उज्जायी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे [Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) Steps And Benefits in Hindi]

Show Some Love By Sharing!

उज्जायी प्राणायाम (Ujjayi Pranayama Or Ujjayi Breath) करने का तरीका, लाभ और सावधानियां: प्राणायाम और योग आज दुनिया भर के लोगों में बहुत तेजी से फैल रहा है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण प्राणायाम और योग का सकारात्मक प्रभाव है। अगर यह कहा जाए कि स्वस्थ रहने के लिए योग और प्राणायाम से बेहतर कुछ नहीं है, तो यह गलत नहीं होगा।

योग और प्राणायाम एक ऐसा विकल्प है जो शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ एवं चुस्त और दुरुस्त रखने में मदद करता है। इसकी खास बात यह है कि इन्हें करने के लिए आपको किसी विशेष उपकरण की आवश्यकता नहीं है। आप इन्हें घर के अंदर और बाहर कहीं भी कर सकते हैं। यही कारण है कि इन दिनों योग और प्राणायाम के प्रति रुझान बहुत बढ़ गया है।

इसीलिए आज हम आपके लिए यह लेख Ocean Breath उज्जायी प्राणायाम कैसे करे, फायदे, और सावधानियाँ लेकर आए हैं। इस लेख में, आप Ocean Breath (उज्जायी प्राणायाम) के बारे में सब कुछ जान जाएंगे।

उज्जायी प्राणायाम क्या है? [What is Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) in Hindi]:

उज्जायी प्राणायाम (Ocean Breath) एक शुरुआती स्तर का प्राणायाम है जिसके अन्दर श्वास लेने और छोड़ने का अभ्यास किया जाता है। उज्जायी प्राणायाम का नाम संस्कृत शब्द के नाम पर रखा गया है, जिसका अर्थ है विजय “विक्टोरियस।” इसलिए इसे विक्टोरियस ब्रेथ भी कहा जाता है। उज्जायी प्राणायाम करते समय, आवाज समुद्र की तरह लगती है; इसलिए इसे ओशन ब्रेथ के नाम से भी जाना जाता है।

यही वह प्राणायाम है जो हमें बंधन से मुक्त करता है। उज्जायी प्राणायाम एक सांस लेने का काम है जो आपके “सांस” पर ध्यान केंद्रित करके आपके दिमाग को शांत करने में मदद करता है। यह आपको उन विचारों को ओवरराइड करने में मदद करता है जो आपको आपकी ध्यान की स्थिति से विचलित कर सकते हैं।

यह योग आपकी सांसों से आवाज़ भी निकालता है जो आपको अपनी सांसों के साथ अपने आंदोलनों को सिंक्रनाइज़ करने में मदद करता है। यह प्राणायाम (सांस पर नियंत्रण) का सबसे आम रूप है जिसका उपयोग आसन (शरीर मुद्रा) अभ्यास के दौरान किया जाता है। योग में, जीवन के लिए सांस लेना उतना ही महत्वपूर्ण है जितना जीने के लिए साँस।

(यह भी पढ़े- अनुलोम विलोम प्राणायाम कैसे करे और फायदे [13 Amazing Anulom Vilom Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया उज्जायी प्राणायाम करने का तरीका [Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) Step By Step instructions in Hindi]:

उज्जायी प्राणायाम करने का तरीका [How To Do Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) Step By Step method in Hindi]:

प्राणायाम के कई लाभ हैं, प्राणायाम हमारे शरीर में सकारात्मकता लाता है और साथ ही यह बीमारियों को ठीक करता है और स्वस्थ रखता है। प्राणायाम तभी लाभ करता है जब आप इसे ठीक से करते हैं, तो चलिए जानते हैं कि उज्जायी प्राणायाम (Ujjayi Pranayama) कैसे करे

  • अपनी योग चटाई पर सहजता से बेठ जाये एवं अपने सम्पूर्ण शरीर को आराम दें।
  • जैसे आप सांस लेते है वैसे ही नार्मल श्वास लें।
  • कुछ समय बाद अपना ध्यान गले की ओर लाएं।
  • इस तरह महसूस करें या कल्पना करें कि सांस गले से आ रही है।
  • सांस धीमी और गहरी होने पर गले को संकीर्ण कर दें।
  • ऐसा करने से आपके गले में सांस लेने और गुजरने में धीमी आवाज आनी चाहिए।
  • अब आपकी सांस लंबी और गहरी होनी चाहिए।
  • ऐसा 15-20 मिनट तक करें।

