प्राणायाम क्या है, फायदे और प्रकार [All About Pranayama In Hindi]

0

प्राणायाम क्या है, फायदे और इसके प्रकार (Pranayam Kya Hai, Fayde Aur Iske Prakar) : क्या आपको पता है प्राणायाम क्या है, अगर नहीं तो यहाँ हमने विस्तार में बताया है प्राणायाम क्या है, प्रकार और इसके फायदे क्या होते है।   

इसी लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, जिसे पढ़ने के बाद आपको यह ज्ञान हो जाएगा की प्राणायाम कैसे करते है, प्राणायाम के प्रकार और प्राणायाम के फायदे क्या होते है, तो चलिए शुरू करते है।

प्राणायाम क्या है, लाभ, प्रकार और आसन :

प्राणायाम क्या है (Pranayam Kya Hai):

प्राणायाम योग का एक ही एक मुख्य घटक है, शारीरिक और मानसिक कल्याण के लिए किया जाने वाला एक व्यायाम। प्राणायाम को आमतौर पर सांस नियंत्रण की एक प्राचीन कला का अभ्यास माना जाता है। प्राणायाम में किए गए अभ्यास को देखकर यह सही लगता है, आप इसमें जानबूझकर श्वास लेते हैं, सांस छोड़ते हैं, और एक विशिष्ट अनुक्रम में अपनी सांस पकड़ते हैं।

योग में शारीरिक मुद्रा (आसन) और समाधि (ध्यान) जैसी अन्य साधनाओं के साथ प्राणायाम किया जाता है। साथ में ये प्रथाएं योग के कई फायदों के लिए जिम्मेदार है, परन्तु प्राणायाम करने के अपने फायदे हैं।

प्राणायाम दो शब्दों के संयोजन से बना है- प्राण और आयाम। प्राण का अर्थ है महत्वपूर्ण ऊर्जा या जीवन शक्ति। वह शक्ति जो सभी चीजों में मौजूद है, फिर चाहे वह सजीव हो या निर्जीव। प्राणायाम  के माध्यम से श्वास हमारे ऊर्जा शरीर के सभी माध्यमों में फैलती है। “यम” का अर्थ है नियंत्रण।

परन्तु यहाँ पर प्राणायाम शब्द में प्राण के साथ यम के स्थान पर आयाम शब्द की संधि का उपयोग किया गया है। आयाम का अर्थ है वृद्धि करना। तो यही कारण है कि प्राणायाम का सही मतलब जीवन का विस्तार या वृद्धि करना है। 

वास्तव में प्राणायाम का लक्ष्य आपके शरीर और मन को एक साथ जोड़ना है, यह आपके शरीर से विषाक्त तत्वों को निकालते समय आपके शरीर को ऑक्सीजन की पूर्ति करने में मदद करता है।

विज्ञानिको द्वारा किये गए शोध एवं अध्ययनों से भी पता चला है की प्राणायाम आपके स्वास्थ्य को विभिन्न तरीकों से लाभ पहुंचाता है आइए इन लाभों को विस्तार से देखते है। तो यहाँ आपने जाना प्राणायाम क्या है, चलिए इसके प्रकार और फायदे जाने।

प्राणायाम क्या है, लाभ, प्रकार और आसन - Pranayam karne ka tarika, fayde, prakar
प्राणायाम क्या है, फायदे और इसके प्रकार (Pranayam Kya Hai, Fayde Aur Iske Prakar)

यहाँ निचे हमने प्राणायाम के फायदे और लाभ (Pranayama Ke Fayde in Hindi) क्या होते है विस्तार में बताया है, जिसे आपको जानना चाहिए।

प्राणायाम के फायदे (Pranayama Benefits in Hindi):

1. प्राणायाम के फायदे तनाव कम करते है : (Pranayama Benefits For Depression in Hindi)

2013 के अध्ययन से शोधकर्ताओं ने अनुमान लगाया है कि प्राणायाम तंत्रिका तंत्र को शांत करता है, जिससे आपकी तनाव प्रतिक्रिया में सुधार होता है।

प्राणायाम स्वस्थ युवा वयस्कों में तनाव के स्तर को कम करता है, शोधकर्ताओं के अनुमान अनुसार  प्राणायाम का अभ्यास करने वाले व्यक्तियों ने परीक्षण करने से पहले कम चिंता का अनुभव किया।

अध्ययन के लेखकों ने इस प्रभाव को प्राणायाम के दौरान बढ़े हुए ऑक्सीजन के संपर्क से जोड़ा। ऑक्सीजन आपके मस्तिष्क और तंत्रिकाओं सहित आपके महत्वपूर्ण अंगों के लिए ऊर्जा का कार्य करता है।

2. प्राणायाम के फायदे नींद की गुणवत्ता में सुधार करते है : (Pranayama Benefits For Sleep in Hindi)

2019 के एक अध्ययन के अनुसार, जो इस प्राणायाम को करते थे उनमे अनिंद्रा में सुधार पाया गया और प्रतिरोधी नींद एपनिया वाले लोगों में नींद की गुणवत्ता में सुधार पाया गया।

