अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi)

0

अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi): आजकल कुछ लोग मोटापे से परेशान हैं तो कुछ लोग पतलेपन से। एक बार वजन बढ़ने के बाद बढ़ते वजन को नियंत्रित करना चुनौतीपूर्ण होता है। उसी तरह पतलेपन को दूर करना भी एक मुश्किल काम साबित होता है। इसके लिए लोग तरह-तरह के प्रयास करते हैं। इसके बावजूद लोगों को मनचाही सफलता नहीं मिल पाती है।

जानकारों के मुताबिक खराब दिनचर्या और गलत खान-पान की वजह से लोगों को पतलेपन की समस्या होती है। इसके अलावा यह एक अनुवांशिक बीमारी भी है जो पीढ़ी दर पीढ़ी चलती रहती है। अगर आप भी दुबलेपन से परेशान हैं और अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं तो ऐसे में अश्वगंधा और शतावरी जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का चुनाव काफी फायदेमंद हो सकता है।

तो इस लेख में हम यह समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि कैसे अश्वगंधा और शतावरी वजन बढ़ाने में मदद करते हैं। हालाँकि, आपको यह भी समझना चाहिए कि ये जड़ी-बूटियाँ केवल वजन बढ़ाने में ही मदद कर सकती हैं। इस समस्या का पूर्ण समाधान डॉक्टर की सलाह पर निर्भर करता है। तो आइए अब जानते हैं वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा और शतावरी का उपयोग कैसे करें (How to Use Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi):-

वजन बढ़ाने में क्यों फायदेमंद हैं अश्वगंधा और शतावरी? (Why are Ashwagandha and Shatavari Beneficial in Weight Gain in Hindi):

अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi)
अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi)

वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा और शतावरी का सेवन काफी कारगर हो सकता है। यह पाचक रसों की क्रियाशीलता को बढ़ाकर भूख बढ़ाता है। इसके साथ ही यह पाचन तंत्र को मजबूत करने में भी मदद करता है। इन दोनों गुणों के कारण इसे वजन बढ़ाने के लिए फायदेमंद माना जा सकता है।

वहीं, शतावरी का कामोत्तेजक (यौन इच्छा को बढ़ावा देने वाला) गुण वजन बढ़ाने में मदद कर सकता है। इतना ही नहीं अश्वगंधा और शतावरी का एक साथ सेवन मोटापा बढ़ाने के लिए ज्यादा कारगर माना जाता है। अश्वगंधा और शतावरी को एक साथ लेने पर वजन बढ़ने पर अधिक सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलता है। तो चलिए अब जानते हैं वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा और शतावरी का सेवन कैसे करें? (How to Consume Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi?):-

Also Read:-

वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा और शतावरी का सेवन कैसे करें? (How to Consume Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi):

वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा और शतावरी कैसे फायदेमंद होते हैं ये तो हम पहले ही जान चुके हैं। ऐसे में यह समझना जरूरी है कि अश्वगंधा शतावरी के फायदे पाने के लिए इसका सेवन कैसे किया जाए। तो आइए जानते हैं वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा और शतावरी का उपयोग करने के कुछ आसान तरीके जो इस प्रकार हैं:

अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi)
अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi)

1. पाउडर के रूप में (Consume Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Powder Form):

अश्वगंधा और शतावरी पाउडर या पाउडर बाजार में आसानी से मिल जाता है। 100 या 200 ग्राम दोनों को अलग-अलग लेकर बराबर वजन में मिला लें। इस मिश्रण को रोजाना सुबह नाश्ते के साथ और रात को सोते समय एक गिलास दूध में एक चम्मच मिलाकर इस्तेमाल किया जा सकता है।

2. जड़ को घर पर पीसना (Grind the Root At Home and Consume Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain):

हम आपको लेख में पहले ही बता चुके हैं कि अश्वगंधा और शतावरी दोनों ही जड़ी-बूटी हैं। ऐसे में अगर ये दोनों किसी के आस-पास आसानी से मिल जाएं तो इनका चूर्ण घर पर ही तैयार किया जा सकता है. इसके लिए इन दोनों जड़ी-बूटियों को अच्छी तरह धोकर धूप में सुखा लें।

