पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका और फायदे [Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) Steps And Benefits in Hindi]

0

पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi : वर्तमान समय में स्वस्थ रहने के लिहाज से, योग न केवल भारतीयों की बल्कि विदेशियों की भी पहली पसंद बन गया है। शरीर को बीमारियों और अन्य समस्याओं से बचाने के लिए प्राचीन शैली योग कुशल साबित हो सकता है।

योग किसी व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में सहायक होता है। योग और प्राणायाम के विषयों पर कई बार वैज्ञानिक शोध भी हुए हैं, जिनमें इन को लाभकारी पाया गया है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की पश्चिमोत्तानासन क्या है, पश्चिमोत्तानासन कैसे करते है और पश्चिमोत्तानासन के स्वास्थ्य लाभ एवं पश्चिमोत्तानासन के फायदे क्या होते है और पश्चिमोत्तानासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

Table Of Contents :

पश्चिमोत्तानासन योग क्या है? [What is Paschimottanasana Yoga (Seated Forward Bend Pose) in Hindi]:

इस योगासन में ऊपरी शरीर को आगे की ओर मोड़े। यह हठ योग से एक क्लासिक मुद्रा है, जो पूरे शरीर के सिर से लेकर एड़ी तक फैला हुआ है, इसलिए इसे पश्चिमोत्तानासन कहा जाता है।

पश्चिमोत्तानासन एक बैठकर आगे झुकने वाला योग आसन है, जिसमें ऊपरी शरीर आगे की तरफ मुड़ा हुआ होता है। यह आसन अष्टांग प्राथमिक श्रृंखला का हिस्सा है। और पद्मासन,  वज्रासन और सिद्धासन के साथ “शिव संहिता” में एक कुशल आसन के रूप में भी इसे उल्लेखित किया गया है। इस आसान का नाम पश्चिमोत्तानासन संस्कृत भाषा के तीन शब्दों से मिलकर बना है- पश्चिम + उत्ताना + आसन।

  • पश्चिम :- पश्चिम या पीछे
  • उतना :- तीव्र खिंचाव या सीधा
  • आसन :- आसन या मुद्रा

इसे अंग्रेजी में “सीटेड फॉरवर्ड बेंड पोज” भी कहा जाता है। यह हठ योग में एक क्लासिक मुद्रा है, जो पूरे शरीर से सिर से लेकर एड़ी तक फैला हुआ है, इसलिए इसे पश्चिमोत्तानासन कहा जाता है। इसके साथ ही यह आपके पिंडली से लेकर आपके हैमस्ट्रिंग (जांघों के पीछे) तक आपकी रीढ़ को एक अच्छा खिंचाव देता है। पश्चिमोत्तानासन के फायदे और लाभ इस लेख में बताये गये हैं जिन्हें जानकार आप हेरान हो जायेंगे।

योग हमारे जीवन में एक अमूल्य जड़ी बूटी के रूप में आया है। हालाँकि योग भारत में कई वर्षों से अभ्यास चला आ रहा है, लेकिन अब दुनिया भर में इसके महत्व को समझना शुरू हो गया है। स्वस्थ व्यक्ति के जीवन में योग का बहुत बड़ा योगदान है जैसे सूर्य नमस्कार करते समय शरीर को ब्रह्मांड से ऊर्जा मिलती है, वक्रासन से पेट की चर्बी घटती है और अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से श्वास संबंधी विकार दूर होते हैं। ठीक उसी तरह, पश्चिमोत्तानासन योग करने से मधुमेह और उच्च रक्तचाप में लाभ होता है, इसके अलावा पश्चिमोत्तानासन के अत्यधिक लाभ हैं जिनके बारे हम चर्चा करेंगे।

इस आसन का अभ्यास करते समय, शरीर के पिछले हिस्से यानी रीढ़ में खिंचाव होता है, इसलिए इस आसन को पश्चिमोत्तानासन कहा जाता है। यहाँ पस्चिम का अर्थ पश्चिम दिशा नहीं बल्कि शरीर का पिछला भाग है। (यह भी पढ़े – गैस के लिए योगा [Gas ke Liye Yoga (12 Effective Yoga For Gas Problem in Hindi])

