केसर के फायदे, उपयोग और नुकसान (18 Effective Benefits of Saffron in Hindi)

Show Some Love By Sharing!

केसर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Kesar Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Saffron in Hindi): केसर इस ग्रह पर सबसे महंगे मसालों में से एक है। इसे जाफरान भी कहा जाता है। लाल और सुनहरे रंग के इस मसाले की खेती स्पेन, इटली, ग्रीस, तुर्केस्तान, ईरान, चीन और भारत में की जाती है।

भारत में, यह केवल जम्मू (किस्तवार) और कश्मीर (पमपुर) के सीमित क्षेत्रों में उगाया जाता है। यहां के लोगों के लिए केसर भी वरदान साबित हो सकता है क्योंकि इसके फूलों से निकाले गए केसर की कीमत बाजार में तीन से साढ़े तीन लाख रुपये प्रति किलो है।

यहां का केसरिया हल्का, पतला, लाल रंग का, कमल का सुंदर प्रकार और वास्तव में सुगंधित है। आज के इस लेख में हम केसर के फायदे और नुकसान (Saffron Benefits and Side effects in Hindi) के बारे में चर्चा करेंगे, जिससे आपको इसके सभी गुणों के बारे में पता चलेगा, तो चलिए शुरू करते है-

विषय सूची:

केसर क्या है? (What is Saffron in Hindi):

केसर एक लोकप्रिय मसाला है, जिसे केसर नाम के फूल से निकाला जाता है। इसका क्रोकस सटिवस (Crocus Sativus) है और इसका उपयोग मसाले और रंग भरने वाले एजेंट के रूप में किया जाता है। यह छोटे धागों की तरह होता है। केसर क्या है, जानने के बाद चलिए केसर हमारे स्वास्थ्य के लिए क्यों अच्छा है? के बारे में भी जान लिया जाये-

केसर आपके स्वास्थ्य के लिए क्यों अच्छा है? (Why Saffron is Beneficial for Our Health in Hindi):

पारंपरिक चिकित्सा में केसर का उपयोग कुछ तरीकों से किया जाता रहा है। इससे जुड़े शोध के अनुसार केसर में एंटी-इंफ्लेमेटरी (सूजन को कम करने वाला), एंटी-अल्जाइमर, एंटीकॉन्वेलसेंट (मिरगी के दौरे को रोकना) और एंटीऑक्सीडेंट (फ्री रेडिकल्स को दूर करने वाले) जैसे गुण होते हैं।

इसके अलावा केसर का उपयोग बलगम को दूर करने, भूख बढ़ाने, मासिक धर्म के प्रवाह को बढ़ाने, पाचन में सुधार और मसूड़ों की समस्याओं के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

इसके अलावा, यह एक प्रकार के विशेष पोषक तत्वों से भरपूर होता है, जिसमें फाइबर, मैंगनीज, विटामिन C, पोटेशियम, आयरन, प्रोटीन और विटामिन A जैसे आवश्यक तत्व शामिल हैं। केसर में पाए जाने वाले गुण और पोषक तत्व केसर को सेहत के लिए फायदेमंद बनाते हैं। स्वास्थ्य के लिए केसर के फायदों के बारे में हम नीचे विस्तार से बता रहे हैं।

(यह भी पढ़े – मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान (16 Amazing Benefits of Moong Dal in Hindi))

केसर के प्रकार (Types of Saffron in Hindi):

केसर लगभग 80 प्रकार के होते हैं, लेकिन आयुर्वेद के अनुसार केसर के तीन प्रकार माने जाते हैं। तो आइए जानते हैं आयुर्वेद में केसर के ये तीन प्रकार क्या हैं।

  1. बाल्हिकाज केसर:- बाल्हिकाज केसर पीले रंग का होता है और इसमें शहद जैसी सुगंध और कड़वा स्वाद होता है। बाल्हिकाज केसर मुख्य रूप से खाड़ी देश का केसर है।
  2. कश्मीरी केसर :- कश्मीरी केसर बहुत ही गुणकारी केसर होता है और कश्मीरी केसर का रंग केसरिया और लाल होता है। कश्मीरी केसर की सुगंध बहुत मीठी होती है लेकिन स्वाद कड़वा होता है।
  3. पारसिकाज केसर :- पारसिकाज केसर को पारस केसर के नाम से भी जाना जाता है। इसका रंग हल्का पीला होता है और इसकी महक भी कश्मीरी केसर और बाल्हिकाज केसर की तरह मीठी होती है। यह केसर मुख्य रूप से ईरान में पाया जाता है।

