तितली आसन करने का तरीका और फायदे [Titli Asana (Butterfly Pose) Steps And Benefits in Hindi]

0

बद्धकोणासन/तितली आसन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Titli Asana (Butterfly Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi : वर्तमान समय में स्वस्थ रहने के लिहाज से, योग न केवल भारतीयों की बल्कि विदेशियों की भी पहली पसंद बन गया है। शरीर को बीमारियों और अन्य समस्याओं से बचाने के लिए प्राचीन शैली योग कुशल साबित हो सकता है।

योग किसी व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में सहायक होता है। योग और प्राणायाम के विषयों पर कई बार वैज्ञानिक शोध भी हुए हैं, जिनमें इन को लाभकारी पाया गया है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की तितली आसन क्या है, तितली आसन कैसे करते है और तितली आसन के स्वास्थ्य लाभ एवं तितली आसन के फायदे क्या होते है और तितली आसन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

Table Of Contents :

बद्धकोणासन/तितली आसन क्या है? [What is Titli Asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

योग एक शारीरिक व्यायाम है जिसकी उत्पत्ति प्राचीन भारत में हुई थी और यह हमें प्राणायाम, योग और ध्यान का उपयोग करके स्वस्थ जीवन, और अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करने का तरीका भी सिखाता है। और भी हम सूर्य नमस्कार, पवनमुक्तासन, गरुड़ासन, जैसे कई अन्य आसन का पालन करके अच्छे स्वास्थ्य को प्राप्त कर सकते हैं।

तितली आसन को “बटरफ्लाई पोज़ (Butterfly Pose)” के रूप में भी जाना जाता है (इस पोज़ को करते हुए पैर किसी उड़ती हुई तितली जैसे चलते हैं)। इस योग का वर्णन 15 वीं शताब्दी के हठ योग प्रदीपिका में भी मिलता है। और यह शारीरिक और मानसिक चिंता और तनाव को भी कम करने में मदद करता है।

तितली आसन एक अद्भुत बेठ कर करने वाला आसन है जिसका एक और नाम “बद्धकोणासन” है। इस मुद्रा के नियमित अभ्यास से प्रजनन प्रणाली का स्वास्थ्य ठीक हो सकता है। और आंतरिक जांघों और कटिस्नायुशूल (सायटिका) के दर्द को कम करने में अधिक फायदेमंद है।

तितली आसन (Titli Asana) के दौरान, अपनी श्वास पर ध्यान बनाए रखना सुनिश्चित करें। इसका उपयोग अक्सर अन्य बैठ कर करने वाले योगो के साथ किया जाता है। जो व्यक्ति इस आसन का अभ्यास करता है वह युवा होने के साथ-साथ आकर्षक भी बन जाता है। यह एक अलग योग है, जिसमें कई स्वास्थ्य लाभ हैं।

(यह भी पढ़े – कब्ज के लिए योग [8 Effective Yoga For Constipation in Hindi])

बद्धकोणासन/तितली आसन को करने से पहले आपको क्या पता होना चाहिए? [What Do You Need to Know Before Doing The Titli Asana (butterfly Pose) in Hindi]:

बद्धकोणासन (Titli Asana)” का अभ्यास अन्य योग आसनों के साथ सुबह जल्दी करना चाहिए। लेकिन अगर आप जल्दी नही जाग सकते हैं, तो यह आसन का अभ्यास शाम को भी किया जा सकता है।

बस यह सुनिश्चित करें कि आप अपने भोजन और अपने अभ्यास के बीच कम से कम चार से छह घंटे का अंतर रखे। इस आसन को करने पर आपका पेट और आंत खाली होनी चाहिए।

बद्धकोणासन/तितली आसन करने से पहले ये आसन करें [Do These Asana’s Before Doing The Titli asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

आप अगर चाहे तो यहाँ निचे बताये गये योगासनों का अभ्यास बद्धकोणासन / तितली आसन करने से पहले कर सकते हैं-

  • विरासन योग (Virasana or Hero Pose)
  • प्रसारित पादोत्तासन योग (Prasarita Padottanasana or Wide-Legged Forward Bend)
  • जानुशीर्षासन योग (Janu Sirsasana or Head-to-Knee Forward Bend)

बद्धकोणासन/तितली आसन करने का तरीका [Right Technique To Do Titli Asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

किसी भी आसन को करने के लिए आपको एक अच्छी जगह चुन नी चाहिए जहाँ आप योग का अभ्यास करने में बिल्कुल सहज महसूस करते हो, खुद को सहज महसूस करवाना योग का प्रारंभिक चरण है आइये जानते है बद्धकोणासन / तितली आसन कैसे करे

तितली आसन करने का तरीका और फायदे – Titli Asana (Butterfly Pose) Steps and Benefits in Hindi
बद्धकोणासन/तितली आसन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Titli Asana (Butterfly Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi

बद्धकोणासन/तितली आसन कैसे करें [How To Do Titli Asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

  1. अपनी योग चटाई बिछाकर उस पर दंडासन में बैठे।
  2. फिर अपने घुटनों को मोड़ें और पैरों के तलवों को एक दूसरे से मिलायें, और आप से जहाँ तक संभव हो अपनी एडियों को शरीर के करीब ले जायें।
  3. जांघ की मांसपेशियों को पूरी तरह से आराम दें और अपने हाथों के साथ-साथ अपने पैरों को पकड़ें।
  4. गहरी सांस लें। साँस छोड़ते हुए, अपने घुटनों को ऊपर-नीचे करें। जरूरत पड़ने पर घुटनों को दबाने के लिए कोहनी का इस्तेमाल करें।
  5. अब दोनों पैरों को तितली के पंखों की तरह ऊपर-नीचे करना शुरू करें।
  6. घुटनों को नीचे ले जाते समय जमीन को छूने की कोशिश करें। लेकिन ध्यान रखें कि ऐसा करने के लिए बल प्रयोग न करें।
  7. 30 से 50 बार टांगो को ऊपर निचे करें / लगभग दो से पांच मिनट के लिए इस मुद्रा को करें।

