अपेंडिक्स के लिए योग (7 Effective Yoga for Appendix in Hindi)

0

अपेंडिक्स के लिए योग – Appendix Ke Liye Yoga (Yoga for Appendix in Hindi): किसी भी व्यक्ति के स्वस्थ रहने के लिए सबसे जरूरी है कि वह अपने पेट को स्वस्थ रखे। अगर पेट से जुड़ी कोई समस्या है तो उसका असर पूरे शरीर पर पड़ता है। पेट से जुड़ी ऐसी ही एक समस्या है अपेंडिक्स।

अपेंडिक्स की स्थिति में पेट में असहनीय दर्द होता है। इस बीमारी का इलाज केवल चिकित्सकीय रूप से किया जाता है, लेकिन योग आसन की मदद से यह अपेंडिक्स के शुरुआती लक्षणों को कम करने और अपेंडिक्स के ऑपरेशन के बाद होने वाली जटिलताओं से बचने में मदद कर सकता है। इसी वजह से हम इस लेख में अपेंडिक्स के लिए योग (Yoga for Appendicitis in Hindi) की जानकारी लेकर आए हैं।

Yoga for Appendicitis in Hindi:

अपेंडिक्स के लिए 7 प्रभावी योग के नाम (7 Effective Yoga for Appendix in Hindi):

1. वृक्षासन योग (Vrikshasana Yoga)

2. त्रिकोणासन योग (Trikonasana Yoga)

3. अर्ध चंद्रासन योग (Ardha Chandrasana Yoga)

4. पश्चिमोत्तानासन योग (Paschimottanasana Yoga)

5. शशांकासन योग (Shashankasana Yoga)

6. सर्वांगासन योग (Sarvangasana Yoga)

7. वीरभद्रासन योग (Virabhadrasana Yoga)

अपेंडिक्स को दूर करने में योग कैसे लाभकारी है (How Yoga is Beneficial in Removing The Appendix in Hindi):

Yoga for Appendicitis in Hindi, अपेंडिक्स के दर्द के लिए योग, Appendix Ke Liye Yoga, Yoga for Appendix in Hindi, Appendix Treatment By Yoga in Hindi, How To Cure Appendix By Yoga in Hindi, अपेंडिक्स के लिए योग,
अपेंडिक्स के लिए योग (7 Effective Yoga for Appendicitis in Hindi)

अपेंडिक्स एक प्रकार की छोटी थैली होती है जो बड़ी आंत से जुड़ी होती है। जब यह सूज जाता है तो इसे अपेंडिसाइटिस कहते हैं। यह समस्या होने पर मल सख्त हो जाता है। इसके अलावा, दस्त, बुखार, मतली और उल्टी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इस समस्या के शुरुआती लक्षणों और सर्जरी के बाद होने वाली जटिलताओं से राहत पाने के लिए योग करना फायदेमंद हो सकता है।

Also Read:-

अपेंडिक्स के लिए योग (Yoga For Appendix in Hindi):

योग स्वस्थ रहने का सबसे अच्छा तरीका है। ऐसा करने से न सिर्फ समस्याओं से निजात मिलती है बल्कि लोगों को स्वस्थ रखने में भी मदद मिल सकती है। ऐसे में अपेंडिक्स और उसकी सर्जरी के बाद होने वाली परेशानी को दूर करने के लिए आप नीचे बताए गए योगासन को कर सकते हैं।

1. अपेंडिक्स के लिए योग में करें वृक्षासन योग (Do Vrikshasana Yoga for Appendix in Hindi):

अपेंडिक्स को दूर करने के लिए आप वृक्षासन को योग में शामिल कर सकते हैं। अपेंडिक्स के लक्षणों से निजात पाने के लिए यह योग फायदेमंद साबित हो सकता है। वृक्षासन करते समय एक पैर पर खड़ा होना होता है, और इसमें शरीर एक पेड़ की तरह दिखता है। यह योग पाचन को ठीक कर सकता है। वहीं हम ऊपर बता चुके हैं कि अपेंडिक्स होने पर मल सख्त हो जाता है। इस आधार पर यह माना जाता है कि वृक्षासन अपेंडिक्स के लक्षणों को कुछ हद तक कम कर सकता है।

