भुजंगासन करने का तरीका और फायदे [Bhujangasana (Cobra Pose) Steps And Benefits in Hindi]

भुजंगासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [Bhujangasana (Cobra Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi] : वर्तमान समय में स्वस्थ रहने के लिहाज से, योग न केवल भारतीयों की बल्कि विदेशियों की भी पहली पसंद बन गया है। शरीर को बीमारियों और अन्य समस्याओं से बचाने के लिए प्राचीन शैली योग कुशल साबित हो सकता है। योग किसी व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में सहायक होता है।

योग और प्राणायाम के विषयों पर कई बार वैज्ञानिक शोध भी हुए हैं, जिनमें इन को लाभकारी पाया गया है। वैसे तो योग कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की भुजंगासन क्या है, भुजंगासन कैसे करते है और भुजंगासन (Bhujangasana) के स्वास्थ्य लाभ एवं भुजंगासन के फायदे क्या होते है और भुजंगासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

Table Of Content :

भुजंगासन क्या है? [What is Bhujangasana (Cobra Pose) in Hindi]:

सूर्य नमस्कार के 12 आसनों में से एक आसन है भुजंगासन, यह आसन सूर्य नमस्कार करने का एक अनिवार्य हिस्सा है, यह आसन सूर्यनमस्कार और पद्म साधना का एक महत्वपूर्ण आसन है जो हमारे शरीर के लिए अत्यधिक फायदेमंद है। इस आसन का नाम भुजंगासन संस्कृत भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है, भुजंग और आसन ।

  • भुजंग – सर्प अथार्त साँप।
  • आसन – मुद्रा।

भुजंगासन को अंग्रेजी में कोबरा पोज अथार्त “सर्पासन” कहा जाता है, क्योंकी इस योगासन का अभ्यास करने पर शरीर की आकृति फन फैलाए सांप जैसी दिखाई देती है।

भुजंगासन करना क्यों जरूरी है? (Why is Cobra Pose or Bhujangasana Important in Hindi):

स्वास्थ्य के लिए इस आसन के कई लाभ हैं, इसी कारण इसे सूर्य नमस्कार में भी किया जाता  है। जब इस योगासन को किया जाता हैं तो यह आपके पूरे शरीर को एक अच्छा खिंचाव देता  है।

यह आसन आपकी छाती और कमर की मांसपेशियों को लचीला बनाता है और पीठ दर्द के रोगियों के लिए बहुत प्रभावी आसन है।

प्रतिदिन इस लाभकारी आसन को करने से कंधों, हाथों, कोहनियों, पीठ और कमर दर्द, किडनी और लीवर को शक्ति मिलती है, और कई रोगों से छुटकारा मिलता है। इस आसन को बच्चो से लेकर बूढों तक हर कोई कर सकता है।

भुजंगासन के फायदे [Benefits of Bhujangasana (Cobra Pose) in Hindi]:

भुजंगासन के लाभ से कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है, आइये जानतें है की Bhujangasana (Cobra Pose) Benefits in hindi भुजंगासन के फायदे क्या हैं-

भुजंगासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [Bhujangasana (Cobra Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi]
भुजंगासन करने का तरीका, फायदे और सावधानियां [Bhujangasana (Cobra Pose) Steps, Benefits And Precautions in Hindi]

1. भुजंगासन के फायदे रक्त परिसंचरण में सुधार करते है (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose Improves Blood Circulation in Hindi):

शरीर में अच्छे से रक्त का संचार सक्रिय और स्वस्थ रहने की कुंजी है। भुजंगासन का एक मुख्य लाभ यह है कि यह रक्त परिसंचरण में सुधार करने में आपकी मदद करता है।

एक बार जब शरीर में रक्त संचार अच्छा हो जाता है, तो आपके शरीर की कोशिकाओं को पर्याप्त पोषक तत्व और ऑक्सीजन मिलते है। बेहतर रक्त परिसंचरण भी हार्मोनल संतुलन बनाए रखने में मदद करते है।

2. भुजंगासन के फायदे मासिक धर्म की अनियमितता को कम करते हैं (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose Reduce The Irregularity Of Menstruation in Hindi):

यह योगासन महिलाओ के लिए बहुत लाभकारी माना गया है, यह आसन मासिक धर्म की अनियमितताओं को नियंत्रित करने के साथ मासिक धर्म के दर्द को कम करने में लाभकारी होता है।

