योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (Yoga in Hindi? : Definition, Types, Rules, Benefits & Tips)

0

योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (Yoga in Hindi? : Definition, Types, Rules, Benefits & Tips): योग एक प्राचीन भारतीय जीवन शैली है। जिसमें योग के माध्यम से तन, मन और आत्मा को एक साथ लाने का कार्य है। इससे तन, मन और मस्तिष्क पूरी तरह स्वस्थ हो सकते हैं।

जब ये तीनों फिट रहते हैं तो आप खुद को स्वस्थ महसूस करते हैं। योग से न सिर्फ बीमारियों का निदान होता है, बल्कि इन्हें अपनाकर कई तरह की शारीरिक और मानसिक समस्याओं को भी दूर किया जा सकता है।

योग शरीर को मजबूत और लचीला बनाकर, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करके जीवन में नई ऊर्जा का संचार करता है और तनाव से छुटकारा दिलाता है, जो कि रोजमर्रा की जिंदगी के लिए बहुत जरूरी है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि योग क्या है? और योग की परिभाषा, नियम, लाभ और कितने प्रकार के होते हैं?

योग क्या है? (What is Yoga in Hindi?):

योग शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द ‘युज’ से हुई है, जिसका अर्थ है जुड़ना। योग के दो अर्थ हैं, एक जुड़ना और दूसरा समाधि। जब तक हम स्वयं से जुड़ नहीं सकते, समाधि के स्तर को प्राप्त करना आसान नहीं है। यह सिर्फ एक व्यायाम नहीं है बल्कि विज्ञान आधारित शारीरिक गतिविधि है। योग का उद्देश्य शारीरिक और मानसिक प्रशिक्षण के माध्यम से शरीर, मन और आत्मा को एक करना है।

नियमित योग आसन, प्राणायाम और मुद्रा से तीनों शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं। योग का इतिहास मानवता की उत्पत्ति का है, लेकिन संगठित योग को महर्षि पतंजलि और घेरंड मुनि की उपज माना जाता है। योग सूत्र, घेरंडसंहिता, हठ योग प्रदीपक और शिव संहिता आदि में योग के सभी रूपों का उल्लेख है।

योग की परिभाषा (Definitions of Yoga in Hindi):

योग की कई परिभाषाएँ हैं, जिनमें से दो प्रमुख हैं। पहली परिभाषा के अनुसार, गीता में लिखा है, “योग: कर्मसु कौशलम्” योग कर्मसु कौशलम्, अर्थात् फल की इच्छा के बिना कर्म का कौशल योग है। दूसरी परिभाषा महर्षि पतंजलि ने दी थी, जिन्हें योग गुरु या जनक माना जाता है।

पतंजलि के अनुसार- “योगश्चित्तवृत्तिनिरोधः” योगश्चितवृतिनिरोधः अर्थात मन की इच्छाओं को संतुलित करना ही योग कहलाता है।

ओशो के अनुसार- योग को धर्म, आस्था और अंधविश्वास में बांधना गलत है। योग एक विज्ञान है जो जीने की कला सिखाता है। साथ ही, यह दवा की एक पूरी प्रणाली है। जहां धर्म हमें खूंटे से बांधता है, वहीं योग सभी प्रकार के बंधनों को खत्म करने का तरीका है।

सद्गुरु जग्गी वासुदेव के अनुसार- जब, आप पूरे शरीर को ठीक से पकड़ना सीख जाते हैं; आप अपने अंदर पूरे ब्रह्मांड की ऊर्जा को महसूस कर सकते हैं। यही योग है।

(यह भी पढ़े – प्रोस्टेट के लिए योग (7 Effective Yoga For Enlarged Prostate in Hindi))

योग के प्रकार (Types of Yoga in Hindi):

समय के साथ योग का तरीका और समझने का तरीका बदल गया। इसलिए योग की सभी विधाओं को समझने के लिए हम योग के प्रकारों को 12 भागों में समझने का सफल प्रयास करेंगे।

योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (What is Yoga in Hindi? : Definition, Types, Rules, Benefits & Tips)
योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (Yoga: Definition, Types, Rules, Benefits & Tips of Yoga in Hindi)

1. प्राचीन योग :- यह योग विधा मानव स्वभाव और व्यवहार पर आधारित है। जैसे भक्ति योग उन लोगों के लिए था जिनका मन पूजा और ईश्वर में था। ज्ञान योग, पुराने और नए ज्ञान की प्राप्ति के लिए। और शारीरिक और मानसिक व्यायाम में रुचि रखने वाले सभी वर्गों के लिए राज योग।