केसर खाने के फायदे (Saffron Benefits in Hindi) के बारे में जानने से पहले चलिए यह जान लिया जाये की केसर में कौन-कौन से पोषक तत्व होते है? (Saffron Nutrition’s in Hindi) जो उसे हमारे शरीर के लिए फायदेमंद बनाते है-

केसर में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutrition’s of Saffron in Hindi):

दोस्तों, आप शायद ही जानते हों कि केसर में एक, दो नहीं, बल्कि डेढ़ सौ यौगिक पाए जाते हैं। जी हाँ! केसर में आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन, नियासिन, थायमिन, जिंक, विटामिन A, फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, पोटेशियम, कार्बोहाइड्रेट, फॉस्फोरस, विटामिन C, सोडियम, कैलोरी, वसा, फाइबर, विटामिन D, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी होता है। इसके साथ-साथ इसमें एंटी-अल्जाइमर, एंटीकॉन्वेलसेंट आदि तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

(यह भी पढ़े – रोजाना अदरक का पानी पीने के फायदे और नुकसान (8 Effective Benefits of Ginger Water in Hindi))

यहाँ निचे हमने केसर खाने के फायदे (Saffron Benefits in Hindi) के बारे में विस्तार से बताया है, जिसे आप नही जानते होंगे-

केसर के फायदे (Benefits of Saffron in Hindi):

केसर लाभकारी गुणों का भंडार है, इसलिए केसर का उपयोग पूरी दुनिया में दवाओं और विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में किया जाता है। आयुर्वेद में केसर का प्रयोग प्राचीन काल से किया जाता रहा है, लेकिन आज भी लाखों लोग ऐसे हैं जो केसर के फायदों से अनजान हैं तो अब हम आपको केसर के जबरदस्त फायदों से रूबरू कराने जा रहे हैं।

केसर के फायदे, उपयोग और नुकसान - Kesar Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Saffron in Hindi)
केसर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Kesar Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Saffron in Hindi)

1. कैंसर की रोकथाम के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for cancer prevention in Hindi):

कैंसर से बचाव के लिए केसर का इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे जुड़े वैज्ञानिक शोध के अनुसार केसर में मौजूद क्रोसेटिन कोलोरेक्टल कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोक सकता है। इसके अलावा केसर प्रोस्टेट कैंसर और त्वचा कैंसर के खतरे को कम करने में भी मददगार हो सकता है।

वहीं, एक अन्य शोध के अनुसार केसर का अर्क मानव ट्यूमर कोशिकाओं के विकास को रोकने का काम कर सकता है। हालांकि, इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि केसर का इस्तेमाल कुछ हद तक कैंसर की रोकथाम में मददगार हो सकता है, लेकिन यह इसका इलाज नहीं है। कैंसर के इलाज के लिए चिकित्सा उपचार बहुत महत्वपूर्ण है।

2. अनिद्रा के लिए केसर के फायदे (benefits of saffron for insomnia in Hindi):

केसर के गुणों में अनिद्रा की समस्या से छुटकारा भी शामिल है। दरअसल, इससे जुड़े एक वैज्ञानिक अध्ययन में उल्लेख किया गया है कि केसर का उपयोग अवसाद की स्थिति पर सकारात्मक प्रभाव छोड़ सकता है, जिससे रात को अच्छी नींद लेने में मदद मिल सकती है।

वहीं वैज्ञानिक शोध के अनुसार केसर में मौजूद क्रोसेटिन नींद को बढ़ावा देने का काम कर सकता है। इसी आधार पर अक्सर कहा जाता है कि केसर का सेवन अनिद्रा की समस्या में फायदेमंद साबित हो सकता है।

