भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे [Bhramari Pranayama (Bee Breath) Steps And Benefits in Hindi]

Show Some Love By Sharing!

भ्रामरी प्राणायाम कैसे करें, फायदे और सावधानियां (Bhramari Pranayama (Bee Breath) Steps And Benefits in Hindi): प्राणायाम और योग आज पूरी दुनिया में लोगों के बीच बहुत तेजी से फैल रहे हैं। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है प्राणायाम और योग का सकारात्मक प्रभाव। अगर यह कहा जाए कि स्वस्थ रहने के लिए योग और प्राणायाम से बेहतर कुछ नहीं है तो गलत नहीं होगा।

योग और प्राणायाम एक ऐसा विकल्प है जो शारीरिक और मानसिक रूप से फिट और तंदरुस्त और हैल्थी रखने में मदद करता है। इसकी खास बात यह है कि इन्हें करने के लिए आपको किसी खास डिवाइस की जरूरत नहीं है। इन्हें आप घर के अंदर और बाहर कहीं भी कर सकते हैं।

यही कारण है कि इन दिनों योग और प्राणायाम की ओर रुझान काफी बढ़ गया है। इसीलिए आज हम आपके लिए यह लेख लाए हैं मधुमक्खी श्वास या भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका, लाभ और सावधानियां। इस लेख में आप भ्रामरी प्राणायाम के बारे में सब कुछ जानेंगे।

भ्रामरी प्राणायाम या भ्रामरी श्वास क्या है? (What is Bhramari Pranayama (Bee Breath) in Hindi):

भ्रामरी प्राणायाम (Bee Breath) एक शुरुआती स्तर का प्राणायाम है जिसके अन्दर श्वास लेने और छोड़ने का अभ्यास किया जाता है। भ्रामरी प्राणायाम का नाम भारतीय काली मधुमक्खी भ्रामरी के नाम पर रखा गया है, भ्रामरी प्राणायाम साँस लेने की एक तकनीक है, इस प्राणायाम में, सांस लेने से मधुमक्खी की एक विशिष्ट “गुनगुनाहट” उत्पन्न होती है, जो हमें बताती है कि इसका नाम ऐसा क्यों रखा गया है।

यह प्राणायाम मन को तुरंत शांत करने में अत्यधिक प्रभावी माना गया है। यह मन को उत्तेजित करने, हताशा या चिंता से मुक्त करने और क्रोध से काफी हद तक छुटकारा पाने के लिए सबसे अच्छा साँस लेने वाले व्यायाम में से एक है।

भ्रामरी प्राणायाम एक सरल तकनीक है, इसका कहीं भी कभी भी अभ्यास किया जा सकता है – फिर चाहे आप काम पर घर पर या की किसी बाग़ीचे में हो और अपने आप को तनाव मुक्त करने के लिए यह एक त्वरित विकल्प है।

(यह भी पढ़े- कमर दर्द के लिए योगासन [10 Effective Yoga & Exercise For Back Pain in Hindi])

भ्रामरी प्राणायाम के फायदे और लाभ [Benefits of Bhramari Pranayama (Bee Breath) in Hindi]:

भ्रामरी श्वास उन्नत योग मुद्राओं में से एक है, जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं; यदि आप मधुमक्खी श्वास के स्वास्थ्य लाभों को पढ़ते हैं, तो आप प्रतिदिन भ्रामरी श्वास मुद्रा करना चाहेंगे क्योंकि यह आपके शरीर के सभी आंतरिक अंगों को मजबूत और स्वस्थ रखता है। अच्छे स्वास्थ्य की इच्छा रखने वाले व्यक्ति के लिए यह प्राणायाम वरदान है। तो आइए जानते हैं, भ्रामरी प्राणायाम से क्या लाभ है?

1 – तनाव दूर करे :– तनाव कम करने और मानसिक तनाव को दूर करने के लिए भ्रामरी प्राणायाम बहुत फायदेमंद होता है। चिकित्सा विज्ञान अवसाद का कारण सेरोटोनिन, नॉरएड्रेनालाईन और डोपामाइन जैसे न्यूरोट्रांसमीटर की कमी को मानता है। तो इन सब से छुटकारा पाने के लिए भ्रामरी प्राणायाम करें। और साथ ही ऐसा करने से व्यक्ति में आत्मविश्वास की भावना भी बढ़ती है।

2 – माइग्रेन के रोगियों के लिए:– यह प्राणायाम माइग्रेन के रोगियों के लिए लाभकारी होता है। सिरदर्द का एक गंभीर रूप जो बार-बार या लगातार होता है, माइग्रेन कहलाता है। इस प्राणायाम के अभ्यास से हम इस रोग से छुटकारा पा सकते हैं।

