मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे [Murcha Pranayama Steps and Benefits in Hindi]

0

मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Murcha Pranayama Steps and Benefits in Hindi) : क्या आपको पता है मूर्छा प्राणायाम करने का सही तरीका क्या है, अगर नहीं तो यहाँ हमने विस्तार में बताया है की मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और इसके फायदे क्या होते है।    

इसी लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, जिसे पढ़ने के बाद आपको यह ज्ञान हो जाएगा की मूर्छा प्राणायाम कैसे करते है और मूर्छा प्राणायाम के फायदे क्या होते है, तो चलिए शुरू करते है।

मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Murcha Pranayama Steps and Benefits in Hindi):

मूर्छा प्राणायाम संजीवनी बूटी के रूप में हमारे जीवन में कार्य करता है, यह एक पूर्ण प्राणायाम प्रकार है। टेंशन न ले इस प्राणायाम के प्रभाव से व्यक्ति मूर्छित नहीं होता है, केवल यह मुद्रा मुर्छित होती है। सिद्धयोगी इस प्राणायाम को करते हैं। मूर्छा प्राणायाम आपको तनाव, चिंता और डिप्रेशन से बचाता है और मानसिक समस्याओं और नपुंसकता से प्रभावित रोगियों के लिए भी प्रभावी है।

मुर्छा शब्द का अर्थ है “बेहोशी”। इस मुर्छा प्राणायाम के अभ्यास से वायु मूर्छित हो जाती है, लेकिन व्यक्ति नहीं। परिणामत: मन भी अचेतन है, इसीलिए इसे मूर्छा कुम्भक प्राणायाम कहा जाता है। इस प्राणायाम का अभ्यास अधिक कठिन है।

मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे - Murcha pranayama steps and benefits in Hindi
मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Murcha Pranayama Steps And Benefits in Hindi)

प्राणायाम शब्द का अर्थ है – जब हम श्वास प्रक्रिया को नियंत्रित करते हैं, तो इसे प्राणायाम कहा जाता है। प्राणायाम श्वास को रोकने के लिए जीवन की प्राकृतिक गति है। इससे मन और मस्तिष्क की सफाई होती है। हमारी इंद्रियों द्वारा निर्मित दोष प्राणायाम से दूर हो जाते हैं।

यह आठ प्रकार के प्राणायाम में शामिल है। हठप्रदीपिका और घेरण्डसमहिता दोनों ने आठ प्रकार के प्राणायामों में मूर्छा प्राणायाम को शामिल किया है। मूर्छा प्राणायाम करना कठिन है, इसलिए सभी आसन या प्राणायाम में पारंगत होने के ही बाद, इस प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए और शिक्षक की उपस्थिति में ही करना चाहिए। (यह भी पढ़े- प्राणायाम क्या है, फायदे और प्रकार [All About Pranayama In Hindi])

प्राणायाम कई तरह से किया जाता है। यहाँ मूर्छा प्राणायाम की एक सरल विधि बताई गयी है। जिसे आपको जानना चाहिए –

मुर्छा प्राणायाम कैसे करे और विधि (Murcha Pranayama Karne Ka Tarika Aur Vidhi in Hindi) :

