मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान (16 Amazing Benefits of Moong Dal in Hindi)

Show Some Love By Sharing!

मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Moong Dal Ke Fayde, Upyog Aur Nukan (Uses, Side Effects And Benefits of Moong Dal in Hindi): स्वाद और सेहत की दृष्टि से दालें बहुत महत्वपूर्ण हैं। इन्हीं में से एक दाल है मूंग दाल। मूंग की दाल दो प्रकार की होती है, पहली हरी (छिलके सहित) और दूसरी पीली मूंग दाल। इसके अलावा, साबुत मूंग की दाल का भी उपयोग किया जाता है।

जबकि यह मूल रूप से एशिया, यूरोप और अमेरिका में खाया जाता है, भारत में मूंग दाल मुख्य भोजन का हिस्सा होने के साथ-साथ हमें स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

इस लेख में हम मूंग दाल के फायदे (Benefits of Mung Beans) के बारे में बताएंगे। इसके साथ साथ आप यह भी जानेंगे कि आप मूंग दाल का उपयोग (Uses of Mung Beans) कैसे कर सकते हैं और इसके क्या नुकसान हैं।

लेख में दी गई जानकारी कई तरह के शोधों पर आधारित है, जिनमें से कुछ जानवरों पर, कुछ इंसानों पर की गई हैं। इसलिए मूंग की दाल को दवा के रूप में इस्तेमाल करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

विषय सूची:

मूंग दाल आपके स्वास्थ्य के लिए क्यों अच्छी है? (Why is moong dal good for your health?):

मूंग दाल फाइबर और प्रोटीन का अच्छा स्रोत है, इसका सेवन भूख को नियंत्रित करने वाले हार्मोन को प्रभावित करता है। मूंग दाल का सेवन विशेष रूप से सूप और स्प्राउट्स में किया जा सकता है। मूंग की दाल को स्प्राउट्स के रूप में लेने से इसकी पौष्टिकता बढ़ जाती है।

वे न केवल फाइबर में समृद्ध हैं, बल्कि वे एक पूर्ण प्रोटीन (एल्ब्यूमिन और ग्लोब्युलिन) भी हैं। वहीं इस दाल में पाए जाने वाले पोषक तत्वों के कारण डॉक्टर भी इसके सेवन की सलाह देते हैं।

NCBI (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध के मुताबिक , मूंग दाल पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इसमें फ्लेवोनोइड्स, फेनोलिक एसिड, कार्बनिक अम्ल, अमीनो एसिड, कार्बोहाइड्रेट और लिपिड जैसे पोषक तत्व अच्छी मात्रा में होते हैं।

इसके अलावा, मूंग दाल में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीडायबिटिक, एंटीहाइपरटेन्सिव और एंटीट्यूमर गुण होते हैं, जो कई बीमारियों को ठीक करने में मददगार हो सकते हैं।

(यह भी पढ़े – रोजाना अदरक का पानी पीने के फायदे और नुकसान (8 Effective Benefits of Ginger Water in Hindi))

मूंग दाल के फायदे (Benefits of Moong Dal in Hindi) जानने से पहले चलिए जानते है की मूंग दाल पोषण मूल्य (Moong Dal Nutrition in Hindi) मेंऐसा क्या होता है, जो इसे हमारे शरीर के लिए फायदेमंद बनाता है-

मूंग दाल पोषण मूल्य (Nutrition of Moong Dal in Hindi):

जायके का यह स्वादिष्ट कटोरा न केवल एक स्वादिष्ट चीज है, बल्कि इसमें कई विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व भी भरे हुए होते है, जिसका यह निचे हमने वर्णन किया है:

मूंग की दाल का पोषण मूल्य प्रति 100 ग्राम:

