वीरभद्रासन 1 करने का तरीका और फायदे [Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps And Benefits in Hindi]

वीरभद्रासन 1 करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps, Benefits And Precautions in Hindi : हमारी बदलती जीवन शैली के लिए योग आवश्यक है। बढ़ते प्रदूषण और बदलते खानपान के कारण कई तरह की समस्याएं उत्पन होने लगी हैं, जो शरीर को स्वस्थ रखने में बाधा डालती हैं। ऐसे में खुद को स्वस्थ रखने का सबसे आसान तरीका है सुबह उठकर योगासन करना।

योग में ऐसे कई आसन हैं, जो आपको शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। योगासन हमारे शरीर को मजबूत, लचीला और सुंदर बनाते है। योग कई शारीरिक और मानसिक समस्याएं, जेसे की तनाव, टेंशन, स्ट्रेस, डिप्रेशन एवं अनिद्रा इत्यादि समस्याओ को कम करता है और स्वास्थ्य को अच्छा रखने में मदद करता है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की वीरभद्रासन 1 क्या है, वीरभद्रासन 1 कैसे करते है और वीरभद्रासन 1 के लाभ एवं वीरभद्रासन 1 के फायदे क्या होते है और वीरभद्रासन 1 की विधि, के साथ-साथ वीरभद्रासन 1 करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

विषय सूची :

वीरभद्रासन क्या है? [What is Virabhadrasana 1 Yoga (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

योग विज्ञान में, मानव को स्वस्थ और फिट रखने के बारे में कई आसनों के बारे में बताया गया है। इन आसनों में सबसे प्रमुख आसन है वीरभद्रासन। भारत के महान योग गुरु का कहना है कि वीरभद्रासन को वीर योद्धा पोज (The Warrior Pose) के आसन के रूप में भी जाना जाता है।

वीरभद्रासन एक संस्कृत शब्द है जो दो शब्दों से मिलकर बना है, पहला शब्द “वीर” जिसका अर्थ है “योद्धा” और दूसरा शब्द है “भद्र” जिसका अर्थ है “मित्र” एवम आसन का अर्थ है “मुद्रा या पोज”। इस आसन का नाम भगवान शिव के अवतार अभय योद्धा के नाम पर रखा गया था। योद्धा वीरभद्र की कहानी, उपनिषदों की अन्य कहानियों की तरह, जीवन में प्रेरणा प्रदान करती है।

वीरभद्रासन योग के दो प्रकार हैं, आसन 1 जहां वीरभद्रासन की पहली मुद्रा में बाजुओं के उभारों पर कार्य होता है, वहीं वीरभद्रासन 2 त्रिशक्तियों को मजबूत करता है। इस द्वितीय आसन की विधि भी वीरभद्रासन 1 के समान है, केवल थोड़ा अंतर है।

यह मुद्रा शरीर की समग्र शक्ति और मजबूती के लिए उत्कृष्ट है। इस आसन की जड़ें पौराणिक कथाओं में भी वर्णित हैं: वीरभद्र एक भयंकर योद्धा (शिव का अवतार) का नाम है, जिसके सिर, आंखें और पैर हैं।

यह मुद्रा शरीर की समग्र शक्ति और मजबूती के लिए उत्कृष्ट है। स्टेमिना के निर्माण के कारण सभी योग वर्गों में विराभद्रासन प्रसिद्ध है। प्रारंभ में, इस आसन को करने में कुछ कठिनाई होती है क्योंकि पैरों को संतुलित करना मुश्किल होता है लेकिन नियमित अभ्यास से आप इसे आराम से कर सकते हैं।

(यह भी पढ़े – उत्कटासन करने का तरीका और फायदे [Utkatasana (Chair Pose) Steps And Benefits in Hindi])

वीरभद्रासन 1 करने से पहले इन आसन को करें [Perform These Asanas Before Performing Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

वीरभद्रासन 1 करने का तरीका [How To Do Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