  1. मूर्छा प्राणायाम करने के लिए, सबसे पहले, एक साफ और अच्छे वातावरण में योग चटाई पर बैठें।
  2. फिर आप पद्मासन या सुखासन जैसे आसन में बैठे।
  3. सिर, रीढ़ और गर्दन एक सीध में हों और दोनों हाथ घुटनों से ऊपर हों और अपने मन से सभी विचारों को भूल जाये।
  4. शरीर को शांत और तनावमुक्त रखें। अब, हर बार जब आप साँस लेते हैं तो अपनी सांस लेने के बारे में जागरूक रहें और इसे धीमा और गहरा करने की अनुमति दें।
  5. इसके बाद अपनी आंखें बंद कर लें।
  6. अब मूर्छा मुद्रा को लागू करते हुए, उज्जायी प्राणायाम के साथ, सिर को थोड़ा पीछे की ओर झुकाते हुए, नाक के दोनों छिद्रों से धीरे-धीरे सांस भरें और दोनों स्तनों के बीच की आँखों को देखते हुए सांभवी मुद्रा लागू करें।
  7. कुछ समय बाद फिर से आँखें खोलें।
  8. यदि आपकी आँखें खुली हैं, तो आपको सीधे आसमान की ओर देखना चाहिए।
  9. अब दोनों हाथों को घुटनों से ऊपर दबाते हुए कोहनियों को सीधा करते हुए कोहनियों को सीधा करें।
  10. सांभवी मुद्रा में अपनी क्षमता के अनुसार अपनी सांस को रोककर रखें। अपने हाथों को ढीला करते हुए सांस छोड़ें।
  11. अंत में, आँखें बंद करें, और धीरे-धीरे फिर से सिर को सीधा करें।
  12. सामान्य स्थिति में वापस आएं और शरीर और मन में हल्कापन और शांति महसूस करें।
  13. यह एक चक्र था। इस तरह, आप 3 से 5 चक्र करे और फिर धीरे-धीरे चक्र बढ़ाये।
  14. नए अभ्यासी के लिए शुरुआत में 10 मिनट करना पर्याप्त होगा। अपने दैनिक अभ्यास के साथ, आपको धीरे-धीरे इसकी अवधि भी बढ़ानी चाहिए। (यह भी पढ़े –भस्त्रिका प्राणायाम करने का तरीका और फायदे [Bhastrika Pranayama Steps and Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया मुर्छा प्राणायाम करने कैसे करे और विधि (Baba Ramdev Murcha Pranayama Step By Step in Hindi) :

मुर्छा प्राणायाम के फायदे और लाभ (Murcha Pranayama Ke Fayde Aur Labh in Hindi) :

  1. इस प्राणायाम में, जैसे-जैसे मुर्छा कुंभक की अवधि बढ़ती है, आनंद में वृद्धि होती है। और मन स्वतः ही अंतर्मुखी होने लगता है।
  2. इसमें वायु अचेतन होती है, जिसके कारण मन मूर्छित हो जाता है और अंततः शांत हो जाता है।
  3. यह ध्यान के लिए एक महान प्राणायाम है।
  4. यह व्यक्ति के अंदर शांति, दया, क्षमा जैसे अद्वितीय गुणों को भी उजागर करता है।
  5. प्राणायाम चिंता, तनाव, भय, और सिरदर्द सहित कई मानसिक समस्याओं से छुटकारा दिलाता है।
  6. ऐसा करने से बॉडीवेट भी कम हो जाता है।
  7. प्रतिदिन प्राणायाम करने से प्राण ऊर्जा बढ़ती है।
  8. यह प्राणायाम आपको शारीरिक और मानसिक स्थिरता प्रदान करते हुए एक अलग स्थिति में ले जाता है।
  9. इसके नियमित अभ्यास से मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाने के साथ-साथ धातु रोग और नपुंसकता जैसे रोग भी दूर होते हैं।

यह भी पढ़े –

मुर्छा प्राणायाम करने से पहले क्या सावधानी बरते (Murcha Pranayama Me Kya Savdhani Barte in Hindi) :

  • इस आसन बेहोशी की स्थिति में ले जा सकता है, इसलिए किसी विशेषज्ञ की देखरेख में इसका अभ्यास करना चाहिए।
  • इस अभ्यास के दौरान, आपकी जागरूकता शारीरिक स्तर, सांस, सिर की गति पर अवश्य होनी चाहिए।
  • यह प्राणायाम कभी भी हृदय या फेफड़ों के रोगियों द्वारा अभ्यास नहीं किया जाना चाहिए।
  • जब बेहोशी की स्थिति शुरू होती है, तो अभ्यास बंद कर दें।
  • इसके अलावा, मस्तिष्क के रोगियों एवं जिन लोगों को मिर्गी होती है उनको इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Murcha Pranayama Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े-

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Murcha Pranayama Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Murcha Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Murcha Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी मूर्छा प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Murcha Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here