पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज [11 Effective Acidity Ka Gharelu Upchar & Ilaj]

Spread the love

पेट में गैस का घरेलु उपचार और इलाज (Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj) : क्या आपको पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज के बारे पता है, अगर नहीं तो यहाँ हमने विस्तार में बताया है की पेट में एसिडिटी के लिए घरेलु उपचार और इलाज कैसे होता है, और पेट में एसिडिटी और गैस का घरेलु उपचार क्या होते है।

इसी लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, जिसे पढ़ने के बाद आपको यह ज्ञात हो जाएगा की पेट में एसिडिटी का घरेलु इलाज और उपचार कैसे होता है, तो चलिए शुरू करते है।

एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज :

पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज : (Acidity Ka Gharelu Upchar Aur ilaj)

पेट में जलन या पेट फूलना न केवल शर्मनाक है, बल्कि यह गंभीर परेशानी का कारण भी हो सकता है। यह अक्सर ऐंठन, भारीपन, सूजन और नाराज़गी का परिणाम देता है। आपके रोजमर्रा के खाने के विकल्पों पर बहुत कुछ निर्भर करता है। कार्ब्स या शर्करा वाले फलों के रस से भरपूर आहार गैस और ब्लोटिंग का स्रोत हो सकता है।

लेकिन अच्छी खबर यह है कि आपके किचन कैबिनेट में कई चीजें आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण हो सकती हैं, जो आपके गैस या एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज के लिए प्राकृतिक उपचार हो सकती हैं। (यह भी पढ़े- पेट में गैस की आयुर्वेदिक दवा और इलाज [Ayurvedic Medicine And Treatment For Stomach Gas in Hindi])

पेट में गैसें क्यों बनती हैं? :

गैस आमतौर पर पाचन तंत्र में इकट्ठा होती हैं जो पीने या खाने के दौरान हवा को निगलने के कारण होती हैं। इसके अलावा, यह तब हो सकता है जब मीथेन, हाइड्रोजन और कार्बन डाइऑक्साइड जैसी गैसें पेट में जमा हो जाती हैं।

एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज – Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj in Hindi
पेट में गैस का घरेलु उपचार और इलाज (Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj)

कितने समय तक गैस दर्द रह सकता है :

24 घंटे से अधिक समय तक रहने वाले गैस के दर्द की जांच एक डॉक्टर द्वारा की जानी चाहिए।

ब्लोटिंग और गैस आम समस्या है एवं आमतौर पर गंभीर चिंता का कारण नहीं होता है। हालांकि, यदि आप नियमित रूप से एसिडिटी से पीड़ित हैं, तो यह हार्मोनल असंतुलन या लैक्टोज असहिष्णुता जैसे कुछ अंतर्निहित विकार का संकेत हो सकता है।

गैस के दर्द का इलाज करने के लिए घरेलू उपचारों का सहारा लेना अच्छा हो सकता है। इसके अलावा, आहार और जीवनशैली में बदलाव पर विचार करें जो समस्या को खत्म करने में मदद कर सकता है। (यह भी पढ़े- ओमेगा 3 के फायदे, स्रोत और नुकसान [17 Amazing Omega 3 Benefits in Hindi])

कैसे पेट की गैस/एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज करे :

ज्यादातर लोग अक्सर यह जानना चाहते है कि घर पर बैठे कैसे एसिडिटी का घरेलु उपचार किया जाए या फूला हुआ पेट कैसे सही किया जाए। तो यहाँ निचे हमने आपके लिए कुछ उपयोगी गैस्ट्रिक समस्या का इलाज / एसिडिटी का घरेलु उपचार (Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj) के बारे में विस्तार से बताया हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए :

1. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज एप्पल साइडर सिरका द्वारा :

कच्चा एप्पल (सेब) साइडर सिरका नाराज़गी और गैस के लक्षणों को संशोधित करने में मदद कर सकता है क्योंकि यह पेट के एसिड को असंतुलित करके क्षारीयता को प्रोत्साहित करता है।

