Vilom Pranayama in Yoga For Asthma in Hindi):

अनुलोम विलोम प्राणायाम के बारे में जानकारी:

अनुलोम विलोम श्वास तकनीक है, जिसका प्राणायामों में अपना एक उच्च स्थान है और जो अन्य योगासनों की भाती आपके शरीर के समग्र कल्याण में मदद करती है। इस प्राणायाम का नियमित अभ्यास आपके मन को शांत करने, तनाव को कम करने, मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देने और आपके शारीरिक प्रक्रियाओं के लिए प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने आदि में मदद करता है।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें अनुलोम विलोम प्राणायाम (Do Anulom Vilom Pranayama in Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में अनुलोम विलोम प्राणायाम कैसे लाभदायक है?

अनुलोम विलोम प्राणायाम भी अस्थमा से पीड़ित रोगियों के लिए लाभदायक है, क्योंकि यह भी कपालभाती प्राणायाम की तरह पूरे श्वसन तंत्र को उत्तेजित करता है, और नाक की मांसपेशियों को आराम देकर सूजन को कम करता है। अनुलोम विलोम प्राणायाम तकनीक में साँस लेना और लेना छोड़ना शामिल है, जो फेफड़ों को मजबूत करता है और उनकी क्षमता को बढ़ाता है।

अनुलोम विलोम प्राणायाम करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- अनुलोम विलोम प्राणायाम

9. अस्थमा के लिए योग में करें कपालभाती प्राणायाम (Do Kapalbhati Pranayama in Yoga For Asthma in Hindi):

कपालभाती प्राणायाम के बारे में जानकारी:

कपालभाती प्राणायाम एक प्रक्रिया है, और यह एक प्रकार की श्वास क्रिया है जो आपको विभिन्न संक्रमणों के निपटने में सहायता प्रदान करती है। कपालभाति एक ऐसा आसन है जिसे करने से सभी योग अभ्यासी लाभान्वित होते हैं। जब योगासन की बात आती है, तो कपालभाति प्राणायाम को जीवन का प्राण कहा जाता है। इस आसन को सबसे प्रभावी योग माना जाता है। इसी कारण इस प्राणायाम को हठयोग में भी शामिल किया गया है।

अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम - Asthma Ke liye Yoga Aur Pranayam (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi)
अस्थमा के लिए योग में करें कपालभाती प्राणायाम (Do Kapalbhati Pranayama in Yoga For Asthma in Hindi)

अस्थमा के लिए योग में कपालभाती प्राणायाम कैसे लाभदायक है?

कपालभाति प्राणायाम तंत्रिका तंत्र को मजबूत करता है। यह अस्थमा से पीड़ित रोगियों के लिए बहुत उपयोगी है, क्योंकि यह पूरे श्वसन तंत्र को उत्तेजित करता है। कपालभाती तकनीक में जबरदस्त साँस लेना शामिल है, जो फेफड़ों को मजबूत करता है और उनकी क्षमता बढ़ाता है।

कपालभाती का अभ्यास करने से हृदय और फेफड़ों में रुकावटों को दूर करने में मदद मिलती है। यह शरीर के विभिन्न हिस्सों में रक्त की आपूर्ति को भी बढ़ाता है। यह शरीर को सक्रिय करता है और सुस्ती को दूर करता है। यह प्राणायाम अस्थमा से पीड़ित व्यक्तियों के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

कपालभाती प्राणायाम करने की सही विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें- कपालभाती प्राणायाम

आशा है इन सभी अस्थमा के लिए योगासनों और प्राणायामो को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े-

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!
×