गोमूत्र के फायदे और नुकसान [10 Effective Benefits Of Cow Urine (Gomutra) in Hindi]

Show Some Love By Sharing!

क्या आपको पता है गोमूत्र के फायदे और नुकसान (Gomutra Ke Fayde Aur Nuksan) क्या होते है, अगर नहीं तो यहाँ हमने विस्तार में बताया है की गोमूत्र पीने से क्या होता है, और गोमूत्र के फायदे और नुकसान क्या होते है।

इसी लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, जिसे पढ़ने के बाद आपको यह ज्ञान हो जाएगा की गोमूत्र पीने से क्या फायदा होता है, तो चलिए शुरू करते है।

विषय सूची :

गोमूत्र के फायदे और नुकसान (Benefits And Side Effects Of Cow Urine in Hindi) : भारतीय परंपरा के अनुसार, गाय को माता के रूप में माना जाता है और विशेष रूप से हिंदुओं के बीच उन्हें पवित्र माना जाता है। यहां भारत में गाय को “गोमाता” कहते हैं।

हम सभी साफ और चमकीली त्वचा चाहते हैं। और इतना ही नहीं हम सभी चिंता और स्ट्रेस से दूर, अच्छा पाचन, एक स्वस्थ दिल, एक सक्रिय और फिट शरीर चाहते हैं, जिसके लिए हम न जाने उन सभी को पाने के लिए काफी पैसे बर्बाद कर देते है पैर ये सब सिर्फ एक चीज से भी पाए जा सकते है, जो गोमूत्र से सम्भव है जी हाँ! नहीं, मैं मजाक नहीं कर रहा हूँ!

गोमूत्र हमारे लिए इतना महत्वपूर्ण क्यों है? (Why is cow urine so important to us?):

आयुर्वेद में गाय का मूत्र या गौमूत्र को ‘ अमृता ‘ या जीवन का अमृत कहा गया है। पंचगव्य घृत के अनुसार, गोमूत्र में औषधीय गुण होते हैं। यह एड्स, कैंसर, एडिमा, एनीमिया और मधुमेह जैसे रोगों को ठीक करने के लिए दूध, दही, घी, और गाय के गोबर के साथ एकरूपता से प्रयोग किया जाता है।

गोमूत्र को इसके एंटीबायोटिक, एंटिफंगल, एंटीकैंसर और बायोएन्हेंसर गुणों के लिए पेटेंट दिया गया है। और ये गुण 95% पानी, 2.5% यूरिया, खनिज, 24 प्रकार के लवण, हार्मोन और 2.5% एंजाइमों के कारण होता हैं जो गोमूत्र का निर्माण करते हैं।

चूंकि यह विभिन्न लवणों, एंजाइमों और माइक्रोन्यूट्रिएंट्स के साथ फोर्टिफाइड होता है, गोमूत्र पीने या इसे स्वास्थ्य पेय, चाय, और शंखनाद में शामिल करने से आपको कई लाभ मिलते हैं।

नोट: इसका सेवन स्वयं न करें बल्कि किसी डॉक्टर की सलाह पर ही करें।

(यह भी पढ़े – Nariyal Pani Ke Fayde Aur Nuksan [14 Amazing Coconut Benefits in Hindi])

तो आइये जानते है गोमूत्र के फायदे और लाभ (Gomutra Ke Fayde in Hindi) क्या होते है, जिन्हें आप गोमूत्र पी कर पा सकते है!

गोमूत्र के फायदे और लाभ (Benefits of Cow Urine in Hindi):

गोमूत्र के फायदे और नुकसान - Cow Urine (Gomutra) Benefits and Side Effects in Hindi
गोमूत्र के फायदे और नुकसान – Gomutra Ke Fayde aur nuksan (Benefits And Side Effects Of Cow Urine in Hindi)

1. कैंसर रोगियों के लिए गोमूत्र के फायदे (Benefits of Cow Urine For Cancer Patients in Hindi):

गोमुत्र की एंटीऑक्सीडेंट संपत्ति और DNA की मरम्मत करने की इसकी क्षमता इसे कैंसर के प्रबंधन में प्रभावी बनाती है। एक पूर्ववर्ती अध्ययन में, गोमूत्र ट्यूमर के जोखिम को कम करने में उपयोगी पाया गया था। गोमूत्र के नियमित उपयोग से ट्यूमर की गंभीरता में भी कमी आई है।