Yoga for Appendicitis in Hindi, अपेंडिक्स के दर्द के लिए योग, Appendix Ke Liye Yoga, Yoga for Appendix in Hindi, Appendix Treatment By Yoga in Hindi, How To Cure Appendix By Yoga in Hindi, अपेंडिक्स के लिए योग,
Do Vrikshasana Yoga for Appendicitis in Hindi

इस योग को करने की प्रक्रिया:

  1. सबसे पहले जमीन पर एक योगा मैट बिछाकर सीधे खड़े हो जाएं।
  2. अपने हाथों को अपने शरीर के दोनों ओर रखें।
  3. अपने दाहिने घुटने को मोड़ें और इसे अपने बाएं पैर की जांघ पर रखें।
  4. सुनिश्चित करें कि आपके पैर का एकमात्र या ऊपरी हिस्सा सीधे आपकी आंतरिक जांघ पर रखा गया है।
  5. इस दौरान शरीर का संतुलन बनाए रखने के लिए आपका बायां पैर सीधा होना चाहिए।
  6. अब इस मुद्रा में लंबी और गहरी सांसें लें।
  7. अपने हाथों को अपने सिर के ऊपर उठाएं, अपनी हथेलियों को एक साथ लाएं और उन्हें नमस्कार की मुद्रा में लाएं।
  8. आप चाहें तो इस मुद्रा में किसी भी चीज पर फोकस कर सकते हैं ताकि संतुलन की स्थिति बनी रहे।
  9. ध्यान रहे कि रीढ़, कमर और सिर एक सीध में हों।
  10. अब इस मुद्रा में 3 से 5 मिनट तक रहें।
  11. एक गहरी सांस लें और सामान्य स्थिति में लौटने के लिए अपनी प्रारंभिक मुद्रा में आ जाएं।
  12. अब इस मुद्रा के चरणों को दूसरे पैर से दोहराएं।

Also Read:-

2. अपेंडिक्स के लिए योग में करें त्रिकोणासन योग (Do Trikonasana yoga for Appendix in Hindi):

त्रिकोणासन के अभ्यास के समय शरीर एक त्रिभुज यानि तीन कोने जैसी आकृतियाँ बनाता है। इसलिए इस योग को त्रिकोणासन नाम दिया गया है। इसे अंग्रेजी में ट्राएंगल पोज भी कहते हैं। इस योग को करने से पेट की मांसपेशियों पर असर पड़ता है। साथ ही यह अपेंडिक्स के कारण होने वाली अन्य समस्याओं जैसे गैस, अपच और कब्ज से भी छुटकारा दिला सकता है।

Yoga for Appendicitis in Hindi, अपेंडिक्स के दर्द के लिए योग, Appendix Ke Liye Yoga, Yoga for Appendix in Hindi, Appendix Treatment By Yoga in Hindi, How To Cure Appendix By Yoga in Hindi, अपेंडिक्स के लिए योग,
Do Trikonasana Yoga for Appendicitis in Hindi

इस योग को करने की प्रक्रिया:

  1. इस योग को करने के लिए घर या पार्क में किसी साफ जगह पर योगा मैट या चटाई बिछाकर सीधे खड़े हो जाएं।
  2. इसके बाद दोनों पैरों को एक दूसरे से हटा लें और उनके बीच कम से कम दो फीट की दूरी रखें।
  3. इस समय अपने दोनों हाथों को शरीर से जोड़े रखें।
  4. फिर अपने दोनों हाथों को कंधों तक फैला लें।
  5. इसके बाद गहरी सांस लेते हुए बाएं हाथ को ऊपर उठाएं और हथेली को कान से लगा लें।
  6. साथ ही अपने दाहिने पैर को बाहर की ओर मोड़ें।
  7. अब धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए कमर को दायीं ओर झुकाएं।
  8. ऐसा करते समय पैर घुटने से नहीं मुड़ना चाहिए और कान से जुड़ा हाथ वही रहेगा।
  9. फिर बाएं हाथ को जमीन के समानांतर लाने की कोशिश करें और दाहिने हाथ से दाहिने पैर के टखने को छूने की कोशिश करें।
  10. अब इस स्थिति में करीब 15 से 20 सेकेंड तक रहें और नियमित रूप से सांस लें और सांस छोड़ें।
  11. इसके बाद सांस अंदर लें और अपनी शुरुआती मुद्रा में आ जाएं।
  12. कुछ सेकेंड के बाद इस प्रक्रिया को दूसरी तरफ से भी दोहराएं।
  13. प्रारंभिक अभ्यासी इस योग के तीन से पांच चक्र तक कर सकते हैं।

