उत्तानासन करने का तरीका और फायदे [Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) Steps And Benefits in Hindi]

0

उत्तानासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Uttanasana / Standing Forward Bend Pose in Hindi : वर्तमान समय में योग स्वस्थ रहने के लिए न केवल भारतीयों की बल्कि विदेशियों की भी पहली पसंद बन गया है। शरीर की बीमारियों और अन्य समस्याओं से बचाने के लिए योग एक प्राचीन शैली साबित हो सकता है।

योग किसी व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में सहायक है। योग और प्राणायाम के विषयों पर कई बार वैज्ञानिक शोध भी हुए हैं, जिनमें इन को फायदेमंद पाया गया है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की उत्तानासन क्या है, उत्तानासन कैसे करते है और उत्तानासन के स्वास्थ्य लाभ एवं उत्तानासन के फायदे क्या होते है और उत्तानासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

Table Of Contents :

उत्तानासन क्या है? (What is Uttanasana / Standing Forward Bend Pose in Hindi):

उत्तानासन एक संस्कृत शब्द है जिसमे “उत्त” का अर्थ है तीव्र, “तन” का अर्थ है विस्तार और “आसन” जिसका अर्थ है आसन या मुद्रा। इसे अंग्रेजी में “स्टैंडिंग फॉरवर्ड बेंड” के नाम से जाना जाता है।

लेकिन चाहे जो भी हो, इसे किसी भी भाषा में कुछ भी नाम से जाना जाए, परन्तु इस आसन का आपके शरीर पर कुछ आश्चर्यजनक प्रभाव पड़ता ही है। यह न केवल आपके तन- मन को प्रसन्न करता है, बल्कि आपके शरीर को फिर से जीवंत भी करता है।

उत्तानासन करने का तरीका और फायदे– Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) Steps and Benefits in Hindi
उत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Standing Forward Bend Pose / Uttanasana Yoga Steps And Benefits in Hindi)

यह एक योग आसन है जिसमें शरीर की मांसपेशियों में तीव्र खिंचाव होता है। यह पूरे शरीर को खींचते और कायाकल्प करते हुए मन को शांत भी करता है। इस किर्या में, आपका सिर हृदय के नीचे होता है, जिस वजह से आपके मस्तिष्क में ताजा ऑक्सीजन युक्त रक्त प्रवाहित होता है जिससे आपके मस्तिष्क में रक्त और ऑक्सीजन की एक महत्वपूर्ण मात्रा पहुंचने लगती है।

(यह भी पढ़े – सुखासन करने का तरीका और फायदे [Sukhasana (Easy Pose) Steps And Benefits in Hindi])

उत्तानासन करने से पहले यह आसन करें [Do This Asana Before Doing Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) in Hindi]:

उत्तानासन करने से पहले आप यहाँ निचे दर्शाए गये आसन जरुर करें। क्युकी इन योगासन को करने से आपके पिंडली, हैमस्ट्रिंग, और कूल्हें के जोड़ सभी सही तरह से इस योगासन को करने के लिए तयार हो जाएँगे।

उत्तानासन करने से पहले यह बात ध्यान में रखे [Important Things For Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) in Hindi]:

इस आसन का अभ्यास करने से पहले आपको अपने पेट और आंतों को खाली रखना सुनिश्चित करना चाहिए। आसन को करने से कम से कम चार से छह घंटे पहले अपना भोजन करें ताकि आपका भोजन पच जाए और अभ्यास के दौरान आपके लिए पर्याप्त ऊर्जा बनी रहे।

सुबह सबसे पहले योग का अभ्यास करना सबसे अच्छा माना जाता है। लेकिन अगर आप सुबह अभ्यास नहीं कर सकते हैं, तो आप शाम को इसका अभ्यास कर सकते है।

(यह भी पढ़े –शीर्षासन करने का तरीका और फायदे [Sirsasana (Headstand Pose) Steps and Benefits in Hindi])

उत्तानासन करने का तरीका (Right Technique To Do Uttanasana / Standing Forward Bend Pose in Hindi):

उत्तानासन योग में आगे की ओर झुकते हुए कदमों को छुना होता है, जिसमे आपको निचे बताई गयी विधि का उपयोग करना आवश्यक है –

  1. अब जब आप ताड़ासन करने की विधि जान ही चुके है तो ताड़ासन किर्या या सबसे पहले अपने पैरों की मदद से सीधे खड़े हो जाएं। फिर एक गहरी साँस ले, और अपनी बाहों को ऊपर की ओर बढ़ाएं।
  2. अपने धड़ को लंबा करते हुए 90 डिग्री के कोण पर थोड़ा आगे झुकते हुए साँस छोड़ें।
  3. अब अपनी हथेलियों को जमीन से टिकाएं और अपने हाथों से पैरों को स्पर्श करें।
  4. इसके बाद अपने धड़ को इस तरह मोड़ें कि आपका धड़ और छाती आपकी जांघों को छुए।
  5. अब 50-60 सेकंड के लिए इस मुद्रा में रहे फिर सीधे खड़े हो जाये।