गोमूत्र में महान एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो ऑक्सीडेटिव तनाव और मुक्त कणों को नष्ट करने में मदद करते हैं। ये गुण गोमूत्र की संभावित कैंसर-विरोधी शक्तियों की ओर इशारा करते हैं।

यह कहना गलत होगा कि यह कैंसर का इलाज कर सकता है लेकिन कैंसर के खतरे के लिए यह एक निवारक के रूप में कार्य करता है।

2. घाव भरने के लिए गोमूत्र के फायदे (Benefits of Cow Urine For Wound Healing in Hindi):

पशु आधारित अध्ययनों से पता चलता है कि गाय के मूत्र के सामयिक अनुप्रयोग में घाव भरने के शक्तिशाली गुण होते हैं।

इसका कारण यह है की इसमें एलेंटोइन की उपस्थिति होती है जो घाव भरने की प्रक्रिया में सुधार करता है। यह एंटीबॉडी के स्तर को भी बढ़ाता है जो सुनिश्चित करता है कि आपके घाव संक्रमित न हो।

3. आंतों के कीड़े के लिए गोमूत्र के फायदे (Benefits of Cow Urine For Intestinal Worms in Hindi):

परंपरागत रूप से, गोमूत्र का उपयोग आंतों के कीड़े के उपचार के लिए किया जाता है। इस प्रभाव की पुष्टि करने के लिए भारतीय केंचुओं पर गाय से दूध, दही, घी, गोबर और मूत्र से युक्त औषधीय उत्पाद पंचगव्य का परीक्षण किया गया।

जैसा कि केंचुए शारीरिक रूप से और शारीरिक रूप से आंतों के गोल कीड़े के समान होते हैं, इस अध्ययन से पंचगव्य के कृमिनाशक गुणों को समझने में मदद मिली।

यह दिखाया गया है कि अन्य दवाओं की तुलना में पंचगव्य की निगरानी की खुराक पर निर्भर तरीके से पक्षाघात और केंचुओं की मौत के लिए बहुत प्रभावी थी।

अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला कि गोमूत्र के कृमिनाशक गुणों का उपयोग शूल और अन्य परजीवी प्रतिक्रियाओं के उपचार में किया जा सकता है।

(यह भी पढ़े – Lauki Ka Juice Peene Ke Fayde Aur Nuksan [19 Amazing Lauki Juice Benefits in Hindi])

4. गोमूत्र के फायदे जैव-वर्धक के रूप में (Benefits of Cow Urine As A Biodegrader in Hindi):

आयुर्वेदिक चिकित्सा में गोमूत्र को “बायोएन्हेंसर (Bioenhancer)” के रूप में जाना जाता है। इसका मतलब यह है कि गोमूत्र, जब अन्य दवाओं के साथ प्रशासित किया जाता है तो उनकी जैवउपलब्धता बढ़ जाती है। कई आयुर्वेदिक दवाएं गोमूत्र की इस जैव बढ़ाने वाली संपत्ति का उपयोग करती हैं।

लेकिन यह विशेष रूप से उन दवाओं के साथ उपयोग किया जाता है जिन्हें उनके दुष्प्रभावों से बचने के लिए कम खुराक लेने की आवश्यकता होती है। इस अवधारणा को आयुर्वेद में योगवाही के रूप में जाना जाता है।

जब इसे विभिन्न घटकों के साथ संयुक्त किया जाता है, तो गोमूत्र का उपयोग मानसिक विकारों के उपचार के लिए किया जाता है।

अनुसंधान बताता है कि गाय का मूत्र कोशिका झिल्लियों (शरीर की कोशिकाओं की बाहरी सुरक्षात्मक परत) में दवाओं को पहुंचाने में मदद करता है, जिससे वे शरीर में आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार, गौमूत्र में ‘रसायन’ तत्व होता है, जो बायोएनेशनर (Bioenhancer) का काम करता है।

5. प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए गोमूत्र के फायदे (Benefits Of Cow Urine For The Immune System in Hindi):

प्राचीन वैद्यों का मानना ​​था कि गोमुत्र हमारे शरीर की प्रतिरोधक शक्ति को 104% तक बढ़ाता है। पशु मॉडल पर किए गए एक शोध में, यह पाया गया कि गाय के मूत्र से सेल-मध्यस्थता और विनोदी प्रतिरक्षा दोनों में वृद्धि हुई है।

