सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे [Sarvangasana (Shoulder Stand Pose) Steps And Benefits in Hindi]

सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे (Sarvangasana Steps And Benefits in Hindi): क्या आपको पता है सर्वांगासन करने का सही तरीका क्या है, अगर नहीं तो यहाँ हमने विस्तार में बताया है की सर्वांगासन कैसे करे और इसके फायदे क्या होते है।   

इसी लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, जिसे पढ़ने के बाद आपको यह ज्ञान हो जाएगा की सर्वांगासन कैसे करते है और सर्वांगासन के फायदे क्या होते है, तो चलिए शुरू करते है।

सर्वांगासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां:

सर्वांगासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [Sarvangasana (Shoulder Stand Pose) Steps and Benefits in Hindi]:

शहरों की तेज दौड़ती जिंदगी और भागदौड़ भरी जिंदगी में सेहत का ध्यान रखना थोड़ा मुश्किल हो गया है जिसके कारण लोगों की जिंदगी में कई शारीरिक और मानसिक समस्याएं आने लगीं हैं, जैसे की तनाव, टेंशन, स्ट्रेस, डिप्रेशन एवं इंसोम्निया या अनिद्रा।

योग के अंतर्गत कई प्राणायाम और आसन हैं, जिनके अनगिनत लाभ हैं जिन्हें करने से इन सब समस्याओ को दूर किया जा सकता है। इन्ही में से एक आसन है सर्वांगासन (Sarvangasana)।

सर्वांगासन क्या है ? [What Is Sarvangasana / Shoulder Stand Pose in Hindi]:

सर्वांगासन (Shoulder Stand Pose) एक योग मुद्रा है जिसमें आपके पूरे शरीर को कंधों पर संतुलित किया जाता है। सर्वांगासन एक संस्कृत भाषा का शब्द है जो तीन शब्दों से मिलकर बना है- सर्व+अंग+आसन

  • सर्व – संपूर्ण या पूरा।
  • अंग – शरीर का हिस्सा।
  • आसन – मुद्रा या किसी विशेष​ स्थिति में होना।

यह आसन हठ योग में सर्वश्रेष्ठ और सबसे महत्वपूर्ण आसनों में से एक है। इसके अभ्यास से संपूर्ण शरीर का अभ्यास होता है इसी वजह से इसका नाम सर्वांगासन (Shoulder Stand Pose) है। हालाँकि हर योग आसन के अपने लाभ हैं, लेकिन यह आसन एक ऐसा योग है जो आपके शरीर के सभी हिस्सों को लाभ पहुंचाता है।

यह आसन बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी के लिए फायदेमंद है, यह महिलाओं के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है। इस आसन में कंधों के सहारे पूरे शरीर का संतुलन बनाया जाता है।

यह आसन व्यक्ति को मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रखता है, इस आसन को सभी आसनों की जननी “आसनों की रानी” भी कहा जाता है। यह आसन मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में बेहद फायदेमंद है।

(यह भी पढ़े- बालासन करने का तरीका और फायदे [Balasana (Child Pose) Steps And Benefits in Hindi])

सर्वांगासन के फायदे और लाभ (Benefits of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose in Hindi):

सर्वांगासन योग के उन्नत तरीकों में से एक है, जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं, अगर आप इस आसन के स्वास्थ्य लाभों को पढ़ते हैं तो आप हर दिन इस योग मुद्रा को करना पसंद करेंगे, क्योंकि यह आपके शरीर के सभी आंतरिक भागों को मजबूत बनाता है और उन्हें मजबूत और स्वस्थ रखता है। यह आसन अच्छे स्वास्थ्य की चाह रखने वाले व्यक्ति के लिए वरदान है।

सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे – Sarvangasana (Shoulder Stand Pose) Steps and Benefits in Hindi
सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे [Sarvangasana (Shoulder Stand Pose) Steps And Benefits in Hindi]