(यह भी पढ़े – जामुन खाने के फायदे और नुकसान (14 Effective Benefits of Jamun in Hindi))

3. एक कामोत्तेजक के रूप में केसर के फायदे (Benefits of Saffron as an Aphrodisiac in Hindi):

कामोत्तेजक खाद्य पदार्थ या पूरक हैं जो आपकी कामेच्छा को बढ़ाने में मदद करते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि केसर में कामोत्तेजक गुण हो सकते हैं, खासकर एंटीडिप्रेसेंट लेने वाले लोगों में।

उदाहरण के लिए, चार हफ्तों में रोजाना 30 मिलीग्राम केसर लेने से एंटीडिप्रेसेंट से संबंधित इरेक्टाइल डिसफंक्शन वाले पुरुषों में एक प्लेसबो की तुलना में इरेक्टाइल फंक्शन में काफी सुधार होता है।

इसके अतिरिक्त, छह अध्ययनों के विश्लेषण से पता चला है कि केसर लेने से स्तंभन क्रिया, कामेच्छा और समग्र संतुष्टि में काफी सुधार हुआ है, लेकिन वीर्य विशेषताओं में नहीं।

एंटीडिप्रेसेंट लेने के कारण कम यौन इच्छा वाली महिलाओं में, चार सप्ताह में रोजाना 30 मिलीग्राम केसर ने सेक्स से संबंधित दर्द को कम किया और यौन इच्छा और स्नेहन में वृद्धि की, एक प्लेसबो की तुलना में।

4. मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for brain health in Hindi):

केसर खाने के फायदे दिमागी सेहत के लिए भी देखे जा सकते हैं। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध के अनुसार एक दिन में 30 मिलीग्राम केसर का सेवन करने से अल्जाइमर के मरीजों की स्थिति में सुधार किया जा सकता है।

वहीं, केसर में मौजूद दो विशेष तत्वों क्रोसेटिन और एथेनॉल से प्राप्त अर्क में अवसादरोधी गुण पाए गए हैं, जो अवसाद और चिंता को कम करने का काम कर सकते हैं। इसके अलावा, केसर सिज़ोफ्रेनिया के रोगियों पर भी सकारात्मक प्रभाव दिखा सकता है।

साथ ही, एक अध्ययन से पता चलता है कि केसर का अर्क सेरेब्रल इस्किमिया में एक सुरक्षात्मक भूमिका भी दिखा सकता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें धमनी में रुकावट होती है और ऑक्सीजन युक्त रक्त मस्तिष्क तक नहीं पहुंच पाता है, जो मस्तिष्क के ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके अलावा एक अन्य शोध से पता चलता है कि केसर स्मरण शक्ति बढ़ाने का भी काम कर सकता है।

5. वजन घटाने में केसर के फायदे (benefits of saffron for weight loss in Hindi):

यह सुझाव देने के लिए कुछ सबूत भी हैं कि केसर वजन घटाने को बढ़ावा देने और भूख को कम करने में मदद कर सकता है। जर्नल ऑफ कार्डियोवस्कुलर एंड थोरैसिक रिसर्च में एक अध्ययन में पाया गया कि केसर का अर्क लेने से कोरोनरी धमनी की बीमारी वाले लोगों को उनके बॉडी मास इंडेक्स (BMI), कुल वसा द्रव्यमान और कमर की परिधि को कम करने में मदद मिली। जिन लोगों ने सप्लीमेंट लिया, उन्हें भी प्लेसीबो समूह के लोगों की तुलना में भूख कम लगी।

(यह भी पढ़े – ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ (12 Amazing Omega 3 Rich Foods in Hindi))

6. पाचन को बढ़ावा देने के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron to promote digestion in Hindi):

अच्छे पाचन के लिए भी केसर फायदेमंद हो सकता है। दरअसल केसर में औषधीय गुण होते हैं जो पाचन क्रिया को बेहतर बनाते हैं। वहीं, एक अन्य शोध से पता चलता है कि केसर का उपयोग अक्सर पेट को मजबूत बनाने के साथ-साथ भूख और गैस्ट्रिक एसिड को कम करने और पाचन में सुधार करने में भी फायदेमंद होता है।

