सुखासन करने का तरीका और फायदे [Sukhasana (Easy Pose) Steps And Benefits in Hindi]

सुखासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Sukhasana (Easy Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi : वर्तमान समय में स्वस्थ रहने के लिए, योग न केवल भारतीयों की बल्कि विदेशियों की भी पहली पसंद बन गया है। यह हिन्दू योग गुरुओ द्वारा पुरे भारत से दुनिया भर में फैल चूका है।

यहाँ तक की योग मुद्रा हमारे सभी भगवान को भी पसंद है और आपको जानकर हेरानी होगी की पहले कई असुर योग मुद्रा के माध्यम से तपस्या कर भगवान को प्रसन्न करते थे। जी हाँ रावण ने भी भगवान शिव को वृक्षसना योग मुद्रा में तपस्या कर उन्हें प्रसन्न किया था तब से ही योग भारत में योग किया आ रहा है।

योग शरीर की बीमारियों और अन्य समस्याओं से बचाने के लिए प्राचीन शैली साबित हो सकता है। योग किसी व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में सहायक होता है। योग और प्राणायाम के विषयों पर कई बार वैज्ञानिक शोध भी हुए हैं, जिनमें इन को लाभकारी पाया गया है।

वैसे तो कई प्रकार के योग होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की सुखासन क्या है, सुखासन कैसे करते है और सुखासन के स्वास्थ्य लाभ एवं सुखासन के फायदे क्या होते है और सुखासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

Table Of Contents :

सुखासन क्या है? (What Is Sukhasana / Easy Pose in Hindi):

“सुखासन” या “आसान पोज” आरामदायक, क्रॉस-लेग्ड, बैठने की स्थिति और योग अभ्यास और ध्यान में उपयोग किए जाने वाले सबसे बुनियादी पोज में से एक है।

हालांकि, आसान का मतलब मुश्किल के विपरीत नहीं है। इसका मतलब है “आराम से” तो, इस आसन में आप वास्तव में आराम से बैठ सकते हैं।

कुछ लोगों के लिए, कंबल, तौलिये और योग ब्लॉक जैसे प्रॉप्स का उपयोग करना आपको इस मुद्रा में यथासंभव आरामदायक महसूस करने में मदद कर सकता है।

सुखासन करने का तरीका [Right Technique To Do Sukhasana (Easy Pose) in Hindi]:

  1. अपनी योग चटाई पर “आलथी-पालथी” या मुड़े हुए पैरों के साथ आराम से बैठें एवम हाथो को ध्यान मुद्रा में अपने घुटनों पर रख ले।
  2. सुनिश्चित करे की आपकी सिर, गर्दन और रीढ़ की हड्डी पर आप कोई भी तनाव न डाले, और उन्हें सीधा रखें।
  3. अपने दोनों हाथों की हथेलियों को अपने घुटनों पर रखें और ज्ञान मुद्रा में बेठे।
  4. अपने शरीर को ढीला रखते हुए अपनी आँखों को बंद करे और इस पोज में कम से कम 10 मिनट तक बेठे रहे।

(यह भी पढ़े – शीर्षासन करने का तरीका और फायदे [Sirsasana (Headstand Pose) Steps and Benefits in Hindi])

स्वास्थ्य के लिए सुखासन के फायदे और लाभ (Benefits Of Sukhasana / Easy Pose in Hindi):

यह एक सामान्य आसन है और कोई भी इस आसन का अभ्यास बहुत आसानी से कर सकता है। सुखासन (आसान मुद्रा) ज्यादा मुश्किल नहीं है और यह शरीर की कई समस्याओं को दूर करने में बहुत मदद करती है। आइये जानते हैं स्वास्थ्य के लिए सुखासन के फायदे और लाभ क्या हैं।

सुखासन करने का तरीका और फायदे – Sukhasana (Easy Pose) Steps and Benefits in Hindi
सुखासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [ Sukhasana (Easy Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi]

1. सुखासन के फायदे बॉडी और माइंड को रिलैक्स करते है (Benefits Of Sukhasana / Easy Pose For Relaxing Mind in Hindi):

माना जाता है कि योग आपके शारीरिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। लेकिन सुखासन के फायदे आपको शारीरिक और मानसिक रूप से अधिक आराम देने में मदद करते हैं। इसके अलावा, आप अपने तनाव को कम करने के लिए इस योग का उपयोग कर सकते हैं।

2. सुखासन के फायदे डिप्रेशन और चिंता को कम करते है (Benefits Of Sukhasana / Easy Pose For Decreasing Stress & Depression in Hindi):

इस योग को नियमित रूप से करने से व्यक्ति सभी प्रकार के तनाव, अवसाद, चिंता और मानसिक तनाव से मुक्त रहता है और यह व्यक्ति में आत्मविश्वास जगाता है।

(यह भी पढ़े – भुजंगासन करने का तरीका और फायदे [Bhujangasana (Cobra Pose) Steps And Benefits in Hindi])

3. सुखासन के फायदे में यह सर्वश्रेष्ठ ध्यान मुद्रा है (This is The Best Meditation Posture in The Benefits of Sukhasana / Easy Pose in Hindi):