1. सर्वांगासन के फायदे अस्थमा या साइनसाइटिस के उपचार में सहायक है (Benefits Of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose For Asthma & Sinusitis in Hindi):

सर्वांगासन के लाभों को अस्थमा और साइनसाइटिस या मसूड़े की सूजन जैसी श्वसन प्रणाली से संबंधित समस्याओं से राहत और आराम करने में भी देखा जा सकता है।

इस आसन का अभ्यास आपके फेफड़ों की क्षमता को डायाफ्राम के रूप में बढ़ाता है, जो श्वसन की मांसपेशी है, इस आसन में गुरुत्वाकर्षण के खिलाफ काम करना पड़ता है, इससे पेट को राहत मिलती है और इसलिए यह अस्थमा के उपचार में सहायक है।

इस आसन में श्वसन प्रणाली से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाला जाता है जिससे श्वसन प्रणाली में सुधार होता है।

(यह भी पढ़े – मार्जरी आसन करने का तरीका और फायदे [Marjariasana (Cat Pose) Steps And Benefits in Hindi])

2. सर्वांगासन के फायदे भावनात्मक और मानसिक तनाव को कम करने में सहायक है (Benefits Of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose Helpful in Reducing Emotional And Mental Stress in Hindi):

इस आसन का अभ्यास करने से रक्त का संचार मस्तिष्क की ओर वापस होने लगता है, जिससे शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ाने में मदद मिलती है। इसे करने से दिमाग तेज होता है, याददाश्त बढती है एवं भावनात्मक और मानसिक तनाव की समस्या दूर होती है।

3. सर्वांगासन के फायदे पाचन शक्ति सुधारने में सहायक होते है (Benefits Of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose For Good Digestion in Hindi):

इस आसन को करने से सभी प्रकार की पाचन संबंधी समस्याएं दूर हो जाती हैं। यह आसन इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम को नियंत्रित करने का काम करता है, इसके साथ ही यह आसन कब्ज से राहत दिलाने में भी फायदेमंद है। यह बवासीर की समस्या को दूर करने में भी फायदेमंद है।

4. सर्वांगासन के फायदे मेटाबॉलिज्म (चयापचय) बढ़ाने में मदद करते है (Benefits Of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose For Good Metabolism in Hindi):

इस आसन का अभ्यास करने से शरीर के निचले क्षेत्र, यानी पैरों और पेट से स्थिर रक्त हृदय तक पहुंचता है, जिससे इन भागों और पूरे परिसंचरण तंत्र को ताजा रक्त की आपूर्ति में सुधार होता है, जिससे मेटाबॉलिज्म (चयापचय) सुधरता है साथ ही सिर क्षेत्र यानी मस्तिष्क, आंख, कान, नाक और गले में रक्त की आपूर्ति में सुधार होता है जिससे उनकी कार्यप्रणाली में सुधार होता है।

इसलिए इस आसन को करने वालो को श्रोणि और पेट से सम्बन्धी क्षेत्र एवं  परिसंचरण, कान, गले और नाक की बीमारियों में सुधार होता है।

(यह भी पढ़े – सूर्य नमस्कार करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [Surya Namaskar (Sun Salutation) Steps & Benefits in Hindi])

5. सर्वांगासन के फायदे आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करते है (Benefits Of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose Help To Increase Eyesight in Hindi):

इस आसन को करने से शरीर के निचले क्षेत्रों, यानी पैरों और पेट से स्थिर रक्त मस्तिष्क  तक पहुँचता है, इसके कारण आंखों की रोशनी भी ठीक होने लगती है।

6. सर्वांगासन के फायदे कंधो, गर्दन, कमर या पीठ और रीढ़ को मजबूत बनाते है (Benefits of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose Make Shoulders, Neck, Waist or Back And Spine Strong in Hindi):