7. आंखों के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for eyes in Hindi):

केसर के फायदों में आंखों की रोशनी में सुधार भी शामिल है। केसर एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है, जो एएमडी (उम्र बढ़ने वाले नेत्र रोग) पर प्रभावी प्रभाव डाल सकता है। इसके अलावा इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण रेटिना के तनाव को दूर करने का भी काम कर सकते हैं।

इसके अलावा एक अन्य शोध में पाया गया है कि केसर, क्रोकेटिन में पाया जाने वाला यौगिक प्रोलिफेरेटिव विटेरोरेटिनोपैथी (पीवीआर) की समस्या में फायदेमंद हो सकता है। पीवीआर रेटिना की एक गंभीर समस्या है।

इसके अलावा, केसर क्रोसेटिन में पाए जाने वाले एंटी-ट्यूमरजेनिक गुण रेटिनोब्लास्टोमा (आंखों के ट्यूमर) की रोकथाम और उपचार में योगदान कर सकते हैं। इसके अलावा, शोध में पाया गया कि केसर का उपयोग लैक्रिमेशन (लगातार फाड़ना), खराब दृष्टि, दिन में अंधापन और मोतियाबिंद के लिए भी किया जा सकता है।

8. गर्भावस्था के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for pregnancy in Hindi):

गर्भावस्था के दौरान केसर का सेवन करना भी फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, चीनी पारंपरिक चिकित्सा के अनुसार, केसर का उपयोग प्रसव और प्रसवोत्तर रक्तस्राव के दौरान किया जा सकता है। इससे जुड़ी रिसर्च में इस बात का जिक्र है।

वहीं यह भी माना जाता है कि केसर पहली तिमाही में भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके अलावा शोध में यह भी बताया गया है कि पहली तिमाही के बाद लगभग 0.5-2 ग्राम प्रतिदिन की खुराक लेबर में मददगार हो सकती है।

शोध में आगे बताया गया है कि केसर के सेवन से गर्भवती महिलाओं में नॉर्मल डिलीवरी की संभावना बढ़ सकती है। अभी के लिए, इस विषय पर अधिक सटीक शोध की आवश्यकता है। वहीं, गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

(यह भी पढ़े – ब्रोकोली के फायदे और नुकसान (20 Effective Health Benefits of Broccoli in Hindi))

9. गठिया में केसर के फायदे (Benefits of saffron for arthritis in Hindi):

गठिया जोड़ों के भीतर सूजन और दर्द पैदा कर सकता है। केसर का प्रयोग अक्सर इस समस्या को दूर करने में मददगार होता है। शोध में पाया गया है कि केसर में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो गठिया के दौरान होने वाली सूजन और दर्द से राहत दिलाने में मददगार हो सकते हैं।

अस्थमा फेफड़ों की कोशिकाओं में सूजन पैदा कर सकता है। केसर के प्रयोग से इस समस्या को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। चूहों पर किए गए शोध में पाया गया कि केसर के अर्क में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो फेफड़ों की सूजन को कम करके अस्थमा में फायदेमंद हो सकते हैं।

10. मेमोरी पावर बढ़ाने के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron to increase memory power in Hindi):

केसर मस्तिष्क में विकसित होने वाले अमाइलॉइड बीटा को रोकता है और आपके मस्तिष्क को अल्जाइमर और अन्य स्मृति विकारों से बचाता है। 2010 में प्रकाशित एक रिपोर्ट में पाया गया कि केसर संज्ञानात्मक शक्ति में सुधार करके अल्जाइमर को ठीक करने में मदद करता है।

यह आपकी सीखने और याद रखने की क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए रोजाना केसर वाला दूध या चाय पिएं। जापान में, केसर का उपयोग स्मृति हानि और पार्किंसंस रोग के इलाज के लिए किया जाता है। इसमें मौजूद क्रोसिन बढ़ती उम्र के साथ अल्जाइमर जैसी मानसिक बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

11. दिल की सेहत के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for heart health in Hindi):