  • कैलोरीफ मान: 334 किलो कैलोरी
  • प्रोटीन: 24%
  • वसा: 1.3%
  • कार्बोहाइड्रेट: 57%
  • कैल्शियम: 140 मिलीग्राम
  • आयरन: 8.4 मिलीग्राम
  • फास्फोरस: 280 मिलीग्राम
  • विटामिन B1: 0.5 मिलीग्राम
  • विटामिन B2: 0.4 मिलीग्राम
  • नियासिन: 2 मिलीग्राम

यहाँ निचे हमने मूंग दाल खाने के फायदे (Health Benefits of Mung Beans in Hindi) के बारे में विस्तार से बताया है, जिसे आपको जानना चाहिए-

मूंग दाल के फायदे (Benefits of Moong Dal in Hindi):

नीचे हम आपको क्रमवार मूंग दाल के फायदे बता रहे हैं। जानिए कैसे मूंग दाल का सेवन शारीरिक समस्याओं पर सकारात्मक प्रभाव छोड़ सकता है। साथ ही पाठकों को यह भी ध्यान रखना चाहिए कि मूंग दाल किसी भी बीमारी का इलाज नहीं है। यह समस्या के प्रभाव को कुछ हद तक कम करने में ही सहायक हो सकता है। अब आगे पढ़ें-

मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Moong Dal Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Moong Dal in Hindi)
मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Moong Dal Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Moong Dal in Hindi)

1. मूंग दाल के फायदे एंटीऑक्सीडेंट गुण प्रदान करें (Benefits of Moong Dal Provide Antioxidant Properties in Hindi):

हम पहले ही कह चुके हैं कि मूंग दाल में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। इसके अलावा मूंग दाल में कुछ फ्लेवोनॉयड्स पाए जाते हैं, जो एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होते हैं। ये गुण ऑक्सीडेटिव तनाव को दूर करने में मदद कर सकते हैं।

ऑक्सीडेटिव तनाव से मधुमेह, हृदय रोग जैसी समस्याएं हो सकती हैं। एक अन्य शोध में पाया गया है कि मूंगफली के सूप में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण गर्मी के कारण होने वाले तनाव को दूर करने में भी कारगर हो सकते हैं।

(यह भी पढ़े – जामुन खाने के फायदे और नुकसान (14 Effective Benefits of Jamun in Hindi))

2. हीट स्ट्रोक से राहत दिलाने में मददगार है मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal is helpful in relieving heat stroke in Hindi):

अत्यधिक गर्मी निर्जलीकरण के कारण हीटस्ट्रोक का कारण बन सकती है। यह समस्या आमतौर पर गर्मी के मौसम में होती है। अत्यधिक गर्मी और तरल पदार्थों के कम सेवन से शरीर में पानी की कमी हो जाती है और इससे हीटस्ट्रोक का खतरा हो सकता है। चू

हों पर किए गए शोध में पाया गया कि मूंग की दाल में विटेक्सिन और आइसोविटेक्सिन नामक घटक होते हैं, जिनका एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होता है। यह गुण हीटस्ट्रोक के जोखिम को दूर करने में मदद कर सकता है। इसलिए गर्मी के मौसम में मूंग दाल का सूप पीना फायदेमंद हो सकता है।

3. वजन घटाने के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal for weight loss in Hindi):

वजन घटाने की इच्छा होने पर दालों का सेवन अक्सर उनकी उच्च प्रोटीन सामग्री के लिए किया जाता है और मूंग दाल पीछे नहीं रहते हैं। यह कैलोरी में काफी कम है और फाइबर में समृद्ध है, जो यह सुनिश्चित करता है कि आप लंबे समय तक भरे रहें जिससे आप कम खा सकें।

चाहे गरमा गरम दाल की कटोरी के रूप में हो या फिर अंकुरित अनाज की थाली के रूप में, मूंग दाल वजन घटाने के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं और पाचन में सुधार करने में भी मदद करते हैं।

4. कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal for lowering cholesterol in Hindi):