इस आसन में शरीर के निचले क्षेत्र, यानी पैर और कमर को ऊपर उठाया जाता है, जिससे शरीर का भार गर्दन और कंधो पर पड़ता है, जिससे गर्दन से गुजरने वाली नस टोन्ड होती है और गर्दन का लचीलापन बढ़ाता है और रीढ़ स्वस्थ और लचीली हो जाती है जिससे उन्हें मजबूती मिलती है और कमर और गर्दन दर्द में राहत होती है और गर्दन अकड़ने सम्बन्धी समस्या भी दूर हो जाती है।

7. सर्वांगासन के फायदे वैरिकाज़ नसों को ठीक करते है (Benefits of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose Heal Varicose Veins in Hindi):

वैरिकाज़ नस एक समस्या है, जिसमें पैरों की नसें मोटी हो जाती हैं और त्वचा पर उभरी हुई दिखाई देती है इस आसन में, जब पैर उठाए जाते हैं, तो रक्त की वापसी में वैरिकाज़ नस की समस्या से राहत दिलाती है।

8. सर्वांगासन के फायदे चेहर पर निखार बढ़ाता है और झुर्रियां कम करते है (Benefits of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose Increases Face Improvement And Reduces Wrinkles in Hindi):

इस आसन के नियमित अभ्यास से चेहरे पर रक्त संचार बढ़ता है, जिससे आपके चेहरे पर एक चमक आती है और चेहर का निखार बढ़ाता है और झुर्रियां कम होती है।

9. सर्वांगासन के फायदे बालों के झड़ने की समस्या को नियंत्रित करते है (Benefits of Sarvangasana / Shoulder Stand Pose Control The Problem Of Hair Loss in Hindi):

इस आसन का अभ्यास करने से बालों का झड़ना और बालों का समय से पहले सफ़ेद होना समाप्त या नियंत्रित होता है।

(यह भी पढ़े – वज्रासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [Vajrasana (Thunderbolt Pose) Steps and Benefits in Hindi])

10. सर्वांगासन के फायदे थायराइड और पैराथायरॉयड ग्रंथि को सक्रिय करने में सहायक है (Benefits of Sarvangasana is Helpful in Activating Thyroid And Parathyroid Gland in Hindi):

थायराइड गले में मौजूद एक ग्रंथि है। यह ग्रंथि एक व्यक्ति के चयापचय (मेटाबॉलिज्म) और विकास में सुधार करने के लिए हार्मोन बनाने के रूप में कार्य करती है।

कई बार इस पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभाव से थायरॉयड संबंधी समस्याएं हो जाती हैं, इसमें रक्त स्त्राव के बढ़ने के कारण यह थायराइड, पैराथायराइड और पिट्यूटरी ग्रंथियों के कार्य में सुधार करता है।

अन्य सभी अंतःस्रावी ग्रंथियों को पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा नियंत्रित किया जाता है और इसलिए अंतःस्रावी तंत्र के समग्र कार्य में सुधार होता है। इस योग आसन के लगातार अभ्यास से थायराइड की समस्या पूरी तरह से ठीक हो जाती है।

इसे करने से थायरॉयड ग्रंथि पर दबाव पड़ता है, और थायरॉयड ग्रंथि क्रियाशील हो जाती है, जिससे ग्रंथि ठीक से काम करने लगती है। इसके अलावा यह गले से संबंधित अन्य बीमारियों को खत्म करने में मदद करता है।

सर्वांगासन करने से पहले इन आसन को करें (Perform These Asanas Before Performing Sarvangasana / Shoulder Stand Pose in Hindi):

  • वीरासन योग (Virasana or Hero Pose)
  • हलासन योग (Halasana or Plow Pose)
  • सेतुबंधासन योग (Setu Bandhasana or Bridge Pose)

सर्वांगासन करने का सही तरीका (How To Do Sarvangasana / Shoulder Stand Pose With Right Technique And Posture in Hindi):