3. अपेंडिक्स के लिए योग में करें अर्ध चंद्रासन योग (Do Ardha Chandrasana Yoga for Appendix in Hindi):

अर्धचंद्रासन के दौरान एक हाथ और एक पैर पर खड़ा होना होता है। यह योग पेट को मजबूत करता है और पाचन में सुधार कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि इससे अपेंडिक्स की ऑपरेशन के बाद की स्थिति में सुधार होता है।

Yoga for Appendicitis in Hindi, अपेंडिक्स के दर्द के लिए योग, Appendix Ke Liye Yoga, Yoga for Appendix in Hindi, Appendix Treatment By Yoga in Hindi, How To Cure Appendix By Yoga in Hindi, अपेंडिक्स के लिए योग,
Do Ardha Chandrasana Yoga for Appendicitis in Hindi

इस योग को करने की प्रक्रिया:

  1. इस योग को करने के लिए एक योगा मैट बिछाकर उस पर सीधे खड़े हो जाएं।
  2. इस समय दोनों पैरों के बीच करीब दो फीट की दूरी रखें।
  3. अब दोनों हाथों को शरीर से सीधा ले आएं और कंधे के बराबर ले आएं।
  4. फिर धीरे-धीरे बाईं ओर झुकें, बाएं हाथ को बाएं पैर के पास जमीन पर रखें और दाएं पैर को ऊपर उठाएं।
  5. फिर अपने दाहिने हाथ को सीधे आसमान की तरफ उठाएं।
  6. अब अपनी गर्दन को मोड़ें, चेहरे को ऊपर की ओर मोड़ें और अपनी आंखों को दाहिने हाथ पर रखें।
  7. बायां पैर और बायां हाथ जमीन पर रहेगा और दायां पैर और दायां हाथ आसमान की तरफ रहेगा।
  8. अब धीरे-धीरे प्रारंभिक मुद्रा में आ जाएं। इस दौरान शरीर का पूरा भार बाएं पैर और बाएं हाथ की उंगलियों पर होगा।
  9. कुछ देर इसी मुद्रा में रहें और सामान्य रूप से सांस लेते और छोड़ते रहें।
  10. अब इसे दूसरी तरफ से भी दोहराएं। यह योग का आधा चक्र था।
  11. इस योग को आप रुक-रुक कर चार से पांच बार कर सकते हैं।

Also Read:-

4. अपेंडिक्स के लिए योग में करें पश्चिमोत्तानासन योग (Do Paschimottanasana Yoga for Appendix in Hindi):

पश्चिमोत्तानासन नियमित रूप से करने से अपेंडिक्स सर्जरी के बाद होने वाली परेशानी और शुरुआती लक्षणों से राहत मिल सकती है। अपेंडिक्स के कारण मल त्याग चुनौतीपूर्ण हो सकता है। कब्ज में भी आसन कठिन होता है और यह योग कब्ज की समस्या से निजात दिला सकता है। ऐसे में अपेंडिक्स के लक्षणों को भी कम किया जा सकता है।

Yoga for Appendicitis in Hindi, अपेंडिक्स के दर्द के लिए योग, Appendix Ke Liye Yoga, Yoga for Appendix in Hindi, Appendix Treatment By Yoga in Hindi, How To Cure Appendix By Yoga in Hindi, अपेंडिक्स के लिए योग,
Do Paschimottanasana Yoga for Appendicitis in Hindi

इस योग को करने की प्रक्रिया:

  1. सबसे पहले जमीन पर योगा मैट बिछाएं और पैरों को आगे की ओर फैलाकर बैठ जाएं।
  2. सुनिश्चित करें कि इस स्थिति में दोनों पैर एक-दूसरे से सटे हों और घुटने सीधे रहने चाहिए।
  3. ध्यान रहे कि इस आसन के अभ्यास के दौरान सिर, गर्दन और रीढ़ की हड्डी भी सीधी होनी चाहिए।
  4. अब दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं, फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुकें और माथे को घुटनों के पास रखते हुए पैरों के अंगूठे को हाथों से पकड़ने की कोशिश करें।
  5. सुनिश्चित करें कि आगे झुकते समय भी घुटने मुड़े नहीं हैं।
  6. कुछ सेकंड के लिए इस स्थिति में रहने की कोशिश करें और औसत गति से सांस लेते रहें।
  7. अंत में गहरी सांस लें, अपनी प्रारंभिक अवस्था में लौट आएं और इस आसन को 3 से 4 बार दोहराएं।

