बॉडी में इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये? (How To Increase Immunity Power In Hindi)

0

बॉडी में इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये – Body Me Immunity Power Kaise Badhaye (How To Increase Immunity Power In Hindi): आपके शरीर में आपकी प्रतिरक्षा (इम्युनिटी सिस्टम) प्रणाली को बनाये रखना सबसे जटिल कार्य है। यह कई तरह की बीमारियों और संक्रमणों से लड़ने के लिए पर्याप्त मजबूत और परिष्कृत होना चाहिए।

हम अपनी इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये? इसके बारे में आप ज़रूर सोचते होंगे। कोरोना काल में हम सभी लोगो को अपनी इम्युनिटी पॉवर को मजबूत बनाये रखने के लिए बहुत सारे उपाय करने जरुरी है जिस से हम कोरोना से बचे रह सके। रोजमर्रा की जीवनशैली की ऐसी कई आदतें हैं जिन पर आप नियंत्रण करके अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को संक्रमण या बीमारी से लड़ने में मदद करने के लिए ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

जिस से हमे किसी भी प्रकार के रोग से लड़ने की ताकत मिल सके। आपने यूट्यूब में बहुत सारे वीडियोस देखे होंगे की अपनी बॉडी में इम्युनिटी कैसे बढ़ाये पर आज आज हम जो आपको बताने जा रहे है, वह शायद ही आपको पता होंगी, तो चलिए इम्युनिटी पॉवर को बढ़ने के घरेलु उपायों (home remedies to increase immunity power in Hindi) के बारें में जानते है, जो उपाय आपके इम्युनिटी पॉवर को बढाने में मदद कर सकते है।

इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये? (How To Increase Immunity Power In Hindi):

कोई भी वायरस आपको मारना कभी भी नहीं चाहता। वो बस अपने लिए आपके शरीर में जगह बना कर रखना चाहता है। पिछले साल मार्च में जब कोरोना महामारी के आने के बाद हम सभी ने अपने आप को घरो में कैद किया था, तब केवल कोरोना के गिने चुने केस ही थे लेकिन अब कोरोना के मरीजो के आंकड़े लाखों में हो गए है। ऐसे में सभी के दिमाग में यह सवाल आता है की इम्युनिटी कैसे बढ़ाये तो आइये जानते है-

बॉडी में इम्युनिटी पॉवर कैसे बढ़ाये, how to increase immunity power in hindi, immunity kaise badhaye in hindi, immunity system ko kaise badhaye, body me immunity power kaise badhaye, immunity ko kaise badhaye, apni immunity kaise badhaye, immunity power kaise badhaye, immunity kaise badhaye, immunity system kaise badhaye, body immunity kaise badhaye, sharir ki immunity kaise badhaye,
बॉडी में इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये [Body Me Immunity Power Kaise Badhaye (how to increase immunity power in Hindi)]

एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली का निर्माण हानिकारक बीमारियों से खुद को बचाने के सर्वोत्तम तरीके का लाभ उठाने के साथ शुरू होता है जैसे-टीके (Vaccines)।

आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली स्मार्ट है, लेकिन टीके इसे और भी स्मार्ट बनाने के लिए प्रशिक्षित करते हैं – यह सीखने में मदद करते हैं कि कुछ बीमारी पैदा करने वाली बीमारियों को कैसे पहचाना जाए और उनसे कैसे लड़ा जाए।

आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए इन हानिकारक कीटाणुओं के संक्रमण की तुलना में टीकाकरण के माध्यम से सीखना अधिक सुरक्षित है। विशेष रूप से आपके COVID-19 वैक्सीन या बूस्टर (अनुशंसित टीकाकरण) के साथ-साथ आपके वार्षिक फ्लू शॉट पर अप-टू-डेट रहना हमेशा महत्वपूर्ण होता है।

यह भी पढ़े –

2. स्वस्थ आहार का सेवन करें (Maintain a healthy diet)

