हलासन करने का तरीका और फायदे [Halasana (Plow Pose) Steps And Benefits in Hindi]

हलासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Halasana (Plow Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi : हमारी लगातार बदलती जीवन शैली कई बीमारियों को आमंत्रित करने का काम करती है। हमें  इन बीमारियों से बचने के लिए न केवल अपनी दिनचर्या को ठीक करने की जरूरत है बल्कि हमें अपनी दिनचर्या में प्रतिदिन योग को शामिल करने की आवश्यकता है। स्वस्थ रहने का सबसे आसान और सटीक तरीका योग है। योग के नियमित अभ्यास से जीवन में अनुशासन आता है।

रोजाना सुबह जल्दी उठकर स्वच्छ वातावरण में योग करने से यें आपको शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते हैं और आपके दिन को तरोताजा रखने में भी मदद मिलती है। इसलिए प्रतिदिन रोज सुबह योग करना हमारे लिए महत्वपूर्ण है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की हलासन क्या है, हलासन कैसे करते है और हलासन के लाभ एवं हलासन करने के फायदे क्या होते है और हलासन की विधि, के साथ-साथ हलासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

Table Of Contents :

हलासन क्या है? [What is Halasana (Plow Pose) in hindi]:

‘हलासन’ संस्कृत के दो शब्दों के मेल से बना है, जिसमे ‘हला का अर्थ है “हल” और ‘आसन’ का अर्थ है “आसन” या “मुद्रा”।

भारतीय पारंपरिक कृषि में, हल एक विशेष उपकरण है जिसका उपयोग खेतों की जुताई के लिए किया जाता है। अपने पूरे आसन में, यह आसन उसी ‘हल’ के समान दिखता है, इसलिए इसे अंग्रेजी में ‘प्लो पोज’ कहा जाता है।

हलासन एक ऐसा आसन है जो पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए समान रूप से फायदेमंद है लेकिन यह महिलाओं के शरीर को पतला बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यह हमारे शरीर को लचीला बनाने के लिए महत्वपूर्ण है। यह योगासन पेट और पीठ की मांसपेशियों और भुजाओं को मजबूत बनाने के लिए सबसे अच्छा आसन है।

आपके शरीर में कई सोयी हुई शक्तियाँ हैं जिनका उपयोग शरीर कभी नहीं कर पाता है। हलासन के अभ्यास के साथ, शरीर ऐसी कई शक्तियों को सक्रिय करने की शक्ति हासिल करने में सक्षम होता है।

(यह भी पढ़े – गरुडासन करने का तरीका और फायदे [Garudasana (Eagle Pose) Steps And Benefits in Hindi])

हलासन के फायदे और लाभ [Benefits of Halasana (Plow Pose) in Hindi]:

हलासन योग मुद्रा करने से शरीर को कई जबरदस्त लाभ होतें है। यह आसन मस्तिक और दिमाग को शांत रखने में मदद करता है। हलासन के फायदे से कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है, आइये जानतें है की हलासन के फायदे क्या हैं-

हलासन करने का तरीका और फायदे – Halasana (Plow Pose) Steps and Benefits in Hindi
हलासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Halasana (Plow Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi

1. हलासन के फायदे पाचन तंत्र में सुधार करता है [Benefits of Halasana (Plow Pose) Improves Digestive System in Hindi]:

एक खराब पाचन कब्ज, एसिडिटी, अपच आदि विभिन्न समस्याओं को जन्म देता है। ऐसे में  हला सन योग करने से पाचन तंत्र पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

यह एसिडिटी, अपच और कब्ज जैसी समस्याओं के लिए फायदेमंद है। यह आसन पाचन शक्ति को बढ़ाता है और भूख से संबंधित समस्याओं को भी दूर करता है, ताकि आप पेट की समस्याओं से बचे रहें।

यह योगासन पाचन तंत्र को कोमल मालिश देता है और भोजन को उचित रूप से आत्मसात करने के लिए पेट को मजबूत करता है और पेट के विभिन्न विकारों से राहत प्रदान करती है। यह अल्सर कोलाइटिस कब्ज की बीमारी के इलाज में भी कारगर है।

2. डायबिटीज दूर करने में हलासन के फायदे है [Benefits of Halasana (Plow Pose) Beneficial for diabetes in Hindi]:

डायबिटीज या मधुमेह आपको कभी भी आघात पहुंचा सकता है और अत्यधिक पेशाब आना, एकाग्रता की हानि, उच्च रक्तचाप कुछ ऐसी समस्याएं हैं जो इसके साथ होती हैं। यदि आप दर्दनाक इंसुलिन और गोलियों के लिए एक वैकल्पिक प्रणाली की इच्छा रखते हैं, तो योग का अभ्यास किया जा सकता है, विशेष रूप से हलासन।

मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए, यह आसन किसी वरदान से कम नहीं है। यह रक्त शर्करा या ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है, जो मधुमेह के रोगियों के लिए आवश्यक है। साथ ही, यह आसन उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।

