पद्मासन करने का तरीका और फायदे [Padmasana (Lotus Pose) Steps And Benefits in Hindi]

पद्मासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Padmasana (Lotus Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi : हमारी बदलती जीवन शैली के लिए योग आवश्यक है। बढ़ते प्रदूषण और बदलते खानपान के कारण कई तरह की समस्याएं उत्पन होने लगी हैं, जो शरीर को स्वस्थ रखने में बाधा डालती हैं। ऐसे में खुद को स्वस्थ रखने का सबसे आसान तरीका है सुबह उठकर योगासन करना।

योग में ऐसे कई आसन हैं, जो आपको शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। योगासन हमारे शरीर को मजबूत, लचीला और सुंदर बनाते है। योग कई शारीरिक और मानसिक समस्याएं, जेसे की तनाव, टेंशन, स्ट्रेस, डिप्रेशन एवं अनिद्रा इत्यादि समस्याओ को कम करता है और स्वास्थ्य को अच्छा रखने में मदद करता है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की पद्मासन क्या है, पद्मासन कैसे करते है और पद्मासन के लाभ एवं पद्मासन के फायदे क्या होते है और पद्मासन की विधि, के साथ-साथ पद्मासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

Table Of Contents :

पद्मासन क्या है? [What is Padmasana (Lotus Pose) in hindi]:

बैठ कर किए जाने वाले सब आसन में पद्मासन को सर्वश्रेष्ठ योगासन माना गया है। पदमासन में बैठना पैर और कूल्हे की मांसपेशियों और जोड़ों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

पद्मासन का अर्थ क्या है? इस आसन का नाम पद्मासन संस्कृत भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है- पद्म और आसन।

  • पद्म का अर्थ है कमल का फूल।
  • आसन का अर्थ है बैठना या मुद्रा।

इस आसन को देखने पर ऐसा लगता है जेसे कमल का फूल हो, इसलिए इस आसन को कमलासन भी कहा जाता है। यदि आप किसी योगी या ऋषि को ध्यान करते हुए देखते हैं, तो वह आपको हमेशा पद्मासन योग की स्थिति में ही देखेंगे।

पारंपरिक हिंदू ग्रंथों के अनुसार पदमासन सभी रोगों को नष्ट कर देता है और कुंडलिनी जागृत करता है, और अगर हम हिंदू प्रतीकों के बारे में बात करें, तो धन की देवी लक्ष्मी को कमल पर बैठे देखा जाता है।

और पद्मासन और बौद्ध धर्म के बीच धार्मिक सहसंबंध अधिक महत्वपूर्ण है कमल, एक पवित्र जलीय पौधा है, जो आठ शुभ प्रतीकों में से एक है और बौद्ध धर्म के सबसे ज्यादा मान्यता प्राप्त पहलुओं में से एक है। प्रत्येक महत्वपूर्ण बौद्ध धर्म का चित्रण या तो कमल पर बैठकर किया जाता है या अपने हाथ में पकड़ कर किया जाता है।

(यह भी पढ़े – उष्ट्रासन करने का तरीका और फायदे [Ustrasana (Camel Pose) Steps And Benefits in Hindi])

पद्मासन करने से पहले इन आसन को करें [Perform These Asanas Before Performing Padmasana (Lotus Pose) in Hindi]:

पद्मासन के फायदे और लाभ [Benefits of Padmasana (Lotus Pose) in Hindi]:

पद्मासन करने से शरीर को कई जबरदस्त लाभ होतें है। यदि आप बेचैन और अशांत महसूस कर रहे हैं तो आपको पदमासन का अभ्यास करना चहिये, इससे आपके दिमाग को शांत रखने में मदद मिलेगी। योगी इस आसन को अपनी कुंडलिनी चक्र को जागृत करने के लिए करते हैं।

पद्मासन के फायदे से कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है, आइये जानतें है की पद्मासन के क्या लाभ हैं? –

1. मानसिक तनाव कम करने के लिए पद्मासन के फायदे [Benefits of Padmasana (Lotus Pose) to Reduce Mental Stress in Hindi]:

पद्मासन योग को ध्यान के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण योगासन माना जाता है। यह योग मुद्रा आपके मन को शांत करता है और तनाव को कम करता है। योग करते समय व्यक्ति के दिमाग और शरीर का एक लय में चलना मत्वपूर्ण है।

यह एक स्थापित ध्यान मुद्रा है जो हमारे मन और शरीर दोनों को आराम देता है। इस योग मुद्रा में शामिल होने वाली विनियमित श्वास लेने की प्रक्रिया हमारे मन को नकारात्मक भावनाओं और दिमाग से नकारात्मक विचारों और भावनाओं से मुक्त करने में मदद करती है और हमारे मस्तिष्क और शरीर को शांत करके सकारात्मक ऊर्जा से भर देता है।

2. पाचन में सुधारने में पद्मासन के फायदे [Benefits of Padmasana (Lotus Pose) in improving digestion in Hindi]:

पदमासन योग पेट क्षेत्र को कोमल मालिश देकर पाचन क्रिया को बढ़ाता है। यह योगासन पेट में रक्त प्रवाह को पुनः निर्देशित करने में भी सहायक है, उदर या पेट क्षेत्र में रक्त परिसंचरण को बढ़ाने से पाचन प्रक्रियाओं में वृद्धि हो होती है।

इसके अलावा, पदमासन योग ‘ पाचन आग ‘ को जलाकर पाचन में सुधार करता है। लोटस पोज कब्ज और लूज मोशन जैसी आम पाचन समस्याओं को भी खत्म करता है।  पाचन तंत्र को साफ करना चयापचय (मेटाबॉलिक) फंक्शन को बढ़ाता है।

3. घुटने और टखने के जोड़ों के लिए पद्मासन के फायदे [Benefits of Padmasana (Lotus Pose) for Knee and Ankle Joints]:

अगर सही तरीके से पदमासन को किया जाए तो यह योग एक आदर्श मुद्रा है जो जोड़ों को मजबूत बनाने में मदद करती है। पदमासन में बैठते समय घुटनों और टखनों को अच्छी तरह खींच कर और मोड़ कर बैठना होता है। आसन के दौरान जब जोड़ों में खिंचाव होता है तो (श्लेष द्रव – Synovial Fluid) का रिसाव होता है।

यह द्रव मांसपेशियों की अकड़न को कम करने के साथ-साथ कई बीमारियों के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है। यह साइटिका से पीड़ित लोगों के लिए भी एक अच्छा इलाज है। इसे एक दिनचर्या में बदलना हड्डियों और जोड़ों से संबंधित कई स्वास्थ्य मुद्दों को समाप्त करता है।

इसके साथ-साथ, यह हड्डियों और जोड़ों में लचीलापन बढ़ाता है जो हमारी दैनिक गतिविधियों को आसान बनाता है।

4. पद्मासन के फायदे प्रसव को आसान बनाता है [Benefits of Padmasana (Lotus Pose) Makes Delivery Easier in Hindi]:

पदमासन पेट के लिए सबसे अच्छे योग में से एक है। यह आसन श्रोणि क्षेत्र को मजबूत करता है और श्रोणि की मांसपेशियों की शक्ति और स्थिरता को बढ़ाता है। इस तरह प्रसव के दौरान दर्द और संकुचन तुलनात्मक रूप से बहुत कम होते हैं और सुचारू होते हैं।

महिलाओं के लिए गर्भावस्था की अवधि के दौरान, बिना ओवरस्ट्रेन और स्ट्रेच के, पद्मासन योग का अभ्यास करना अच्छा होता है।

5. माहवारी के दौरान पद्मासन के फायदे [Benefits of Padmasana (Lotus Pose) During Menstruation in Hindi]:

मासिक धर्म ऐंठन एक ऐसी चीज है जो सभी लड़कियों और महिलाओं को माहवारी के दौरान वाले दिन में होती है। ऐंठन से राहत हमेशा एक महिला की प्रबल इच्छा होती है। पेट की मालिश के साथ पदमासन योग पेट के क्षेत्र में पूरी तरह से काम करता है और एक हद तक ऐंठन को कम करता है।

अवधि के दौरान पैल्विक क्षेत्र को मजबूत और लोचदार बनाने के लिए पदमासन उच्च ऐंठन की जोखिम को कम करने में मदद करता है पदमासन महिलाओं में मासिक धर्म की परेशानी को दूर करने में मदद कर सकता है।

महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान पेट दर्द, पीठ दर्द, अकड़न, थकान, चिड़चिड़ापन आदि का होना आम बात है,ऐसे में इनसे राहत के लिए पदमासन योग फायदेमंद साबित हो सकता है।

(यह भी पढ़े – दंडासन करने का तरीका और फायदे [Dandasana (Staff Pose) Steps And Benefits in Hindi])

6. ऊर्जा स्तर को पुनर्स्थापित करने में पद्मासन के फायदे [Benefits of Padmasana (Lotus Pose) Restores Energy Level in Hindi]:

पदमासन में बैठने से यह ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने का काम कर सकते हैं चयापचय दर को बढ़ावा देना अधिकांश योग प्रथाओं का सर्वकालिक लाभ है। पदमासन रक्त प्रवाह दर को बढ़ाने के साथ-साथ हमारे मन और शरीर में आंतरिक और बाहरी रूप से सकारात्मक ऊर्जा और विचारों को बढ़ाने के विकास में मदद करता है।

7. पद्मासन के फायदे अनिद्रा से लड़ता है [Benefits of Padmasana (Lotus Pose) Fights Insomnia in Hindi]:

पदमासन या कमल मुद्रा के रूप में जाना जाने वाला योग एक सरल, फिर भी अत्यधिक प्रभावी योग आसन है जो अनिद्रा से लड़ने में मदद करता है। यह योग मुद्रा मन को शांत करता है और सभी प्रकार के मानसिक और शारीरिक तनाव को कम करता है। गहरी सांस जो पदमासन के साथ चलती है, मानसिक और भावनात्मक भलाई की भावना को और बढ़ाती है।