जैसा कि आपके शरीर में अधिकांश चीजों के साथ होता है, एक स्वस्थ आहार एक व्यक्ति की मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली की कुंजी है। इसका मतलब है कि आप यह सुनिश्चित करें कि आप भरपूर सब्जियां, फल, फलियां, साबुत अनाज, लीन प्रोटीन और स्वस्थ वसा आहार का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें।

आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को आवश्यक ऊर्जा प्रदान करने के अलावा, एक स्वस्थ आहार यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकता है कि आपको पर्याप्त मात्रा में आवश्यक सभी पोषक तत्व मिल रहे हैं जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं, जिनमें शामिल हैं:

1. विटामिन B6 चिकन, सालमन फिश, टूना फिश, केला, आलू और हरी सब्जियाँ।

2. विटामिन C संतरे और स्ट्रॉबेरी, साथ ही टमाटर, ब्रोकोली और पालक सहित खट्टे फल।

3. विटामिन E बादाम, सूरजमुखी और सूरजमुखी का तेल, सूरजमुखी के बीज, पीनट बटर और पालक

चूंकि विशेषज्ञों का मानना ​​है कि आपका शरीर पूरक के बजाय आहार स्रोतों से विटामिन को अधिक कुशलता से अवशोषित करता है, इसलिए आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करने का सबसे अच्छा तरीका एक संतुलित आहार खाना है।

3. हाइड्रेटेड रहें (Stay hydrated)

पानी आपके शरीर में कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिसमें आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करना भी शामिल है। आपके परिसंचरण तंत्र में एक तरल पदार्थ जिसे लिम्फ कहा जाता है, जो आपके शरीर के चारों ओर महत्वपूर्ण संक्रमण से लड़ने वाली प्रतिरक्षा कोशिकाओं को ले जाता है, काफी हद तक पानी से बना होता है।

निर्जलित होने से लसीका की गति धीमी हो जाती है, जिससे कभी-कबार आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली बिगड़ जाती है। जरूरी नहीं कि हाइड्रेशन आपको कीटाणुओं और वायरस से बचाता है, लेकिन निर्जलीकरण को रोकना आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।

क्योंकि निर्जलीकरण सिरदर्द का कारण बन सकता है और आपके शारीरिक प्रदर्शन, ध्यान, मनोदशा, पाचन और हृदय और गुर्दे के कार्य में बाधा उत्पन्न कर सकता है। ये जटिलताएं बीमारी के प्रति आपकी संवेदनशीलता को बढ़ा सकती हैं। निर्जलीकरण को रोकने के लिए, पानी पाई बेस्ट विकल्प है, क्योंकि यह कैलोरी, एडिटिव्स और चीनी से मुक्त होता है।

आपको रोजाना पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पीना चाहिए। जिसमें चाय और जूस भी शामिल हैं, लेकिन फलों के रस और मीठी चाय के सेवन को सीमित करना सबसे अच्छा है क्योंकि उनमें चीनी की मात्रा अधिक होती है। यदि आप अधिक व्यायाम करते हैं, बाहर काम करते हैं, या गर्म वातावरण में रहते हैं तो आपको अधिक तरल पदार्थों की आवश्यकता हो सकती है।

एक सामान्य दिशानिर्देश के रूप में, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बड़े वयस्क पानी पीने की इच्छा धीरे-धीरे खोना शुरू कर देते हैं, क्योंकि उनका शरीर पर्याप्त रूप से प्यास का संकेत नहीं दे पाता हैं। जिससे वृद्ध वयस्कों को प्यास न लगने पर भी नियमित रूप से पानी पीने की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़े –

4. पर्याप्त नींद लें (Get enough sleep)

नींद और रोग प्रतिरोधक क्षमता का गहरा संबंध है। नींद निश्चित रूप से एक सक्रिय प्रक्रिया की तरह महसूस नहीं होती है, लेकिन जब आप जाग नहीं रहे होते हैं तो आपके शरीर में बहुत सी महत्वपूर्ण गतिविधियां होती हैं – भले ही आपको इसका एहसास न हो। उदाहरण के लिए, जब आप सोते हैं तो संक्रमण से लड़ने वाले महत्वपूर्ण अणु बनते हैं।