इसके अतिरिक्त, अध्ययन में पाया गया कि प्राणायाम का अभ्यास करने से खर्राटों और दिन की नींद कम हो जाती है, जिससे आराम की गुणवत्ता बेहतर को लाभ मिलता है।

एक नैदानिक ​​अध्ययन विश्वसनीय स्रोतो के अनुसार, भ्रामरी प्राणायाम के रूप में जाने जानी वाली एक क्रिया को 5 मिनट के लिए अभ्यास करने पर श्वास और हृदय गति को धीमा करने के लिए दिखाया गया था। यह आपके शरीर को नींद के लिए शांत करने में मदद कर सकता है।

(यह भी पढ़े- Piles / Bawaseer Ka Operation Kaise Hota Hai [All in 1 Full Guide])

3. प्राणायाम के फायदे माइंडफुलनेस को बढ़ाते है : (Pranayama Benefits For Mindfulness in Hindi)

2017 के एक अध्ययन के अनुसार प्राणायाम का अभ्यास करने वाले छात्रों ने उन लोगों की तुलना में उच्च स्तर की मानसिकता प्रदर्शित की। वही छात्रों ने भावनात्मक विनियमन के बेहतर स्तर भी दिखाए। यह प्राणायाम के शांत प्रभाव के साथ जुड़ा हुआ था, जो आपकी क्षमता को अधिक दिमाग लगाने का समर्थन करता है।

हम में से कई व्यक्तियों के लिए, साँस लेना स्वचालित होता है, हम इसे बिना सोचे समझे ज्यादा कर देते हैं। लेकिन प्राणायाम के दौरान, आपको अपनी सांस लेने और यह कैसा महसूस होता है, इसके बारे में पता होना चाहिए।

आप अतीत या भविष्य के बजाय वर्तमान क्षण पर ध्यान केंद्रित करने का अभ्यास करते हैं। इसे माइंडफुलनेस के रूप में जाना जाता है।

शोधकर्ताओं ने यह भी उल्लेख किया कि प्राणायाम कार्बन डाइऑक्साइड को हटाने में मदद करता है और ऑक्सीजन एकाग्रता को बढ़ाता है, जो मस्तिष्क की कोशिकाओं को ईंधन देता है। यह ध्यान और एकाग्रता में सुधार करके माइंडफुलनेस में योगदान दे सकता है।

प्राणायाम क्या है, लाभ, प्रकार और आसन - Pranayam karne ka tarika, fayde, prakar
प्राणायाम क्या है, फायदे और इसके प्रकार (Pranayam Kya Hai, Fayde Aur Iske Prakar)

4. प्राणायाम के फायदे हाई ब्लड प्रेशर को कम करते है : (Pranayama Benefits For High Blood Pressure in Hindi)

हाई ब्लड प्रेशर या उच्च रक्त तब होता है जब आपका रक्त अस्वास्थ्यकर (Unhealthy) पर पहुंच जाता है। यह कुछ संभावित गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों जैसे हृदय रोग और स्ट्रोक के लिए जोखिम को बढ़ाता है।

हाई ब्लड प्रेशर के लिए तनाव एक प्रमुख जोखिम का कारक है, प्राणायाम इसेमें विश्राम को बढ़ावा देकर इस जोखिम को कम करने में मदद करता है।

2014 के अध्ययन में हाई ब्लड प्रेशर या उच्च रक्त वाले प्रतिभागियों को 6 सप्ताह के लिए एंटीहाइपरटेंसिव ड्रग्स दवाइयां दी गई और आधे प्रतिभागियों को 6 सप्ताह के लिए प्राणायाम प्रशिक्षण दिया गया।

अध्ययन के नतीजों के अनुसार, जिन लोगो को प्राणायाम प्रशिक्षण दिया गया उस समूह ने ब्लड प्रेशर में अधिक कमी का अनुभव किया।

अध्यन के लेखकों के अनुसार, जब आप अपनी सांस लेने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो यह आपके तंत्रिका तंत्र को शांत करने में मदद करता है। यह बदले में,आपके तनाव की प्रतिक्रिया और हाई ब्लड प्रेशर के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है।

(यह भी पढ़े- ग्रीन टी के फायदे, बनाने की विधि और नुकसान [20 Amazing Green Tea Benefits In Hindi])

5. प्राणायाम के फायदे फेफड़ों के कार्य में सुधार करते है : (Pranayama Benefits For Lung Function in Hindi)

एक 2019 के अध्ययन अनुसार प्रति दिन 1 घंटे के लिए प्राणायाम का अभ्यास करने से 6 सप्ताह फेफड़े के कार्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकते हैं। फुफ्फुसीय परीक्षण के परिणामों के अनुसार, जो लोग प्राणायामो का अभ्यास कर रहे थे उन्होंने फेफड़े के कार्य के कई मापदंडों में सुधार किया।

अध्ययन के लेखकों के अनुसार, प्राणायाम फेफड़े की कई स्थितियों के लिए एक उपयोगी उपकरण हो सकता है जो फेफड़े को मजबूत करने में मदद कर सकता है।