किसी भी आसन का अभ्यास करने के लिए आपको सबसे पहले एक ऐसी जगह चुन नी चाहिए जहाँ अच्छे से हवा आती जाती हो और जहाँ पर आप योग का अभ्यास करने में बिल्कुल सहज महसूस करते हो, खुद को सहज महसूस करवाना योग का प्रारंभिक चरण है तो आइये जानते है की वीरभद्रासन 1 कैसे करे-

वीरभद्रासन 1 करने का तरीका और फायदे – Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps and Benefits in Hindi
वीरभद्रासन 1 करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps, Benefits And Precautions in Hindi

वीरभद्रासन 1 कैसे करें [Steps of Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

यहाँ निचे हमने वीरभद्रासन 1 करने का तरीका विस्तार में बताया है, जिसे आप ध्यान से पढ़े!

  1. ताड़ासन में खड़े रहें। सांस लें और अपने पैरो को आपस में 3.5 से 4 फीट खोल लें।
  2. अपने बाएं पैर को 45 से 60 डिग्री अंदर की ओर और दाएं पैर को 90 डिग्री बाहर की ओर मोडे। दाईं एड़ी को बाईं एड़ी से संरेखित करें। साँस छोड़ते हुए, अपने धड़ को दाईं ओर 90 डिग्री तक घुमाने का प्रयास करें। अगर आप 90 डीग्री तक घुमाने में असमर्थ है, तो जितना आपसे संभव हो, उतना ही करें।
  3. धीरे-धीरे अपने हाथों को ऊपर उठाएं जब तक कि हाथ सीधे आपके धड़ के अनुरूप न हों। हथेलियों को मिलाएं और उंगलियों को छत की ओर इंगित करें।
  4. सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ सीधी हो। यदि पीठ मुड़ी हुई होगी, तो आपकी पीठ में दर्द बैठ सकता है। अपनी बाईं एड़ी को जमीन पर मजबूती से जमाये रखे और दाएं घुटने को मोड़ें जब तक कि घुटने सीधे टखने के ऊपर न हो जाएं। यदि आपके पास इतना लचीलापन है, तो अपनी जांघ को जमीन के साथ समानांतर करें।
  5. अपने सिर को ऊपर की ओर उठाएं और अपनी आंखों को उंगलियों पर रखें। अब, 5 बार सांस लें और साँस छोड़ें ताकि आप 30 से 60 सेकंड तक इस मुद्रा में रह सकें। धीरे-धीरे जैसे-जैसे आपका शरीर ताकत और लचीलापन बढ़ाना शुरू करता है, आप समय बढ़ा सकते हैं परन्तु 90 सेकंड से अधिक न बढ़ाये।
  6. अब 5 बार सांस लेने के बाद आप आसानी से इस मुद्रा से बाहर आ सकते हैं। मुद्रा से बाहर आने के लिए, सिर को नीचे लाएँ, फिर दाहिनी जाँघ को उठाएँ, अपने हाथों को नीचे लाएँ, धड़ को सीधा करें और पैरों को वापस ताड़ासन मुद्रा में लाएँ।
  7. दाईं ओर करने के बाद, ये सभी चरण बाईं ओर भी जरुर करें।

(यह भी पढ़े – विपश्यना मैडिटेशन कैसे करे और फायदे (What is Vipassana Meditation in Hindi))

वीरभद्रासन 1 करने का आसान तरीका [Easy Tips To Do Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

यदि आप योग में एक शुरुआती व्यक्ति हैं, तो आपको अपने पैर को झुकाने के बाद अपने शरीर को संतुलित करने में कठिनाई हो सकती है। तो इसके लिए, आप एक कुर्सी का उपयोग कर सकते हैं। जब आप विराभद्रासन (Virabhadrasana 1) में अपना संतुलन खोने लगते हैं, तो कुर्सी को अपनी जांघ के नीचे रखें। इससे आप इस आसन को आसानी से कर पाएंगे।

वीरभद्रासन 1 के फायदे और लाभ [Benefits of Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

वीरभद्रासन 1 के फायदे से कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है, आइये जानतें है की वीरभद्रासन 1 के क्या लाभ हैं? –