मूंग दाल में कोलेस्ट्रॉल यानी हाइपोकोलेस्ट्रोलेमिया कम करने का असर होता है। इस प्रभाव के कारण, मूंग दाल रक्त में कुल कोलेस्ट्रॉल और एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकती है। इस आधार पर यह कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकने के साथ-साथ उसके स्तर को कम करने में भी फायदेमंद हो सकता है।

(यह भी पढ़े – ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ (12 Amazing Omega 3 Rich Foods in Hindi))

5. रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal to control blood pressure in Hindi):

मूंग दाल रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी मदद कर सकती है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित चूहों पर शोध में पाया गया कि इसमें एंटीहाइपरटेन्सिव गुण होते हैं। मूंग दाल में पाया जाने वाला यह गुण रक्तचाप को नियंत्रित करने के साथ-साथ इसे बढ़ने से रोकने और इससे होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकता है।

6. बुखार के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal for fever in Hindi):

शरीर के तापमान में 98.6 डिग्री फ़ारेनहाइट से अधिक की वृद्धि को आमतौर पर बुखार कहा जाता है। हालांकि यह रोग एजेंटों के खिलाफ शरीर की एक इन्फ्लामेंट्री प्रतिक्रिया है, बुखार निर्विवाद रूप से एक असुविधाजनक लक्षण है। कुछ आराम प्रदान करने के लिए बुखार के मामले में आमतौर पर गर्म तरल पदार्थ पसंद किए जाते हैं। जबकि सूप एक सर्वकालिक पसंदीदा हैं, क्या यह संभावना है कि एक कटोरी मूंग दाल मदद कर सकती है?

मूंग की दाल का उपयोग लंबे समय से बुखार के इलाज के लिए लोक उपचार में किया जाता रहा है। यह शरीर पर मूंग की दाल के शीतलन प्रभावों के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, यही कारण है कि इसका उपयोग हीट स्ट्रोक के उपचार में भी किया जाता है।

इसके अलावा, मूंग की दाल में एक इम्यूनोमॉड्यूलेटरी क्रिया होती है, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली की शक्ति में सुधार करने में मदद करती है, आपको भविष्य में होने वाले संक्रमण से बचाती है।

7. मूंग दाल के फायदे गर्भावस्था में लाभदायक (Benefits of moong dal beneficial in pregnancy in Hindi):

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को भरपूर मात्रा में फोलेट युक्त खाद्य पदार्थ खाने की सलाह दी जाती है। वहीं, भ्रूण के विकास के लिए फोलेट भी जरूरी है। गर्भावस्था के दौरान फोलेट की कमी मां और बच्चे दोनों के लिए समस्या पैदा कर सकती है।

वहीं, शोध में पाया गया है कि 100 ग्राम मूंग दाल में 625 ग्राम फोलेट पाया जाता है, जो पोषण के साथ-साथ गर्भावस्था के दौरान होने वाले जन्म दोषों को दूर करने में भी फायदेमंद हो सकता है। वहीं अगर मूंग की दाल से बने कच्चे स्प्राउट्स का सेवन किया जाए तो इससे पेट खराब हो सकता है. इस कारण से गर्भावस्था में कच्चे स्प्राउट्स की जगह उबले हुए स्प्राउट्स खाना बेहतर हो सकता है।

(यह भी पढ़े – ब्रोकोली के फायदे और नुकसान (20 Effective Health Benefits of Broccoli in Hindi))

8. पाचन में सुधार के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal to improve digestion in Hindi):

मूंग की दाल अन्य दालों की तुलना में हल्की और आसानी से पचने वाली होती है। यह शरीर में फैटी एसिड ब्यूटायरेट के उत्पादन को बढ़ाता है, जो पाचन में मदद करता है और शरीर में गैस बनने से रोक सकता है।

इसके अलावा मूंग फाइबर और प्रोटीन से भी भरपूर होती है, जो पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है। इसके अलावा इसमें पाए जाने वाले अन्य घटक जैसे ट्रिप्सिन इनहिबिटर, हेमाग्लगुटिनिन, टैनिन और फाइटिक एसिड भी पाचन तंत्र को ठीक करने के साथ-साथ शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं।