2. राज या अष्टांग योग:- यह योग विधा सभी प्रकार के योगों का प्राथमिक आधार और प्रचलित पद्धति है। जिसमें व्यक्ति को 8 चरणों में योग का सार और लाभ सिखाया जाता है। महर्षि पतंजलि ने आठ चरणों के कारण इसका नाम अष्टांग योग रखा।

  • यम:- इस चरण में सामाजिक अनुशासन और व्यवहार सीखा जाता है।
  • नियम:- इसमें व्यक्ति को आत्म-अनुशासन की शिक्षा दी जाती है।
  • आसन:- शारीरिक व्यायाम शरीर को स्वस्थ और सुडौल बनाता है।
  • प्राणायाम:- नाड़ी शुद्धि और जागरण के लिए श्वास (श्वास) का व्यायाम।
  • प्रत्याहार:- शरीर की पांच इंद्रियों (आंख, कान, जीभ, नाक और त्वचा) पर नियंत्रण और नियंत्रण।
  • बोध:- मन को एकाग्र करने का अभ्यास।
  • ध्यान:- मन में पूर्ण भक्ति के साथ लक्ष्य को एकाग्र करना (भक्ति)।
  • समाधि:- व्यक्तिगत एवं सामाजिक दायित्वों की प्राप्ति के बाद मोक्ष सुख की प्राप्ति।

अष्टांग योग का अभ्यास शुरुआती और नए लोगों के लिए उपयुक्त है।

3. हठ योग:- योग का यह रूप अष्टांग योग का ही दूसरा रूप है। हठ योग में, विभिन्न आसन और प्राणायाम का विपरीत दिशा में और शरीर के अंगों की गति के समान दिशा में बलपूर्वक अभ्यास किया जाता है। बाबा रामदेव का योग हठ योग पर आधारित है। जैसे-सूर्यनमस्कार, हस्त-पादासन आदि।

4. शक्ति योग:- इस योग विधा में आसनों और प्राणायाम करने की जटिलता बढ़ जाती है। इसलिए अष्टांग और हाट योग के आदी हो जाने के बाद ही शक्ति योग के लिए जाना चाहिए।

(यह भी पढ़े – अस्थमा के लिए योग और प्राणायाम (9 Effective Pranayama And Yoga For Asthma in Hindi))

5. बिक्रम योग या हॉट योगा:- पूरे शरीर को डिटॉक्स करने के लिए हॉट योगा सबसे अच्छी योग विधि है। हॉट योगा में गर्म बंद कमरे में 90 मिनट में 26 आसन और दो प्राणायाम का अभ्यास किया जाता है। कमरे का तापमान 105 °F (41 °C) और आर्द्रता 40% तक है। इस योग विधि में शरीर से अत्यधिक पसीना आता है, जिससे शरीर की आंतरिक सफाई उत्तम होती है।

बिक्रम चौधरी ने 70 के दशक में अमेरिका (USA) में हॉट योग मोड की शुरुआत की। और आज यह बिक्रम योग और हॉट योग के नाम से पूरी दुनिया में संचालित है।

6. आयंगार योग:- योग की इस पद्धति के प्रवर्तक स्वर्गीय बीके अयंगर हैं। इस योग विधा में आसनों को सही स्थिति में अभ्यास करने के लिए सहारा लेने के लिए ब्लॉक, बेल्ट, रस्सियों और लकड़ी की चीजों का उपयोग किया जाता है। अयंगर योग कम कुशाग्र बुद्धि और किसी भी पुरानी चोट वाले लोगों के लिए उत्कृष्ट है।

7. यिन योग:- यिन योग धीमी गति की योग शैली है। इसमें कम से कम 2 से 3 मिनट तक योग मुद्रा का अभ्यास करना शामिल है, जो शरीर के प्रत्येक जोड़ को आराम देता है और संतुलन बनाता है।

8. कुंडली योग:- कुंडलिनी योग में प्राणायाम पर गहरा ध्यान दिया गया है। हमारे शरीर में ऊर्जा संचरण और जागृति के लिए सात ऊर्जा चक्र होते हैं। जो सहस्रार, आज्ञा, शुद्ध, अनाहत, मणिपुर, स्वाधिष्ठान और मूलाधार है। प्रत्येक ऊर्जा चक्र से शरीर को विभिन्न प्रकार की शक्ति प्राप्त होती है। कुंडलिनी योग इंगला, पिंगला और सुषुम्ना नाड़ी (नाड़ी) को सक्रिय करता है और सभी ऊर्जा चक्रों को जागृत करता है।