इस आसन को महत्वपूर्ण और आवश्यक आसनों में से एक माना जाता है। इस आसन में रीढ़ की हड्डी लचीली बनती है। जिसके कारण कुंडलिनी जाग्रत करने में लाभ होता है। आध्यात्मिक दृष्टि से यह आसन अधिक महत्वपूर्ण है। रीढ़ की हड्डी के सभी विकारों जैसे कि पीठ दर्द, यकृत रोग, आंतों के रोग और गुर्दे के रोगों को ठीक करता है। पश्चिमोत्तानासन योगासन को सिरसाना के बाद ही दूसरे स्थान पर लिया गया है।

किसी भी आसन का अभ्यास शुरू करने से पहले, उसके सही तरीकों के बारे में जानकारी प्राप्त की जानी चाहिए, अन्यथा, हमें उस आसन का पूरा लाभ नहीं मिलता है। आइये जानते हैं कि पश्चिमोत्तानासन के फायदे और लाभों के साथ-साथ पश्चिमोत्तानासन को करने का सही तरीका क्या है।

पश्चिमोत्तानासन करने से पहले यह आसन करें [Perform This Asana Before Performing Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) in Hindi]:

आप अगर चाहे तो यहाँ निचे बताये गये योगासनों का अभ्यास पश्चिमोत्तानासन करने से पहले कर सकते हैं।

  • अर्ध बद्ध पद्मोत्तासन योग (Ardha Baddha Padmottanasana or Half Bound Lotus Standing Forward Bend)
  • उत्कटासन योग (Utkatasana or Chair Pose)
  • वीरभद्रासन योग (Virabhadrasana or Warrior Pose)
  • दंडासन योग (Dandasana or Staff Pose)

पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका [Right Technique To Do Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) in Hindi]:

किसी भी आसन को करने के लिए आपको एक अच्छी जगह चुन नी चाहिए जहाँ आप योग का अभ्यास करने में बिल्कुल सहज महसूस करते हो, खुद को सहज महसूस करवाना योग का प्रारंभिक चरण है आइये जानते है पश्चिमोत्तानासन कैसे करे-

पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका और फायदे – Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) Steps and Benefits in Hindi
पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi

पश्चिमोत्तानासन कैसे करे [How To Do Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) in Hindi]:

यहाँ निचे हमने पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका विस्तार में बताया है जिसे आप ध्यान से पढ़े –

  1. अपने पैरों को सामने फैलाकर बैठें, रीढ़ को सीधा रखें, और अंगुलिया तनी हुयी होनी चाहिए।
  2. सांस लेते हुए दोनों हाथों को सिर के ऊपर उठाएं और खींचे।
  3. अब साँस छोड़ते हुए, अपने नितम्ब के जोड़ से आगे झुकने का प्रयास करे अब जहां तक आपसे संभव हो अपने शरीर को आगे की और झुकाए और अपनी दृष्टि को पंजो की ओर केन्द्रित करे।
  4. आखिरी स्टेप में आपको अपने दोनों हाथों को पैरों के तलवों और नाक को घुटनों तक चुने का प्रयास करे, जितना आप से हो सके उतना की खिचाव डाले।
  5. शुरू में 5 सेकंड तक ऐसा करें और धीरे-धीरे तब तक आसन में बने रहने की कोशिश करें जब तक आप सहज महसूस न कर लें।
  6. साँस लें और अपनी शुरुवाती स्थिति में लौट जाए।
  7. यहाँ एक चक्र पूरा हुआ। शुरुवात में 30-60 सेकंड के लिए करें। स्वास्थ्य लाभ के लिए हर दिन 3 – 5 मिनट पर्याप्त है।

(यह भी पढ़े – बालायाम करने का तरीका और फायदे [Balayam (Wind-Relieving Pose) Steps And Benefits in Hindi])

पश्चिमोत्तानासन योग के फायदे और लाभ [Benefits Of Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) in Hindi]:

पश्चिमोत्तानासन के लाभ से कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है, आइये जानतें है की पश्चिमोत्तानासन के फायदे (Benefits Of Paschimottanasana Yoga in Hindi) क्या हैं-

