गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi)

Show Some Love By Sharing!

गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi) :  आयुर्वेद में, गुर्दे की पथरी (मुत्रशमी) के प्रबंधन में सर्जिकल प्रबंधन सहित कई अलग-अलग दृष्टिकोण शामिल हैं। हालांकि, सर्जिकल या आक्रामक तकनीकों के लिए आगे बढ़ने से पहले, आयुर्वेद की कुछ मौखिक दवाएं हैं, जिनमें दर्द को कम करने के लिए कई विशिष्ट औषधीय गुण शामिल होते हैं।

साथ ही, आयुर्वेद भी स्वस्थ आहार और जीवन शैली में परिवर्तन करने के लिए सलाह देता है, जो आपके लिए लाभदायक और कारगर साबित होंगी। इस लेख में हमने गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज के बारे में विस्तार से बताया है, जो आपके लक्षणों को काफी हद तक कम करने में मदद कर सकते है। हालाँकि यह एक पूर्ण इलाज नहीं है इसके लिए आपको अपने चिकित्सक से राय लेना अनिवार्य है, तो आइये जानते है:

गुर्दे की पथरी क्या है? (What is Kidney Stones in Hindi):

गुर्दे की पथरी मूत्र में पाए जाने वाले खनिजों और अपशिष्ट पदार्थों के क्रिस्टलीकरण के कारण बनती है। गुर्दा की पथरी पिनहेड के आकार की हो सकती है और मूत्र के माध्यम से किसी का ध्यान नहीं जा सकता है; या यह अंगूर के आकार तक बड़ा हो सकता है, और मूत्र मार्ग को बाधित कर सकता है, जिससे तीव्र दर्द और रक्तस्राव हो सकता है, साथ ही मूत्र के प्रवाह को अवरुद्ध कर सकता है।

गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज, घरेलु उपाय, नुस्खे और उपचार - pathri ka ayurvedic ilaaj (ayurvedic treatment of Kidney stones in hindi)
गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi)

आयुर्वेद में, इसे व्रुक्काअशमारी (वृक्क का अर्थ गुर्दा और अशमारी का अर्थ है पत्थर) के रूप में जाना जाता है। आयुर्वेद में, गुर्दे की पथरी के उपचार का प्रत्येक मामला अलग है क्योंकि अधिकतम प्रभावकारिता के लिए प्रत्येक रोगी के लिए दवाएं व्यक्तिगत होती हैं।

आयुर्वेद गुर्दे की पथरी को उनके रंग, कारण और उनके द्वारा उत्पन्न लक्षणों के आधार पर निम्नलिखित चार प्रकारों में वर्गीकृत करता है:

  • वाताशमरी
  • पित्तशामारी
  • कफशामरी
  • शुक्रशामरी

(यह भी पढ़े – हर्निया का घरेलू उपाय, इलाज और उपचार (12 Effective Home Remedies For Hernia in Hindi))

गुर्दे की पथरी होने का क्या कारण है? (What Causes Of Kidney Stones in Hindi):

सामान्य कारणों में सीधे सूर्य के प्रकाश में लंबे समय तक काम करना, अत्यधिक शारीरिक कार्य करना, मादक पेय, चाय और कॉफी का अत्यधिक सेवन, भारी, तैलीय, मीठा और पचने में मुश्किल भोजन या ताजी सब्जियों का कम सेवन, नमक, क्षारीय-उत्पादक शामिल हैं। और तो और भोजन, पानी, और मल और मूत्र त्यागने की इच्छा को दबाने से भी पथरी हो सकती है।

क्या होता है जब किडनी स्टोन तीव्र हो जाता है? (What Happens When Kidney Stones Become Acute?):

  • दर्द: यह गुर्दे के क्षेत्र में केवल एक कष्टदायी दर्द हो सकता है, जो रीढ़ की ओर और सभी जगह फैल सकता है।
  • जी मिचलाना।
  • सांस लेने में भारीपन।
  • बेचैनी।
  • फूला हुआ लगना।
  • बार-बार पेशाब आने की अनुभूति होना।
  • पेशाब करने में कठिनाई/पेशाब में दर्द होना।
  • बुखार और ठंड लगना आदि।

(यह भी पढ़े – बुखार कम करने के घरेलु उपाय, नुस्खे, तरीके और उपचार (10 Effective Home Remedies for Fever in Hindi))

गुर्दे की पथरी का मुकाबला कैसे करें? (How to Combat kidney Stones?):

गुर्दे की पथरी के आकार को हटाना या घटाना पथरी के आकार, स्थान और आपकी ताकत पर निर्भर करता है।

