बालासन करने का तरीका और फायदे [Balasana (Child Pose) Steps And Benefits in Hindi]

बालासन करने का तरीका और फायदे (Balasana Steps And Benefits in Hindi) : वर्तमान समय में स्वस्थ रहने के लिए, योग न केवल भारतीयों की बल्कि विदेशियों की भी पहली पसंद बन गया है। यह हिन्दू योग गुरुओ द्वारा पुरे भारत से दुनिया भर में फैल चूका है।

योग शरीर की बीमारियों और अन्य समस्याओं से बचाने के लिए प्राचीन शैली साबित हो सकता है। योग किसी व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखने में सहायक होता है। योग और प्राणायाम के विषयों पर कई बार वैज्ञानिक शोध भी हुए हैं, जिनमें इन को लाभकारी पाया गया है।

वैसे तो कई प्रकार के योग होते हैं लेकिन आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, इस लेख में आप जानेगें की बालासन क्या है, बालासन कैसे करते है और बालासन के स्वास्थ्य लाभ एवं बालासन के फायदे क्या होते है और बालासन करने का सही तरीका क्या होता है, तो चलिए शुरू करते है।

बालासन करने का तरीका और फायदे (Child Pose / Balasana Steps and Benefits in Hindi):

बच्चे की मुद्रा (Child Pose) जैसी मुद्रा बनाने वाला यह आसन आपकी रीढ़ की हड्डी को मजबूत बनाता है। इससे आपके शरीर के निचले हिस्से पर दबाव कम होता है। कई बार दर्द की स्थिति में आपको इस आसन से तुरंत राहत मिल जाती है। इस मुद्रा का अभ्यास तनाव और थकान को दूर करने में भी मदद कर सकता है।

योग का विशेष आसन है – बालासन, इसे करने वाले लोगों की संख्या में पिछले कुछ वर्षों में काफी वृद्धि हुई है। अनगिनत लोग इसका अभ्यास कर के लाभ उठा रहे हैं। यहां तक ​​कि योग में शुरुआती लोग बालसाना के लाभों का आनंद ले रहे हैं।

बालासन योग में एक बहुत ही आसान योग मुद्रा है, जिसे करना बहुत आसान होता है, लेकिन इसके लाभ बहुत खास हैं। किसी भी उम्र का व्यक्ति इस आसन को आसानी से कर सकता है।

बालासन क्या है? (What is Child Pose / Balasana Yoga in Hindi):

बालासन एक संस्कृत शब्द से लिया गया है जहाँ “बाला” का अर्थ है “बच्चा” और आसन का अर्थ है “योग आसन”। इस तरह, इन दो शब्दों का सामूहिक अर्थ है एक बच्चे की तरह आसन में बैठना। इस प्रकार, इस मुद्रा को बाल मुद्रा (Child Pose) भी कहा जाता है। यह एक सौम्य विश्राम मुद्रा है जो किसी भी आसन से पहले की जा सकती है।

बालासन में, आपके शरीर की मुद्रा माँ के गर्भ में एक बच्चे की तरह होती है, इसलिए इसका नाम बालासन रखा गया है। कहा जाता है कि माँ के गर्भ को अच्छा आराम देने के लिए कोई और जगह नहीं है, इसलिए जब भी कोई व्यक्ति बालासन का अभ्यास करता है, तो उसे असीम आनंद और शांति मिलती है।

इस आसन को “गर्भासन” या “शशांकासन” भी कहा जाता है। सभी प्रकार के योगासनों की कुंजी श्वास है। इसलिए इस आसन का अभ्यास करते समय सांस लेने और छोड़ने की पूरी प्रक्रिया पर अधिक ध्यान देना चाहिए। तो इस लेख में, मैं आपको बालासन योग (Balasana Yoga) करने का सही  तरीका और विधि, चरण, बालासन के फायदे और सावधानियों के बारे में जानकारी दूंगा, तो आइये जानते है बालासन करने का तरीका क्या है।

यह भी पढ़े –

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया बालासन करने का सही तरीका और विधि (Baba Ramdev Balasana Step By Step Instructions in Hindi):

बालासन करने का तरीका / विधि (How To Do Balasana or Child Pose in Hindi):