  1. योग ग्रंथों में कहा गया है कि पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana) मोटापा कम करता है, और कई बीमारियों का इलाज करता है।
  2. इस आसन की मदद से पेट की भी मालिश हो जाती है।
  3. पश्चिमोत्तानासन योग (Paschimottanasana) के अभ्यास से रजोनिवृत्ति और मासिक धर्म की परेशानी के लक्षणों को दूर करने में मदद मिलती है।
  4. यह योग जांघो, पीठ और नितम्बो (Hips) की मांसपेशियों के लिए एक सर्वश्रेठ व्यायाम है।
  5. इस किर्या के अभ्यास से लिवर, गर्भाशय, किडनी और अंडाशय की कार्यक्षमता में सुधार होता है।
  6. इससे पाचन अंगों के प्रदर्शन में सुधार होता है।
  7. यह व्यायाम हाई बीपी, बांझपन, अनिद्रा और साइनस के लिए सर्वश्रेठ घरेलु उपाय है।
  8. इस योग के अभ्यास से यह मस्तिष्क को शांत करता है, डिप्रेशन को दूर करता है और तनाव से राहत दिलाता है।
  9. पश्चिमोत्तानासन योग (Paschimottanasana) रीढ़ को अधिक लचीला बनाता है और आपके शरीर को बेहतर बनाने में भी मदद करता है। यह आसन पीठ और कंधों को मजबूत बनाता है और उन्हें लचीला बनाता है। और इसके साथ ही यह पीठ के निचले हिस्से के दर्द को कम करने में मदद करता है। यह आसन पूरे शरीर का विस्तार करता है और रीढ़ को मजबूत बनाता है।
  10. यह आसन उच्च रक्तचाप को ठीक करने में मदद करता है, इसके अलावा यह अस्थमा, और फ्लैट पैरों आदि की समस्या में मदद करता है, यह पैरों में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है।
  11. यह योग करने से आपकी गर्दन की मांसपेशियों पर खिंचाव पड़ता है जो गर्दन की मांसपेशियों को आराम देता है। इस तरह, आप मांसपेशियों को स्वस्थ रखने के लिए पश्चिमोत्तानासन योग के फायदे प्राप्त कर सकते हैं।
  12. जिन लोगों को मधुमेह है, उनके लिए पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana) एक रामबाण औषधि की तरह काम करता है और इस बीमारी के लक्षणों को दूर करने में मदद करता है।
  13. प्रसव के बाद, रोजाना इस योग का अभ्यास करने से महिलाओं का शरीर अपने प्रारंभिक आकार को फिर से पा लेता है और पेट और कूल्हों (Hips) में आई अत्यधिक चर्बी को कम करता है। इसके अलावा इस आसन को करने से मासिक धर्म भी ठीक से होता है।
  14. नाभि परिहार (नैवेल अवोइडेन्स) की स्थिति में इस आसन को करने से बहुत लाभ होता है।
  15. पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana) करने से शरीर में रक्त का प्रवाह सुचारू रूप से होता है। परिणामस्वरूप, शरीर की कमजोरी दूर हो जाती है और शरीर ऊर्जावान और स्वस्थ हो जाता है।
  16. अगर आपको नींद की समस्या है, तो आप इस आसन का अभ्यास करके नींद की समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।
  17. ऐसा करने से बौनापन दूर होता है और यह बवासीर और अन्य बीमारियों में भी फायदेमंद है।
  18. अगर आपको अपने पेट की चर्बी कम करनी है, तो इस आसन का नियमित अभ्यास करें। यह पेट को कम करने के साथ-साथ कमर को भी पतला करने में मदद करता है।
  19. यह मुद्रा एड़ी से गर्दन तक गहरी खिंचाव प्रदान करती है। जिससे यह तंत्रिका तंत्र और भावनाओं को शांत करता है और प्रजनन और मूत्र प्रणाली को उत्तेजित करता है।
  20. इस आसन के नियमित अभ्यास से पूरे शरीर में रक्त के प्रवाह में सुधार होता है, जिससे चेहरे पर तेज आता है, कमजोरी दूर होती है। आपको खुश रखने से मन प्रसन्न रहता है।
  21. जो व्यक्ति क्रोधित होता है उसे इस आसन को करना चाहिए। क्रोध के साथ-साथ मन को शांति और प्रसन्नता मिलती है। यह आसन गुस्से से नियंत्रित होता है।
  22. यह व्यक्ति की यौन शक्ति में सुधार करता है। इसके अलावा, पेट और पैल्विक अंग भी अच्छी तरह से टोन करते हैं।
  23. इस आसन का नियमित अभ्यास पाचन समस्याओं और कब्ज जैसे अम्लता से प्राप्त किया जा सकता है।
  24. कूल्हों और घुटनों के लचीलेपन के विकास के साथ यह लीवर, गुर्दे, अंडाशय और गर्भाशय को भी उत्तेजित करता है।