आयुर्वेद के अनुसार,

  • भोजन, निवारक उपायों और पर्याप्त पानी के सेवन से छोटे आकार की पथरी को हटाया जा सकता है।
  • आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां और दवाएं रेत के दाने से भी बड़ी पथरी को तोड़ सकती हैं।
  • उन्नत मामलों में, फ्लश थेरेपी या आक्रामक सर्जिकल तरीकों से बड़ी पथरी को हटाया जा सकता है।

गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज करने के लिए कुछ घरेलू उपाय (Some Home Remedies for Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi):

गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज, घरेलु उपाय, नुस्खे और उपचार - pathri ka ayurvedic ilaaj (ayurvedic treatment of Kidney stones in hindi)
गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi)

1.सही पियो:

जौ का पानी (सुबह और शाम), नींबू पानी, छाछ, नारियल पानी (सुबह), कद्दू का सूप, मीठे नीबू का रस (अधिक नहीं) 

2. गन्ने का सेवन करें:

  • हरी इलायची को थोड़े से गन्ने के रस में मिलाकर (दिन में दो बार खाली पेट)
  • तुलसी के बीज, गन्ने और दूध के साथ
  • जीरा, गन्ना, और शहद
  • सौंफ, धनिया, गन्ना और मिश्री

3. कुछ तरबूज खाएं (या पानी में बेहतर फल खाएं)।

4. खाने में आंवला पाउडर शामिल करें।

(यह भी पढ़े – 12 Hair Fall Reasons in Female in Hindi | महिलाओं में बालों के झड़ने का कारण, लक्षण और उपाय)

गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज करने के लिए आहार (Diet for Ayurvedic treatment of kidney stones in Hindi):

पुराना चावल, सफेद लौकी, पटोला (लौकी), टी अलाफला, ककड़ी, खजुर आदि सभी मुत्र विकार (मूत्र पथ से संबंधित रोग) में अच्छे होते हैं।

गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज, घरेलु उपाय, नुस्खे और उपचार - pathri ka ayurvedic ilaaj (ayurvedic treatment of Kidney stones in hindi)
गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi)

कुछ सब्जियां, कुछ अनाज, कुछ फल, नारियल पानी, नींबू का रस और छाछ का सेवन बढ़ाएं।

  • सब्जियों में आपके लिए अच्छे हैं: गाजर, करेला, आलू, मूली, कद्दू।
  • अनाज जो आपके लिए अच्छे हैं: जौ, मूंग दाल, हॉर्स ग्राम (कुलथी)।
  • फल जो आपके लिए अच्छे हैं: केला, नींबू, खुबानी, आलूबुखारा, सेब, बादाम।

कुछ सब्जियों, कुछ अनाज, कुछ फलों, कॉफी, काजू और चॉकलेट के सेवन से बचें।

डेयरी और उसके डेरिवेटिव, घी, अंडे, हरी सब्जियां, मांसाहारी खाद्य पदार्थों से बचें।

  • इन सब्जीयों के सेवन से बचे: बैगन, बीन्स, भिंडी, शिमला मिर्च, टमाटर, खीरा, पालक।
  • इन अनाज के सेवन से बचें: मैदा, जई का भोजन, चोकर।
  • इन फलो के सेवन से बचे: काले अंगूर, आंवला, कीवी, स्ट्रॉबेरी, चीकू।

(यह भी पढ़े – पेट की समस्या के लक्षण, दूर करने के उपाय और इलाज (All About Stomach Problems in Hindi))

गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज करने के लिए क्या करें और क्या न करें (Do’s and Don’ts for Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi):

  • पर्याप्त पानी पिएं, शराब का सेवन पूर्णतया बंद करदे।
  • समय पर खाएं
  • समय पर पेशाब करें, उसके आग्रह को कभी न रोके।
  • सुबह-सुबह गर्म पानी पीकर आंत की सफाई करें।
  • नियमित रूप से योग, ध्यान, प्राणायाम जैसी एक गतिहीन जीवन शैली जियें और व्यायाम का अभ्यास करें।
  • उच्च पानी सामग्री वाले फल खाएं।
  • जोरदार गतिविधियों से बचें।
  • दिन में सोने से बचें।

इन आयुर्वेदिक उपचारों का सामान्य रूप से पालन किया जा सकता है और यह आपके लिए फायदेमंद होगा। अनुकूलित उपचार योजना प्राप्त करने के लिए पूर्ण आयुर्वेदिक जांच कराने की सलाह दी जाती है। तो आज ही अपने नजदीकी आयुर्वेद चिकित्सक से संपर्क करें।

आशा है की इन सभी चीजो को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े-

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज और उपचार (Ayurvedic Treatment of Kidney Stones in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!
×