दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान (15 Effective Benefits of Cinnamon Tea in Hindi)

Show Some Love By Sharing!

दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान (Side Effects and Benefits of Cinnamon Tea in Hindi): दालचीनी की चाय एक दिलचस्प आयुर्वेदिक पेय है जो कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकती है। यह दालचीनी के पेड़ की भीतरी छाल से बनाया जाता है, जो सूखने पर रोल में बदल जाता है, जिससे पहचानने योग्य दालचीनी की छड़ें बन जाती हैं।

इन छड़ियों को या तो उबलते पानी में डुबोया जाता है, या एक पाउडर में पीस लिया जाता है जिसका उपयोग चाय बनाने के लिए किया जा सकता है।

दालचीनी की चाय लाभकारी यौगिकों से भरी होती है जो वजन घटाने, हृदय स्वास्थ्य में सुधार करने, मासिक धर्म में ऐंठन को कम करने और सूजन और रक्त शर्करा के स्तर को कम करने सहित विभिन्न स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकती है।

दालचीनी बहुत फायदेमंद होती है, जिसकी खेती जुलाई से सितंबर तक की जाती है। दालचीनी की खेती ज्यादातर भारत में दक्षिणी और पश्चिमी समुद्र तटीय क्षेत्रों में की जाती है। इसके अलावा, भारत में केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक जैसे राज्यों में भी दालचीनी की खेती की जाती है।

विषय सूची:

अन्य भाषाओं में दालचीनी के नाम (Names of Cinnamon in Other Languages):

दालचीनी को हिंदी भाषा में दार्चिनी, दारुचिनी और दालचीनी कहा जाता है। इसके अलावा सिलोन सिनामोन, ट्रू सिनामोन, संस्कृत में दारुसिता, ट्वक, वरंग, तनुत्वक, चोचम, भृंग, उत्कट, स्वाडवी, उर्दू में दारुचिनी, उड़िया में डालोचिनी और दारुचिनी। इसे पंजाबी में दाचीनी, और किरफा, गुजराती में दालचीनी और ताज राजस्थानी में दालचीनी, तमिल में लवंग के पत्ते, मराठी में दालचीनी, और नेपाली में दालचीनी, और कुखितागी के नाम से जाना जाता है।

यहां निचे हमने दालचीनी की चाय के 15 स्वास्थ्य लाभ बताये हैं, जिन्हें आप नहीं जानते होंगे। तो आइये जानते है-

दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान (Cinnamon Tea Benefits And Side Effects in Hindi) जानने से पहले चलिए जानते है की इसमें कौन-कौन से ऐसे पोषक तत्व पाए जाते है, जो इसे हमारे शरीर के लिए फायदेमंद बनाते है-

दालचीनी में पाए जाने वाले पोषक तत्व कौन-कौन से होते है? (What Are The Nutrients Found in Cinnamon?):

दालचीनी विटामिन A, फोलेट, विटामिन C और विटामिन E जैसे कई पोषक तत्वों के साथ प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, सोडियम और मैंगनीज से भरपूर होती है।

(यह भी पढ़े – लहसुन खाने के फायदे और नुकसान (15 Effective Garlic Benefits in Hindi))

दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea in Hindi):

यहाँ निचे हमने दालचीनी की चाय पीने के फायदे (Health Benefits of Cinnamon Tea in Hindi) के बारे में विस्तार से बताया है, जिसे आपको जानना चाहिए-

दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान - Dalchini Ki Chai Ke Fayde Aur Nuksan (Benefits and Side Effects of Cinnamon Tea in Hindi)
दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान – Dalchini Ki Chai Ke Fayde Aur Nuksan (Benefits and Side Effects of Cinnamon Tea in Hindi)

1. ब्लड प्रेशर के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Blood Pressure in Hindi):

ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए दालचीनी की चाय पीना बहुत फायदेमंद होता है। दालचीनी की चाय में पाए जाने वाले पोषक तत्व ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में फायदेमंद होते हैं। जिन लोगों को ट्राइग्लिसराइड्स और खराब कोलेस्ट्रॉल की समस्या है, उनके लिए भी ब्लड प्रेशर के अलावा दालचीनी की चाय भी काफी फायदेमंद होती है।

2. डायबिटीज के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Diabetes in Hindi):

डायबिटीज के मरीजों के लिए दालचीनी की चाय बहुत फायदेमंद होती है। दालचीनी में मधुमेह विरोधी गुण होते हैं, जो रक्त में शर्करा की मात्रा को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। दालचीनी की चाय मधुमेह के रोगियों के लिए इंसुलिन की तरह काम करती है और मधुमेह की समस्या को ठीक करने में मदद करती है। टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों के लिए नियमित रूप से दालचीनी की चाय पीना फायदेमंद होता है।