उत्तानासन के फायदे और लाभ (Benefits Of Uttanasana / Standing Forward Bend Pose in Hindi):

  1. इसके रोजाना अभ्यास से पाचन में सुधार होता है।
  2. उत्तानासन आपकी जांघों और घुटनों को मजबूत करता है।
  3. यह मस्तिष्क को शांत करता है और तनाव को दूर करने में मदद करता है।
  4. इसका अभ्यास लिवर और किडनी को स्वस्थ रखने में मदद करता है।
  5. इस किर्या से अस्थमा, हाई बीपी, बांझपन, ऑस्टियोपोरोसिस और साइनस जैसी आदि समस्याएं दूर की जा सकती है।
  6. इससे आपकी जांघें और घुटने मजबूत हो जाते हैं।
  7. यह डिप्रेशन और थकान को कम करने में मदद करता है।
  8. इसके अभ्यास से सिरदर्द और अनिद्रा से राहत मिलती है।
  9. यह पेट की मांसपेशियों को टोन और सक्रिय करता है।

(यह भी पढ़े – भुजंगासन करने का तरीका और फायदे [Bhujangasana (Cobra Pose) Steps And Benefits in Hindi])

उत्तानासन करने के कुछ आसान टिप्स : (Easy Tips To Do Uttanasana / Standing Forward Bend Pose in Hindi)

  • आपके लिए शुरुआत में ठीक से झुकना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, इसे आसान बनाने के लिए आप अपने पैरों के नीचे तौलिया रख सकते हैं।
  • आप इसके बजाय अर्ध उत्तानासन भी कर सकते हैं।
  • यदि आप अपने टांगो के पीछे हिस्से की मांसपेशियों को अधिक खींचना चाहते हैं, तो आप झुकते हुए स्थिति में अपने पैर की उंगलियों पर खड़े होने का अभ्यास कर सकते हैं।

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया उत्तानासन करने का सही तरीका (Baba Ramdev Step By Step Instructions For Uttanasana / Standing Forward Bend Pose in Hindi):

उत्तानासन योग के पीछे का विज्ञान (Science Behind Uttanasana / Standing Forward Bend Pose in Hindi in Hindi):

यह आसन शरीर के पिछले हिस्से को पूरी तरह से खिचाव दिलाता है। यह पैर के तलवे से लेकर पैर के पिछले हिस्से तक हर हिस्से को कवर करता है। जो पीठ के निचले हिस्से, मध्य और ऊपरी हिस्से तक फैला हुआ है, और गर्दन तक का सारा रास्ता सिर तक जाता है, फिर माथे तक, और भौंहों के बीच में समाप्त होता है।

जैसा कि आप इस आसन करते हैं, आप मांसपेशियों और संयोजी ऊतकों के पूरे विस्तार के खिचाव को अपनी पूरी बॉडी में फैलाते हैं।

आप इसे महसूस नहीं कर सकते हैं, लेकिन यह आपके शरीर के लिए एक बड़ा काम योगासन है। आपको इसके लिए तैयार होना चाहिए, इसलिए इस आसन को करने से पहले हमेशा वार्मअप करना याद रखें।

(यह भी पढ़े – सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे [Sarvangasana (Shoulder Stand Pose) Steps And Benefits in Hindi])

उत्तानासन करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) in Hindi]:

  • इस आसन को करने के लिए खुद को कभी भी मजबूर न करें।
  • यदि आपके पास पीठ में दर्द, रीढ़ की चोट, टखनों में दर्द, हृदय की समस्या या हर्निया आदि समस्यायें है तो आप इसे करने की कोशिश न करे, इसके बजाय, आप इसके एक दुसरे प्रकार का अभ्यास कर सकते हैं जिसे अर्द्ध- उत्तानासन कहा जाता है।
  • यदि आपको अभ्यास करते समय पीठ दर्द का अनुभव हो तो आसन करना बंद कर दें और चिकित्सक से परामर्श करें।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की उत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Standing Forward Bend Pose / Uttanasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख उत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Standing Forward Bend Pose / Uttanasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी उत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Standing Forward Bend Pose  / Uttanasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई उत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Standing Forward Bend Pose / Uttanasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी उत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Standing Forward Bend Pose / Uttanasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here