वहीं, फाइटिक एसिड एक एंटीन्यूट्रिएंट के रूप में भी काम कर सकता है, यानी यह शरीर में खनिजों के अवशोषण को रोक सकता है। यह अंकुरण, भिगोने और पकाने के प्रभावों को भी कम कर सकता है।

वहीं, नींबू का रस फाइटिक एसिड के प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है, इसलिए स्प्राउट्स या दाल बनाते समय नींबू का रस मिलाना चाहिए। यह परीक्षण और स्वास्थ्य दोनों को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

9. दिल के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal for heart in Hindi):

मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर और उच्च रक्तचाप हृदय संबंधी विकारों के लिए महत्वपूर्ण योगदान कारक हैं। इनके खिलाफ प्रभाव होने से, हरा चना हृदय विकारों के जोखिम को कम करने में मदद करता है, जैसा कि प्रयोगशाला अध्ययनों द्वारा भी पुष्टि की गई है।

इन अध्ययनों में पाया गया कि मूंग और अंकुरित अनाज कोरोनरी हृदय रोग के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं। यह हमें यह निष्कर्ष निकालने में सक्षम बनाता है कि आहार में मूंग दाल को शामिल करने से समग्र कार्डियोप्रोटेक्टिव प्रभाव पड़ता है।

10. मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal to control diabetes in Hindi):

मधुमेह की समस्या रक्त में मौजूद शर्करा के बढ़े हुए स्तर के कारण हो सकती है। इस समस्या से बचने के लिए मूंग दाल का सेवन किया जा सकता है। NCBI की वेबसाइट पर प्रकाशित चूहों पर शोध में पाया गया कि काली मूंग की दाल में एंटीऑक्सीडेंट और मधुमेह विरोधी गुण होते हैं।

ये गुण रक्त में मौजूद ग्लूकोज के स्तर को कम करने में फायदेमंद हो सकते हैं। वहीं अगर कोई मधुमेह से पीड़ित है तो उसे डॉक्टर द्वारा दी गई दवा का सेवन अवश्य करना चाहिए।

(यह भी पढ़े – हिमालयन बेरी जूस के फायदे (8 Amazing Himalayan Berry Juice Benefits in Hindi))

11. मूंग दाल के फायदे रोगाणुरोधी गुण प्रदान करें (Benefits of Moong Dal Provide Antimicrobial Properties in Hindi):

मूंग दाल में पाए जाने वाले पॉलीफेनोल्स में एंटीमाइक्रोबियल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं। मूंग दाल में पाए जाने वाले ये गुण कई तरह के फंगस को दूर करने के साथ-साथ कई तरह के इन्फेक्शन को दूर करने में मदद कर सकते हैं। मूंग में मौजूद उपरोक्त गुणों के कारण विभिन्न प्रकार के फंगस को दूर किया जा सकता है।

12. मूंग दाल के फायदे एंटी इन्फ्लामेंट्री गुण प्रदान करें (Benefits of Moong Dal Provide Anti-Inflammatory Properties in Hindi):

मूंग दाल के फायदे इसमें मौजूद गुणों और पोषक तत्वों के कारण होते हैं। उनमें से एक इसके विरोधी भड़काऊ गुण हैं। यह गुण कई प्रकार की सूजन को दूर करने में सहायक हो सकता है।

जानवरों पर किए गए शोध के अनुसार मूंग की दाल में पाए जाने वाले पॉलीफेनोल्स जैसे कि विटेक्सिन, गैलिक एसिड और आइसोविटेक्सिन में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। ये गुण सूजन वाले क्षेत्र में दर्द और सूजन के इलाज में मदद कर सकते हैं।

13. ट्यूमर की रोकथाम के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal for tumor prevention in Hindi):