पर्याप्त आराम करने से आपकी प्राकृतिक प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हो सकती है। इसके अलावा, बीमार होने पर आप अधिक सो सकते हैं ताकि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली बीमारी से बेहतर तरीके से लड़ सके।

यदि आपको सोने में परेशानी हो रही है, तो सोने से पहले एक घंटे के लिए स्क्रीन का समय सीमित करने का प्रयास करें, क्योंकि आपके फोन, टीवी और कंप्यूटर से निकलने वाली नीली रोशनी आपके सर्कैडियन रिदम या आपके शरीर के प्राकृतिक जागने-नींद के चक्र को बाधित कर सकती है।

विशेषज्ञों का कहना है कि जो लोग पर्याप्त गुणवत्ता की नींद नहीं लेते हैं, उनके वायरस के संपर्क में आने के बाद बीमार होने की संभावना अधिक होती है, जैसे कि वे सामान्य सर्दी का कारण बनते हैं।

वयस्कों को प्रत्येक रात 7 या अधिक घंटे सोने का लक्ष्य रखना चाहिए, जबकि किशोरों को 8-10 घंटे और छोटे बच्चों और शिशुओं को 14 घंटे तक की नींद लेनी चाहिए।

वास्तव में, अपर्याप्त या खराब गुणवत्ता वाली नींद बीमारी की उच्च संवेदनशीलता से जुड़ी हुई है। नींद की स्वच्छता युक्तियों में पूरी तरह से अंधेरे कमरे में सोना या स्लीप मास्क का उपयोग करना, हर रात एक ही समय पर बिस्तर पर जाना और नियमित रूप से व्यायाम करना शामिल है।

5. नियमित रूप से व्यायाम करें (Exercise Regularly)

शारीरिक गतिविधि केवल मांसपेशियों के निर्माण और खुद को तनाव मुक्त करने के लिए ही नहीं बल्कि यह स्वस्थ रहने और स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करने का भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हालांकि लंबे समय तक किया गया तीव्र व्यायाम आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को और दबा सकता है, इसके विपरीत मध्यम व्यायाम आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ावा दे सकता है।

मध्यम व्यायाम का एक सत्र भी कम प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में टीकों की प्रभावशीलता को बढ़ा सकता है। नियमित, रूप से किया गया मध्यम व्यायाम सूजन को कम कर सकता है और आपकी प्रतिरक्षा कोशिकाओं को नियमित रूप से पुन: उत्पन्न करने में मदद कर सकता है। मध्यम व्यायाम में तेज चलना, स्थिर साइकिल चलाना, टहलना, तैरना और हल्की लंबी पैदल यात्रा करना शामिल हैं। एक व्यक्ति को प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट के मध्यम व्यायाम का लक्ष्य रखना चाहिए।

एक तरह से व्यायाम प्रतिरक्षा समारोह में सुधार कर सकता है, आपके समग्र परिसंचरण को बढ़ाकर, प्रतिरक्षा कोशिकाओं और अन्य संक्रमण से लड़ने वाले अणुओं के लिए आपके पूरे शरीर में अधिक आसानी से यात्रा करना आसान बनाता है। वास्तव में, हर दिन कम से कम 30 मिनट के लिए रोज व्यायाम करने से आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करने में मदद मिलती है।

6. अधिक स्वस्थ वसा खाएं (Eat more healthy fats)

जैतून के तेल और साल्मन में पाए जाने वाले स्वस्थ वसा, सूजन को कम करके रोगजनकों के प्रति आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ा सकते हैं। हालांकि निम्न-स्तर की सूजन तनाव या चोट के लिए एक सामान्य प्रतिक्रिया है, पुरानी सूजन आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा सकती है।

जैतून का तेल, जो अत्यधिक सूजन-रोधी होता है, हृदय रोग और टाइप 2 मधुमेह जैसी पुरानी बीमारियों के कम जोखिम से जुड़ा होता है। इसके अलावा, इसके एंटी-इन्फ्लामेंट्री गुण आपके शरीर को हानिकारक बीमारी पैदा करने वाले बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में मदद कर सकते हैं।