अध्ययन ने यह भी संकेत दिया कि गोमूत्र के सेवन से सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि होती है और एक महीने के भीतर कुल प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया होती है। यह सुझाव दिया गया है कि गोमूत्र में  मौजूद “रसायन” तत्त्व प्रतिरक्षा प्रणाली की मजबूती के लिए जिम्मेदार है।

6. गोमूत्र के फायदे एंटी-एजिंग लाभ देता है (Benefits Of Cow Urine Gives Anti-Aging Benefits in Hindi):

हमारे शरीर में कुछ स्वस्थ सूक्ष्म पोषक तत्वों को नियमित आधार पर मूत्र के माध्यम से बाहर निकाल दिया जाता है। इससे हमारे शरीर की उम्र बढ़ने लगती है। गोमुत्र का सेवन शरीर में इन तत्वों की कमी को पूरा करता है। इस प्रकार यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है और इसलिए इसे “अमृत” और “जीवन बढ़ाने वाला अर्क” भी कहा जाता है।

इसके अलावा, एंटीऑक्सिडेंट के स्रोत के रूप में, गोमूत्र आपके शरीर से मुक्त कणों को मैला करने में मदद करता है, यह सुनिश्चित करता है कि आपके ऊतक ऑक्सीडेटिव तनाव से ग्रस्त नहीं हैं। तो बस अपने दैनिक जीवन में गोमूत्र की खुराक लो और समय से पहले उम्र बढ़ने के संकेतो को अलविदा कहो।

7. मधुमेह के लिए गोमूत्र के फायदे (Benefits Of Cow Urine For Diabetes in Hindi):

मधुमेह पर गोमूत्र के प्रभाव का अध्ययन मधुमेह पशु मॉडल पर किया गया था। अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला कि गोमुत्र के सेवन से रक्त शर्करा का स्तर काफी कम हो जाता है और खुराक में वृद्धि के बावजूद कोई दुष्प्रभाव नहीं पाया गया।

एक अन्य अध्ययन में, गोमूत्र के मधुमेह-विरोधी प्रभावों की तुलना गोमूत्र और कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों से बने पारंपरिक पॉलीहर्बल सूत्रीकरण से की गई, जिसका उपयोग मधुमेह के लक्षणों को कम करने के लिए किया जाता है। इस अध्ययन के निष्कर्षों के अनुसार, गोमूत्र अकेले निर्माण से अधिक प्रभावी है।

हालांकि, मधुमेह के लोगों को किसी भी रूप में गोमूत्र लेने से पहले अपने डॉक्टर से बात करने की सलाह दी जाती है।

(यह भी पढ़े – Avocado Ke Fayde Aur Nuksan [12 Amazing Avocado Benefits in Hindi])

8. गोमूत्र के फायदे त्वचा के लिए लाभकारी है (Benefits Of Cow Urine is Beneficial For Skin in Hindi):

गोमूत्र का उपयोग पारंपरिक रूप से विभिन्न त्वचा रोगों के उपचार के लिए किया जाता है, जिसमें विटिलिगो और त्वचा के फंगल संक्रमण शामिल हैं। यह मुंहासों को भी दूर रखने के लिए असरदार माना जाता है। यद्यपि गोमूत्र को कैंडिडा प्रजातियों के खिलाफ ऐंटिफंगल गतिविधि के अधिकारी के रूप में प्रदर्शित किया गया है, और जीवाणुरोधी प्रभावों के कुछ स्तर, मजबूत सबूतों की कमी से इस प्रभाव की पुष्टि करना मुश्किल हो जाता है।

यह एक उत्कृष्ट घाव भरने वाला एजेंट है और इसके जीवाणुरोधी और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव के माध्यम से ऐसे घावों में बैक्टीरिया के संक्रमण के जोखिम को कम करता है।

प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट का स्रोत होने के कारण, यह समय से पहले बूढ़ा होने के संकेतों को कम करने में सहायक हो सकता है, जिसमें काले धब्बे, झुर्रियाँ और ढीली त्वचा शामिल हैं।

9. बवासीर के लिए गोमूत्र के फायदे (Benefits Of Cow Urine For Piles in Hindi):