पद्मासन योग करने का तरीका- [How To Do Padmasana (Lotus Pose) in Hindi]:

किसी भी आसन का अभ्यास करने के लिए आपको सबसे पहले एक ऐसी जगह चुन नी चाहिए जहाँ अच्छे से हवा आती जाती हो और जहाँ पर आप योग का अभ्यास करने में बिल्कुल सहज महसूस करते हो, खुद को सहज महसूस करवाना योग का प्रारंभिक चरण है तो आइये जानते है की पद्मासन कैसे करे या पद्मासन में कैसे बैठे? –

पद्मासन करने का तरीका और फायदे – Padmasana (Lotus Pose) Steps and Benefits in Hindi
पद्मासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Padmasana (Lotus Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi

पद्मासन कैसे करें [Steps of Padmasana (Lotus Pose) in Hindi]:

यहाँ निचे हमने पद्मासन करने का तरीका विस्तार में बताया है, जिसे आप ध्यान से पढ़े-

  1. सबसे पहले, एक योग चटाई लें और उस पर बैठ जाएँ।
  2. रीढ़ को सीधा रखें और पैरों को सामने की ओर फैलाकर रखें।
  3. आपको कमर और गर्दन को बिल्कुल सीधा रखना है।
  4. अब धीरे -धीरे दाहिने घुटने को मोड़ें और इसे अपनी बाईं जांघ पर रखें।
  5. ध्यान रहे की पैर की एड़ी पेट के निचले हिस्से को छूती हो और पैरों के तलवे ऊपर की ओर हो।
  6. अब आपको अपने दूसरे पैर के साथ भी यही प्रक्रिया दोहरानी हैं।
  7. अब अपनी हाथों की कोहनी को अपने घुटनों पर रखें और ध्यान की मुद्रा में आ जाएँ।
  8. अब इसी स्थति में बने रहे और धीरे -धीरे लंबी और गहरी सांस लेते रहें।
  9. आप इस आसन में जितनी देर आराम से बैठ सकें उतनी देर तक इस आसान में बैठें।

(यह भी पढ़े – ऊर्ध्व धनुरासन (चक्रासन) करने का तरीका और फायदे – Urdhva Dhanurasana (Chakrasana) Wheel Pose Steps and Benefits in Hindi)

पद्मासन करने का सही तरीका [Step By Step Instructions To Do Padmasana (Lotus Pose) in Hindi]:

पद्मासन के लिए मुद्राएं [Mudras / Poses for Padmasana (Lotus Pose) in Hindi]:

योगासन शरीर में ऊर्जा के संचार को बढ़ाने में मदद करते हैं और यदि मुद्राओ को पद्मासन के साथ किए जाएं तो यह आपको बेहतर परिणाम देगा। जिस तरह सभी मुद्राएं एक-दूसरे से अलग होती हैं, उसी तरह उनसे मिलने वाले लाभ भी अलग-अलग होते हैं।

पद्मासन में बैठकर आप चिन मुद्रा, चिन्मयी मुद्रा, या ब्रह्म मुद्रा आदि करके अपने आसन में ओर गहराई से अधिक ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। आप पदमासन में इन मुद्राओं से आपने शरीर में एक नई ऊर्जा का संचार अनुभव कर सकते हैं।

पद्मासन करने के बाद इन आसन को करें [Perform These Asanas After Performing Padmasana (Lotus Pose) in Hindi]:

पद्मासन करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Padmasana (Lotus Pose) in Hindi]:

पद्मासन कैसे करें और पद्मासन की विधि जानने के साथ-साथ इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में जानना भी जरूरी है, आइए जानते हैं कि पद्मासन करते समय व्यक्ति को कौन-कौन सी सावधानियां और एहतियात रखनी चाहिए-

  • इस आसन को जिन लोगो को वैरिकाज़ नस की शिकायत है उनके द्वारा यह योगासन नहीं किया जाना चाहिए।
  • जिन्हे घुटनों में दर्द की शिकायत है या घुटने में चोट या टखने में दर्द या चोट है, उन्हे पद्मासन नहीं करना चाहिए।
  • किसी भी आसन को करते समय अपनी शारीरिक क्षमता से अधिक जोर नहीं लगाना चाहिए।
  • इस आसन को अनुभवी शिक्षक की देखरेख में ही करें।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की पद्मासन करने का तरीका और फायदे (Padmasana (Lotus Pose) Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख पद्मासन करने का तरीका और फायदे (Padmasana (Lotus Pose) Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी पद्मासन करने का तरीका और फायदे (Padmasana (Lotus Pose) Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई पद्मासन करने का विधि और फायदे (Padmasana (Lotus Pose) Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी पद्मासन कैसे करें और पद्मासन के फायदे (Padmasana (Lotus Pose) Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!