ओमेगा -3 फैटी एसिड, जैसे- सैल्मन और चिया बीज आदि ओमेगा 3 से भरपूर खाद्य प्रदार्थ, सूजन से भी लड़ने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़े –

7. तनाव लेने से बचें (Avoid Taking Stress)

यह समझना महत्वपूर्ण है कि तनाव आपके स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है – इसमें आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली पर पड़ने वाले प्रभाव भी शामिल हैं, चाहे वह जल्दी हो या समय के साथ बढ़ता हो।

तनाव की अवधि के दौरान, विशेष रूप से पुराने तनाव जो लगातार और लंबे समय तक चलने वाले होते हैं, आपका शरीर उस प्रतिक्रिया के साथ प्रतिक्रिया करता है जिसे तनाव प्रतिक्रिया कहा जाता है। यह आपके रास्ते में आने वाली तनावपूर्ण स्थितियों को संभालने में आपकी मदद करने के लिए है। दुर्भाग्य से, यह प्रतिक्रिया आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी दबा देती है – जिससे आपके संक्रमण या बीमारी की संभावना बढ़ जाती है।

तनाव हर किसी के लिए अलग होता है और हम इससे कैसे निपटते हैं। यह आपके स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव को देखते हुए, यह जानना महत्वपूर्ण है कि तनाव को कैसे पहचाना जाए। और, चाहे वह गहरी सांस लेने की बात हो, मध्यस्थता, प्रार्थना या व्यायाम, आपको उन गतिविधियों से भी परिचित होना चाहिए जो तनाव को कम करने में आपकी मदद करती हैं।

8. जड़ी-बूटियों और सप्लीमेंट्स से इम्युनिटी बढ़ाएं (Apni Body Me immunity kaise badhaye)

हर्बल स्टोर में ऐसी कई गोलियां और हर्बल जड़ी-बूटियों से बनी और सप्लीमेंट्स की बोतलें मिलेंगी जो “प्रतिरक्षा का समर्थन” करने का दावा करती हैं या और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली के स्वास्थ्य को बढ़ावा देती हैं।

यद्यपि इनमे से कुछ सप्लीमेंट्स प्रतिरक्षा कार्य के कुछ घटकों को बदलने के लिए पाए गए हैं, लेकिन इस प्रकार के अब तक कोई सबूत नहीं है कि वे वास्तव में उस बिंदु तक प्रतिरक्षा को मजबूत करते हैं जहां आप संक्रमण और बीमारी से बेहतर तरीके से सुरक्षित होते हैं।

यह प्रदर्शित करना कि क्या कोई जड़ी-बूटी – या कोई पदार्थ, उस मामले के लिए – प्रतिरक्षा को बढ़ा सकता है, अभी तक एक बहुत ही जटिल मामला है। उदाहरण के लिए, वैज्ञानिकों को यह नहीं पता है कि रक्त में एंटीबॉडी के स्तर को बढ़ाने वाली जड़ी-बूटी वास्तव में समग्र प्रतिरक्षा के लिए फायदेमंद है या नहीं।

तो आइये जानते है अपनी इम्युनिटी पॉवर को कैसे बढ़ाये रखें (Body Me Immunity Power Kaise Badhaye How To Increase Immunity Power In Hindi?)

अपनी बॉडी में इम्युनिटी पावर कैसे बनाये रखे? (How to maintain immunity power in your body In Hindi?):

आप अपने प्रतिरक्षा प्रणाली को कैसे बेहतर कर सकते हैं? अपनी बॉडी में इम्युनिटी पॉवर को बढाने का सही तरीका है खुद के शरीर को, अपने परिवारजन को, अपने बच्चों को इसके लिए तैयार करना। अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ाने का विचार आकर्षक है, लेकिन ऐसा करने की क्षमता कई कारणों पर निर्भर करती है।

कुल मिलाकर, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली रोग पैदा करने वाले सूक्ष्मजीवों से आपकी रक्षा करने का उल्लेखनीय कार्य करती है। लेकिन कभी-कभी यह विफल हो जाता है: एक रोगाणु सफलतापूर्वक आक्रमण करता है और आपको बीमार कर देता है। क्या इस प्रक्रिया में हस्तक्षेप करना और अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाना संभव है?

इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये के लिए कुछ सुझाव (Some Tips To Increase Immunity Power In Hindi):

क्या होगा यदि आप अपने आहार में सुधार करते हैं? यहाँ निचे हमने अपनी बॉडी में इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाये के लिए कुछ सुझाव (Body Me Immunity Kaise Badhaye?) के बारे में कुछ आवश्यक सुझाव बताए है जो निम्न प्रकार है-

  1. 30 – 60 मिनट प्रतिदिन व्यायाम व योग का नियम बनाएं। उम्र कोई भी हो आपकी। खुद के लिए इतना तो कर ही सकते हो।
  2. खुद को और अपने बच्चों को ज्यादा से ज्यादा शारीरिक मेहनत की आदत डालें। मशीनों की बजाय खुद के शरीर पर विश्वास रखें।
  3. पैदल चलना, साइकिल चलाना, सीढ़ी चढ़ने की आदत अब अच्छी आदत में शुमार हो गई है। कार, स्कूटर का लालच दूर रखें।
  4. धूप में सारे विटामिन और जीवन के लिए जरूरी तत्व हैं, तो दिन में कम से कम आधा घंटा धुप जरुर लें।
  5. देर रात तक जगने की आदत को बदले और रोज अच्छी नींद लें।
  6. रोज गर्म पानी का सेवन करने की आदत डालें।
  7. जिन आंवला, अदरक, नीबू, गिलोय, फल, सलाद, अंकुरित अनाज, आयुर्वेदिक खाद्य जैसी कुदरती चीजों को हम पैक्ड व जंक फूड के चलते भूल गए थे; उनको ही अब अपने आहार में शामिल करना जरूरी है। आज सभी डॉक्टर व रिसर्चर बोल रहे हैं कि इनका उपयोग अवश्य करें।
  8. हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन का सेवन बढ़ाएं।
  9. हर्बल चाय या पवित्र तुलसी, दालचीनी, काली मिर्च, सूखी अदरक और किशमिश का काढ़ा पिएं।
  10. चीनी से बचें और ज़रूरत पड़ने पर इसे गुड़ का इस्तेमाल करें।
  11. फेफड़ो और सांस लेने की किर्या को मजबूत बनाने के लिए आप कपालभाती प्राणायाम, अनुलोम विलोम प्राणायाम, और अग्निसार प्राणायाम का भी रोज अभ्यास करें।

तल – रेखा (The bottom line)

कोई भी व्यक्ति अपने आहार और जीवनशैली में परिवर्तन कर अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत कर सकता हैं। इनमें चीनी का सेवन कम करना, हाइड्रेटेड रहना, नियमित रूप से वर्कआउट करना, पर्याप्त नींद लेना और अपने तनाव के स्तर को प्रबंधित करना शामिल है। हालांकि इनमें से ये कोई भी सुझाव COVID-19 को रोक नहीं सकता है, लेकिन ये हानिकारक रोगजनकों के खिलाफ आपके शरीर की सुरक्षा को सुदृढ़ कर सकते हैं।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की बॉडी में इम्युनिटी पॉवर कैसे बढ़ाये [Body Me Immunity Kaise Badhaye (How To Increase Immunity Power In Hindi)]

यह भी पढ़े –  

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख बॉडी में इम्युनिटी पॉवर कैसे बढ़ाये [Body Me Immunity Kaise Badhaye (How To Increase Immunity Power In Hindi)] पसंद आया होगा ,अगर आपको भी बॉडी में इम्युनिटी पॉवर कैसे बढ़ाये [Body Me Immunity Kaise Badhaye (How To Increase Immunity Power In Hindi)] के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई बॉडी में इम्युनिटी पॉवर कैसे बढ़ाये [Body Me Immunity Kaise Badhaye (How To Increase Immunity Power In Hindi)] जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी बॉडी में इम्युनिटी पॉवर कैसे बढ़ाये [Body Me Immunity Kaise Badhaye (How To Increase Immunity Power In Hindi)] के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here