रक्तस्रावी या बवासीर एक ऐसी स्थिति है जो गुदा क्षेत्र में और उसके आसपास सूजन और दर्द से चिह्नित होती है। अपार असुविधा पैदा करने के अलावा, यह सूजन वाले रक्तस्रावी ऊतकों से रक्तस्राव का कारण भी बनता है। पारंपरिक रूप से, गोमूत्र बवासीर के लक्षणों को दूर करने और रक्तस्राव और दर्द को कम करने के लिए एक अच्छा विकल्प माना जाता है।

सटीक कारण और रक्तस्राव के लिए एक प्राकृतिक उपचार खोजने के लिए व्यापक शोध किया गया है। कब्ज को बवासीर के लिए जिम्मेदार कारकों में से एक माना जाता है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस इन्वेंशन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, गोमूत्र आंतों पर सुखदायक प्रभाव डालता है।

यह आपके आंत से मल के आसान उन्मूलन की सुविधा प्रदान करता है जिससे गुदा दीवारों पर अत्यधिक दबाव से राहत मिलती है।

यहाँ निचे हमने बाबा रामदेव द्वारा बताया गया गोमूत्र के फायदे (Gomutra Ke Fayde in Hindi) बताये है, जिन्हें आपको जानना चाहिए-

गोमूत्र के फायदे बाबा रामदेव द्वारा बताये गये (Gomutra Ke Fayde Baba Ramdev Dwara Bataye Gaye in Hindi):

यहाँ निचे हमने अन्य गोमूत्र के फायदे और लाभ (Gomutra Ke Fayde in Hindi) बताये है, जिन्हें आपको जानना चाहिए-

अन्य गोमूत्र के फायदे और लाभ (Other Benefits of Cow Urine in Hindi):

  1. सुश्रुत संहिता, अष्टांग संघ और भाव प्रकाश निघंटु जैसे आयुर्वेदिक शास्त्र गाय के मूत्र के उपयोग को स्वयं या अन्य प्राकृतिक मिश्रण या घटकों के साथ संयोजन में उजागर करते हैं, जिससे संक्रमण का प्रभावी ढंग से उपचार किया जा सकता है। एक जीवाणुरोधी एजेंट के रूप में गोमूत्र बुखार (ज्वर/तपेदिक) के उपचार में प्रभावी माना जाता है। चूंकि दवा प्रतिरोधी रोगजनकों के विकास ने बहुत सारी पारंपरिक चिकित्सा को बेकार कर दिया है, इसलिए प्राकृतिक उत्पाद के रूप में गोमूत्र ऐसी एंटीबायोटिक दवाओं के लिए एक प्रभावी विकल्प हो सकता है।
  2. आयुर्वेद में एनीमिया के इलाज के लिए गोमूत्र के उपयोग का उल्लेख किया गया है। भारत में एनीमिया का सबसे आम कारण हमारे दैनिक आहार में पर्याप्त आयरन से भरपूर खुराक की कमी है। यह माना जाता है कि गोमूत्र में एरिथ्रोपोइटिन की उपस्थिति RBC और हीमोग्लोबिन की संख्या में वृद्धि करके एनीमिया के लिए एक प्रभावी उपाय बनाती है। इसके अलावा, गोमूत्र में यूरिया भी होता है, जो RBC संरचना को बनाए रखने में मदद करता है, जिससे इष्टतम कार्य सुनिश्चित होता है।
  3. गोमूत्र में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो लीवर के सुचारू संचालन में मदद कर सकते हैं। इसलिए स्वस्थ लीवर के लिए गोमूत्र अर्क का सेवन किया जा सकता है।
  4. अध्ययनों से संकेत मिलता है कि पंचगव्य, जिसमें गोमूत्र इसके एक घटक के रूप में है, में महत्वपूर्ण विघटनकारी गुण होते हैं और इसलिए इसका उपयोग मिर्गी के प्रबंधन के लिए किया जा सकता है। हालांकि, गोमूत्र, मिर्गी को पूरी तरह से रोकने के लिए पर्याप्त रूप से शक्तिशाली नहीं पाया गया।
  5. गोमुत्र का उपयोग कुष्ठ रोग, पेट के दर्द और सूजन के इलाज में किया जा सकता है।
  6. ऐसा माना जाता है कि यह किसी भी नकारात्मकता को दूर रखता है और महान स्वास्थ्य की आभा को पैदा करता है।
  7. गोमूत्र की शुद्धि गुणों के लिए की जाती है। यह सभी विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर शरीर के अंदर से मानव शरीर को डिटॉक्सिफाई करता है और इस प्रकार शरीर को कई स्वास्थ्य जोखिमों से दूर रखता है।
  8. गोमूत्र एक प्राकृतिक और प्रभावी कीटनाशक भी है।
  9. गोमुत्र तनाव और मानसिक तनाव के बुरे प्रभावों को नियंत्रित करने में मदद करता है।
  10. गोमूत्र पेप्टिक अल्सर, अस्थमा, और कुछ लीवर रोगों के उपचार में भी सहायक होता है।