स्वस्थ दिल के लिए केसर का उपयोग मददगार हो सकता है। इसके अलावा, इसके विरोधी भड़काऊ गुण हृदय स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद हो सकते हैं। शोध में आगे बताया गया कि केसर की चाय में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण दिल से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कम कर सकते हैं।

केसर थियामिन और राइबोफ्लेविन जैसे पोषक तत्वों से भी भरपूर होता है, जो स्वस्थ हृदय को बनाए रखने के साथ-साथ विभिन्न हृदय संबंधी समस्याओं को रोकने में मदद कर सकता है। केसर में मौजूद क्रोसेटिन नामक यौगिक रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है, जिससे दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम होता है।

(यह भी पढ़े – हिमालयन बेरी जूस के फायदे (8 Amazing Himalayan Berry Juice Benefits in Hindi))

12. मासिक धर्म में केसर के फायदे (Benefits of saffron for menstruation in Hindi):

मासिक धर्म के लक्षणों से राहत दिलाने में केसर की भूमिका अक्सर देखी जाती है। वास्तव में, केसर युक्त एक ईरानी हर्बल दवा को प्राथमिक कष्टार्तव (मासिक धर्म के दौरान पेट में ऐंठन) से राहत दिलाने में प्रभावी पाया गया है।

इसके अलावा, केसर प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम को कम करने में भी फायदेमंद हो सकता है, जैसे कि मिजाज, कोमल स्तन, भोजन की लालसा, थकान, चिड़चिड़ापन और अवसाद। हालांकि, मासिक धर्म के लक्षणों और केसर के बीच संबंधों पर और शोध की आवश्यकता है।

13. दर्द और सूजन की समस्या में केसर के फायदे (Benefits of saffron for pain and swelling problem in Hindi):

बताया गया है कि केसर का इस्तेमाल गठिया और अस्थमा के दौरान होने वाली सूजन को कम करने के लिए किया जा सकता है। केसर की सूजन को कम करने की क्षमता इसमें मौजूद क्रोसेटिन और क्रोसेटिन के कारण होती है।

शोध में पाया गया है कि इन दोनों यौगिकों में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इन्हें सूजन से राहत दिलाने के लिए फायदेमंद बनाते हैं। वहीं, एक अध्ययन में इसका एनाल्जेसिक प्रभाव भी दिखाया गया है। इसके अलावा, केसर इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव भी प्रदर्शित कर सकता है, जो इन समस्याओं से निपटने में आंतरिक शक्ति प्रदान कर सकता है।

14. लिवर की सेहत के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for liver health in Hindi):

एक अध्ययन के अनुसार लिवर मेटास्टेसिस से पीड़ित मरीजों पर केसर सकारात्मक प्रभाव दिखा सकता है। लिवर मेटास्टेसिस एक कैंसरयुक्त ट्यूमर है। यह शरीर के किसी भी स्थान से शुरू होकर लिवर तक फैल जाता है। इसे सेकेंडरी लिवर कैंसर भी कहा जाता है।

इसके अलावा, एक अन्य शोध में पाया गया कि केसर विभिन्न क्रियाओं के माध्यम से हेपेटोटॉक्सिसिटी (यकृत विषाक्तता) के जोखिम को कम कर सकता है। इनमें एंटीऑक्सिडेंट एंजाइमों को विनियमित करने और जिगर की क्षति में सुधार जैसी क्रियाएं शामिल हैं।

15. घाव भरने के लिए केसर के फायदे (benefits of Saffron for wound healing in Hindi):

घाव भरने के लिए भी केसर का उपयोग किया जा सकता है। इससे जुड़े शोध में पाया गया कि केसर में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट जले हुए घावों को तेजी से भरने में मददगार हो सकते हैं। हालाँकि, इस विषय पर और अधिक शोध की आवश्यकता है।

(यह भी पढ़े – लहसुन खाने के फायदे और नुकसान (15 Effective Garlic Benefits in Hindi))

16. रोग प्रतिरोधक क्षमता और ऊर्जा के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for immunity and energy in Hindi):

