वृक्षासन करने का तरीका और फायदे [Vrikshasana (Tree Pose) Steps And Benefits in Hindi]

वृक्षासन करने का तरीका और फायदे (Vrikshasana Steps And Benefits in Hindi) : क्या आपको पता है वृक्षासन करने का सही तरीका क्या है, अगर नहीं तो यहाँ हमने विस्तार में बताया है की वृक्षासन कैसे करे और इसके फायदे क्या होते है।   

इसी लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, जिसे पढ़ने के बाद आपको यह ज्ञान हो जाएगा की वृक्षासन कैसे करते है और वृक्षासन के फायदे क्या होते है, तो चलिए शुरू करते है।

ट्री पोज या वृक्षासन क्या है (What Is Vrikshasana / Tree Pose In Hindi):

जब इस आसन की उपस्थिति की बात आती है, तो वृक्षासन एक स्थिर और सुशोभित वृक्ष की तरह है। यह एक संस्कृत शब्द है जिसमे “वृक्षा” का अर्थ “वृक्ष” और “आसन” का अर्थ “मुद्रा” होता है।

वृक्षासन (Vrikshasana) वह मुद्रा है जिसमे रावन ने बरसो तक तपस्या कर के भगवान शिव को प्रसन्न किया था अर्थात तब से ही वृक्षासन को एक अमूल्य आसन माना जाता है।

स्वस्थ शरीर के लिए एक स्वस्थ दिमाग की जरूरत होती है। वृक्षासन न केवल चयापचय को सक्रिय करता है, बल्कि आपके दिमाग को स्थिर करने में भी मदद करता है। और आज की दुनिया में, उस संतुलन को बनाए रखना अत्यंत आवश्यक है।

जब भी इस मुद्रा में आपका संतुलन होता है, तो आप अपने दिमाग पर ध्यान केंद्रित करने के लिए इच्छुक होते हैं, और जब से आप ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, आपको वास्तव में एहसास होता है कि आप संतुलन बना रहे हैं।

जब भी आपका मन भटकता है, आपका शरीर भी ऐसा ही करता है और यह चिंता, साथ ही तनाव, संतुलन प्राप्त करने में समस्याओं का कारण बनता है।

जब आप इस आसन में स्ट्रेचिंग के माध्यम से अपने दिमाग के साथ-साथ शरीर को भी स्थिर करते हैं, तो यह हड्डियों के साथ-साथ जोड़ों को भी मजबूत बनाता है और छाती और कूल्हों दोनों को भी टोन करता है। यह आपके कंधों को ढीला भी करता है और बाजुओं को टोन भी करता है।

वृक्षासन करने का सही तरीका (Vrikshasana Karne Ka Tarika, How To Do Vrikshasana / Tree Pose In Hindi):

ट्री पोज (Vrikshasana) आसन सुबह में किया जाना चाहिए। यह योग का अभ्यास करने का सबसे अच्छा तरीका है की आप इसे खाली पेट करे। आपको इस योग का अभ्यास करने से कम से कम चार से पांच घंटे पहले भोजन लेना चाहिए।

यह आपके शरीर से भोजन को पचाने के लिए पर्याप्त समय प्रदान करता है और शरीर को सक्रिय करता है जो इसे गतिविधि के लिए तैयार करता है।

यह भी पढ़े –

यहाँ निचे हमने बाबा रामदेव द्वारा बताया गया वृक्षासन करने का सही तरीका (Baba Ramdev Step By Step Instruction’s For Vrikshasana / Tree Pose In Hindi) बताया है जिसे आपको जरुर देखना चाहिए-

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया वृक्षासन करने का सही तरीका (Baba Ramdev Step By Step Instruction’s For Vrikshasana / Tree Pose In Hindi):

वृक्षासन करने की विधि (Right Technique To Do Vrikshasana / Tree Pose in Hindi) :

  1. सबसे पहले अपने दोनों हाथों को पीछे रखें और सीधे खड़े हो जाएं।
  2. उसके बाद, अपने दाहिने पैर को उठाएं और बाएं पैर के घुटने के ऊपर रखें।
  3. उसके बाद, सांस ले और साँस छोड़ते हुए अब प्रार्थना की मुद्रा में दोनों हाथों को ऊपर की ओर ले जाएं।
  4. सुनिश्चित करें कि आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी हो। साथ ही, आपके शरीर को तना हुआ होना चाहिए, और हर बार जब आप सांस छोड़ते हैं तब एक गहरी सांस लेनी चाहिए।
  5. इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकंड से 1 मिनट तक बने रहने की कोशिश करे।
  6. अब इसी पूरी प्रक्रिया को अपने दूसरे पैर से दोहराए।

बाएं पैर को अपने दाहिने घुटने के ऊपर लाने में आपको कुछ कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। इन विशेष मामलों में, आपको पैर को घुटने से नीचे रखना चाहिए। लेकिन सुनिश्चित करें कि आप अपने पैर को दूसरे पैर के घुटने पर कभी न रखें।

साथ ही, आपको स्थिर रहने के साथ-साथ संतुलन बनाए रखना मुश्किल हो सकता है। आप इस आसन का अभ्यास केवल संतुलन बनाए रखने के लिए किसी भी दीवार को पकड़ कर भी कर सकते हैं।