(यह भी पढ़े – हलासन करने का तरीका और फायदे [Halasana (Plow Pose) Steps And Benefits in Hindi])

बद्धकोणासन/तितली आसन के फायदे और लाभ [Benefits Of Titli Asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

तितली आसन के लाभ से कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है, आइये जानतें है की बद्धकोणासन / तितली आसन के फायदे क्या हैं-

  1. यह आसन गर्भवती महिलाओं को बहुत फायदा पहुंचाता है, जिससे उन्हें आसानी से डिलीवरी होती है।
  2. यह मूत्राशय और पेट के अंगों के साथ-साथ गुर्दे और प्रोस्टेट ग्रंथि को भी उत्तेजित करता है।
  3. यह आसन एक महान तनाव रिलीवर है। यह थकान को कम करने में भी मदद करता है।
  4. बद्धकोणासन योग मुद्रा मासिक धर्म की समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है।
  5. यह कमर और कूल्हे क्षेत्र के लचीलेपन में सुधार करता है, घुटनों, आंतरिक जांघों और कमर को एक महान खिंचाव देता है।
  6. यह आसन अस्थमा, फ्लैट पैर, बांझपन और उच्च रक्तचाप को ठीक करने में भी मदद करता है। कहा जाता है कि इस आसन के नियमित अभ्यास से आप किसी भी तरह की बीमारी से मुक्त रह सकते हैं।
  7. गर्भवती महिलाओं के लिए तितली आसन ज्यादा फायदेमंद होता है।
  8. यदि आपको मासिक धर्म के साथ कोई असुविधा या अनियमितता महसूस होती है, तो यह योग आपकी मासिक धर्म की समस्याओं का इलाज करने में मदद करेगा।
  9. तितली आसन के फायदे कमर के संयोजी ऊतकों पर अच्छा तनाव है।
  10. यह रक्त परिसंचरण में भी सुधार करता है, शरीर को डिटॉक्स करता है, मांसपेशियों को मजबूत करता है।
  11. इस आसन के दैनिक अभ्यास से पेट के अंगों, प्रोस्टेट ग्रंथियों को उत्तेजित करने में मदद मिलती है।
  12. यह आसन पुरुषो और महिलाओ दोनों में प्रजनन प्रणाली के कार्य को बढ़ाता है।
  13. इस आसन का रोजाना अभ्यास प्रजनन और शोधन भागों को उत्तेजित करता है।
  14. यह आसन मन को शांत करता है और सिरदर्द को राहत देता है।

(यह भी पढ़े – गरुडासन करने का तरीका और फायदे [Garudasana (Eagle Pose) Steps And Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया बद्धकोणासन/तितली आसन करने का सही तरीका [Baba Ramdev Step By Step Instructions For Titli Asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

बद्धकोणासन/तितली आसन के पीछे का विज्ञान [Science Behind Titli Asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

यह आसन इतना आसान है कि बस कोई भी इसे कर सकता है। यह आपकी आंतरिक जांघों और कमर दोनों को एक अच्छा खिंचाव देता है। यह आपके कूल्हों, पैरों, टखनों और घुटनों के लचीलेपन को भी बढ़ाता है।

यह मध्य करधनी क्षेत्र को खोलता है और इस क्षेत्र में रक्त परिसंचरण को भी बढ़ाता है। आप अपने कूल्हों को बगल से घुमाकर इस योग द्वारा एक अच्छी मालिश दे सकते हैं।

यह एक महान प्रसवपूर्व मुद्रा भी है। यह न केवल प्रजनन प्रणाली को समृद्ध करता है बल्कि प्रजनन क्षमता को भी बढ़ाता है और श्रम को आसान बनाता है।

(यह भी पढ़े – उत्थित त्रिकोणासन करने का तरीका और फायदे [Utthita Trikonasana (Extended Triangle Pose) Steps And Benefits in Hindi])

बद्धकोणासन/तितली आसन करने के बाद आसन [Do These Asana’s After Doing The Titli Asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

बद्धकोणासन/तितली आसन करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Titli Asana (Butterfly Pose) in Hindi]:

बद्धकोणासन / तितली आसन कैसे करें, यह जानने के साथ-साथ इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में जानना भी जरूरी है, आइए जानते हैं कि तितली आसन करते समय व्यक्ति को कौन सी सावधानियां और एहतियात बरतनी चाहिए-

  • यदि आप कटिस्नायुशूल (सायटिका) से पीड़ित हैं, तो एक तकिये पर बैठें और इस आसन का अभ्यास करें।
  • अगर आप किसी भी तरह के घुटने और कमर की चोट से पीड़ित हैं, तो समर्थन के लिए बाहरी जांघों के नीचे या तो कंबल का उपयोग करें या कूल्हों को ऊपर उठाने के लिए एक कुशन पर बैठें।
  • यदि आप मासिक धर्म कर रहे हैं तो इस आसन का अभ्यास न करें।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की बद्धकोणासन / तितली आसन करने का तरीका और फायदे (Butterfly Pose / Titli Asana Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख बद्धकोणासन / तितली आसन करने का तरीका और फायदे (Butterfly Pose / Titli Asana Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी बद्धकोणासन / तितली आसन करने का तरीका और फायदे (Butterfly Pose / Titli Asana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई बद्धकोणासन / तितली आसन करने का तरीका और फायदे (Butterfly Pose / Titli Asana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी बद्धकोणासन / तितली आसन करने का तरीका और फायदे (Butterfly Pose / Titli Asana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here