यह पाचन एंजाइमों के उत्पादन का समर्थन कर सकता है और इस प्रकार गैस से त्वरित राहत में योगदान देता है। तो चलिए जानते है एप्पल साइडर सिरका द्वारा एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे। (यह भी पढ़े- एलो वेरा जूस के फायदे और नुकसान [13 Amazing Aloe Vera Juice Benefits in Hindi])

एप्पल साइडर सिरका द्वारा एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

एक कप पानी या चाय में कच्चे सेब साइडर सिरका का एक बड़ा चम्मच जल में मिश्रित करें और इसे रोजाना भोजन से पहले गैस्ट्रिक जटिलताओं से आराम पाने के लिए लें। स्वाद बढ़ाने के लिए आप एक चम्मच शहद भी मिला सकते हैं।

2. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज बेकिंग सोडा द्वारा :

बेकिंग सोडा में गैस की परेशानियों से लड़ने की क्षमता इसके घटक, सोडियम बाइकार्बोनेट में निहित है जो एक शोषक एंटासिड है और पेट की सूजन को कम करने में मदद करता है जो पेट की सूजन और गैस को रोकने में मदद करता है।

हमारे अग्न्याशय, वास्तव में, हमारी आंतों की सुरक्षा के लिए स्वाभाविक रूप से सोडियम बाइकार्बोनेट का उत्पादन करते हैं। तो चलिए जानते है बेकिंग सोडा द्वारा एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे। (यह भी पढ़े- Thuja Homeopathic Medicine Uses & Side Effects in Hindi [Full Guide])

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

एक कप गर्म पानी में एक चम्मच या बेकिंग सोडा मिलाएं। आप कुछ नींबू का रस भी साथ में जोड़ सकते हैं। अपने भोजन के बाद या पेट में गैस के अतिरिक्त निर्माण को कम करने के लिए रोजाना कम से कम दो बार इस घोल को पियें।

3. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज अदरक द्वारा :

अदरक एंटीऑक्सिडेंट और रासायनिक के साथ जाम से भरा होता है जो औषधीय लाभ प्रदान करता है। यह एक प्राकृतिक कैरमिनिटिव (पेट फूलने से राहत देने वाली चीजें) की तरह काम करता है।

एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज – Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj in Hindi
पेट में गैस का घरेलु उपचार और इलाज (Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj)

इसके फेनोलिक यौगिक गैस्ट्रिक संकुचन को कम करने और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल जलन को कम करने में सहायता कर सकते हैं। तो चलिए जानते है अदरक द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे।

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

एक इंच ताजा अदरक को पीसकर एक कप गर्म पानी में मिलाएं। इसे लगभग 5 मिनट तक भीगने दें। गर्म होने पर इस मिश्रण को छानकर पिएं। स्वाद के लिए आप शहद या निम्बू के रस का उपयोग भी कर सकते है। गैस से राहत पाने के लिए इसे रोजाना दो से तीन बार पिएं।

4. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज सौंफ के बीज द्वारा :

सौंफ के बीज पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार करने के लिए एक उत्कृष्ट प्राकृतिक उपचार में से एक हैं। ज्यादातर लोग भोजन के बाद सौंफ के बीज लेना पसंद करते हैं क्योंकि यह पाचन में सहायता करने के लिए जाना जाता है।

सौंफ के बीजों में एस्ट्रैगोल, एंथोले और फेनचोन जैसे तेल होते हैं जो पौधे के एंटी इन्फ्लामेंट्री और एंटीस्पास्मोडिक गुणों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

ये वाष्पशील तेल, गैस्ट्रिक एंजाइम जारी करके पाचन को शुरू कर सकते हैं जिससे अपच, कब्ज और सूजन को रोका जा सकता है। तो चलिए जानते है सौंफ द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे। (यह भी पढ़े- Haldi Ke Fayde Aur Nuksan [26 Amazing Turmeric Benefits in Hindi])