ट्यूमर ऊतक के असामान्य द्रव्यमान को संदर्भित करता है, जो कैंसर हो भी सकता है और नहीं भी। चूंकि कुछ ट्यूमर में घातक होने की क्षमता होती है, इसलिए उन्हें जल्द से जल्द इलाज की आवश्यकता होती है।

मूंग की फलियाँ कई तंत्रों द्वारा ट्यूमर को दबाने में मदद करती हैं। उन्हें मेलेनोमा ट्यूमर के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए पाया गया है। इसके अलावा, उनके पास कई प्रकार के ट्यूमर पर एंटीप्रोलिफेरेटिव क्रियाएं होती हैं।

मूंग की दाल में मौजूद ट्रिप्सिन अवरोधक मानव कैंसर कोशिकाओं के प्रसार को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। वे मेटास्टेसिस (कैंसर कोशिकाओं के अनियंत्रित प्रसार) को रोकने में भी सहायता करते हैं।

जबकि मूंग दाल एक आशाजनक उपचार नहीं है, यह निश्चित रूप से सुझाव देता है कि आप अपने आहार में मूंग दाल को शामिल करें। यह कम से कम अन्य साइटों पर ट्यूमर के प्रसार को रोकने में मदद कर सकता है।

(यह भी पढ़े – लहसुन खाने के फायदे और नुकसान (15 Effective Garlic Benefits in Hindi))

14. उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal to reduce high blood pressure in Hindi):

रक्तचाप में लगातार वृद्धि शारीरिक नहीं है और उच्च रक्तचाप का संकेत हो सकता है। अपने आप में कोई स्पष्ट लक्षण नहीं पेश करना, उच्च रक्तचाप हृदय संबंधी विकारों के लिए एक मजबूत जोखिम कारक है और इस प्रकार व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए खतरा है।

कच्चे अंकुरित रूप में मूंग दाल की उच्च खुराक में संभावित एंटीहाइपरटेन्सिव प्रभाव होते हैं और एक महीने के भीतर सिस्टोलिक रक्तचाप को कम करने में मदद करते हैं। ये प्रभाव ताजे अंकुरित अर्क के साथ बेहतर पाए गए, यही कारण है कि मूंग स्प्राउट्स को घर पर बनाने की सलाह दी जाती है (एक नुस्खा आगे साझा किया जाएगा)।

15. चेहरे के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal for face in Hindi):

चूँकि मूंग दाल के एंटीऑक्सीडेंट गुण जलीय अवस्था में प्रशंसनीय होते हैं, तो क्यों न इन लाभों का सीधे अपने चेहरे के लिए उपयोग करें? जी हाँ, आपने सही अनुमान लगाया, मूंग दाल के पाउडर का फेस मास्क आपकी त्वचा को इसके एंटीऑक्सीडेंट लाभ प्रदान करने के लिए बाध्य है। मूंग दाल के फेस मास्क की एक आसान रेसिपी इस प्रकार है:

  1. एक मुट्ठी मूंग दाल लें और इसे ग्राइंडर में पीसकर पाउडर बना लें
  2. अब इसमें थोड़ा सा गुलाब जल, चंदन पाउडर या चंदन पाउडर मिलाएं और इसे अपने चेहरे पर लगाएं
  3. इसे सूखने दें और फिर ठंडे पानी से धो लें
  4. यह युवा त्वचा को पीछे छोड़ देगा और साथ ही आपको एक प्राकृतिक चमक देने वाले सन-टैन को हटाने में मदद करेगा।

16. त्वचा के लिए मूंग दाल के फायदे (Benefits of moong dal for skin in Hindi):

मूंग की फलियाँ प्रोटीन, पॉलीपेप्टाइड्स, पॉलीसेकेराइड्स और पॉलीफेनोल्स से भरी हुई होती हैं, जिनमें मजबूत एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।