केसर में मौजूद कैरोटेनॉयड्स सिस्टम को सकारात्मक रूप से सुधार सकते हैं। एक अध्ययन में पाया गया कि केसर कैरोटेनॉयड्स से भरपूर होता है और कैरोटेनॉयड्स इम्युनिटी को प्रभावित कर सकते हैं।

केसर 100 मिलीग्राम प्रतिदिन बिना किसी हानिकारक प्रभाव के अस्थायी इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि के लिए सहायक हो सकता है। वहीं इसका सेवन शरीर में एनर्जी के लिए भी किया जा सकता है, क्योंकि इसमें कैलोरी की मात्रा अच्छी होती है।

17. त्वचा के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for skin in Hindi):

अध्ययनों से पता चलता है कि केसर त्वचा के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। सूरज की हानिकारक यूवी किरणों के प्रभाव को उलटने के लिए केसर का उपयोग प्राकृतिक औषधि के रूप में किया जा सकता है। इसमें कावेरफोल और क्वेरसेटिन जैसे फ्लेवोनोइड यौगिक होते हैं, जो यूवी विकिरणों को अवरुद्ध करने में योगदान कर सकते हैं।

इसके अलावा, शोध में पाया गया है कि केसर के फोटोप्रोटेक्टिव गुण इसके अन्य फेनोलिक यौगिकों जैसे टैनिक, गैलिक, कैफिक और फेरुलिक एसिड के कारण होते हैं, यही वजह है कि इसका उपयोग विभिन्न सनस्क्रीन और त्वचा लोशन में किया जाता है।

एक अन्य शोध के अनुसार, केसर का उपयोग त्वचा को मॉइस्चराइज़ करने, त्वचा को कोमल बनाने, खुजली को दूर करने, चमकती त्वचा, रंजकता को कम करने और आंखों के नीचे काले घेरे, मुंहासे, फुंसी और त्वचा की अन्य समस्याओं के इलाज के लिए किया जा सकता है।

18. बालों के लिए केसर के फायदे (Benefits of saffron for hair in Hindi):

केसर बालों के लिए फायदेमंद हो सकता है। इससे जुड़े एक शोध के अनुसार यह बालों की ग्रोथ में मदद कर सकता है। शोध में पाया गया है कि केसर बालों को झड़ने से रोकने में मदद करके खालित्य जैसी बालों की समस्याओं में फायदेमंद हो सकता है।

केसर के फायदे (Saffron Benefits in Hindi) के बारे में जानने के बाद चलिए अब केसर का इस्तेमाल कैसे करें? (Saffron Uses in Hindi) के बारे में भी जान लेते है-

केसर का उपयोग कैसे करें? (Uses of Saffron in Hindi):

अगर आप केसर का इस्तेमाल करना नहीं जानते हैं तो अब हम आपको बताने जा रहे हैं कि आप केसर का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं।

  1. केसर को खीर में डालकर इस्तेमाल किया जा सकता है।
  2. केसर को लस्सी में डालकर इस्तेमाल किया जा सकता है।
  3. मीठे पुलाव में केसर का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  4. उबटन में केसर का प्रयोग किया जा सकता है।
  5. सोन पापड़ी में केसर का प्रयोग किया जा सकता है।
  6. मीठी बूंदी में केसर का प्रयोग किया जा सकता है।
  7. रस मलाई में केसर का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  8. केसर का प्रयोग किसी भी प्रकार की मिठाई में किया जा सकता है।
  9. केसर का उपयोग फेस पैक में किया जा सकता है।

(यह भी पढ़े – अरंडी के तेल के फायदे, उपयोग और नुकसान (11 Amazing Uses And Benefits Of Castor Oil in Hindi))

केसर की तासीर कैसी होती है?

केसर गर्म किस्म होता है, इसलिए इसकी तासीर गर्म होती है। केसर का प्रयोग किसी भी मौसम में किया जा सकता है। लेकिन इस बात का ख़ास ध्यान रहे कि इसका ज्यादा इस्तेमाल आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके नुकसान से बचने के लिए केसर का प्रयोग नियमित मात्रा में ही करें।

केसर क्यों खाते हैं?

