नावासन करने का तरीका और फायदे [Navasana (Boat Pose) Steps And Benefits in Hindi]

0

नावासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Navasana (Boat Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi : वर्तमान समय में स्वस्थ रहने के लिहाज से, योग न केवल भारतीयों की बल्कि विदेशियों की भी पहली पसंद बन गया है। शरीर को बीमारियों और अन्य समस्याओं से बचाने के लिए प्राचीन शैली योग कुशल साबित हो सकता है।

योग किसी व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में सहायक होता है। योग और प्राणायाम के विषयों पर कई बार वैज्ञानिक शोध भी हुए हैं, जिनमें इन को लाभकारी पाया गया है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की नावासन क्या है, नावासन कैसे करते है और नावासन के स्वास्थ्य लाभ एवं नावासन के फायदे क्या होते है और नावासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

नावासन योग क्या है? [What Is Navasana Yoga (Boat Pose) in Hindi]:

आध्यात्मिक विकास के साथ योग के प्रमुख लाभ मानसिक और शारीरिक विकास में भी मदद करते हैं। योग शरीर को पुनर्जीवित करता है और इसे और अधिक स्वस्थ और कुशल बनाता है। ऐसे कई योग हैं जो शरीर को कई तरह से फायदे पहुंचाते हैं। नावासन (Navasana) उन्ही में से एक प्रमुख योग मुद्रा है।

इसका नाम संस्कृत के दो शब्दों में मिलकर बना है, “नौका” का अर्थ “नाव” और “आसन” का अर्थ है “मुद्रा” और इसे “नौकासन” भी कहा जाता है।

चूंकि यह एक नाव के आकार जैसी मुद्रा है, इसलिए इसे नावासन नाम दिया गया है। नावासन उन कुछ योगा पोज़ में से एक है जो पीठ के साथ-साथ पेट के बल लेटे हुए भी किए जा सकते हैं।

नावासन (बोट पोज़) स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से काफी अच्छा योग है क्योंकि यह न केवल आपके पेट की मांसपेशियों को मजबूत करता है बल्कि यह आपके पेट में मौजूद महत्वपूर्ण अंगों को भी टोन करता है।

यह अग्न्याशय, गुर्दे, लीवर और गैस्ट्रिक रस से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं और समस्याओं के इलाज में काफी सहायक है।

नावासन करने से पहले यह आसन करें [Do This Asana Before Navasana (Boat Pose) in Hindi]:

नावासन को करने से पहले आप यहाँ निचे बताये गये आसन को कर सकते हैं जिनसे आपकी हॅम्स्ट्रिंग, कूल्हे, और जांघे पर्याप्त मात्रा में खुल जाएँगे।

  • पश्चिमोत्तानासन योग (Paschimottanasana or Seated Forward Bend)
  • पूर्वोतानासन योग (Purvottanasana or Upward Plank Pose)
  • अर्ध बद्ध पद्मा पश्चिमोत्तानासन योग (Ardha Baddha Padma Paschimottanasana or Half Bound Lotus Seated Forward Bend)
  • त्रिअंग मुखेकपद पश्चिमोत्तानासन योग (Trianga Mukhaikapada Paschimottanasana or Three-Limbed Forward Bend)
  • जानुशीर्षासन योग (Janu Sirsasana or Head-to-Knee Forward Bend)
  • मरीच्यासन अ योग (Marichyasana A or Pose of Mairchi)

नावासन करने का तरीका तरीका [Right Technique To Do Navasana (Boat Pose) in Hindi]:

नावासन का अभ्यास करने के लिए अलग-अलग आसान और सरल स्टेप्स हैं। नावासन के तीन अलग-अलग प्रकार हैं जहाँ यहां हम सरल नावासन योग (नाव मुद्रा) का अभ्यास करने के चरणों पर चर्चा करेंगे तो आइये जानते है नावासन कैसे करे।

नावासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां - Navasana (Boat Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi
नावासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Navasana (Boat Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi

नावासन कैसे करे [How To Do Navasana (Boat Pose) in Hindi]:

  1. सबसे पहले, आपको पीठ के बल लेटने की जरूरत है।
  2. श्वास लें और अपने शरीर को 30 डिग्री तक ऊपर उठाएं ताकि आप आसानी से आँखों से पैर की उंगलियों को देख सकें।
  3. हथेलियों को जांघों पर रखें।
  4. यथासंभव लंबे समय के लिए इस विशेष मुद्रा में बने रहें।
  5. प्रारंभ में, आप इसे 20 सेकंड के लिए कर सकते हैं और फिर अपना समय 2 मिनट तक बढ़ा सकते हैं।
  6. सुनिश्चित करें जब आप इस मुद्रा को बनाए रखते हैं, तो नाभि क्षेत्र में खिंचाव महसूस होना चाहिये।
  7. अब गहरी सांस छोड़ते हुए और आराम करते हुए शरीर को नीचे लाएं।
  8. श्वास और श्वास को धीरे-धीरे छोड़ें जब आप मुद्रा बनाए रखें।

(यह भी पढ़े – दीर्घ प्राणायाम कैसे करे और फायदे [Dirga Pranayama Steps and Benefits in Hindi])

नावासन के लिए कुछ आवश्यक सुझाव [Important Things For Navasana (Boat Pose) in Hindi]:

योग में शुरुआती लोगों द्वारा इस आसन का अभ्यास करना काफी मुश्किल होगा। लेकिन उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है। प्रारंभ में, आपको शवासन मुद्रा में लेटने की आवश्यकता है। फिर हाथों को सिर के पीछे लाकर शरीर को स्ट्रेच करें।