3. भुजंगासन के फायदे पाचन-शक्ति को बढ़ाते है (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose Increase Digestion Power In Hindi):

भुजंग आसन जिस तरह से किया जाता है वह पाचन तंत्र को सीधे प्रभावित करता है। यह आसन पेट की समस्याओं से राहत दिलाता है, जिससे पाचन शक्ति में सुधार होता है। इस आसन के अभ्यास से पेट की स्ट्रेचिंग होती है जिससे पेट के अंगों का काम बहुत आसान हो जाता है।

4. भुजंगासन के फायदे रीढ़ को मजबूत करते है (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose Strengthens The Spine in Hindi):

यह आसन रीढ़ की समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करता हैं। इस आसन को करने से आपकी पीठ को अच्छे से विस्तार मिलता है, इसलिए यह आपकी रीढ़ को मजबूत बनाने में काफी मददगार है। यह आसन शरीर की अकड़न को कम करता है और कंधे, छाती और गर्दन दर्द से राहत देता है।

5. भुजंगासन के फायदे वजन और पेट की चर्बी कम को करते है (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose Reduce Weight and Abdominal Fat in Hindi):

जो प्राकृतिक तरीके से अपना वजन कम करना चाहते हैं, उन लोगों को इस योगासन का अभ्यास करना चाहिए, इस आसन को एक उत्कृष्ट कसरत माना जाता है जो जिससे प्राकृतिक रूप से पेट की चर्बी को कम करने में मदद कर सकता है क्योंकि यह पेट की मांसपेशियों पर खिंचाव डालता है जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है।

6. भुजंगासन के फायदे तनाव को कम करते है (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose Reduce Stress in Hindi):

तनाव को कम करने के लिए योग और प्राणायाम को एक रामबाण उपाय माना जाता है, इस योगासन का अभ्यास करते समय, शरीर के अंदर कुछ हार्मोन निकलते हैं जो तनाव, चिंता, अवसाद और थकान आदि से छुटकारा दिलाते हैं।

7. भुजंगासन के फायदे साइटिका दर्द को खत्म करते है (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose Eliminate Sciatica Pain in Hindi):

नस में दर्द को साइटिका कहा जाता है, जो अक्सर पीठ के निचले हिस्से से शुरू होकर पैरों तक फैल जाता है। यदि आप निर्देशों का सावधानीपूर्वक पालन करते हैं, तो यह आपको साइटिका के दर्द से राहत दिला सकता है।

8. भुजंगासन के फायदे अस्थमा से आराम दिलाता है (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose Relieves Asthma in Hindi):

इस योगासन का अभ्यास अस्थमा के रोगियों के लिए लाभकारी है। जब इस आसन का अभ्यास किया जाता है और हम अपने सिर ऊपर की ओर उठाते हैं तो सीने को भी ऊपर की ओर खींचना होता है, जिससे छाती को खोलने में मदद मिलती हैं, और फेफड़ों को फैलाने की क्षमता में सुधार होता हैं जिससे फेफड़ों में ऑक्सीजन का प्रवाह अच्छे से होता है। इस आसन से अस्थमा के लक्षणों को कम किया जा सकता है।

9. भुजंगासन के फायदे हड्डियों को लचीला बनाने में (Benefits of Bhujangasana / Cobra Pose For Making Bones Flexible in Hindi):

यह आसन करने वाले लोगों की रीढ़ की हड्डी बहुत मजबूत और लचीली होती है और वे पहले की तुलना में अधिक शक्तिशाली होते हैं। इसके अलावा, यह छाती, कंधे, हाथ और पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है।

भुजंगासन के लिए कुछ आवश्यक सुझाव [Important Things For Bhujangasana (Cobra Pose) in Hindi]:

इस आसन का अभ्यास करने का सबसे अच्छा समय सुबह का है। इस आसन का अभ्यास खाली पेट किया जाना चाहिए। इस आसन को करने से कम से कम 4 घंटे पहले भोजन करना चाहिए, यह हमारे पेट में भोजन को पचाने के लिए पर्याप्त समय है।

भुजंग आसन को शुरुआत में तीन बार तक करना चाहिए अथार्त बीस सेकंड से तीस सेकंड का एक सेट और तीन ऐसे सेट करना चाहिये। अभ्यास बढ़ने के बाद, आप इसकी संख्या को धीरे-धीरे बढ़ा सकते है। इस आसन की मुद्रा में अधिकतम तीस सेकंड तक रुकना चाहिए।