(यह भी पढ़े – सूरजमुखी के बीज के फायदे और नुकसान (13 Effective Benefits of Sunflower Seeds in Hindi))

3. दिल के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Heart in Hindi):

दालचीनी की चाय दिल के लिए बहुत फायदेमंद होती है। कई तरह के शोधों के अनुसार दालचीनी की चाय पीना हृदय रोगियों के लिए अच्छा माना जाता है क्योंकि दालचीनी की चाय में मौजूद पोषक तत्व शरीर से खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करते हैं। दालचीनी की चाय के नियमित सेवन से दिल की बीमारियों से बचा जा सकता है और यह दिल को स्वस्थ रखने में भी मदद करती है।

4. वजन घटाने के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Weight Loss in Hindi):

वजन घटाने में दालचीनी की चाय बहुत फायदेमंद होती है। रोजाना दालचीनी की चाय पीने से वजन कम करने और शरीर से अतिरिक्त चर्बी को दूर करने में मदद मिलती है। इसलिए जो लोग अधिक मोटापे से परेशान हैं वे रोजाना दालचीनी की चाय का सेवन कर सकते हैं। यह बहुत फायदेमंद होता है।

(यह भी पढ़े – चिया सीड्स के फायदे और नुकसान (15 Amazing Benefits Of Chia Seeds in Hindi))

5. ब्लड शुगर के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Blood Sugar in Hindi):

दालचीनी रक्त शर्करा के स्तर को कम करके शक्तिशाली मधुमेह विरोधी प्रभाव प्रदान कर सकती है। ऐसा लगता है कि यह मसाला इंसुलिन के समान कार्य करता है, जो आपके रक्तप्रवाह से चीनी को आपके ऊतकों में बंद करने के लिए जिम्मेदार हार्मोन है।

इसके अलावा, दालचीनी में पाए जाने वाले यौगिक इंसुलिन प्रतिरोध को कम करके रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में योगदान कर सकते हैं, जिससे इंसुलिन की प्रभावशीलता बढ़ जाती है। दालचीनी आपके पेट में कार्ब्स के टूटने को धीमा करने में भी मदद कर सकती है, भोजन के बाद आपके रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ने से रोक सकती है।

6. इम्युनिटी के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Weight Loss in Hindi):

दालचीनी की चाय पीने से कोरोना काल में इम्युनिटी (रोग प्रतिरोधक क्षमता) को भी बढ़ाया जा सकता है। दालचीनी की चाय में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो शरीर को कई बीमारियों से सुरक्षित रखकर शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।

दालचीनी की चाय रोज पीना शरीर और दिमाग दोनों को फ्रेश और स्वस्थ रखने में बेहद मददगार होगी। इसके अलावा दालचीनी की चाय में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण भी होते हैं, जो शरीर को कई तरह के बैक्टीरियल इन्फेक्शन से बचाने में मदद करते हैं।

(यह भी पढ़े – कढ़ी पत्ते के फायदे और नुकसान (12 Amazing Curry Leaves Benefits and Side Effects In Hindi))

7. बैक्टीरिया और कवक से लड़ने के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Bacteria and Fungi in Hindi):

दालचीनी में कुछ शक्तिशाली जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गुण होते हैं। उदाहरण के लिए, टेस्ट-ट्यूब अनुसंधान से पता चलता है कि दालचीनी में मुख्य सक्रिय घटक, सिनामाल्डिहाइड, विभिन्न बैक्टीरिया, कवक और मोल्ड के विकास को रोकने में मददगार होते है।

इनमें सामान्य स्टैफिलोकोकस, साल्मोनेला और ई. कोलाई बैक्टीरिया शामिल हैं, जो मनुष्यों में बीमारी का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा, दालचीनी के जीवाणुरोधी प्रभाव सांसों की दुर्गंध को कम करने और दांतों की सड़न को रोकने में मदद कर सकते हैं। हालांकि, मजबूत निष्कर्ष निकालने से पहले मनुष्यों में और अधिक शोध की आवश्यकता है।

8. मासिक धर्म में ऐंठन के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Bacteria and Fungi in Hindi):

दालचीनीमासिक धर्म में ऐंठन और अन्य PMS के लक्षणों को कम कर सकता है। दालचीनी की चाय मासिक धर्म के कुछ लक्षण, जैसे कि प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS) और कष्टार्तव, को और अधिक सहने योग्य बनाने में मदद कर सकती है।

