शीतली प्राणायाम करने का तरीका और फायदे [Sheetali Pranayama Steps And Benefits in Hindi]

शीतली प्राणायाम करने का तरीका और फायदे (Sheetali Pranayama Steps and Benefits in Hindi) : क्या आपको पता है शीतली प्राणायाम करने का सही तरीका क्या है, अगर नहीं तो यहाँ हमने विस्तार में बताया है की शीतली प्राणायाम कैसे करे और शीतली प्राणायाम के फायदे क्या होते है।    

इसी लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, जिसे पढ़ने के बाद आपको यह ज्ञान हो जाएगा की शीतली प्राणायाम कैसे करते है और शीतली प्राणायाम के फायदे क्या होते है, तो चलिए शुरू करते है।

शीतली प्राणायाम क्या है? (What is Sheetali Pranayama in Hindi):

शीतली प्राणायाम, जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, ठंड से संबंधित है। यह हमारे शरीर को ठंडक प्रदान करता है। इसलिए इसे कूलिंग ब्रीथ भी कहा जाता है।

शब्द “शीतली” वास्तव में एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ ‘शीतलता’ होता है। यह मूल शब्द “शीतल” से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘ठंडा’ या ‘सुखदायक’। इस प्राणायाम के बहुत लाभ हैं।

“शीतली प्राणायाम” प्राणायाम का एक अभिन्न हिस्सा है। जो नियंत्रित श्वसन योग प्रदर्शन और मन को शांत करने के लिए ध्यान करने दोनों हमे में सक्षम बनाता है। यह प्राणायाम सभी योगासनों के बाद किया जाना चाहिए, ऐसा करने से शरीर की थकान दूर होती है और शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है।

इसके अलावा, यह मन की शांति भी प्रदान करता है। यह प्राणायाम एक छायादार वृक्ष की तरह होता है जो भरपूर ऑक्सीजन पैदा करता है।

शीतली श्वास किर्या का सबसे मूल उद्देश्य यह है कि यह शरीर के तापमान को कम करता है जो अंतःस्रावी ग्रंथियों के साथ-साथ तंत्रिका तंत्र पर सकारात्मक प्रभाव डालता है।

शीतली प्राणायाम करने का तरीका और फायदे – Sheetali Pranayama (Cooling Breath) steps and benefits in Hindi
शीतली प्राणायाम करने का तरीका और शीतली प्राणायाम के फायदे (Sheetali Pranayama Steps And Benefits in Hindi)

हठ योग के प्राचीन पाठ के अनुसार, इस प्राणायाम का अभ्यास करने वाला व्यक्ति युवा होने के साथ-साथ आकर्षक भी बनता है। यह भी कहा जाता है कि यह प्राणायाम अतिरिक्त गर्मी को दूर करने में महान है जो सिस्टम में जमा होता है। यह अतिरिक्त पित्त को भी कम करता है। शीतली प्राणायाम भूख के साथ-साथ प्यास पर भी नियंत्रण प्रदान करने में मदद करता है।

यह मानव शरीर के पूरे तंत्रिका तंत्र पर काफी सुखदायक प्रभाव डालता है, विशेष रूप से पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका तंत्र की उत्तेजना में जो मांसपेशियों में छूट को प्रेरित करता है और इसलिए यह तनाव प्रबंधन में काफी प्रभावी है।

यदि आप तनावग्रस्त हैं तो बस 10 मिनट के लाइट शीतली प्राणायाम “Sheetali Pranayama” का अभ्यास करके अपने मन को अनिवार्य रूप से शांत कर सकते हैं। यह प्राणायाम मन और शरीर दोनों के विश्राम में काफी प्रभावी है।

प्राचीन और दुर्लभ योग ग्रंथों जैसे योग “कुंडलीपनिषद”, “हठ योग प्रदीपिका” और “घेरंड संहिता” में इसे प्रमुखता से वर्णित किया गया है। बहुत से लोग इससे लाभान्वित भी हुए हैं और अभी भी इससे कई लोग लाभ ले रहे हैं।

शीतली प्राणायाम या शीतलन श्वास अक्सर अन्य आसनों और साथ ही प्राणायामों का अभ्यास करने के बाद किया जाता है।

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया शीतली प्राणायाम करने का सही तरीका और विधि (Baba Ramdev Sheetali Pranayama Steps in Hindi):

शीतली प्राणायाम करने का तरीका और विधि (How To Do Sheetali Pranayama in Hindi):

  1. अपनी योग चटाई पर बेठ जाए।
  2. अपनी आँखें बंद करें।
  3. अब अपने हाथों को घुटनों पर ज्ञानमुद्रा या अंजलीमुद्रा में रखें। और अपने शरीर को ढीला छोड़ दें।
  4. फिर जीभ को बाहर निकालें और इस तरह मोड़ें कि वह नली या नली के आकार जैसा हो जाए।
  5. फिर इस नली आकर की जीभ के माध्यम से मुंह से धीरे-धीरे सांस लें। मुंह, तालु और गले को ठंडा करने के लिए हवा इस नली से होकर गुजरेगी।
  6. पेट को हवा से भरें।
  7. अब जीभ को अंदर की ओर मोड़ें और मुंह बंद करें।
  8. इसके बाद, अपनी गर्दन को आगे झुकाकर, अपने जबड़े के सामने के भाग को छाती से सटाएं।
  9. अपने मुंह और नथुने को बंद करके अपनी सांस रोके। (अपने आराम के स्तर के अनुसार अपनी सांस को रोके)
  10. अब गर्दन को पीछे से सीधा करें और नाक से हवा को बाहर आने दें।
  11. साँस छोड़ने की कोशिश करें, साँस लेने के समय से अधिक।
  12. आप इस प्राणायाम (Sheetali Pranayama) का दस बार अभ्यास कर सकते हैं। प्राणायाम के अभ्यास के बाद, इसे गर्मियों के मौसम में आवश्यकता के अनुसार बढ़ाया जा सकता है।