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

सौंफ के बीज से तैयार चाय गैस्ट्रिक मुद्दों के इलाज में सबसे प्रभावी हो सकती है। बस सौंफ के बीज को गर्म पानी के एक मग में मिलाएं। 10 मिनट के बाद इसे छान लें और इसे गर्म करके पीएं। स्वाद बढ़ाने के लिए आप इसमें शहद मिला सकते हैं। अपने पाचन तंत्र के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए हर दिन कम से कम दो बार सौंफ की चाय पिएं।

5. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज जीरा पानी द्वारा :

एक गिलास जीरे के पानी का सेवन करके अपने दिन की शुरुआत करना आपके सभी पेट के संकटों के लिए गेम चेंजर हो सकता है।

जीरा एंटीसेप्टिक और जीवाणुरोधी गुण होने के साथ-साथ एंटी-इंफ्लेमेटरी एंटीऑक्सिडेंट में उच्च होता है जो विभिन्न पेट के विकारों को हल करने, पाचन तंत्र को मजबूत करने, सूजन और कब्ज को दूर करने में सहायता कर सकता है। तो चलिए जानते है जीरा पानी द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे।

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

लगभग 10 से 12 मिनट के लिए थोड़े से पानी में एक बड़ा चम्मच जीरा उबालें। तरल को ठंडा होने दें। छाने और सुबह में रोजाना खाली पेट इसका सेवन करे। आप भोजन के बाद भी इस मिश्रण को पी सकते हैं। (यह भी पढ़े- Amla Ke Fayde Aur Nuksan [21 Amazing Amla Powder/Churna Benefits in Hindi])

6. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज हल्दी द्वारा :

हल्दी में स्टेरोल्स, पॉलीफेनोल्स, पॉलीसेकेराइड्स के उच्च स्तर होते हैं और इस तरह यह इन्फ्लामेंट्री पाचन स्थितियों को ठीक करने में एक सराहनीय भूमिका निभा सकता है।

एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज – Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj in Hindi
पेट में गैस का घरेलु उपचार और इलाज (Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj)

इसमें करक्यूमिन जैसे एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी यौगिक भी होते हैं जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल परेशानियों को हल करने में मदद कर सकते हैं। तो चलिए जानते है हल्दी पानी द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे।

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

हल्दी को मसाले के रूप में अपने दैनिक भोजन में शामिल करें। आप हल्दी की खुराक भी ले सकते हैं। हल्दी पाउडर की सामान्य खुराक हर दिन लगभग 400 से 600 मिलीग्राम है।

7. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज कैमोमाइल चाय द्वारा :

कैमोमाइल में कुछ आवश्यक तेल होते हैं जो विशेष रूप से पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद होते हैं। जादुई जड़ी बूटी आंतों की नसों और मांसपेशियों को आराम करने में मदद कर सकती है और इस प्रकार जठरांत्र पीड़ा को शांत करने में भी एक आवश्यक भूमिका निभाती है। तो चलिए जानते है कैमोमाइल चाय द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे।

(यह भी पढ़े- Tulsi Ke Fayde Aur Nuksan [20 Amazing Holy Basil Benefits in Hindi])

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

रोजाना कम से कम दो कप कैमोमाइल चाय का सेवन करना, पेट के दर्द से राहत दिलाने और गैस को खत्म करने के लिए चमत्कारिक काम कर सकता है। गुनगुने पानी में एक चम्मच कैमोमाइल हर्ब मिलाएं। इसे लगभग 15 मिनट तक तर रहने दें। छाने और मिश्रण में कुछ शहद जोड़े और इसका गर्म ही सेवन करे।

8. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज अजवाइन द्वारा :

अजवाइन (कैरम बीज) एक मूल्यवान एसिडिटी का घरेलु उपचार हो सकता है। यह थाइमोल नामक एक घटक का आनंद प्रदान करवाता है जो गैस्ट्रिक रस को स्रावित करने में मदद करता है जिससे पाचन की सुविधा अच्छी होती है और गैस बनना बंद हो जाता है। तो चलिए जानते है अजवाइन द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे।

