Dexamethasone: कोरोना पेशेंट्स के लिए संजीवनी

Spread the love
dexamethasone कोरोना वायरस,डेक्सामेथासोन(dexamethasone)से इलाज का दावा, डेक्सामेथासोन के प्रयोग एवं परीक्षण, डेक्सामेथासोन क्या है, डेक्सामेथासोन से इलाज का दावा,dexamethasone कोरोना पेशेंट्स के लिए संजीवनी,

Dexamethasone कोरोना पेशेंट्स के लिए संजीवनी : कोरोना वायरस वैश्विक महामारी कि इस कड़ी चुनौती के दौर में एक दवा जो संजीवनी बनकर सामने आई है जिसका नाम डेक्सामेथासोन(dexamethasone) है,जो की कोरोना पेशेंट्स के लिए संजीवनी साबित हो सकती है। यह दवा सस्ती,सुलभ एवं हर जगह उपलब्ध होने के कारण इसका भविष्य में कोरोनावायरस से गंभीर रुप से ग्रसित व्यक्तियों के इलाज में उपयोग किया जाना चाहिए।

डेक्सामेथासोन (Dexamethasone) से इलाज का दावा:-

विशेषज्ञों का कहना है कि यह दवा वेंटिलेटर एवं ऑक्सीजन पर आश्रित मरीजों को ठीक कर सकती है अर्थात वेंटिलेटर पर जो मरीज हैं उनकी मृत्यु दर मैं 30 से 35% की कमी आ सकती है तथा जो मरीज ऑक्सीजन लेकर इस बीमारी से जूझ रहे हैं उनमें 20 से 25% ठीक होने की संभावना बढ़ सकती है।

यह भी पढ़े :

योगा से इम्यून सिस्टम को कैसे बढ़ाये

बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दुरुस्त करे

डेक्सामेथासोन क्या है:-

Dexamethasone: कोरोना वायरस ने आमतौर पर श्वास संबंधी रोग वाले व्यक्तियों पर अधिक आघात किया है, अतः है यह दवा जो कि पिछले पाँच दशक से श्वास,अस्थमा,जोड़ों के दर्द, एलर्जी, सूजन आदि रोगों के उपचार में  बहुतायत रूप में काम आ रही है, और जो कोरोनावायरस की जंग में मरीजों का एक तिहाई रूप से साथ देती नजर आ रही है।

डेक्सामेथासोन कि इस दवा को  रोगियों को दी जाने वाली दवाओं के परीक्षण में भी शामिल किया गया है जिससे आने वाले समय में गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों को बचाया जा सके।

डेक्सामेथासोन (Dexamethasone) के प्रयोग एवं परीक्षण:-

ब्रिटेन में कुछ दिन पहले इस दवा का असर देखा गया जिसमें गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों के इलाज में यह दवा कारगर सिद्ध हुई और साथ ही मौत के आंकड़ों में भी कमी के रूप में परिवर्तन दिखाई दिए।

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के दल एवं उनके मुख्य सदस्य पीटर हॉर्बी के अनुसार प्रयोग के दौरान इस दवा का परीक्षण किया गया। परीक्षण  में 2 मरीजों के दल बनाए गए, एक दल जिन्हें यह दवा दी गई एवं दूसरा दल जो संख्या में ज्यादा था उन्हें यह दवा नहीं दी गई।

परीक्षण से एक चमत्कारी हल निकल कर सामने आया की यह दवा  जिस दल के मरीजों को दी गई  उस दल की मृत्यु दर में कमी आई।

एक और विशेषज्ञ प्रोफेसर लैंड्रे  के अनुसार डेक्सामेथासोन के माध्यम से रोगी का इलाज करने में करीबन  2500 से 3500 के बीच खर्च आता है जोकि अपने आप में एक किफायती  इलाज के रूप में  शामिल होता है।

चूकीं यह दवा केवल गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों पर कारगर साबित हुई, अतः इस दवा से वेंटिलेटर पर आश्रित हर 8 या 9 रोगियों में बचने की संभावना 12 से 13% तक बढ़ जाती हैतथा ऑक्सीजन ले रहे हर 20 से 25 मरीजों में ठीक होने की संभावना 4% तक बढ़ जाती है।

इस प्रकार यह दवा मृत्यु दर को रोकने में एक संजीवनी दवा  प्रयोग की जा रही है।

#कोरोना वायरस से बचने के लिए हमे अपनी इम्युनिटी बढ़ाये रखना बहुत ही अनिवार्य है,

इम्युनिटी बढ़ाये रखने से हम काफी हद तक खुद को कोरोना वायरस से बचाये रख सकते है।

यह भी पढ़े :

आयुर्वेद से इम्यूनिटी पावर बढ़ाने के रामबाण उपाय

बुजुर्गों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कैसे बढ़ाये

Leave a Comment