(यह भी पढ़े – सुप्त मत्स्येन्द्रासन करने का तरीका और फायदे [Supta Matsyendrasana (Supine Spinal Twist Pose) Steps and Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया पश्चिमोत्तानासन करने का सही तरीका [Baba Ramdev Step By Step Instructions For Paschimottanasana Yoga (Seated Forward Bend Pose) in Hindi]:

पश्चिमोत्तानासन करने का सही समय [Right Time To Do Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) in Hindi]:

विशेषज्ञों के अनुसार, यह आसन सबसे अच्छा तब माना जाता है जब योगी इस मुद्रा का सुबह-सुबह अभ्यास करते हैं। सुबह इस लिए किया जाना चाहिए क्योंकि इससे भोजन पच जाता है और साथ ही शरीर में आसन करने की ऊर्जा होती है। किसी कारण के कारण, अगर आप इसका अभ्यास सुबह नहीं कर सकते है तो, आप इस आसन का अभ्यास शाम को भी कर सकते हैं। लेकिन कम से कम अपने अभ्यास और भोजन के बीच 3 से 5 घंटे का अंतर अवश्य रखें।

पश्चिमोत्तानासन करने के बाद यह आसन करे [Perform This Asana After Performing Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) in Hindi]:

  • पूर्वोतानासन योग (Purvottanasana or Upward Plank Pose)
  • अर्ध बद्ध पद्मा पश्चिमोत्तानासन योग (Ardha Baddha Padma Paschimottanasana or Half Bound Lotus Seated Forward Bend)
  • त्रिअंग मुखेकपद पश्चिमोत्तानासन योग (Trianga Mukhaikapada Paschimottanasana or Three-Limbed Forward Bend)

पश्चिमोत्तानासन के करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते (What Precautions Should be Taken While Doing Paschimottanasana (Seated Forward Bend Pose) in Hindi):

पश्चिमोत्तानासन के फायदे कई हैं, इसलिए हर व्यक्ति इस आसन को करना चाहता है। यह आसन अभ्यास करने के लिए बहुत सुरक्षित है और इसका कोई वास्तविक निवारक उपाय नहीं है। लेकिन इस आसन को करने से पहले निम्न सावधानियों का ध्यान अवश्य रखें-

  • अगर आपको इस आसन के दौरान किसी भी प्रकार से पैर में ऐंठन होती है, तो आप तुरंत इस आसन को करना छोड़ दें, इस आसन को करने के लिए जोर-जबरदस्ती न करें।
  • अगर आपको कमर में तकलीफ है या आपको रीढ़ की हड्डियों में कोई समस्या है तो आपको इस योग का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • इस प्रारंभिक चरण में, हाथों से अंगूठे को छूने और घ्तुनो के साथ नाक को छूने में कठिनाई हो सकती है। इसलिए जल्दी मत करो या जोर मत करो।
  • जिन लोगों को गर्दन में दर्द होता है, उन्हें यह योग नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपको ऐसा करने में परेशानी है, तो आप इस आसन को कुशन या गोल तकिए पर बैठकर कर सकते हैं।
  • किसी भी प्रकार के आसन या प्राणायाम करने से पहले किसी योग विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें की आप इस योग को सही से कर रहे है या नही।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Seated Forward Bend Pose / Paschimottanasana Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Seated Forward Bend Pose / Paschimottanasana Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Seated Forward Bend Pose / Paschimottanasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Seated Forward Bend Pose / Paschimottanasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका और फायदे (Seated Forward Bend Pose / Paschimottanasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here