एकाग्रता में सहायता करने के साथ-साथ आपको अभ्यास करने से पहले गहरी साँसें लेने की कोशिश करनी चाहिए और एक वस्तु पर अपनी दृष्टि को भी ठीक करना चाहिए जिसे आपके सामने रखा गया है।

वृक्षासन करने का तरीका और फायदे – Vrikshasana (Tree Pose) Steps and Benefits in Hindi
वृक्षासन करने का तरीका और फायदे (Tree Pose / Vrikshasana Yoga Steps And Benefits in Hindi)

ट्री पोज मुद्रा योग या वृक्षासन के फायदे और लाभ (Benefits Of Vrikshasana / Tree Pose in Hindi):

  1. इस योग के अभ्यास से साइटिका से राहत मिलती है।
  2. यह घुटनों को मजबूत बनाता है और कूल्हे के जोड़ों को ढीला करता है।
  3. यह न्यूरो-मस्कुलर कोऑर्डिनेशन में भी सहायता करता है और सुधार करता है।
  4. यह एकाग्रता हो बढ़ाकर मन को शांत करता है।
  5. यह संतुलन में सुधार के साथ-साथ रीढ़ को मजबूत बनाने में सहायता करता है।
  6. इसके अभ्यास से यह हमारे शारीरिक संतुलन को सुधारने में मदद करता है।
  7. पेड़ पैर की मांसपेशियों को टोन करता है जबकि टेंडन बनाने के साथ-साथ पैरों के स्नायुबंधन को मजबूत बनाता है।
  8. इस विशेष मुद्रा में आंतरिक कान, आंखें और साथ ही कंधे मजबूत होते हैं।
  9. यह कटिस्नायुशूल से पीड़ित लोगों के लिए राहत प्रदान करने में मदद करता है और फ्लैट पैरों को कम करने में मदद करता है।
  10. यह आपको अधिक स्थिर, धैर्यवान और लचीला बनाने में सहायता करता है। यह मानसिक संकायों को सक्रिय करते हुए एकाग्रता और ध्यान को भी बढ़ाता है।
  11. यह वक्ष को भी मजबूत करता है।

यह भी पढ़े –

वृक्षासन करने से पहले क्या सावधानियां बरते (Precautions To Be Taken Before Doing Vriksasana / Tree Pose in Hindi):

आमतौर पर वृक्षासन (Tree Pose) का अभ्यास बिल्कुल सुरक्षित है और इसका अभ्यास हर व्यक्ति कर सकता है। लेकिन अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर (High BP) की समस्या है तो मॉडरेशन में वृक्षासन (Tree Pose) का अभ्यास करें और अभ्यास के दौरान अपने हाथों को छाती के पास रखें, और उन्हें सिर से ऊपर बिलकुल भी न उठाएं। यदि आप वर्टिगो या माइग्रेन से पीड़ित है तो इस आसन को न करे।

वृक्षासन के लिए शुरुआती टिप्स (Beginner Tips For Vriksasana / Tree Pose in Hindi):

शुरुआत में, आपको बाएं पैर को दाहिने घुटने के ऊपर लाना मुश्किल हो सकता है। ऐसे मामलों में, आप अपने पैर को घुटने से नीचे रख सकते हैं। लेकिन, जैसा कि पहले बताया गया है, कभी भी पैर को अपने घुटने पर न रखें।

इसके अलावा, शुरू में, स्थिर रहना और अपना संतुलन बनाए रखना कठिन हो सकता है। आप संतुलन के लिए दीवार पकड़कर इस आसन का अभ्यास कर सकते हैं।

एकाग्रता को बढ़ाने और सहायता करने के लिए, अभ्यास से पहले कई गहरी साँसें लें और अपने सामने एक वस्तु पर अपनी टकटकी को ठीक करें।

वृक्षासन के पीछे का विज्ञान (Science Behind Vriksasana / Tree Pose in Hindi):

यह आसन मुख्य रूप से एक संतुलन मुद्रा है, और इसका मुख्य लाभ संतुलन में सुधार और तंत्रिका तंत्र को बढ़ाने में निहित है। जब आप संतुलन बनाते हैं, तो आप अपने दिमाग पर ध्यान केंद्रित करने के लिए मजबूर होते हैं, और जैसा कि आप ध्यान केंद्रित करते हैं, आपको एहसास होगा कि आप संतुलन कर रहे हैं। जब मन भटकता है, तो शरीर भी एकाग्रग नही होता। और साथ ही साथ चिंता और तनाव भी आपको संतुलन से मना करते हैं।

स्ट्रेचिंग के माध्यम से अपने मन और शरीर को स्थिर करते हुए, यह आसन आपके जोड़ों और हड्डियों को भी मजबूत करता है और कूल्हों और छाती को टोन करता है। यह कंधों को ढीला करता है और बाजुओं को भी टोन करता है।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की वृक्षासन करने का तरीका और फायदे (Tree Pose / Vrikshasana Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख वृक्षासन करने का तरीका और फायदे (Tree Pose / Vrikshasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी वृक्षासन करने का तरीका और फायदे (Tree Pose / Vrikshasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई वृक्षासन करने का तरीका और फायदे (Tree Pose / Vrikshasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी वृक्षासन करने का तरीका और फायदे (Tree Pose / Vrikshasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!