5. अपेंडिक्स के लिए योग में करें शशांकासन योग (Do Shashankasana Yoga for Appendix in Hindi):

इसे करने के लिए योग में घुटनों के बल बैठना और धड़ के हिस्से को नीचे झुकाना शामिल है, जिससे यह आसन दस्त की समस्या से छुटकारा दिला सकता है। वहीं अपेंडिक्स की समस्या होने पर डायरिया जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

Yoga for Appendicitis in Hindi, अपेंडिक्स के दर्द के लिए योग, Appendix Ke Liye Yoga, Yoga for Appendix in Hindi, Appendix Treatment By Yoga in Hindi, How To Cure Appendix By Yoga in Hindi, अपेंडिक्स के लिए योग,
Do Shashankasana Yoga for Appendicitis in Hindi

इस योग को करने की प्रक्रिया:

  1. सबसे पहले किसी साफ जगह पर योगा मैट या चटाई बिछाकर वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाएं।
  2. इस समय दोनों हाथ सीधे घुटनों पर होंगे।
  3. फिर एक लंबी सांस लेते हुए हाथों को सीधा ऊपर की ओर उठाएं।
  4. अब सांस छोड़ते हुए कमर के हिस्से को सामने की ओर झुकाएं। साथ ही दोनों हाथों को नीचे लाएं और जमीन पर आराम करें।
  5. हाथ सीधे सामने की ओर होने चाहिए और गर्दन या रीढ़ भी सीधी होनी चाहिए। साथ ही माथे से जमीन को छूने की कोशिश करें।
  6. कुछ देर इसी मुद्रा में रहें और औसत गति से सांस लेते और छोड़ते रहें।
  7. अब सांस अंदर लें और फिर से वज्रयान की मुद्रा में आ जाएं।
  8. ब्रेक लेकर आप इस योग को चार से पांच बार कर सकते हैं।

Also Read:-

6. अपेंडिक्स के लिए योग में करें सर्वांगासन योग (Do Sarvangasana Yoga for Appendix in Hindi):

इस योग में पीठ के बल लेटकर पैरों को ऊपर उठाया जाता है। इस योग का निरंतर अभ्यास मल त्याग को नियंत्रित करता है, जिससे कब्ज की समस्या से निजात मिल सकती है। यह पेट दर्द को भी ठीक कर सकता है। इसके अलावा, यह कुछ हद तक अपेंडिक्स की स्थिति में सुधार कर सकता है।

Yoga for Appendicitis in Hindi, अपेंडिक्स के दर्द के लिए योग, Appendix Ke Liye Yoga, Yoga for Appendix in Hindi, Appendix Treatment By Yoga in Hindi, How To Cure Appendix By Yoga in Hindi, अपेंडिक्स के लिए योग,
Do Sarvangasana Yoga for Appendicitis in Hindi

इस योग को करने की प्रक्रिया:

  1. सबसे पहले स्वच्छ खुले वातावरण में योगा मैट बिछाएं।
  2. ताकि इस आसन को करते समय शरीर को शुद्ध ऑक्सीजन मिले।
  3. अब इस आसन को करने के लिए पीठ के बल योग मैट पर लेट जाएं।
  4. दोनों हाथ और पैर सीधे जमीन पर होने चाहिए।
  5. हथेलियों को फर्श पर रखें, और दोनों पैर सीधे जुड़े होने चाहिए।
  6. अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए दोनों पैरों, कूल्हों और कमर को धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठाएं।
  7. इसके बाद अपने पेट और पीठ को ऊपर उठाएं, दोनों हाथों की कोहनियों को जमीन पर रखें और हथेलियों से कमर को सहारा दें।
  8. ध्यान रहे कि ऐसा करते समय आपके दोनों पैर सीधे रहें, घुटनों को मोड़ने न दें।
  9. इस आसन में शरीर का पूरा भार कंधों और सिर पर होगा।
  10. ऐसा करते समय ठुड्डी को छाती से स्पर्श करें।
  11. अपने कंधे को कोहनी से जमीन के पास रखें और चेहरा आसमान या पैर के अंगूठे की ओर रखें।
  12. अपने शरीर को स्थिर करें और अपनी क्षमता के अनुसार कुछ देर इसी मुद्रा में रहें।
  13. सांस नियमित रखें।
  14. सर्वांगासन से बाहर आने के लिए कमर और पैरों को धीरे-धीरे नीचे लाएं और हाथों को जमीन पर रखें।
  15. अपनी प्रारंभिक अवस्था में आएं।