(यह भी पढ़े – Anar Khane Ke Fayde Aur Nuksan [12 Amazing Pomegranate Benefits in Hindi])

गोमूत्र कैसे पियें (How To Drink Cow Urine in Hindi):

  • ध्यान रखें कि गोमूत्र इस तरह नॉर्मली नही पिया जा सकता है। इसे पहले फ़िल्टर करना आवश्यक है। इसके बाद ही यह सेवन करने योग्य होता है।
  • गोमूत्र को आप बिना कुछ मिलाए पी सकते है।
  • अगर आप चाहे तो गोमूत्र पिने के लिए आधा कप पानी में गोमूत्र, नमक और नींबू का रस भी मिला सकते हैं।
  • गोमूत्र में आप आंवला पाउडर और दूध भी मिला कर पी सकते है।

कब पीना है (When to Drink Cow Urine in Hindi):

  • गोमुत्र को आप दिन में 2 बार सुबह और शाम पी सकते है।

गोमूत्र कहाँ ढूंढे (Where To Find Cow Urine in Hindi):

  • आप गौशाला से ताजा गोमूत्र ले सकते है।
  • गोमूत्र आयुर्वेदिक अस्पताल या मेडिकल स्टोर में भी उपलब्ध होता है।

क्या गोमूत्र के नुकसान भी होते है? आइए, जानते हैं।

गोमूत्र के नुकसान (Cow Urine Side Effects in Hindi):

  • हालांकि गोमूत्र कई बीमारियों के खिलाफ एक प्राकृतिक उपचार है, अनुचित भंडारण, गलत संयोजन या गलत उपयोग से स्वास्थ्य को खतरा हो सकता है।
  • अगर गाय संक्रमित है तो गोमूत्र में रोगज़नक़ गुण हो सकते हैं।
  • एक घंटे से अधिक समय तक बिना फिल्टर किये गोमूत्र को स्टोर करना उचित नहीं है।
  • 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को भी गौमूत्र का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है।
  • जो पुरुष प्रजनन संबंधी समस्याओं या नींद की कमी का सामना कर रहे हैं, उन्हें भी गोमूत्र से बचना चाहिए।
  • एक अध्ययन में, एक व्यक्ति को चिकित्सा सलाह मांगे बिना उसकी आंख में गोमूत्र डाला गया और वह दो दिनों तक आंखों के दर्द और धुंधली दृष्टि से पीड़ित रहा तो इसे आप बिलकुल भी अपनी आँखों में न डाले।
  • गोमूत्र के उपयोग से आपका वजन बढ़ सकता है।
  • गोमूत्र को लंबे समय तक संग्रहीत नहीं किया जा सकता है, क्योंकि इसमें बैक्टीरिया के बढ़ने का खतरा होता है, जो शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है।
  • गर्भवती स्त्रियों को वेध की सलाह के अनुसार ही इसका उपयोग करना चाहिए।

आशा है इन सभी योगासनों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की गोमूत्र के फायदे और नुकसान – Gomutra Ke Fayde Aur Nuksan (Benefits And Side Effects Of Cow Urine in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख गोमूत्र के फायदे और नुकसान – Gomutra Ke Fayde Aur Nuksan (Benefits And Side Effects Of Cow Urine in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी गोमूत्र के फायदे और नुकसान (Benefits And Side Effects Of Cow Urine in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई गोमूत्र के फायदे और नुकसान – Gomutra Ke Fayde Aur Nuksan (Benefits And Side Effects Of Cow Urine in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी गोमूत्र के फायदे और नुकसान – Gomutra Ke Fayde Aur Nuksan (Benefits And Side Effects Of Cow Urine in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!
×