  1. सबसे पहले स्वच्छ खुले वातावरण में एक योग मैट बिछा लें।
  2. जिससे इस आसन को करते समय शरीर को स्वच्छ ऑक्सीजन मिले।
  3. अब इस आसन को करने के लिए योग मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  4. दोनों हाथ और पैर सीधे जमीन पर होने चाहिए।
  5. हथेलियों को जमीन की तरफ रखें ,और दोनों पैर एक दूसरे से सीधे सटे होने चाहिए।
  6. अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए दोनों पैरों, कूल्हों और कमर को धीरे-धीरे ऊपर की तरफ उठाएं।
  7. अब अपनी कमर और पीठ को ऊपर की ओर उठाने के लिए दोनों हाथों की कोहनी को जमीन पर रखें और हथेलियों से अपनी कमर को सहारा दें।
  8. ध्यान रहे कि इसको करते समय आपके दोनों पैर सीधे रहें, अपने घुटनों को मोड़ने न दें।
  9. इस आसन में शरीर का पूरा भार कंधों और सिर पर होगा।
  10. इसे करते समय ठोड़ी को छाती से स्पर्श कर के रखें।
  11. अपने कंधे से कोहनी तक के क्षेत्र को जमीन के करीब रखें और अपने चेहरे को आकाश या पैरों के अंगूठे की ओर रखें।
  12. अपने शरीर को स्थिर करें और अपनी क्षमता के अनुसार कुछ देर तक इस मुद्रा में बने रहें।
  13. सांस को सामान्य रखें।
  14. इस आसन से बाहर आने के लिए, कमर और पैरों को धीरे-धीरे नीचे लाएं और अपने हाथों को जमीन पर रखें।
  15. अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

(यह भी पढ़े – मयूरासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [Mayurasana (Peacock Pose) Steps And Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया सर्वांगासन करने का सही तरीका (Baba Ramdev Step By Step Instructions For Sarvangasana / Shoulder Stand Pose in Hindi):

सर्वांगासन करने के बाद इन आसन को करें (Do These Asanas After Performing Sarvangasana / Shoulder Stand Pose in Hindi):

  • शवासन योग (Savasana or Corpse pose)
  • शीर्षासन योग (Sirsasana or Headstand)
  • चक्रासन योग (Chakrasana or Wheel Pose)

सर्वांगासन करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए (What Precautions Should Be Taken While Doing Sarvangasana / Shoulder Stand Pose in Hindi):

योग करना तब फायदेमंद होता है जब हम उन्हें सही तरीके से और सही अवस्था में करते हैं। थोड़ी सी चूक हमारे शरीर के लिए बहुत हानिकारक हो सकती है। आइए जानते हैं कि सर्वांगासन करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए –

  • पीरियड्स या मासिक धर्म के दौरान, महिलाओं को इस आसन को करने से बचना चाहिए।
  • इसके अलावा, यह आसन उन दिनों में एक डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही किया जाना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं द्वारा भी यह आसन नहीं किया जाना चाहिए।
  • यदि आपकी पीठ या कमर में दर्द है या फिर आपको उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर), स्पॉन्डिलाइटिस (Spondylitis) की समस्या है तो आपको इस आसन का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपको अस्थमा या सांस की कोई बीमारी है तो इस आसन को न करें।
  • अगर आपको यह आसन करने में दिक्कत महसूस हो रही है तो कमर के नीचे तकिए का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • अपनी शारीरिक क्षमता से अधिक जोर नहीं लगाना चाहिए।
  • अगर आपकी आंखों में मोतियाबिंद (ग्लूकोमा) की समस्या है, तो इस आसन को करने से बचना चाहिए।
  • सर्वांगासन के फायदे अधिक हैं, लेकिन आसन करना थोड़ा कठिन है। इसलिए, यह आसन योग शिक्षक के निर्देशन में किया जाना चाहिए।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे (Shoulder Stand Pose / Sarvangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे (Shoulder Stand Pose / Sarvangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे (Sarvangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे (Shoulder Stand Pose / Sarvangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी सर्वांगासन करने का तरीका और फायदे (Shoulder Stand Pose / Sarvangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!