  1. बच्चे की मुद्रा (Balasana) करने के लिए अपनी योग चटाई पर बैठें।
  2. वज्रासन में अपने घुटनों के बल बैठ जाएं। इस मुद्रा में, अपने हाथो को जांघों पर रखे।
  3. अपने पैरों के दोनों घुटनों को एक दूसरे से या थोड़ी दूरी पर एक-दूसरे से चिपका कर रखें और कमर को बिल्कुल सीधा रखें।
  4. अब सांस लें, दोनों हाथों को सीधे सिर से ऊपर उठाएं। हथेलियों को न जोड़ें।
  5. अब सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुकें। ध्यान रखें कि कूल्हे के जोड़ों को झुकाना है, कमर के जोड़ों को नहीं।
  6. जब तक आपकी हथेलियां जमीन को न छुएं तब तक आगे झुकते रहें।
  7. अब सिर को जमीन पर ले जाएं।
  8. अब आप जिस मुद्रा में है वह बच्चे की मुद्रा (Child Pose) हैं, अब पूरे शरीर को रिलैक्स करने दे और फिर एक गहरी सांस लें और उसे छोड़े।
  9. दोनों हाथों की उंगलियां कसकर जोड़ ले। आपको उनके बीच में अपना सिर रखकर उनका सहारा देना होगा।
  10. अब सिर को धीरे-धीरे दोनों हथेलियों के बीच में रखें एवम अपनी सांस को सामान्य रखें।
  11. अब आप 1 से 5 मिनट तक बच्चे की मुद्रा (Child Pose) में रह सकते है।
  12. इस आसान से बाहर निकलने के लिए, सबसे पहले, अपनी हथेलियों को कंधे के नीचे लाएं और धीरे-धीरे अपने ऊपरी शरीर को उठाएं और पिछली स्थिति में वापस आ जाएं और आराम से सांस लें। इन सभी क्रियाओं को आराम से करें।

यह भी पढ़े –

बालासन करने का तरीका और फायदे – Balasana (Child Pose) Steps and Benefits in Hindi
बालासन करने का तरीका और फायदे [Balasana (Child Pose) Steps and Benefits in Hindi]

बालासन के फायदे और लाभ [Benefits of Balasana (Child Pose) in Hindi]:

  1. यह आसन योग में शुरुआती लोगों के लिए सबसे अच्छा योग आसन माना जाना जाता है। इस आसन को करना बहुत ही आसान है।
  2. इस आसन का अभ्यास करने से आपके मन में सकारात्मक भावनाओं का संचार होता है। इसके अलावा, यह मन के नकारात्मक विचारों को नष्ट करने में भी मदद करता है।
  3. यह योग कब्ज और गैस से राहत दिलाने में मदद करते है।
  4. इस मुद्रा को “आराम मुद्रा” भी कहा जाता है क्योंकि यह शरीर को राहत देता है और थकान दूर करने में मदद करता है। इसके अलावा, इस आसन के दौरान सांस लेने और छोड़ने से एक प्रकार की शांति मिलती है और तनाव व क्रोध कम होता है।
  5. यह शरीर को लचीला बनाने के साथ-साथ पीठ की मांसपेशियों को भी मजबूत बनाता है।
  6. यह रक्त संचार को भी बढ़ाता है।
  7. कुंडलिनी जागृत होती है जिसके माध्यम से आध्यात्मिक चेतना विकसित होती है और व्यक्ति में दैवीय शक्तियां विकसित होने लगती हैं।
  8. इस आसन का रोजाना और सही तरीके से अभ्यास करने से डिप्रेशन, तनाव और चिंता दूर होती है और व्यक्ति का मस्तिष्क शांत रहता है। बाल मुद्रा (Child Pose) को मन को शांत रखने के लिए एक बहुत लोकप्रिय आसन माना जाता है। इसके अलावा, यह आसन अवसाद, माइग्रेन और चिड़चिड़ापन से राहत दिलाने में भी मदद करता है।
  9. यह योग पेट और उसके अंगों को उत्तेजित करके अम्लता, कब्ज और पेट की कई समस्याओं का इलाज करने में मदद करता है। इस योग आसन को करते समय, आपके पेट और आंतों में दबाव होता है जो पाचन प्रक्रिया को भी बढ़ाता है।
  10. यह योग कूल्हों, कंधों, हैमस्ट्रिंग और कलाई को मजबूत और लचीला बनाता है।
  11. रीढ़ को मजबूत बनाने के लिए यह योग एक बहुत ही लाभदायक आसन है। इस योग को करने से रीढ़ के साथ-साथ पैर की मांसपेशियां अधिक लचीली हो जाती हैं।
  12. इस मुद्रा को करने से शरीर के आंतरिक अंगों में लचीलापन आता है।
  13. इस आसन का अभ्यास करते समय, व्यक्ति को आगे की ओर झुकना होता है इसलिए यह आसन पीठ और कमर दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। इसलिए यह पीठ दर्द, कंधे, गर्दन, पीठ और जोड़ों के दर्द और मांसपेशियों में दर्द आदि में बहुत उपयोगी है।
  14. यह योग प्रजनन अंगों को भी उत्तेजित करता है और मासिक धर्म और रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने में मदद करता है।
  15. इस मुद्रा से महिलाओं को अपने पीरियड्स के दौरान जो दर्द और परेशानियां का अनुभव होता है, वह कम व खत्म हो जाते हैं।
  16. शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए बालासन बहुत फायदेमंद है। बाल मुद्रा करने से व्यक्ति की मांसपेशियों, जोड़ों में खिंचाव होता है। जिससे उन्हें ताकत मिलती है।