9. प्रसवपूर्व योग:- योग का प्रकार यह योग शैली गर्भधारण की अवधि के दौरान गर्भवती महिलाओं के शारीरिक और मानसिक तनाव, हार्मोनल असंतुलन और थकान आदि को दूर करने के लिए बनाई गई है। इस योग विधा में कुछ आसन, योग आसन और प्राणायाम एक उत्कृष्ट और अद्वितीय योग प्रशिक्षक की देखरेख में किए जाते हैं। जैसे- बधकोणासन, कोणासन, मायावी प्राणायाम आदि।

10. विनयसा योग:- योगासन हिंदी में विज्ञान योग हठ-योग का एक हिस्सा है। इसकी विशेषता यह है कि इस योग विधा में त्रिस्थाना के तीन आसनों का अभ्यास किया जाता है। विन्यास योग दो अलग-अलग योग आसनों के अनुक्रमण पर केंद्रित है। जैसे वीरभद्रासन आसन-2 के साथ कोणासन का अभ्यास आदि।

11. एरियल योग:- इस योग की तकनीक में शरीर को ऊपर से कपड़े या रस्सी से लपेटकर जमीन के ऊपर आसन का अभ्यास किया जाता है। इसलिए इस योग विधा को “एंटी-ग्रेविटी” योग भी कहा जाता है। इस चुनौतीपूर्ण मुद्रा को करने के लिए शरीर में संतुलन और लचीलापन होना जरूरी है।

12. चिकित्सा योग:- आज के समय में कई असाध्य रोगों जैसे कैंसर, मधुमेह आदि का उपचार चिकित्सा से किया जाता है। थेरेपी योग उपरोक्त सभी योग विधियों का एक संयोजन है जिसमें आसनों, प्राणायाम और ध्यान का व्यवस्थित रूप से दवाओं के साथ अभ्यास किया जाता है।

(यह भी पढ़े – 7 Effective Yoga For Increasing Immunity in Hindi | अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए योग अपनाये)

योग के नियम (Rules of Yoga in Hindi):

योग करने से पहले और बाद में कई विशिष्ट नियमों का पालन करना होता है, जिनका वर्णन हम नीचे कर रहे हैं:

  1. नियमानुसार योग सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद करना चाहिए। सुबह जल्दी उठकर योग करना ज्यादा फायदेमंद होता है।
  2. योग से पहले हल्का वार्म-अप करना जरूरी है ताकि शरीर खुल जाए।
  3. योग की शुरुआत हमेशा ताड़ासन से करनी चाहिए।
  4. योग आसन हमेशा सुबह खाली पेट करना चाहिए।
  5. जो लोग पहली बार योग कर रहे हैं उन्हें शुरुआत में हल्के योग के आसन करने चाहिए और योग प्रशिक्षक की देखरेख में ही करना चाहिए। फिर जैसे-जैसे वे आदी होते जाते हैं, वे अपना स्तर बढ़ाते जाते हैं।
  6. अगर आप शाम को योग कर रहे हैं तो खाना खाने के तीन से चार घंटे बाद ही करें। साथ ही योग करने के आधे घंटे बाद कुछ खाएं।
  7. योग मुद्रा करने के तुरंत बाद स्नान नहीं करना चाहिए बल्कि कुछ समय प्रतीक्षा करनी चाहिए।
  8. हमेशा आरामदायक कपड़े पहनकर ही योगासन करना चाहिए।
  9. आप जिस स्थान पर योग कर रहे हैं वह स्थान स्वच्छ और शांत होना चाहिए।
  10. योग करते समय अपने मन से नकारात्मक विचारों को बाहर निकालने का प्रयास करें।
  11. योग का सबसे महत्वपूर्ण नियम यह है कि इसे धैर्यपूर्वक करना चाहिए और किसी भी आसन पर अधिक जोर नहीं देना चाहिए।
  12. सभी योग-आसन सांस लेने और छोड़ने पर निर्भर करते हैं, जिसका पूर्ण ज्ञान होना आवश्यक है। हो सके तो पहले उनके बारे में जानें, उसके बाद ही खुद करने की कोशिश करें।
  13. अगर आप बीमार हैं या गर्भवती हैं, तो अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही इसे करें। साथ ही इन्हें किसी योग्य योग-प्रशिक्षक की देखरेख में करें।
  14. हमेशा योग-आसन के अंत में शवासन करें। इससे तन और मन पूरी तरह शांत हो जाते हैं। शवासन करने से ही योग का पूर्ण लाभ होता है।
  15. योग के दौरान ठंडा पानी न पिएं, क्योंकि योग करते समय शरीर गर्म रहता है।
  16. इसलिए ठंडे पानी की जगह गर्म या नर्म और गुनगुना पानी ही पिएं।

(यह भी पढ़े – 8 Best साइनस के लिए योग और प्राणायाम (Sinus Treatment in yoga in Hindi))

योगाभ्यास करने का सही समय (Right Time To Practice Yoga in Hindi):