3 – हाई ब्लड प्रेशर में फायदेमंद :– हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए भ्रामरी प्राणायाम फायदेमंद होता है। उच्च रक्तचाप, जिसे कभी-कभी धमनी उच्च रक्तचाप कहा जाता है, यह एक पुरानी चिकित्सा स्थिति है जिसमें धमनी रक्तचाप बढ़ जाता है।

4 – सकारात्मक सोच को बढ़ाये :– इस प्राणायाम के नियमित अभ्यास से हम अपनी याददाश्त और सकारात्मक सोच को बढ़ा सकते हैं। जब हमारी सोच सकारात्मक हो जाती है तो उसका परिणाम भी सकारात्मक आने लगता है। साथ ही इसके अभ्यास से मन और मस्तिष्क को शांति मिलती है।

5 – साइनसाइटिस के रोगियों के लिए :– साइनसाइटिस के रोगियों को इससे आराम मिलता है। भ्रामरी प्राणायाम सर्दी के मौसम में नाक बंद होना, सिर दर्द, आधे सिर में तेज सिर दर्द, नाक से पानी निकलना जैसे इन सभी रोगों से छुटकारा पाने के लिए सबसे अच्छा प्राणायाम है।

6 – रक्त दोष से मुक्ति के लिए :– इस प्राणायाम के नियमित अभ्यास से सभी प्रकार के रक्त दोष दूर हो सकते हैं। जब रक्त शरीर में अशुद्ध होने लगता है तो रक्त में मौजूद हीमोग्लोबिन की मात्रा कम हो जाती है। यह घातक समस्याएं पैदा कर सकता है, और इसे रक्त दोष कहा जाता है।

7- थायराइड की समस्या से पीड़ित व्यक्ति के लिए :– इस प्राणायाम में थायराइड की समस्या से पीड़ित व्यक्ति को लाभ मिलता है। हाइपोथायरायडिज्म एक चिकित्सा स्थिति है जिसमें थायरॉइड ग्रंथि में कम मात्रा में थायराइड हार्मोन का उत्पादन होता है – दुनिया में करोड़ों लोग हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित हैं।

8 – कुंडलिनी शक्ति को जगाने के लिए :– इसके नियमित अभ्यास से हम अपनी कुंडलिनी शक्ति “सर्प शक्ति” को जाग्रत कर सकते हैं। कुंडलिनी योग के अनुसार, ब्रह्मांड को चलाने वाली ईश्वर की शक्ति को चैतन्य कहा जाता है। किसी व्यक्ति के संबंध में, चैतन्य को चेतना कहा जाता है, और यह दैवीय शक्ति का वह हिस्सा है जो मानवीय कार्यों के लिए आवश्यक है।

9 – मधुर आवेग के लिए :– भ्रामरी प्राणायाम का लम्बे समय तक अभ्यास करने से व्यक्ति की वाणी मधुर हो जाती है । आपकी आवाज ही आपके व्यक्तित्व की पहचान है। सुरीली आवाज सभी को आकर्षित करती है।

(यह भी पढ़े – नाड़ी शोधन प्राणायाम करने का तरीका और फायदे [Nadi Shodhana Pranayama (Alternate Nostril Breathing) Steps and Benefits in Hindi])

भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका [How To Do Bhramari Pranayama (Bee Breath) Step By Step Procedure in Hindi]:

भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे – Bhramari Pranayama (Humming Bee Breathing) steps and benefits in Hindi
भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे (Bhramari Pranayama (Bee Breath) steps and benefits in Hindi)

प्राणायाम के कई फायदे हैं, प्राणायाम हमारे शरीर में सकारात्मकता लाता है, साथ ही यह बीमारियों को दूर करता है और आपको स्वस्थ रखता है। प्राणायाम से तभी फायदा होता है जब आप इसे सही तरीके से करते हैं तो आइए जानते हैं भ्रामरी प्राणायाम कैसे करें?

  1. इस आसन को करने के लिए पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं।
  2. अब कुछ समय के लिए अपनी आँखें बंद रखें।
  3. अब अपने दोनों हाथों को कोहनियों से कानों के पास लाएं।
  4. अब अपने दोनों कानों को दोनों हाथों के अंगूठे से बंद कर लें।
  5. दोनों हाथों की तर्जनी को माथे पर रखें।
  6. मध्यमा, अनामिका और छोटी उंगली को आंखों के ऊपर रखें।
  7. अब आप मधुमक्खी की तरह तेज गुनगुना आवाज (Humming Sound) करते हुए सांस लें।
  8. इस दौरान ध्यान रखें कि मुंह बंद रहे और नाक से सांस लें।
  9. चाहे तो आप कम आवाज़ वाली आवाज़ भी कर सकते हैं लेकिन बेहतर नतीजों के लिए ऊंची पिच बनाना अच्छा होता है।
  10. मधुमक्खी ध्वनि के साथ साँस लेने में लगभग 3–5 सेकंड और साँस छोड़ने में लगभग 15–20 सेकंड लगते हैं।
  11. इस प्रक्रिया को आप तीन मिनट के लिए 5-7 बार दोहरा सकते हैं।