जैसा कि हम सभी जानते हैं, मुक्त कणों का शरीर पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है, जिनमें से प्रमुख त्वचा पर होते हैं, जिससे यह अधिक तेजी से बूढ़ा होता है। इलेक्ट्रॉनों की एक अतिरिक्त अकेली जोड़ी रखने से, शरीर की कोशिकाओं के साथ एक जोड़ी बनाने के लिए मुक्त कण हमेशा सक्रिय अवस्था में होते हैं।

चूँकि ये लाभ जलीय अवस्था में अधिक देखे जाते हैं, इसलिए इन लाभों के लिए एक कटोरी गर्म दाल खाने की सलाह दी जाती है, न कि इसके अंकुरित रूप को चुनने के लिए।

अब जब आप मूंग दाल खाने के फायदे (Moong Dal Benefits in Hindi) और पोषक तत्वों को जान ही चुके है तो चलिए आइए अब जानते हैं कि मूंग दाल का इस्तेमाल कैसे करें? (Uses Of Moong Dal in Hindi)

मूंग दाल का उपयोग कैसे करें? (Uses Of Moong Dal in Hindi):

मूंग की दाल को कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है. यहां हम इसके कुछ आसान उपयोगों के बारे में बात कर रहे हैं।

  1. मूंग की दाल का इस्तेमाल आमतौर पर स्प्राउट्स बनाने के लिए किया जाता है।
  2. मूंग की दाल से फ्लेवर वाली दाल बनाई जा सकती है.
  3. मूंग दाल का इस्तेमाल फेस मास्क बनाने के लिए किया जा सकता है।
  4. मूंग दाल के फायदे बालों के लिए भी देखे गए हैं। इसे हेयर मास्क के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  5. दक्षिण भारत में इसका उपयोग सांबर और चटनी बनाने के लिए किया जाता है।
  6. मूंग की दाल से स्वादिष्ट हलवा और दूसरी मिठाइयाँ बनाई जा सकती हैं।

मात्रा: प्रतिदिन 100 ग्राम तक मूंग दाल का सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा एक कटोरी मूंग दाल स्प्राउट्स का सेवन किया जा सकता है। बेहतर होगा कि आप एक बार डॉक्टर या डायटीशियन से पूछ लें कि आपकी सेहत के हिसाब से दिन में कितनी मूंग दाल खा सकते हैं।

मूंग दाल खाने के फायदे और उपयोग (Uses And Benefits of Mung Beans in Hindi) जानने के बाद चलिए अब जानते है मूंग दाल के साइड इफेक्ट्स (Harms of Moong Dal in Hindi) के बारे में।

मूंग दाल के नुकसान (Side Effects Of Moong Dal in Hindi):

मूंग दाल के फायदे के साथ-साथ मूंग दाल के नुकसान भी देखे गए हैं. यहां हम इससे होने वाले नुकसान के बारे में बता रहे हैं।

  1. कम शुगर की समस्या वाले लोगों के लिए मूंग दाल का सेवन हानिकारक हो सकता है। इसमें मौजूद एंटीडायबिटिक गुण रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को कम कर सकते हैं। यह हानिकारक प्रभाव पैदा कर सकता है।
  2. जिन लोगों की त्वचा संवेदनशील है या जिन्हें एलर्जी है, उनके लिए मूंग दाल से बना फेस मास्क हानिकारक हो सकता है।
  3. इसमें एंटीहाइपरटेन्सिव गुण होते हैं। इसलिए यदि किसी का रक्तचाप पहले से ही कम है तो इस अवस्था में मूंग दाल के सेवन से समस्या बढ़ सकती है।

आशा है की आपको इस लेख द्वारा मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Moong Dal Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Mung Beans in Hindi) के बारे में जानकारी मिल गयी होगी।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Moong Dal Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Moong Dal in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Moong Dal Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Moong Dal in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Moong Dal Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Moong Dal in Hindi) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Moong Dal Ke Fayde, Upyog Aur Nuksan (Uses, Side Effects And Benefits of Moong Dal in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!