यह भी पढ़े –

शीतली प्राणायाम के फायदे और लाभ (Sheetali Pranayama Benefits in Hindi):

शीतली प्राणायाम के फायदे और लाभ इस प्रकार हैं:

  1. जीभ के माध्यम से हवा को खींचने का कार्य शरीर पर शीतलन प्रभाव पैदा करता है।
  2. यह प्राणायाम मन और शरीर दोनों को आराम देता है।
  3. हठ योग के अनुसार, यह बुखार के साथ-साथ पित्त के विकारों को भी ठीक कर सकता है।
  4. यह भूख और प्यास को नियंत्रित करने और हटाने में मदद करता है।
  5. यह अभ्यास पित्त संबंधी रोगों में काफी उपयोगी है।
  6. यह अति सक्रियता में भी प्रभावी है।
  7. प्राणायाम का यह अभ्यास पाचन तंत्र को ठीक रखने में मदद करता है। अगर हमारी पाचन क्रिया अच्छी है, तो पेट संबंधी सभी बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है।
  8. यदि आप चिंता या डिप्रेशन से पीड़ित हैं, तो आपको इस प्राणायाम का (Sheetali Pranayama) अभ्यास अवश्य करना चाहिए। यह डिप्रेशन को कम करने में रामबाण कार्य करता है।
  9. यह प्लीहा के रोगों में काफी लाभदायक है।
  10. यह प्राणायाम भूख, प्यास, बुखार और तपेदिक को जीतता है।
  11. यह सोने से पहले शरीर को शांत करने वाला एक उपयोगी प्राणायाम के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  12. चिड़चिड़ापन, बात-बात में गुस्सा करना, तनाव और गर्म स्वभाव विशेष रूप से व्यक्तियों के लिए फायदेमंद होते हैं।
  13. योग विज्ञान के अनुसार, लंबे समय तक इस प्राणायाम के नियमित अभ्यास से व्यक्ति पर जहर या सांप के काटने का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।
  14. यदि आपका बीपी या रक्तचाप बढ़ा हुआ है तो आप शीतली प्राणायाम का अभ्यास करके उच्च रक्तचाप को कम कर सकते हैं।
  15. यह अनिद्रा की समस्या से लड़ने में मदद करता है।
  16. जननांगों में हार्मोन के स्राव को नियंत्रित करता है। और वासना के मानसिक और भावनात्मक प्रभावों को कम करता है।
  17. इस प्राणायाम का नियमित रूप से अभ्यास करने से आप अपनी आंखों की समस्या से जल्द ही छुटकारा पा सकते हैं।
  18. इस प्राणायाम का अभ्यास करके हम मानसिक और भावनात्मक उत्तेजना और मन की चंचलता को कम कर सकते हैं।
  19. इस प्राणायाम से ज्यादा पसीना आने की शिकायत में भी राहत मिलती है।
  20. यह प्राणायाम एक छायादार वृक्ष की तरह होता है जो शरीर में भरपूर ऑक्सीजन पैदा करता है।

यह भी पढ़े-

शीतली प्राणायाम करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते (What Are The Precautions To Be Taken While Sheetali Pranayama in Hindi):

  • यदि आपको निम्न रक्तचाप (लो ब्लड प्रेशर) है तो यह प्राणायाम अनिवार्य रूप से इसे और भी नीचे ला सकता है। इसलिए आपको इसके बारे में काफी सावधान रहना होगा।
  • आप ठंडी हवा के कारण अपने गले में थोड़ी ठंड या झुनझुनी-सनसनी महसूस कर सकते हैं, लेकिन यह सामान्य है।
  • यदि आपको चक्कर आ रहा है तो आपको इस प्राणायाम के अभ्यास को रोकना चाहिए और सामान्य साँस लेना शुरू करना चाहिए।
  • जो लोग अस्थमा, सर्दी, खांसी या अन्य श्वसन संबंधी समस्याओं से पीड़ित हैं, उन्हें इस प्राणायाम को नहीं करना चाहिए।
  • अत्यधिक ठंड के दिनों में इस प्राणायाम को करने से बचना चाहिए।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की शीतली प्राणायाम करने का तरीका और शीतली प्राणायाम के फायदे (Sheetali Pranayama Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख शीतली प्राणायाम करने का तरीका और फायदे (Sheetali Pranayama Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी शीतली प्राणायाम कैसे करे और शीतली प्राणायाम के फायदे (Sheetali Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई शीतली प्राणायाम करने का सही तरीका और शीतली प्राणायाम के फायदे (Sheetali Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी शीतली प्राणायाम करने का तरीका और शीतली प्राणायाम के फायदे (Sheetali Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!