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

एक चम्मच अजवाइन पाउडर में एक चम्मच अदरक पाउडर और एक चुटकी काला नमक मिलाएं। पेट के गैस और पेट फूलने में सुधार के लिए इस मिश्रण को रोजाना एक कप गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। आप गैस्ट्राइटिस को ठीक करने के लिए भोजन के बाद थोड़े से काले नमक के साथ कुछ अजवाइन भी चबा सकते हैं।  

9. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज हींग द्वारा :

हींग में एंटीफ्लैटुलेंट, रोगाणुरोधी और एंटी इन्फ्लामेंट्री गुण होते हैं जो आंतों की गैस, पेट फूलना और इर्रीटेबल आंत्र सिंड्रोम जैसी पाचन समस्याओं से आराम दिलाने में मदद कर सकते हैं।

यह एक अच्छा रेचक भी है और इस प्रकार यह कब्ज की समस्या को भी दूर कर सकता है। तो चलिए जानते है हींग द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे। (यह भी पढ़े- Shatavari Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan [25 Amazing Shatavari Benefits in Hindi])

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

थोड़े से गुनगुने पानी में हींग के टुकड़े या लगभग आधा चम्मच हींग पाउडर घोल लें। गैस से जल्दी राहत के लिए इस मिश्रण को हर दिन कम से कम एक बार पिएं।

10. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज दही द्वारा :

दही एक प्राकृतिक प्रोबायोटिक है जिसमें बिफिडोबैक्टीरियम और लैक्टोबैसिलस होते हैं, जो हमारे आंत के स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार अच्छे बैक्टीरिया होते हैं। वे हानिकारक जीवाणुओं से निपटते हैं और गैसी निराशा को रोकने में मदद करते हैं। तो चलिए जानते है दही द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे।

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

गैस्ट्राइटिस के लक्षणों को शांत करने के लिए हर दिन कम से कम एक या दो कटोरे सादे दही का सेवन करें। अतिरिक्त स्वाद के लिए आप इसमें सिका हुआ जीरा पाउडर भी मिला सकते है।

11. पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज त्रिफला द्वारा :

त्रिफला तिन जड़ी बूटियों का एक संयोजन है जिसमे विभीतकी, आंवला और हरड़ शामिल है। इस सूत्रीकरण का उपयोग कई बीमारियों के उपचार की पहली पंक्ति के रूप में किया जाता है क्योंकि इसकी क्रिया एक रेचक (आंत्र आंदोलन को नियंत्रित करती है), कायाकल्प और डिटॉक्सीफाइंग एजेंट के रूप में होती है।

पेट की गैस के इलाज के लिए त्रिफला और त्रिकटु का काढ़ा (पिप्पली , शुंठी और काली मिर्च का मिश्रण) दिन में दो बार लिया जाता है। तो अगर आप पेट में गैस की आयुर्वेदिक दवा खोज रहे है तो आप अपने आयुर्वेदिक चिकित्सक देखरेख और राय ले कर इस त्रिफला का उपयोग कर सकते है। तो चलिए जानते है त्रिफला द्वारा पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार कैसे करे।

एसिडिटी का घरेलु इलाज कैसे इस्तेमाल करे :

एक कप उबलते पानी में आधा चम्मच त्रिफला पाउडर मिलाएं और इसे लगभग 10 मिनट के लिए भिगो दें। रात को बिस्तर पर झपकी मारने से पहले इस मिश्रण को पी लें। आप इस उपाय को रोज कर सकते हैं।

तो यहाँ ऊपर आपने जाना एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज (Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj) क्या होते है, चलिए अब फंसे हुए गैस से छुटकारा पाने के अतिरिक्त उपाय के बारे में भी जानते है –

पेट में फंसे हुए गैस से छुटकारा पाने के अतिरिक्त उपाय :

पेट में फंसी हुई गैस को दूर करने के लिए कुछ अन्य उपाय निम्नलिखित हैं जो आपकी पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज करने में सहायक हो सकते है :