साँस लेने के व्यायाम के रूप में, प्राणायाम आपके फेफड़ों को मजबूत कर सकता है।

6. प्राणायाम के फायदे मस्तिष्क की कार्यक्षमता को बढ़ाते है : (Pranayama Benefits For Brain in Hindi)

प्राणायाम आपके फेफड़ों को लाभ तो पहुचाते ही है, परन्तु क्या आपको यब भी पता है की यह आपके मस्तिष्क की कार्यक्षमता को भी बढ़ाता है।

2013 के अध्ययन में विश्वसनीय स्रोतो में पाया गया कि 12 सप्ताह की धीमी या तेज प्राणायाम से कार्यकारिणी में सुधार हुआ है – जिसमें आपकी कामकाजी स्मृति, संज्ञानात्मक लचीलापन, मस्तिष्क की कार्यक्षमता और तर्क कौशल शामिल हैं।

अध्ययन में यह भी मिला कि प्राणायाम में आपके डिप्रेशन व तनाव के कथित स्तर और आपकी प्रतिक्रिया के समय को बेहतरीन बनाने की क्षमता है। एवं अन्य अध्ययनो में यह भी मिला कि प्राणायाम आपकी स्मृति को बेहतर बनाने से भी जुड़ा हुआ था।

शोधकर्ताओं के अनुसार, ये लाभ प्राणायाम के तनाव कम करने वाले प्रभावों के कारण हैं। बढ़े हुए ऑक्सीजन की वृद्धि, जो मस्तिष्क की कोशिकाओं को सक्रिय करती है।

(यह भी पढ़े- Noni Juice Benefits in Hindi [13 Amazing Noni Juice Ke Fayde Aur Nuksan])

अन्य प्राणायाम के फायदे और लाभ (Pranayama Ke Fayde in Hindi):

  1. प्राणायाम का अभ्यास आपके तनाव, अस्थमा और हकलाने या रुक रुक कर बोलना संबंधित विकारों को दूर करता है।
  2. अवसाद का प्राणायाम से भी इलाज किया जा सकता है ।
  3. प्राणायाम करने से मन स्थिर और इच्छाशक्ति दृढ़ होती है।
  4. इसके अलावा नियमित प्राणायाम करने से किसी को लंबी जीवन की प्राप्ति मिलती है।
  5. प्राणायाम करने से आपके शरीर में महत्वपूर्ण ऊर्जा बढ़ती है।
  6. अगर आपके पास अवरुद्ध नाड़ी है तो प्राणायाम उसे खोलता है।
  7. प्राणायाम मन और स्वास्थ्य को स्पष्टता प्रदान करता है।
  8. प्राणायाम करने से शरीर, मन और आत्मा में सामंजस्य बना रहता है।

प्राणायाम के प्रकार (Types Of Pranayama in Hindi):

आप यहाँ से इन प्राणायाम पर क्लिक कर के इनके बारे में पढ़ सकते है।

प्राणायाम करने में क्या सावधानियां रखी जानी चाहिए या प्राणायाम किसे करना है और कैसे नहीं करना चाहिए :

प्राणायाम करने से पहले सावधानियां (Surya Bhedana Pranayama Me Kya Savdhani Barte in Hindi) :

  • प्राणायाम करने पर अगर आपको चक्कर आने लगे हैं या सांस लेने में दिक्कत हो रही है, अधिक पसीना आने या अंधकार का अहसास हो तो तुरंत प्राणायाम करना बंद कर दें और एक अच्छी हवादार जगह पर बैठने के लिए जाए, और सामान्य रूप से सांस लेते रहे। दोबारा प्राणायाम करने की कोशिश न करें।
  • गर्भवती महिलाओं को प्राणायाम करने से बचना चाहिए।
  • 12 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए प्राणायाम करना करने से बचना चाहिए।
  • जिन लोगो को अस्थमा, या अन्य श्वसन सम्बन्धी समस्याए है उन लोगों को प्राणायाम करने से बचना चाहिए।
  • यह हृदय रोग, कैंसर आदि गंभीर बीमारियों है उन लोगों को लिए प्राणायाम उपयुक्त नहीं है।
  • योग्य योग गुरु की देखरेख में अच्छी तरह शिख कर ही किया जाना चाहिए।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की प्राणायाम क्या है, फायदे और इसके प्रकार (Pranayam Kya Hai, Fayde Aur Iske Prakar) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख प्राणायाम क्या है, फायदे और इसके प्रकार (Pranayam Kya Hai, Fayde Aur Iske Prakar) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी प्राणायाम क्या है, फायदे और इसके प्रकार (Pranayam Kya Hai, Fayde Aur Iske Prakar) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई प्राणायाम क्या है, फायदे और इसके प्रकार (Pranayam Kya Hai, Fayde Aur Iske Prakar) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी प्राणायाम क्या है, फायदे और इसके प्रकार (Pranayam Kya Hai, Fayde Aur Iske Prakar) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here