3. थायरॉयड ग्रंथि की समस्याओं के लिए हलासन के फायदे [Benefits of Halasana (Plow Pose) For Thyroid Gland Problems in Hindi]:

यह आसन थायरॉयड ग्रंथि से जुड़ी समस्याओं को खत्म करने में भी मदद करता है। प्लो पोज (Plow Pose) पेट के आंतरिक अंगों और थाइरोइड की ग्रंथियों को उत्तेजित करता है, जो आपको थायराइड जैसी कई बीमारियों से बचाता है।

4. अनिद्रा की स्धिती में हलासन के फायदे [Benefits of Halasana (Plow Pose) insomnia problem in Hindi]:

यह आसन अनिद्रा की समस्या को दूर करने में लाभदायक है, अनिद्रा एक ऐसी बीमारी है जिसमें व्यक्ति ठीक से सो नहीं पाता है। तनाव या स्ट्रेस भी नींद की कमी के पीछे एक बड़ा कारण हो सकता है ऐसे में इस योग के माध्यम से तनाव और चिंता को दूर किया जा सकता है।

(यह भी पढ़े – उत्थित त्रिकोणासन करने का तरीका और फायदे [Utthita Trikonasana (Extended Triangle Pose) Steps And Benefits in Hindi])

5. वजन घटाने में हलासन के फायदे [Benefits of Halasana (Plow Pose) Effective in Weight Loss in Hindi]:

प्रतिदिन इस आसन का अभ्यास करने से आपको कई फायदे होते हैं। इस आसन के नियमित अभ्यास से आप अपने पेट की अतिरिक्त चर्बी को कम कर सकते है और आप अपने वजन को भी नियंत्रित कर सकते हैं।

6. हलासन के फायदे मस्तिष्क को शांत करता है [Benefits of Halasana (Plow Pose) Calms the brain in Hindi]:

व्यस्तता और बढ़ते काम के दबाव के कारण तनाव आम है, ऐसे में इस प्लो पोज का अभ्यास करने के बाद सबसे ज्यादा मानसिक शांति का अनुभव किया जा सकता है।

यह आसन एक उन्नत अभ्यास है, लेकिन यह किसी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य पर अविश्वसनीय प्रभाव डालता है।

यह आसन मस्तिष्क को रक्त और ऊर्जा का उचित मात्रा में प्रवाह करता है जिससे व्यक्ति को तनाव और थकान की समस्या भी कम होती है।

7. हलासन के फायदे पीठ दर्द से राहत दिलाता है [Benefits of Halasana (Plow Pose) Relieves Backache in Hindi]:

प्लो पोज (Plow Pose) आपकी मांसपेशियों को मजबूत करता है, यह आसन पीठ की मांसपेशियों को फैलाता है और रीढ़ की हड्डी को मजबूत और लचीला बनाता है जिससे यह योग पीठ के निचले हिस्से में दर्द से राहत दिलाता है।

8. हलासन के फायदे रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है [Benefits of Halasana (Plow Pose) Promotes blood circulation in Hindi]:

प्लो पोज (Plow Pose) के नियमित अभ्यास से शरीर में रक्त के संचार को बढ़ावा मिलता है। रक्त परिसंचरण मानव शरीर के सबसे महत्वपूर्ण तंत्रों में से एक है, जिसका मन, शरीर और आत्मा के कल्याण पर सीधा प्रभाव पड़ता है। दिल और फेफड़ों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए, प्लो पोज़ कई मायनों में सबसे अच्छा व्यायाम हो सकता है।

9. हलासन के फायदे शरीर के लचीलेपन को बढ़ाता है [Benefits of Halasana (Plow Pose) increase body flexibility in Hindi]:

प्लो पोज (Plow Pose) शरीर में लचीलेपन को बढ़ाता है, लचीलापन स्वस्थ शरीर का एक महत्वपूर्ण पहलू है। यह इस बात का चित्रण है कि शरीर कितना फिट है।

इस आसन का अभ्यास करने से यह शरीर को कई तरह से मोड़ता है, जिससे शरीर में बड़ी परिवर्तनशीलता आ जाती है। यह आसन अनुकूलन क्षमता के कौशल (Adaptability skills) में सुधार करता है और भौतिक फिटनेस के उच्चतम स्तर को प्राप्त करने में मदद करता है।

10. सिरदर्द के लिए हलासन के फायदे [Benefits of Halasana (Plow Pose) for Headache in Hindi]:

सिरदर्द आज की पीढ़ी के लिए एक आम समस्या बन गई है। बढते काम-काज के बोझ के  कारण आज हर कोई सिरदर्द की समस्या से परेशान रहता है, हलासन सिरदर्द की समस्या को कम करता है इसलिए जिन लोगो को अक्सर सिरदर्द की शिकायत रहती है उन को प्लो पोज (Plow Pose) करना चाहिये क्योंकि यह आसन मस्तिष्क को शान्त और शरीर को स्वस्थ रखने में करता है।