भुजंगासन करने का तरीका [Right Technique To Do Bhujangasana (Cobra Pose) in Hindi]:

किसी भी आसन को करने के लिए आपको एक अच्छी जगह चुन नी चाहिए जहाँ आप योग का अभ्यास करने में बिल्कुल सहज महसूस करते हो, खुद को सहज महसूस करवाना योग का प्रारंभिक चरण है आइये जानते है भुजंगासन करने की विधि

भुजंगासन कैसे करे [How To Do Bhujangasana (Cobra Pose) Step By Step Procedure in Hindi]:

  1. सबसे पहले योग मेट बिछा कर उस पर पेट के बल लेट जाएं।
  2. अपने पैरों को उंगलियों के बल टिका लें या पैर के तलवो को उपर छत की ओर करके रखें।
  3. अपने पैरों को एकसाथ सीधा और खुला रखें।
  4. हाथों की हथेलियों को छाती के पास कंधों या सिर के दोनों तरफ रखें।
  5. अपने मस्तक या माथे को जमीन पर सीधा रखें।
  6. अब आपको एक गहरी सांस लेते हुए, अपने ऊपरी शरीर को ऊपर की ओर उठाना है।
  7. आपको पहले सिर, फिर छाती और अंत में नाभि तक के क्षेत्र को ऊपर उठाना होगा।
  8. इसके लिए अपनी हाथों की हथेलियों को अपने कंधों के बराबर रखते हुए, हाथों से जमीन की ओर दबाव डाल कर नाभि तक के शरीर को ऊपर उठाने का प्रयास करें।
  9. अब दोनों हाथों को सीधा करें और गर्दन उठाते हुए आकाश की ओर देखने का प्रयास करें और 15-30 सेकेंड के लिए इसी स्थिति में रहें।
  10. अपने शरीर का भार दोनों हाथों पर बराबर बना कर रखें और सामान्य रूप से सांस लेते रहें।
  11. ध्यान रहे की आपके पेट या नाभि से नीचे शरीर का सारा हिस्सा जमीन से नहीं उठना चाहिए।
  12. आराम से पीठ को जितनी मोड़ सकें उतनी ही मोड़ें, जबरदस्ती या क्षमता से ज़्यादा जोर ना लगाए।
  13. अब धीरे-धीरे अपनी सांस छोड़ें और अपनी प्रारंभिक अवस्था में लौट आएं।

बाबा रामदेव द्वारा बताया भुजंगासन करने का सही तरीका (Baba Ramdev Bhujangasana Step By Step Instructions in Hindi):

भुजंगासन करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते [What Are The Precautions To Be Taken While Bhujangasana (Cobra Pose) in Hindi]:

भुजंगासन कैसे करें, यह जानने के साथ-साथ इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में जानना भी जरूरी है, आइए जानते हैं कि भुजंगासन करते समय व्यक्ति को कौन सी सावधानियां और एहतियात बरतनी चाहिए-

  • गर्भवती महिलाओं, हर्निया और अल्सर से पीड़ित लोगों या जिनकी कलाइयों या पसलियों में फ्रैक्चर हो उन को यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपका हाल ही में पेट का ऑपरेशन हुआ है तो इस आसन करने से बचें।
  • इस आसन को कार्पल टनल सिंड्रोम वाले रोगी भी न करें।
  • अगर आपको पीठ में चोट लगी है तो इस आसन को न करें।
  • यदि आपको हाल ही में कोई शारीरिक चोट लगी है, तो अपने डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही इस आसन का अभ्यास करें।
  • यदि आप लंबे समय से बीमार हैं या रीढ़ की हड्डी में विकार से पीड़ित हैं, तो इस आसन को योग के प्रशिक्षक की देखरेख में ही इस आसन का अभ्यास करें।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की भुजंग आसन करने का तरीका और फायदे (Cobra Pose / Bhujangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख भुजंगासन करने का तरीका और फायदे (Cobra Pose / Bhujangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी भुजंगासन करने का तरीका और फायदे (Cobra Pose / Bhujangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई भुजंगासन करने का तरीका और फायदे (Cobra Pose / Bhujangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी भुजंगासन करने का तरीका और फायदे (Cobra Pose / Bhujangasana Yoga Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!