गरुडासन करने का तरीका और फायदे [Garudasana (Eagle Pose) Steps And Benefits in Hindi]

Show Some Love By Sharing!

गरुडासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [ Garudasana (Eagle Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi] : गरुडासन को अंग्रेजी में ईगल पोज़ (Eagle Pose) कहा जाता है, इस योग का नाम संस्कृत शब्द से लिया गया है, और भारतीय पौराणिक कथाओं के मामले में, यह सुझाव दिया जाता है कि गरुड़ वास्तव में सभी प्रकार के पक्षियों का राजा था।

गरुड़ ने न केवल भगवान विष्णु के वाहन के रूप में सेवा की, बल्कि सभी प्रकार के राक्षसों के खिलाफ लड़ने के लिए भी देवताओ के साथ सबसे आगे रहे।

योग किसी व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में सहायक होता है। योग और प्राणायाम के विषयों पर कई बार वैज्ञानिक शोध भी हुए हैं, जिनमें इन को लाभकारी पाया गया है।

वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की गरुडासन क्या है, गरुडासन कैसे करते है और गरुडासन के स्वास्थ्य लाभ एवं गरुडासन के फायदे क्या होते है और गरुडासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

गरुड़ासन क्या है? [What is Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

गरुड़ासन संस्कृत के दो शब्दों से मिलकर बना है – गुरुड +आसन

गुरुड – “चील”

आसन – “मुद्रा”

अर्थात चील जैसी मुद्रा वाला योग आसन।

यह आसन वास्तव में गरुड़ के रूप में होता है। इसे हमेशा खाली पेट ही करना चाहिए। आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप इस आसन का अभ्यास करने से कम से कम चार से छह घंटे पहले भोजन कर चुके हो और शरीर को भोजन पचाने के लिए पर्याप्त समय प्रदान किया हो।

एक आदर्श अर्थ में, अभ्यास और भोजन के बीच कम से कम 10 से 12 घंटे का अंतर होना जरुरी होता है, जिसे अक्सर आसन का अभ्यास करने के लिए सबसे अच्छी सलाह के रूप दी जाती है।

हालांकि, लोगों के अलग-अलग व्यस्त कार्यक्रम के कारण, उनमें से बहुत से लोगों को सुबह इस आसन को करने में मुश्किल होती है। तो अगर आप दिनभर व्यस्त रहते है तो आप शाम को इस आसन का अभ्यास कर सकते हैं। जब भी आप इस आसन का अभ्यास करते हैं तब भोजन और योग के बिच 4 घंटे का अंतर होना चाहिए।

(यह भी पढ़े – उत्थित त्रिकोणासन कैसे करे, फायदे और सावधानियां [Utthita Trikonasana (Extended Triangle Pose) Steps And Benefits in Hindi])

गरुड़ासन करने का तरीका [Right Technique To Do Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

जब भी आप इस आसन को करते हैं, तो यह अधिक संभावना है कि आप थोड़ा संकुचित महसूस जरुर करेंगे। हालांकि, इसमें महारत हासिल करने के बाद, शरीर में मन को लगता है कि आप गरुड़ासन (Eagle Pose) में चील के समान हवा की सवारी कर रहे हैं। मन में सवारी का शब्द वास्तव में किसी भी प्रकार की स्थिति में ऊर्जा प्रवाह को संदर्भित करता है।

यह विशेष प्रवाह, या ऊर्जा, किसी भी प्रकार की बाधाओं के बिना किसी भी चुनौतीपूर्ण स्थिति के बीच स्थिर, दृढ और अधिक विशाल बनने में सहायता करती है। विरोध करना आपको थका सकता है, और आप हार भी मान सकते हैं। हालाँकि, जब आप इस विशेष आसन में होते हैं, तब भी आप हार मानते हैं या विरोध करते हैं, तो आप निश्चित रूप से संतुलन खो देंगे।

लेकिन अगर आप इस आसन को बहुत खुले दिमाग के साथ करते हैं, तो आप आसानी से किसी भी प्रकार की बाधाओं को दूर कर सकते हैं जिससे आपके शरीर और दिमाग में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बना रहता है।

गरुड़ासन करने से पहले यह आसन करें [Perform This Asana Before Performing Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

अगर आप चाहे तो आप गरुड़ासन करने से पहले आसन को कर सकते है, जो यहाँ निचे बताये गये है-

(यह भी पढ़े – पवनमुक्तासन कैसे करे, फायदे और सावधानियां [Pawanmuktasana (Wind-Relieving Pose) Steps And Benefits in Hindi])

गरुड़ासन करने का तरीका [Right Technique To Do Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

किसी भी आसन को करने के लिए आपको एक अच्छी जगह चुन नी चाहिए जहाँ आप योग का अभ्यास करने में बिल्कुल सहज महसूस करते हो, खुद को सहज महसूस करवाना योग का प्रारंभिक चरण है आइये जानते है गरुडासन कैसे करे

गरुडासन करने का तरीका और फायदे – Garudasana (Eagle Pose) Steps and Benefits in Hindi
गरुडासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां – Garudasana (Eagle Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi

गरुड़ासन कैसे करे [How To Do Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

  1. सबसे पहले, आपको ताड़ासन की तरह खड़ा होना है।
  2. फिर दाहिने घुटने को धीरे से मोड़ें और फिर बाएं पैर को इस तरह से दाहिने पैर के चारों ओर लपेटें कि घुटने वास्तव में एक-दूसरे के ऊपर टिके हों।
  3. अब यह देखे की बाएं पैर को दाहिने पैर के पिंडली को छू रहे हो।
  4. फिर दोनों हाथो को आगे की ओर उठाये।
  5. अब दाएं हाथ को बाईं हाथ की बाह पर लपेटें। सुनिश्चित करें कि कोहनी वास्तव में 90 डिग्री के कोण पर मुड़ी हुई हो।
  6. फिर दोनो हाथो की हथेलियों को आपस में जोड़े।
  7. इस विशेष मुद्रा में संतुलन बनाने की कोशिश करे।
  8. अब 40-60sec तक इस मुद्रा में बने रहे और धीरे-धीरे गहरी सांस लें। अपनी तीसरी आंख पर ध्यान केंद्रित करें और फिर अपनी सभी नकारात्मक भावनाओं को त्याग दें।
  9. अब इस मुद्रा शुरु से जारी करें और फिर इस मुद्रा को दोहराते हुए दूसरी ओर भी इसका अभ्यास करे।

(यह भी पढ़े – सेतुबंधासन कैसे करे, फायदे और सावधानियां [Setu Bandhasana (Bridge Pose) Steps And Benefits in Hindi])

गरुड़ासन करने के बाद यह आसन करे [Perform This Asana After Performing Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

अगर आप चाहे तो यहाँ निचे बताए योगासनों का अभ्यास गरुड़ासन करने के बाद कर सकते है-

गरुड़ासन करते समय इन बातो का ध्यान रखे [Important Things For Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

एक शुरुआत के रूप में, आपके लिए वास्तव में हाथों को एक दूसरे के चारों ओर जोड़ना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इसे बहुत आसान बनाने के लिए, बाहों को इस तरह से फैलाएं कि वे वास्तव में जमीन के समानांतर हों।

अगर आपको अपने पाँव की पिंडली के पीछे उठाया पैर टिकाने में, या इस मुद्रा में अपना संतुलन बनाए रखना आपको मुश्किल हो सकता है। यदि ऐसा है, तो अपना संतुलन बनाए रखने के लिए, पैर के अंगूठे को जमीन पर रखें।

यह निश्चित रूप से संतुलन बनाए रखने में मदद करेगा। अगर तब भी बात न बने तो दिवार का सहारा ले सकते है।

गरुड़ासन के फायदे और लाभ [Benefits of Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

गरुडासन के लाभ से कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है, आइये जानतें है की गरुडासन के फायदे क्या हैं-

  1. गरुड़ासन कूल्हों, जांघों, कंधों, टखनों और ऊपरी पीठ को फैलाने में सहायता करता है।
  2. यह ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है और यहां तक ​​कि संतुलन बनाए रखने की क्षमता में सुधार करता है।
  3. यह पिण्डली की मांसपेशियों को मजबूत करता है।
  4. यह उस दर्द से राहत दिलाने में भी मदद करता है जो कटिस्नायुशूल (सायटिका) और गठिया से जुड़ा हुआ है।
  5. यह पैरों, पीठ और कूल्हों को और अधिक लचीला बनाने में सहायता करता है।
  6. यह आसन स्ट्रेस भगाने के रूप में भी बढ़िया काम करता है।
  7. इस आसन से एकाग्रता में सुधार होती है।

(यह भी पढ़े – शलभासन कैसे करे, फायदे और सावधानियां [Salabhasana (Locust Pose) Steps And Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया गरुड़ासन करने का तरीका [Baba Ramdev Step By Step Instrucations For Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

गरुड़ासन करते समय क्या सावधानी व एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Garudasana (Eagle Pose) in Hindi]:

कुछ महत्वपूर्ण सावधानियां हैं जिन्हें आपको वास्तव में इस विशेष आसन को करने से पहले ध्यान में रखने की आवश्यकता है।

  • अगर आप गठिया से पीड़ित है, तो आपको अपने डॉ. की सलाह से ही इस आसन का अभ्यास करना है।
  • यदि आप घुटने, टखने या कोहनी की चोट से पीड़ित है तो इसके अभ्यास से बचे।
  • गर्भवती महिलाओं को इस आसन का अभ्यास करने से पहले हमेशा चिकित्सकीय सहमति लेनी चाहिए।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की गरुडासन करने का तरीका और फायदे (Eagle Pose / Garudasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख गरुडासन करने का तरीका और फायदे (Eagle Pose / Garudasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी गरुडासन करने का तरीका और फायदे (Eagle Pose / Garudasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई गरुडासन करने का तरीका और फायदे (Eagle Pose / Garudasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी गरुडासन करने का तरीका और फायदे (Eagle Pose / Garudasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!
×