(यह भी पढ़े – भस्त्रिका प्राणायाम करने का तरीका और फायदे [Bhastrika Pranayama (Bellows Breath) Steps and Benefits in Hindi])

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका (Bhramari (Bee Breath) Pranayama Steps By Steps Instructions By Baba Ramdev Video in Hindi):

भ्रामरी प्राणायाम के पीछे का विज्ञान (Bhramari Pranayama (Bee Breath) Ke Piche Ka Vigyan in Hindi):

यह तंत्रिकाओं को शांत करने पर काम करता है, विशेष रूप से मस्तिष्क और माथे के आसपास की नसों और तंत्रिकाओं को शांत करता है, गुनगुना ध्वनि (Humming Sound) कंपन का एक प्राकृतिक शांत प्रभाव है।

भ्रामरी प्राणायाम करने से पहले सावधानी [Bhramari Pranayama (Bee Breath) Precautions in Hindi]:

भ्रामरी श्वास प्राणायाम कैसे करें और भ्रामरी श्वास के क्या लाभ हैं, यह जानने के साथ-साथ इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में जानना भी आवश्यक है, आइए जानते हैं कि मधुमक्खी श्वास प्राणायाम करते समय व्यक्ति को कौन से सुरक्षा उपाय और सावधानियां बरतनी चाहिए, तो आइए अब जानते हैं कि भ्रामरी प्राणायाम किसे नहीं करना चाहिए?

  1. भ्रामरी प्राणायाम करते समय यह ध्यान रखें कि आप अपनी उंगली कान के अंदर नहीं बल्कि कार्टिलेज (Cartilage) पर रख रहे हैं।
  2. कार्टिलेज को बहुत जोर जबरदस्ती से न दबाएं धीरे से मध्यमा उंगली (Middle Finger) से दबाएं और छोड़ें।
  3. गुनगुनाने की ध्वनि (Humming Sound) करते समय, अपना मुंह बंद रखें।
  4. भ्रामरी प्राणायाम को आप अपनी अंगुलियों के साथ शनमुख मुद्रा में भी इसका अभ्यास कर सकते हैं।
  5. अपने चेहरे पर ज्यादा दबाव न डालें।
  6. भ्रामरी योग को आमतौर पर योग अभ्यास की शुरुआत में वार्म-अप की तरह किया जाता है। परन्तु आप बाद में भी इस तकनीक का अभ्यास कर सकते हैं।

(यह भी पढ़े – कपालभाति प्राणायाम करने का तरीका और 12 फायदे [Kapalbhati Pranayama (Breath of Fire) Steps And Benefits in Hindi])

भ्रामरी प्राणायाम कितने समय तक करना चाहिए? [How long should you do Bhramari Pranayama (Bee Breath) In Hindi]

एक मधुमक्खी की तरह तेज गुनगुना आवाज (Humming Sound) ध्वनि के साथ साँस लेने में लगभग 3-5 सेकंड और साँस छोड़ने में लगभग 15-20 सेकंड लगते हैं| भ्रामरी प्राणायाम लगभग तीन मिनट में 5-7 बार किया जा सकता है।

भ्रामरी प्राणायाम करने के अन्य प्रकार (Bhramari Pranayama (Bee Breath) Ke Dusre Tarike in Hindi):

भ्रामरी प्राणायाम का अभ्यास आप अपनी पीठ के बल लेटकर भी कर सकते हैं। जबकि लेटते हुए प्राणायाम का अभ्यास करते समय आपको गुनगुनाने की ध्वनि (Humming Sound) बनाने पर ही ध्यान देना है और कान पर अपनी तर्जनी रखने के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं हैं। आप हर दिन 3-4 बार भ्रामरी प्राणायाम का अभ्यास कर सकते हैं।

विशेष :

एक बार यह प्राणायाम योग शिक्षक से सही तरीके से सीख लिया जाए तो बच्चे से लेकर बुजुर्ग व्यक्ति तक कोई भी इस प्राणायाम का अभ्यास कर सकता है। केवल शर्त यह है कि इस प्राणायाम को खाली पेट किया जाना चाहिए।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की भ्रामरी प्राणा याम करने का तरीका और फायदे (Bhramari Pranayama (Bee Breath) steps and benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख भ्रामरी प्राणा याम करने का तरीका और फायदे (Bhramari Pranayama (Bee Breath) steps and benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी भ्रामरी प्राणा याम करने का तरीका और फायदे (Bhramari Pranayama (Bee Breath) steps and benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई भ्रामरी प्राणा याम करने का तरीका और फायदे (Bhramari Pranayama steps and benefits in Hindi) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका और फायदे (Bhramari Pranayama (Bee Breath) steps and benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!
×