  • व्यायाम या शारीरिक गतिविधि फंसी गैस को बाहर निकालने में मदद कर सकती है। भोजन के बाद शैर पर घुमने जाये, नियमित जॉगिंग, एवं पवनमुक्तासन योगा पोज़ करने से गैस को बाहर निकालने में मदद मिल सकती है।
  • इसे रोक कर रखने के बजाय गैस को छोड़ना सबसे अच्छा है। और मल को पास करने से आंतों में फंसी गैस को मुक्त करने में मदद मिल सकती है।
  • सौंफ और पुदीना से बना हर्बल चाय पाचन को बढ़ावा दे सकता है और गैस के दर्द को कम कर सकता है।
  • प्रभावित क्षेत्र पर हीटिंग पैड रखने से कुछ सीमित गैस को छोड़ने में यह हीटिंग पैड मददगार साबित हो सकता है।

पेट की गैस/एसिडिटी को कैसे रोकें :

गैस और सूजन को रोकने के कुछ तरीकों में निम्नलिखित युक्तियां हो सकती हैं, जिन्हें आप नही जानते होंगे :

  • अपनी राईट साइड को कभी भी उपर की दिशा में रख कर न सोये हमेशा अपनी दाई तरफ ऊपर की दिशा की ओर रख कर सोए।
  • धीरे-धीरे खाएं और उचित पाचन में सहायता करने के लिए भोजन करते समय अपने भोजन को चबाने पर ध्यान केंद्रित करें। चलते समय या बहुत जल्दी खाने से आपको गैस से संबंधित शिकायतों के कारण भोजन के साथ-साथ अधिशेष हवा भी मिल सकती है जो गैस का कारण बनती है।
  • च्युइंग गम से बचना चाहिए क्योंकि यह हवा निगलने की संभावना को बढ़ा सकता है जिससे गैस दर्द हो सकता है। इसके अलावा, गोंद में कृत्रिम मिठास हो सकती है जो सूजन और गैस को ट्रिगर कर सकती है।
  • बोतल से सीधे पानी पीने के बजाय एक गिलास से पानी पिए, क्योंकि यह शरीर में अधिक हवा ग्रहण करने का कारण बन सकता है जिससे गैस बनती है।
  • कार्बोनेटेड पेय जैसे सोडा और स्पार्कलिंग पानी के सेवन से बचें क्योंकि ये पेट में गैस पैदा कर सकते हैं।
  • यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो आदत बदले और छोड़ें। धूम्रपान गैस और सूजन को जन्म देने वाले पाचन तंत्र में अतिरिक्त हवा का कारण बन सकता है।
  • कुछ खाद्य पदार्थ फंसे गैस का संकेत दे सकते हैं। अपने ट्रिगर्स खोजें (गैस पैदा करने वाले प्रदार्थ) और अपने आहार से समस्याग्रस्त खाद्य पदार्थों को त्यागें।

एसिडिटी का घरेलु उपचार करने के लिए आपको क्या खाने से बचना चाहिए? : Acidity Ka Gharelu Upchar Ke Liye Kya Nahi Khana Chahiye?

जब आप गैस/एसिडिटी से पीड़ित है, तो आपको अपने खाने में इन सभी चीजो को खाने से बचना चाहिए :

  • दुग्ध उत्पाद
  • गोभी, ब्रोकोली और फूलगोभी जैसी सब्जियां
  • तले हुए खाद्य पदार्थ
  • प्याज और लहसुन
  • मसालेदार भोजन
  • उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ
  • दाल और बीन्स जैसे फलियां
  • सूखा आलूबुखारा

यह भी पढ़े-

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख पेट में एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज (Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी पेट में गैस का घरेलु उपचार और इलाज (Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई पेट में गैस का घरेलु उपचार और इलाज (Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी पेट में गैस / एसिडिटी का घरेलु उपचार और इलाज (Pet Me Acidity Ka Gharelu Upchar Aur Ilaj) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a Comment