योग विज्ञान में दिन को चार भागों में बांटा गया है, ब्रह्म मुहूर्त, सूर्योदय, चंद्रमा और सूर्यास्त। इनमें से ब्रह्म मुहूर्त और सूर्योदय योग के लिए सर्वश्रेष्ठ माने गए हैं।

ऐसा माना जाता है कि ब्रह्म मुहूर्त में उठकर योग करने से सबसे अधिक लाभ होता है। उस समय वातावरण शुद्ध होता है और ताजी हवा चल रही होती है। आमतौर पर आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने वाले ही इस समय योग करते हैं।

ब्रह्म मुहूर्त का समय प्रातः 4 बजे का माना जाता है। इस समय हर कोई नहीं उठ सकता, इसलिए योग करना बेहतर है, यहां तक कि सूर्योदय के समय भी। इससे शरीर दिन भर ऊर्जावान बना रहता है।

ध्यान रहे कि योग हमेशा खाली पेट ही किया जाता है। आप सूर्यास्त के बाद भी योग कर सकते हैं, लेकिन उसके तीन-चार घंटे पहले तक आपने कुछ भी नहीं खाया है।

योग के फायदे (Benefits of Yoga in Hindi):

1. योग के आंतरिक स्वास्थ्य लाभ (Internal Health Benefits of Yoga in Hindi):

  • शरीर में रक्त प्रवाह में सुधार
  • श्वसन प्रणाली में सुधार।
  • अपच दूर करें।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं।
  • चयापचय में सुधार।
  • हृदय रोग को रोकें।
  • अस्थमा, गठिया, कैंसर, माइग्रेन और कब्ज की समस्याओं से छुटकारा दिलाए।

2. योग के बाहरी स्वास्थ्य लाभ (External Health Benefits of Yoga in Hindi):

  • बढ़ती उम्र के असर को कम करें।
  • शारीरिक क्षमता बढ़ाएं।
  • संतुलित वजन रखने में मदद करें।
  • मांसपेशियों में सुधार और मजबूती दें।
  • सिर से पैर तक शरीर को संतुलित रखता है।

3. योग के भावनात्मक स्वास्थ्य लाभ (Emotional Health Benefits Of Yoga in Hindi):

  • तनाव कम करना।
  • निर्णय लेने की क्षमता बढ़ाएं।
  • एकाग्रता बढ़ाएं।
  • चिंता दूर करें।
  • सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाएं।

(यह भी पढ़े – इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए योग (7 Effective Pranayama And Yoga for Erectile Dysfunction in Hindi))

योग के लिए टिप्स (Tips for Yoga in Hindi):

  1. आपको एक अच्छे योग शिक्षक का चयन सोच-समझकर करना चाहिए। इसमें जल्दबाजी न करें।
  2. योग करते समय आपके चेहरे पर हमेशा हल्की मुस्कान रहे।
  3. जब भी आप पद्मासन या सुखासन में बैठें तो कमर सीधी रखें।
  4. मुंह से सांस छोड़ें और इसे नाक से लें।
  5. आपको किस अवस्था में सांस लेनी है और कब सांस छोड़ना है, इसकी पूरी जानकारी होनी चाहिए।
  6. योग उतना ही करें जितना आपका शरीर आपका समर्थन करता है। नियमित अभ्यास से आपके शरीर में लचीलापन आएगा।
  7. क्या आप इस बात पर ध्यान दे सकते हैं कि यह कौन कर रहा है? हर किसी के शरीर की अपनी सीमाएं होती हैं।
  8. स्वस्थ शरीर के लिए योग के साथ-साथ संतुलित भोजन भी करें।

अगर आपको कुछ समझ में न आए तो कृपया अपने योग शिक्षक से एक बार पूछ लें। इसके बारे में बात करने से बेहतर है कि कुछ गलत किया जाए। यदि आप कोई योग-आसन गलत तरीके से करते हैं, तो आपको लाभ की बजाय हानि हो सकती है।

आशा है की आपको इस लेख द्वारा योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (Yoga: Definition, Types, Rules, Benefits & Tips of Yoga in Hindi) के बारे में जानकारी मिल गयी होगी।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (Yoga: Definition, Types, Rules, Benefits & Tips of Yoga in Hindi) पसंद आया होगा, अगर आपको भी योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (Yoga: Definition, Types, Rules, Benefits & Tips of Yoga in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (Yoga: Definition, Types, Rules, Benefits & Tips of Yoga in Hindi) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी योग क्या है? : परिभाषा, प्रकार, नियम, फायदे और सुझाव (Yoga: Definition, Types, Rules, Benefits & Tips of Yoga in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here