बतौर शुरुआती 3 से 5 बार या 5 से 10 मिनट तक उज्जयी प्राणायाम करें। एक बार जब आप इसे करने के लिए निपूर्ण हो जाते है तो धीरे-धीरे अपनी क्षमता के अनुसार समय बढ़ा सकते है।

(यह भी पढ़े- कमर दर्द के लिए योगासन [10 Effective Yoga & Exercise For Back Pain in Hindi])

उज्जायी प्राणायाम के फायदे और लाभ [Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) Benefits in Hindi]:

उज्जायी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे – Ujjayi Pranayama steps and benefits in Hindi
उज्जायी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे (Ujjayi Pranayama steps and benefits in Hindi)

Ocean Breath ओशियन ब्रीथ उन्नत योगासन विधियों में से एक है, जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं; यदि आप उज्जायी सांस के स्वास्थ्य लाभों को पढ़ते हैं, तो आप हर दिन ओशन ब्रेथ पोज़ करना चाहेंगे क्योंकि यह आपके शरीर के सभी आंतरिक अंगों को मजबूत और स्वस्थ रखता है। यह प्राणायाम अच्छे स्वास्थ्य की इच्छा रखने वाले व्यक्ति के लिए वरदान है। तो आइए जानते हैं, उज्जायी प्राणायाम (Ujjayi Pranayama) के फायदे क्या हैं

  1. उज्जायी प्राणायाम के फायदे आपको अपनी एकाग्रता में सुधार करने में मदद करते है।
  2. उज्जयी प्राणायाम को शांति देने वाले प्राणायामों में शामिल किया गया है। इसका उपयोग तंत्रिका तंत्र और दिमाग को शांत करने के लिए योग थेरेपी में किया जाता है।
  3. इस प्राणायाम के नियमित अभ्यास से शरीर के सभी विषाक्त पदार्थ दूर हो जाते हैं, श्वास प्रक्रिया में सुधार होता है और हार्मोनल संतुलन बना रहता है।
  4. इस प्राणायाम आपकी केंद्रित शक्ति और सकारात्मक दृष्टिकोण को बढ़ाने में मदद करता है।
  5. इस प्राणायाम का अभ्यास करने से आपको अपने शरीर से तनाव मुक्त करने में मदद मिलेगी।
  6. यह अनिद्रा को दूर करने में मदद करता है। इस लाभ को पाने के लिए रात को सोने से पहले सोने की मुद्रा में उज्जयी प्राणायाम करें।
  7. थायराइड के रोगी के लिए यह प्राणायाम बहुत फायदेमंद है।
  8. इस प्राणायाम का अभ्यास करने से गठिया, मोतियाबिंद, साइनस रोग और माइग्रेन में भी मदद करता है।
  9. उज्जायी प्राणायाम अवसाद या डिप्रेशन को दूर करने में मदद करते है।
  10. यह हाई बीपी से पीड़ित लोगों के लिए उपयोगी होता है। हाइपोथायरायडिज्म के लिए फायदेमंद होता है।

हालांकि दावे का समर्थन करने के लिए कोई नैदानिक ​​शोध नहीं है, कई योग चिकित्सकों का मानना ​​है कि उज्जायी प्राणायाम पर ध्यान केंद्रित करने वाले योग का अभ्यास पूरे अंतःस्रावी तंत्र को संतुलित कर सकता है, इस प्रकार थायराइड की स्थिति वाले लोगों को भी यह लाभ प्रदान करता है।

(यह भी पढ़े- गर्भावस्था में बवासीर के घरेलू उपचार [8 Effective Pregnancy Me Bawasir Ke Gharelu Upchar])

उज्जायी प्राणायाम का महत्व [Importance of Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) in Hindi]:

यह योगाभ्यास जीवन शक्ति विकसित करने के लिए किया जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार उज्जायी प्राणायाम करने के लिए गले से कसकर सांस लेते हैं। इसे करने के लिए यानी सांस लेने के लिए हमारे कंठ से आवाज आती है।

जब कोई व्यक्ति इस योग का सही ढंग से अभ्यास करता है, तो उसे आंतरिक रूप से गर्मी मिलती है, जिससे शरीर में ऊर्जा का संचार होता है। उज्जयी सांस प्राणायाम शरीर में मन की शांति और गर्मी बनाए रखने में मदद करता है। जब भी आप उज्जयी ब्रीद एक्सरसाइज करते हैं तो उस समय आप अपने फेफड़ों में मौजूद सांस को महसूस करते हैं।