बालासन करने का तरीका और फायदे – Balasana (Child Pose) Steps and Benefits in Hindi
बालासन करने का तरीका और फायदे [Balasana (Child Pose) Steps and Benefits in Hindi]

तो यहाँ ऊपर आपने जाना बालासन करने का तरीका और फायदे (Balasana Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है, चलिए अब जानते है बालासन करते समय का सावधानिया बरतनी चाहिए –

बालासन करने का सही समय क्या है (Right Time To Do Balasana / Child Pose In Hindi):

जानकारों के अनुसार, यह आसन सबसे अच्छा तब माना जाता है जब इसका अभ्यास सुबह-सुबह किया जाता हैं। सुबह इसलिए क्योंकि इससे भोजन पच जाता है और साथ ही शरीर में आसन करने की ऊर्जा होती है। किसी कारण के कारण, अगर आप इसका अभ्यास सुबह नहीं कर पाते है तो, आप इस आसन का अभ्यास शाम को भी कर सकते हैं। लेकिन कम से कम अपने अभ्यास और भोजन के बीच 3 से 5 घंटे का अंतर जरुर रखें।

बालासन करते समय क्या सावधानी व एहतियात बरते (Precautions For Balasana Or Child Pose in Hindi):

योग करना तब फायदेमंद होता है जब हम उन्हें सही तरीके से और सही मुद्रा में करते हैं। थोड़ी सी चूक हमारे शरीर के लिए बहुत हानिकारक हो सकती है। आइए जानते हैं बालासन (Child Pose) करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए  –

  • यदि आप बालासन (Balasana) करते समय माथे को फर्श पर रखने में असहज महसूस करते हैं, तो आप अपने सिर के नीचे तकिया लगा सकते हैं।
  • यदि कोई व्यक्ति डायरिया से पीड़ित है तो उसे बालासन करने से बचना चाहिए।
  • आपके शरीर के कशेरुकाओं में कोई समस्या या परेशानी है, तो इस आसन को करने से बचें।
  • यह मुद्रा दूसरी और तीसरी तिमाही में गर्भवती महिलाओं को लाभ पहुँचाती है, हालाँकि उन्हें इस मुद्रा को करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी अनिवार्य है।
  • अगर आपको जोड़ों के दर्द की शिकायत है या आप उच्च रक्तचाप के मरीज हैं तो आपको बालासन (चाइल्ड पोज) नहीं करना चाहिए।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की बालासन करने का तरीका और फायदे (Child Pose / Balasana Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख बालासन करने का तरीका और फायदे (Child Pose / Balasana Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी बालासन करने का तरीका और फायदे (Child Pose / Balasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई बालासन करने का तरीका और फायदे (Child Pose / Balasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी बालासन करने का तरीका और फायदे (Child Pose / Balasana Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!