एक अच्छी तरह से नियंत्रित अध्ययन ने महिलाओं को मासिक धर्म चक्र के पहले 3 दिनों के लिए हर दिन 3 ग्राम दालचीनी या एक प्लेसबो प्रदान किया गया था। जिसमे दालचीनी समूह की महिलाओं ने प्लेसीबो की तुलना में मासिक धर्म में काफी कम दर्द का अनुभव किया।

हालांकि, दर्द निवारक दवा के रूप में दालचीनी उपचार दर्द से राहत के लिए उतना प्रभावी नहीं था। इस बात के भी प्रमाण हैं कि दालचीनी महिलाओं के मासिक धर्म के दौरान मासिक धर्म के रक्तस्राव, उल्टी की आवृत्ति और मतली की गंभीरता को कम कर सकती है।

(यह भी पढ़े – गोमूत्र के फायदे और नुकसान [10 Effective Benefits Of Cow Urine (Gomutra) in Hindi])

9. एंटीऑक्सीडें पाने के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea To Get Antioxidants in Hindi):

दालचीनी की चाय में ढेर सारे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो फायदेमंद यौगिक होते हैं जो आपको स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों के कारण होने वाले ऑक्सीकरण से लड़ते हैं, जो अणु होते हैं जो आपकी कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाते हैं और मधुमेह, कैंसर और हृदय रोग जैसी बीमारियों में योगदान करते हैं।

इसके अलावा, शोध से पता चलता है कि दालचीनी चाय कुल एंटीऑक्सीडेंट क्षमता (TAC) को बढ़ा सकती है, जो आपके शरीर से लड़ने वाले मुक्त कणों की मात्रा का एक उपाय है।

10. अधिक युवा त्वचा पाने के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea To Get Youthful Skin in Hindi):

दालचीनी की चाय पीने से आपकी त्वचा को भी लाभ प्राप्त होता है। इसके एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों को दूर करते हैं जो उम्र बढ़ने का कारण बनते हैं, और यह आयुर्वेदिक मसाला रक्त प्रवाह को भी बढ़ावा देता है, और साथ ही नए सेल टर्नओवर में सहायता करता है जो आपकी त्वचा को चमकदार और युवा बनाने में मदद करता है।

अगर आप चाहे तो एक आसान, एक्सफ़ोलीएटिंग मास्क बनाने के लिए पिसी हुई दालचीनी को दही के साथ भी मिला सकते हैं जिसके अपने ही अलग स्वास्थ्य लाभ हैं।

(यह भी पढ़े – एलो वेरा जूस के फायदे और नुकसान [13 Amazing Aloe Vera Juice Benefits in Hindi])

11. सूजन से लड़ने के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Inflammation in Hindi):

सूजन आपके शरीर पर कई अलग-अलग रूपों में कहर बरसा सकती है, जैसे, दर्द, सुजन और जलन पैदा करने से लेकर अधिक गंभीर पुरानी स्थितियों तक। अपने शरीर को सुजन से लड़ने में मदद करने के लिए आप दालचीनी की चाय पी सकते है क्युकी दालचीनी की चाय में एंटी इन्फ्लामेंट्री गुण होते है, जो हमारे शरीर को सुजन से लड़ने में मदद करते है।

12. दालचीनी की चाय के फायदे सांसों की दुर्गंध को दूर करें (Benefits of Cinnamon Tea For Bad Breath in Hindi):

वही जीवाणुरोधी गुण जो आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ा सकते हैं, वे बैक्टीरिया को भी रोक सकते हैं जो सांसों की दुर्गंध का कारण बनते हैं। बस रोजाना दालचीनी की चाय पीना आपकी सांसों को तरोताजा करने के लिए काफी है।

13. मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा देंने के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Metabolism in Hindi):

दालचीनी की चाय को अपने आहार में शामिल करने से आपका मेटाबॉलिज्म शुरू हो सकता है। दालचीनी में मैंगनीज होता है, जो आपके शरीर को प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट को मेटाबोलाइज करने में मदद करता है। अपनी दैनिक चाय में एक चम्मच नियमित पिसी हुई दालचीनी मिलाने से आपको अपने दैनिक मूल्य का 20% मैंगनीज मिल जाएगा।

14. HIV वायरस से लड़ने के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For HIV in Hindi):

HIV एक वायरस है जो धीरे-धीरे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को तोड़ देता है, जो अंततः एड्स का कारण बन सकता है, अगर इसका समय रहते इलाज न किया जाए। माना जाता है कि कैसिया किस्मों से निकाली गई दालचीनी HIV -1 से लड़ने में मदद करती है, जो मनुष्यों में HIV वायरस का सबसे आम प्रकार है।