  • इस योग मुद्रा से जांघों और नितंबों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। यह आसन पेट, टखनों और पैरों को टोन करता है।
  • यह आसन पूरे शरीर में रक्त के संचार को बढ़ाता है।
  • तनाव को कम करने और अपने दिमाग को शांत रखने के लिए वीरभद्रासन एक बहुत ही अच्छी मुद्रा हैं।
  • शरीर को मजबूत बनाने के लिए यह एक बहुत अच्छा आसन है, इस योग मुद्रा को करने से हमारा शरीर एक योद्धा की तरह मजबूत हो जाता है।
  • यह आसन छाती के फेफड़े, कंधे, गर्दन, कमर दर्द आदि की समस्या को कम करता है।
  • वीरभद्रासन भी आपके दिमाग को स्वस्थ रखता है, इस आसन से स्मरण शक्ति बढ़ती है।
  • वीरभद्रासन मस्तिष्क में सकारात्मक हार्मोन को सक्रिय करने का कार्य करता है जो मूड को खुश करता है।
  • यह गर्भवती महिलाओं के लिए उनकी दूसरी या तीसरी तिमाही में एक उत्कृष्ट मुद्रा है। हालाँकि इस आसन को करने से पहले किसी चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।
  • यह मुद्रा पाचन तंत्र को बेहतर बनाती है और पेट के अंगों को उत्तेजित करती है।
  • यह आसन कार्पल टनल सिंड्रोम की समस्या से राहत दिलाने में मदद करता है।
  • वीरभद्रासन मुद्रा (The Warrior Pose 1) छाती और कंधों का विस्तार करती है, जिससे सांस लेने की क्षमता में सुधार होता है।

(यह भी पढ़े – त्राटक मेडिटेशन कैसे करे और फायदे (10 Effective Benefits Of Tratak Meditation in Hindi))

वीरभद्रासन 1 करने का सही तरीका [Right Technique To Do Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

वीरभद्रासन 1 करने के बाद इन आसन को करें [Perform These Asanas After Performing Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

वीरभद्रासन 1 करने का सही समय [Right Time To Do Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

विशेषज्ञों के अनुसार, यह आसन सबसे अच्छा तब माना जाता है जब योगी इस मुद्रा का सुबह-सुबह अभ्यास करते हैं। सुबह इस लिए किया जाना चाहिए क्योंकि इससे भोजन पच जाता है और साथ ही शरीर में आसन करने की ऊर्जा होती है। किसी कारण के कारण, अगर आप इसका अभ्यास सुबह नहीं कर सकते है तो, आप इस आसन का अभ्यास शाम को भी कर सकते हैं। लेकिन कम से कम अपने अभ्यास और भोजन के बीच 3 से 5 घंटे का अंतर अवश्य रखें।

वीरभद्रासन 1 करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) in Hindi]:

वीरभद्रासन 1 कैसे करें और वीरभद्रासन 1 की विधि जानने के साथ-साथ इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में जानना भी जरूरी है, आइए जानते हैं कि वीरभद्रासन 1 करते समय व्यक्ति को कौन-कौन सी सावधानियां और एहतियात रखनी चाहिए-

  • यदि आप गर्भवती हैं और आपको मासिक धर्म हैं, तो आप वीरभद्रासन योग के अभ्यास से बचे।
  • उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों को भी इस आसन से बचना चाहिए।
  • घुटने और किसी भी तरह की चोट के मामले में इस आसन का अभ्यास करने से बचना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं को यह आसन एक दीवार के पास करना चाहिए ताकि वे अपने शरीर को संतुलित करने के लिए आवश्यक होने पर सहारा ले सकें।
  • रीढ़ के विकारों से पीड़ित होने पर इस आसन को न करें।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की वीरभद्रासन 1 करने का तरीका और फायदे (Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख वीरभद्रासन 1 करने का तरीका और फायदे (Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी वीरभद्रासन 1 करने का तरीका और फायदे (Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई वीरभद्रासन 1 करने की विधि और फायदे (Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी वीरभद्रासन 1 कैसे करें और वीरभद्रासन 1 के फायदे (Virabhadrasana 1 (The Warrior Pose 1) Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!