अगर आप साइकिलिंग और रनिंग जैसे खेलों में हिस्सा लेते हैं तो यह एक्सरसाइज आपके लिए बेस्ट है। कई ओलंपिक विजेता एथलीटों ने कहा है कि उन्होंने उज्जयी प्राणायाम को अपनी श्वसन क्षमता बढ़ाने के लिए प्रशिक्षण सत्र में शामिल किया था। वहीं, आप दौड़ से पहले तनाव से छुटकारा पा सकते हैं।

गले की एक्सरसाइज और थायरॉइड, रात में नींद की सांस, खर्राटे के लिए, हकलाने वाले बच्चों के लिए टॉन्सिल के लिए उज्जयी ब्रीद एक्सरसाइज से बेहतर कुछ नहीं हो सकता। हाइपो या हाइपरथायरॉइड की बीमारी से बचने के लिए या गले में खराश वाले लोगों के लिए आप यह व्यायाम कर सकते हैं।

यह भी पढ़े –

उज्जायी प्राणायाम करने से पहले सावधानी [Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) Precautions in Hindi]:

उज्जयी प्राणायाम कैसे करें और उज्जयी प्राणायाम के क्या फायदे हैं, यह जानने के साथ-साथ इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में जानना भी जरूरी है, आइए जानते हैं कि उज्जायी सांस लेते समय व्यक्ति को कौन से सुरक्षा उपाय और सावधानियां बरतनी चाहिए, तो आइए अब जानते हैं, उज्जायी प्राणायाम किसे नहीं करना चाहिए?

  1. उज्जयी प्राणायाम उन लोगों को नहीं करना चाहिए जिनका थायरॉइड स्तर सामान्य से अधिक है। जरूरी है कि ऐसे लोगों को विशेषज्ञों की मदद लेनी चाहिए।
  2. अगर आप इस प्राणायाम को करना चाहते हैं तो एक्सपर्ट की गाइडलाइंस का पालन करते हुए इसे करें।
  3. साथ ही लो ब्लड प्रेशर (निम्न रक्तचाप) के रोगियों को उज्जय प्राणायाम नहीं करना चाहिए।
  4. वहीं हाई ब्लड प्रेशर और हृदय संबंधी रोगियों को कुंभक (अवधारण) नहीं करना चाहिए। इसके लिए विशेषज्ञों की मदद लेनी चाहिए।
  5. उज्जयी प्राणायाम किसकी आज्ञा से न करें। क्योंकि आपकी शारीरिक संरचना और आपकी शारीरिक क्षमता को समझते हुए स्वास्थ्य विशेषज्ञ आपको सही सलाह देंगे।

लेख का सारांश:

योग में उपयोग किए जाने वाले श्वास नियंत्रण का सबसे सामान्य रूप है उज्जायी श्वास। यह एक तकनीक है जो आपकी नाक के माध्यम से सांस लेने और हल्के गले के समान ध्वनि बनाने के लिए अपने गले को कसने पर केंद्रित है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

उज्जाई प्राणायाम कितनी बार करना चाहिए?

उज्जायी प्राणायाम को 1 से 2 मिनट के समय के साथ 5 से 10 चक्रों के रूप में सुबह या शाम के समय कर सकते है या कितने चक्र सांस लेना चाहते हैं यह आप चुन सकते हैं। नियमित रूप से कम से कम बारह चक्र अत्यधिक लाभ प्रदान करते हैं, लेकिन प्रतिदिन दस से बीस मिनट का अभ्यास वास्तव में परिवर्तनकारी हो सकता है।

उज्जयी सांस करने से क्या होता है?

उज्जयी श्वास एक ऐसी तकनीक है जो आपको अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करके अपने मन को शांत करने की अनुमति देती है। यह आपको उन विचारों को दूर करने में मदद करता है जो संभवतः आपको आपकी ध्यान की स्थिति से विचलित कर सकते हैं।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख उज्जायी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे (Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) steps and benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी इस प्राणायाम के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई उज्जायी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे (Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) steps and benefits in Hindi) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी उज्जायी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे (Ujjayi Pranayama (Ocean Breath) steps and benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!
×