अब दाएं हाथ, बाएं पैर और सिर को 30 डिग्री के कोण पर उठाएं और फिर इसे 10 से 15 सेकंड तक बनाए रखें। यह शलभ नाम की मुद्रा का रूपांतर है। अब आप सरल नाव मुद्रा के लिए प्रयास करने के लिए आगे बढ़ सकते हैं।

यदि आपको कोई समस्या है, तो आपको इस मुद्रा का बेहतर तरीके से अभ्यास करने के लिए किसी योग विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए।

(ये भी पढ़े – उत्तानपादासन करने का तरीका और फायदे [Uttanapadasana (Raised Leg Pose) Steps And Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया नौकासन/नावासन करने का तरीका तरीका [Baba Ramdev Step By Step Instructions For Navasana (Boat Pose) in Hindi]:

नावासन के फायदे और लाभ [Benefits of Navasana (Boat Pose) in Hindi]:

  1. यह पेट की चर्बी को कम करने में मदद करता है। यह शरीर के पेट के हिस्से में उपयुक्त कंप्रेसिंग, स्ट्रेचिंग और रिलैक्सेशन की सुविधा देता है और इसलिए अगर इस योग का नियमित रूप से अभ्यास किया जाए तो इससे बेली फैट को जलाना बहुत आसन होगा। यह आपको स्लिम-ट्रिम बॉडी को प्राप्त करने के लिए सबसे प्रभावी आसनों में से एक है।
  2. यह पतली कमर पाने में मदद करता है। यह कमर के आसपास वसा की मात्रा को कम करता है।
  3. यह गुर्दे के लिए अच्छा योग है क्योंकि यह उन्हें मजबूत करता है और उन्हें टोन करता है।
  4. यह आपकी नाभि को सही और उचित स्थिति में रखने में मदद करता है।
  5. यह गैस्ट्रिक रस स्राव के लिए महान योग है और पाचन की प्रक्रिया के लिए काफी प्रभावी है। यह आपकी आंत के पेरिस्टाल्टिक आंदोलन को भी उत्तेजित करता है।
  6. यह मधुमेह के इलाज में मदद करता है। इसका उन्नत रूप अग्नाशयी रस के स्राव में मदद करता है जो आपके अग्न्याशय के कार्य को नियंत्रित करता है और इसलिए मधुमेह को ठीक करता है।
  7. यह आपकी सिक्स-पैक एब्स बनाने में मदद करता है। यह एक बहुत शक्तिशाली योग आसन है और आपके पेट की मांसपेशियों के लिए एक आरामदायक स्ट्रेचिंग प्रदान करता है। काफी समय तक नियमित रूप से इस योग का अभ्यास करने से आपको सिक्स-पैक एब्स को बनाने में सहायता मिलती है।
  8. यह नसों और धमनियों में अतिरिक्त वसा को जलाकर रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करता है।
  9. यह स्वस्थ गुर्दे के लिए काफी अच्छा है और गुर्दे की समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है।
  10. यह शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों को निकालता है जो शरीर को अधिक सक्रिय बनाता है और सुस्ती को दूर करता है। यह शरीर को अधिक ऊर्जावान बनाता है।
  11. यह आपकी पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करता है।
  12. यह आपके हार्मोन के लिए अच्छा योगासन है। यह पूरे शरीर के सिस्टम को मजबूत करता है पाचन, मांसपेशियों, संचार, हार्मोनल और तंत्रिका तंत्र को स्वस्थ बनाता हैं।

(यह भी पढ़े – तितली आसन करने का तरीका और फायदे [Titli Asana (Butterfly Pose) Steps And Benefits in Hindi])

नावासन करने के बाद आसन यह आसन करे  [Do This Asana After Navasana (Boat Pose) in Hindi]:

  • बद्ध कोणासन योग (Baddha Konasana or Bound Angle Pose)
  • हलासन योग (Halasana or Plow Pose)
  • सर्वांगासन योग (Sarvangasana or Shoulderstand)
  • शीर्षासन योग (Sirsasana or Headstand)
  • बालासन योग (Balasana or Child’s Pose)

नावासन करते समय क्या सावधानियाँ और एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Navasana (Boat Pose) in Hindi]:

  • जो लोग हर्निया रोग से पीड़ित हैं, उन्हें डॉक्टर से परामर्श के बाद ही नावासन (बोट पोज़) का अभ्यास करना चाहिए।
  • रीढ़ की हड्डी की समस्याओं वाले लोगों को इस योग का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • जिन लोगों को रक्तचाप की समस्या है, उन्हें इससे बचना चाहिए। यह उच्च रक्तचाप, माइग्रेन और गंभीर सिरदर्द से पीड़ित लोगों के मामले में भी है।
  • दमा के रोगियों को इसके अभ्यास से बचना चाहिए।
  • दिल की समस्याओं वाले लोगों को इस मुद्रा को नहीं करना चाहिए।
  • जो महिलाएं गर्भवती हैं या मासिक धर्म की अवधि में है, तो उन्हें इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • जो रोगी कूल्हे के जोड़ों के दर्द के साथ-साथ गठिया से पीड़ित हैं, उन्हें कभी भी इस मुद्रा का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • जिन लोगों को दस्त, अनिद्रा और गर्दन की चोट की समस्या है, उन्हें इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • जो लोग अन्य किसी रोग से ग्रस्त है, उन्हें इस योग का अभ्यास करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की नावासन करने का तरीका और फायदे (Boat Pose / Navasana Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख नावासन करने का तरीका और फायदे (Boat Pose / Navasana Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी नावासन करने का तरीका और फायदे (Boat Pose / Navasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई नावासन करने का तरीका और फायदे (Boat Pose / Navasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी नावासन करने का तरीका और फायदे (Boat Pose / Navasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here