हलासन के फायदे जानने के बाद आइये जानते है, इसे करने से पहले क्या आसन करे-

हलासन करने से पहले यह आसन करें [Perform This Asana Before Performing The Halasana (Plow Pose) in Hindi]:

आप अगर चाहे तो इस आसन को करने से पहले यहाँ निचे बताये गये आसनो को कर सकते हैं जिससे आपकी कूल्हे, हॅम्स्ट्रिंग और जांघे अच्छे से खुल जाएँगे।

हलासन करने का तरीका [How To Do Halasana (Plow Pose) in Hindi]:

इस आसन को धीरे और धीरे करें अपनी गर्दन पर ज्यादा जोर न दें। यदि आपकी गर्दन में लचीलापन कम है तो आप कंधों के नीचे एक तौलिया रख सकते है, ऐसा करने से गर्दन को थोड़ा आराम मिलेगा।

यदि आपको पूरी तरह से मुड़ने में कठिनाई होती है, तो आप अपने पैरों के निचे एक योग ब्लॉक पर रख कर इस आसन का अभ्यास कर सकते हैं। यदि आप इसे ओर आसान बनाना चाहते हैं, तो आप इस आसन को एक कुर्सी की सहायता लेकर भी कर सकते हैं।

हलासन कैसे करें [Steps of Halasana (Plow Pose) in Hindi]:

  1. सबसे पहले, स्वच्छ वातावरण में एक योग चटाई बिछा लें और उस पर सीधे लेट जाएँ।
  2. अपनी भुजाओं को शरीर से सटा कर अपने बगल में जमीं पर टीका कर रखें लें।
  3. हाथो की हथेलियों की दिशा निचे जमीन की ओर कर के रखें।
  4. श्वास अंदर लेते हुए पैरों को 90 डिग्री तक ऊपर की ओर उठाएं।
  5. यदि पैरों को उठाने में कठिनाई होती है, तो आप हाथों से कमर को सहारा दे सकते हैं।
  6. ध्यान रखे की पांव मुड़े हुये ना हों।
  7. सांस को धीरे धीरे अन्दर लें और धीरे धीरे सांस छोड़े और सुनिश्चित करें कि आपका संतुलन सही है।
  8. अब धीरे से सांस छोड़ते हुए पैरों को सीधा रखते हुए, धीरे-धीरे सिर के उपर से होते हुए पीछे की ओर ले जाएं।
  9. इस स्धिती में पैर के अंगूठे से जमीन को छूने की कोशिश करें।
  10. अब अपने हाथों को कमर से हटाकर जमीन पर सीधा रखें।
  11. हाथो की हथेलियों की दिशा निचे जमीन की ओर रहेंगी।
  12. सामान्य गति से सांस लेते रहें और जितना संभव हो हलासन योग मुद्रा में बने रहने की कोशिश करें।
  13. कुछ समय इस मुद्रा में रहने के बाद वापस सांस लेते हुए धीरे-धीरे प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।
  14. आप अपनी क्षमता के अनुसार इस योगासन को 3 से 5 बार कर सकते हैं।

(यह भी पढ़े – उत्तानासन करने का तरीका और फायदे [Uttanasana (Standing Forward Bend Pose) Steps And Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया हलासन करने का तरीका [Baba Ramdev Step by Step Instructions For Halasana (Plow Pose) in Hindi]:

हलासन करने के बाद के यह आसन करे [Perform This Asana After Performing The Halasana (Plow Pose) in Hindi]:

आप अगर चाहे तो हलासन योग करने के बाद यह आसन कर सकते है-

हलासन करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Halasana (Plow Pose) in Hindi]:

हलासन कैसे करें, हलासन के फायदे और हलासन की विधि जानने के साथ-साथ इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में जानना भी जरूरी है, आइए जानते हैं कि इस आसन को करते समय व्यक्ति को कौन-कौन सी सावधानियां और एहतियात रखनी चाहिए-

  • अगर आपको कंधे में चोट, दिल से संबंधित कोई बीमारी है, या कार्पल टनल सिंड्रोम से पीड़ित हैं, तो इसका अभ्यास न करें।
  • अगर आपको दस्त या गर्दन में चोट की समस्या है तो हलासन का अभ्यास न करें।
  • यदि आपको इस आसन को करते समय अपने पैरों को फर्श पर ले जाने में कठिनाई होती है, तो इस आसन का अभ्यास किसी विशेषज्ञ की देखरेख में ही करें।
  • गर्भावस्था और मासिक धर्म के पहले दो दिनों में महिलाओं को इस आसन का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपको हाल ही में किसी भी प्रकार का स्पाइनल डिसऑर्डर हुआ है, तो इस आसन को करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की हलासन करने का तरीका और फायदे (Plow Pose / Halasana Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख हलासन के फायदे और करने का तरीका (Plow Pose / Halasana Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी हलासन करने का तरीका और फायदे (Plow Pose / Halasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई हलासन करने का तरीका और फायदे (Plow Pose / Halasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी हलासन करने का तरीका और फायदे (Plow Pose / Halasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!