HIV संक्रमित कोशिकाओं को देखने वाले एक प्रयोगशाला अध्ययन में पाया गया कि अध्ययन किए गए सभी 69 औषधीय पौधों में दालचीनी सबसे प्रभावी उपचार था। इन प्रभावों की पुष्टि के लिए मानव परीक्षणों की आवश्यकता है।

15. कैंसर से लड़ने के लिए दालचीनी की चाय के फायदे (Benefits of Cinnamon Tea For Cancer in Hindi):

कैंसर एक गंभीर बीमारी है, जो अनियंत्रित कोशिका वृद्धि की विशेषता है। कैंसर की रोकथाम और उपचार में इसके संभावित उपयोग के लिए दालचीनी का व्यापक रूप से अध्ययन किया गया है। कुल मिलाकर, सबूत टेस्ट-ट्यूब और जानवरों के अध्ययन तक सीमित हैं, जो बताते हैं कि दालचीनी का अर्क कैंसर से बचा सकता है।

यह कैंसर कोशिकाओं के विकास और ट्यूमर में रक्त वाहिकाओं के निर्माण को कम करके कार्य करता है और कैंसर कोशिकाओं के लिए विषाक्त प्रतीत होता है, जिससे कोशिका मृत्यु होती है।

कोलन कैंसर वाले चूहों पर किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि दालचीनी कोलन में डिटॉक्सिफाइंग एंजाइमों का एक शक्तिशाली उत्प्रेरक है, जो आगे कैंसर के विकास से बचाता है। हालाँकि इन अध्ययनों में मनुष्यों पर किये गए शोध की पुष्टि नहीं की गई है अभी इस पर और अधिक शोध की आवश्यकता है।

दालचीनी की चाय कैसे बनाये? (How To Make Cinnamon Tea in Hindi):

सामग्री:

  • 1½ कप पानी,
  • दालचीनी के टुकड़े या पाउडर,
  • चीनी या शहद,

विधि:

1. दालचीनी की चाय बनाने के लिए 1½  कप पानी, दालचीनी के टुकड़े या पाउडर और चीनी या शहद लें।

2. अब सबसे पहले एक पैन में पानी लें और उसे धीमी आंच पर रखें और उसमें दालचीनी के टुकड़े या पाउडर डाल दें।

3. पाउडर को पानी में अच्छी तरह मिलाने के बाद इसे करीब 5 मिनट तक उबालें और कुछ देर के लिए छोड़ दें।

4. इसके बाद आप इसमें स्वादानुसार चीनी या शहद मिलाकर इसका सेवन कर सकते है।

5. दालचीनी की चाय का सेवन बिना चीनी या शहद के भी किया जा सकता है।

6. इस मिश्रण को और भी अधिक स्वास्थ्यवर्धक और स्वादिष्ट बनाने के लिए आप इसमें कुछ अन्य मसाले भी शामिल कर सकते हैं जैसे अदरक, काली मिर्च, इलायची और पुदीना।

7. अगर आप अपना वजन घटाने के लिए दालचीनी की चाय पीना चाहते है तो इसमें नींबू, शहद और दालचीनी का मिश्रण मिलाना बहुत अच्छा होता है।

दालचीनी की चाय के नुकसान (Side Effects Of Cinnamon Tea in Hindi):

  1. दालचीनी की चाय का अधिक मात्रा में सेवन करना सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।
  2. बहुत अधिक दालचीनी खाने से लीवर खराब, कैंसर, निम्न रक्त शर्करा या सांस लेने में समस्या हो सकती है।
  3. वयस्कों को प्रतिदिन एक चम्मच से अधिक दालचीनी नहीं खानी चाहिए।
  4. बच्चों को इस से और भी कम खाना चाहिए।
  5. दालचीनी की चाय का अधिक मात्रा में सेवन करने से उल्टी और दस्त जैसी समस्या हो सकती है।
  6. इसके अलावा अगर आपको किसी चीज की बीमारी है या आप किसी चीज का इलाज करवा रहे है तो इस दौरान दालचीनी की चाय का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें लेवें।

आशा है की आपको इस लेख द्वारा दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान (Benefits and Side Effects of Cinnamon Tea in Hindi) के बारे में जानकारी मिल गयी होगी।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान (Benefits and Side Effects of Cinnamon Tea in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान (Benefits and Side Effects of Cinnamon Tea in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान (Benefits and Side Effects of Cinnamon Tea in Hindi) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी दालचीनी की चाय के फायदे और नुकसान (Benefits and Side Effects of Cinnamon Tea in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!