यह ध्यान के लिए सबसे अच्छे योगों में से एक है। इस आसन में अनुलोम-विलोम, कपालभाति प्राणायाम, और श्वास और श्वास से संबंधित कई अन्य योगासन भी किए जाते हैं। इस तरह आप मानसिक स्वास्थ्य के लिए सुखासन के फायदे उठा सकते हैं।

4. सुखासन के फायदे घुटनों को मजबूत करते है (Benefits Of Sukhasana / Easy Pose For Strengthen The Knees in Hindi):

इस आसन को करने से व्यक्ति की मांसपेशियों, जोड़ों में खिंचाव होता है। जिससे उन्हें ताकत मिलती है। इसके अलावा, यह टखने, नितंब और घुटने को फैलाने में भी मदद करता है।

5. सुखासन के फायदे जागरूकता में सुधार आता है (Benefits Of Sukhasana / Easy Pose For Improves Awareness in Hindi):

इस आसन के अभ्यास से व्यक्ति की जागरूकता में सुधार होता है और शरीर में सकारात्मक समस्याओं से लड़ने के लिए सकारात्मक शांति को बढ़ावा मिलता है।

(यह भी पढ़े- सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे [Sarvangasana (Shoulder Stand Pose) Steps And Benefits in Hindi])

अन्य सुखासन के फायदे और लाभ (Other Benefits Of Sukhasana / Easy Pose in Hindi):

  1. सुखासन सभी योग में सबसे आसन लाभों में से एक है जिसे हर कोई बड़े ही आसानी से कर सकता है।
  2. इस योग के अभ्यास से शरीर का संतुलन बेहतर होता है।
  3. इससे शरीर और मन के बीच शांति और स्थिरता की भावना विकसित होती है।
  4. इसके अभ्यास से मन और दिमाग को शांति मिलती है। 
  5. इस आसन को करने से घुटनों और टखनों में अच्छा खिंचाव मिलता है। यह आसन शरीर के आसन को संपूर्ण बनाता है।
  6. इस किर्या से थकान, डिप्रेशन, चिंता और स्ट्रेस आदि दूर होता है।
  7. चेस्ट और कॉलर हड्डियों को इसके नियमित अभ्यास से चौड़ा किया जा सकता है।
  8. इस आसन का अभ्यास रीढ़ की हड्डी को सीधा करता और दर्द को दूर करने में मदद करता है।
  9. यह योग पीठ को मजबूत और कठोर बनाने में मदद करता है।
  10. यह मन की भावना में सुधार करता है।
  11. यह वजन कम करने में भी सहायता करता है।
  12. यह रक्त परिसंचरण में सुधार करता है।
  13. यह आसन बच्चों की हाइट बढाने में मदद करता है।

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया सुखासन करने का सही तरीका [Baba Ramdev Sukhasana (Easy Pose) Step By Step Instructions in Hindi]:

सुखासन करने से पहले चीजें ध्यान में रखें [Important Things For Sukhasana (Easy Pose) in Hindi]:

जानकारों के अनुसार, यह आसन सबसे अच्छा तब माना जाता है जब इसका सुबह-सुबह अभ्यास किया जाता हैं। किसी कारण के कारण, आप इसका अभ्यास सुबह नहीं कर पाते है तो, आप इस आसन का अभ्यास शाम को भी कर सकते हैं। लेकिन कम से कम अपने अभ्यास और भोजन के बीच 3 से 5 घंटे का अंतर रखें।

धैर्य बनाए रखें और अपनी सीमाएं जानें। हालांकि, अगर आप पहली बार ऐसा कर रहे हैं तो आपको अपने आप पर बहुत भरोसा करने की जरूरत है।

(यह भी पढ़े – शवासन करने का तरीका और फायदे [Shavasana (Corpse Pose) Steps And Benefits in Hindi])

सुखासन का अभ्यास करने से पहले क्या सावधानिया व एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Sukhasana (Easy Pose) in Hindi]

योग का अभ्यास करना तब फायदेमंद होता है जब हम उन्हें सही तरीके से और सही अवस्था में करते हैं। थोड़ी सी चूक हमारे शरीर के लिए बहुत हानिकारक हो सकती है।

आइए जानते हैं आसन मुद्रा योग करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए  –

  • यदि कोई महिला गर्भवती है, तो उसे स्वास्थ्य जांच कराने के बाद ही इस आसन को करना चाहिए।
  • यदि आपके कूल्हों (Hips) और घुटनों में चोट या सूजन है, तो इस आसन को न करें।
  • यदि आपकी रीड की हड्डी में दर्द है, तो इस आसन को न करें।
  • अगर आपके शरीर के कशेरुकाओं में कोई समस्या या परेशानी है, तो इस मुद्रा को करने से बचें।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की आसन मुद्रा योग करने का तरीका और फायदे (Easy Pose / Sukhasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख सुख-आसन करने का तरीका और फायदे (Easy Pose / Sukhasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी सुखासन करने का तरीका और फायदे (Easy Pose / Sukhasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई सुखासन करने का तरीका और फायदे (Easy Pose / Sukhasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी सुखासन करने का तरीका और फायदे (Easy Pose / Sukhasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!