7. अपेंडिक्स के लिए योग में करें वीरभद्रासन योग (Do Virabhadrasana Yoga for Appendix in Hindi):

आप अपेंडिक्स के लिए योग में वीरभद्रासन को भी शामिल कर सकते हैं। दरअसल, इस योग के नियमित अभ्यास से पेट की मांसपेशियां मजबूत होती हैं, जिससे अपेंडिक्स की समस्या को पनपने से रोका जा सकता है।

Yoga for Appendicitis in Hindi, अपेंडिक्स के दर्द के लिए योग, Appendix Ke Liye Yoga, Yoga for Appendix in Hindi, Appendix Treatment By Yoga in Hindi, How To Cure Appendix By Yoga in Hindi, अपेंडिक्स के लिए योग,
Do Virabhadrasana Yoga for Appendicitis in Hindi

इस योग को करने की प्रक्रिया:

  1. एक योगा मैट बिछाकर उस पर सीधे खड़े हो जाएं।
  2. अब ताड़ासन मुद्रा में आएं।
  3. दोनों पैरों के बीच 3 से 3.5 फीट का अंतर करें।
  4. दोनों हाथों को ऊपर उठाकर जमीन के समानांतर ले आएं।
  5. दोनों हाथों की हथेलियों को सिर के ऊपर ले जाएं और जोड़ लें।
  6. दाहिने पैर के अंगूठे को 90 डिग्री के कोण पर घुमाएं।
  7. फिर बाएं पैर के अंगूठे को 45 डिग्री पर घुमाएं। पैरों को स्थिर रखें।
  8. ऊपरी धड़ को दाहिने पैर की ओर घुमाएं।
  9. अब तक मुंह 90 डिग्री का हो चुका होगा।
  10. दाहिने पैर के घुटने को मोड़कर 90 डिग्री का कोण बनाएं।
  11. दाहिनी जांघ को फर्श के समानांतर लाएं। बायां पैर सीधा रहेगा।
  12. सिर को पीछे की ओर झुकाएं और ऊपर देखें।
  13. इस स्थिति में 30 से 60 सेकेंड तक रहें।
  14. अब वापस पुरानी स्थिति में आ जाएं।
  15. ये सारी प्रक्रियाएं अब दूसरे पैर से भी की जाएंगी।

अपेंडिक्स के लिए योग करते समय कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए? (What Precautions Should Be Taken While Doing Yoga For Appendix in Hindi?):

किसी भी समस्या के लिए योग करते समय सावधानी बरतना जरूरी है। इसी तरह अपेंडिक्स के लिए योग (Yoga for Appendicitis in Hindi) करते समय निम्न बातों का ध्यान रखें-

  1. अपेंडिक्स के लिए किया गया योग हमेशा किसी विशेषज्ञ की देखरेख में ही करना चाहिए।
  2. योग हमेशा सुबह खाली पेट करना चाहिए। अगर कोई शाम के समय योग करने की सोचता है तो उसे योग करने से पहले 3 घंटे तक किसी भी चीज का सेवन नहीं करना चाहिए।
  3. अगर किसी को कोई गंभीर बीमारी है या उसकी सर्जरी हुई है तो योग करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
  4. शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द होने पर योग करने से बचें।

आशा है इन सभी योगासनों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की अपेंडिक्स के लिए योग – Appendix Ke Liye Yoga (Yoga For Appendix in Hindi) क्या होते है।

Also Read:-

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख अपेंडिक्स के लिए योग – Appendix Ke Liye Yoga (Yoga For Appendix in Hindi) पसंद आया होगा, अगर आपको भी अपेंडिक्स के लिए योग – Appendix Ke Liye Yoga (Yoga For Appendix in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई अपेंडिक्स के लिए योग – Appendix Ke Liye Yoga (Yoga For Appendix in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी अपेंडिक्स के लिए योग – Appendix Ke Liye Yoga (Yoga For Appendix in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। Aarogyachintan.in वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here