केसर हमारे शरीर के लिए अद्भुत जड़ी बूटी है, यह हमारे पेट से संबंधित कई बीमारियों के इलाज में बहुत फायदेमंद है। अपच, पेट दर्द और पेट में ऐंठन की शिकायत में केसर का सेवन फायदेमंद होता है। सिरदर्द से राहत पाने के लिए भी केसर का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके सभी गुणों और फायदे के लिए आप यहाँ बताये गये सभी फायदों को पढ़ सकते है।

केसर को कैसे खाते हैं?

  1. 1 कप उबलते पानी में 7-10 ताजा केसर की पत्तियां मिलाएं। इस मिश्रण को 10 मिनट तक उबलने दें और फिर इसे पी लें। इसका सेवन रोजाना सुबह या शाम करें।
  2. 1 कप दूध में चीनी और 7 -10 केसर की पत्तियों को 5 मिनिट तक दूध में उबलने दीजिए, फिर इसका सेवन करें।
  3. आप अपने पसंदीदा सलाद में 20 मिलीग्राम केसर पाउडर मिलाकर भी खा सकते हैं।
  4. केसर को किसी भी सब्जी में डालिये और इसके लाजवाब स्वाद का आनंद लीजिये।

केसर दूध के साथ पीने से क्या होता है?

दूध में केसर मिलाकर पीने से दिमाग तेज होता है। इसके साथ ही केसर सिरदर्द से भी राहत दिलाता है। यह आंखों की रोशनी बढ़ाने में फायदेमंद साबित होता है। केसर फाइबर, पोटेशियम, विटामिन C, मैंगनीज, आयरन आदि पोषक तत्वों से भरपूर होता है। केसर के कई अद्भुत गुण होते है, जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद साबित होते है।

अब जब आप केसर खाने के फायदे (Benefits of Saffron in Hindi) के बारे में जान ही चुके है, तो चलिए अब केसर खाने के दुष्प्रभाव (Harms of Saffron in Hindi) के बारे में भी जान लेते है-

केसर के नुकसान (Side Effects of Saffron in Hindi):

केसर एक लाभकारी खाद्य पदार्थ है, जिसका नुकसान कम ही देखने को मिलता है। हालाँकि, इसके अधिक सेवन से निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं –

  1. केसर कैल्शियम से भरपूर होता है और कैल्शियम की अधिक मात्रा कब्ज का कारण बन सकती है।
  2. यदि आप केसर का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं, तो आपको सिरदर्द, उल्टी और मतली, भूख न लगना आदि जैसे साइड इफेक्ट्स का अनुभव हो सकता है।
  3. अगर आप किसी हृदय रोग से पीड़ित हैं और इसका सेवन सही मात्रा में नहीं करते हैं तो इसके दुष्प्रभाव और भी गंभीर रूप ले लेते हैं।
  4. इसके अलावा अगर आप बाइपोलर डिसऑर्डर से पीड़ित हैं या प्रेग्नेंट हैं तो डॉक्टर से पूछकर ही इसका सेवन करें।
  5. केसर पोटैशियम से भरपूर होता है, जिसकी अधिक मात्रा हाइपरकेलेमिया (शरीर में पोटैशियम की अधिकता) का कारण बन सकती है। इससे दर्द, सांस की तकलीफ, मतली और उल्टी हो सकती है।
  6. गर्भावस्था के पहले तिमाही के दौरान, यह गर्भाशय को उत्तेजित कर सकता है, जिससे गर्भपात हो सकता है। इस लिए गर्भावस्था में इसके सेवन के बारे में सोच रहे है तो अपने डॉक्टर की सलाह के बिना इसे बिलकुल भी न खाएं।

आशा है की आपको इस लेख द्वारा केसर के फायदे और नुकसान – Kesar Ke Fayde aur Nuksan (Saffron Benefits and Side effects in Hindi) के बारे में जानकारी मिल गयी होगी।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख केसर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Kesar Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Saffron in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी केसर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Kesar Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Saffron in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई केसर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Kesar Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Saffron in Hindi) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी केसर के फायदे, उपयोग और नुकसान – Kesar Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Saffron in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!
×