इसके बाद इसे समान मात्रा में लेकर मिक्सर या वेब पर पीसकर महीन चूर्ण बना लें। फिर इसे एक बंद डिब्बे में रख दें। इस घर में तैयार अश्वगंधा और शतावरी चूर्ण को एक गिलास गुनगुने दूध में एक चम्मच मिलाकर सुबह या शाम के समय भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

Also Read:-

3. गोली या कैप्सूल के रूप में (Consume Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Tablet or Capsule Form):

अश्वगंधा और शतावरी चूर्ण के फायदे हैं; इसके अलावा अश्वगंधा और शतावरी की गोलियां और कैप्सूल भी बाजार में उपलब्ध हैं। वजन बढ़ाने के लिए डॉक्टर की सलाह पर भी इन कैप्सूल का इस्तेमाल किया जा सकता है।

4. दूध के साथ (Consume Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain with Milk):

1 कप गर्म दूध या बादाम का दूध लें और उसमें 1 छोटा चम्मच घी, 1 बड़ा चम्मच कटा नारियल, 2 चम्मच कटे बादाम, 1/8 चम्मच इलायची के बीज या सौंफ, 1 चम्मच कच्चा शहद, 1 चम्मच शतावरी पाउडर और एक चम्मच मिलाएं। अश्वगंधा पाउडर एक साथ। इस प्रकार अश्वगंधा मिल्क टॉनिक तैयार है।

वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा और शतावरी की दैनिक खुराक क्या होनी चाहिए? (What Should be the Daily Dosage of Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain?):

अश्वगंधा और शतावरी चूर्ण के फायदे और इसके उपयोग को जानने के बाद यह भी समझना जरूरी है कि प्रतिदिन कितनी खुराक सुरक्षित है। तो आपको बता दें कि अश्वगंधा को दिन में 3 ग्राम तक लेना सुरक्षित माना जाता है। वहीं, एक दिन में 2 ग्राम शतावरी का सेवन पर्याप्त है।

इस आधार पर हम इन दोनों जड़ी-बूटियों से तैयार किए गए चूर्ण का पांच ग्राम वजन एक सुरक्षित दैनिक खुराक के रूप में कर सकते हैं। हालांकि, व्यक्ति की शारीरिक स्थिति और उम्र के आधार पर इस खुराक को बदलना संभव है। इसलिए इसका सेवन करने से पहले आपको इसकी मात्रा के बारे में डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

Also Read:-

अश्वगंधा और शतावरी के प्रयोग में बरती जाने वाली सावधानियां (Precautions To Be Taken while Consume Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi):

बेशक प्राकृतिक जड़ी-बूटी होने के कारण दुबले-पतले शरीर वाले लोगों में मोटापा बढ़ाने के लिए अश्वगंधा और शतावरी फायदेमंद हैं। लेकिन, इसका इस्तेमाल करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना भी जरूरी है। कारण यह है कि किसी विशेष स्थिति या बीमारी के कारण कई लोगों को इससे नुकसान हो सकता है। ऐसे में अश्वगंधा और शतावरी के कुछ दुष्प्रभाव इस प्रकार देखे जा सकते हैं:

  1. गर्भवती महिलाओं को बिना डॉक्टर की सलाह के इसका सेवन नहीं करना चाहिए। कारण यह है कि गर्भावस्था के दौरान शतावरी का अत्यधिक सेवन अजन्मे बच्चे के विकास को रोक सकता है।
  2. अश्वगंधा का अधिक मात्रा में सेवन करने से गैस, पेट दर्द और उल्टी-मतली की समस्या हो सकती है।
  3. वहीं दूसरी ओर शतावरी के अधिक सेवन से शरीर में सूजन और फेफड़ों और त्वचा से जुड़ी कुछ समस्याएं हो सकती हैं।
  4. अश्वगंधा का उपयोग रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय के रूप में भी किया जाता है। ऐसे में इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से ऑटोइम्यून डिजीज (ओवरएक्टिव इम्युनिटी से होने वाले रोग) हो सकते हैं। इनमें मल्टीपल स्केलेरोसिस (नसों के सुरक्षात्मक अस्तर का विनाश), ल्यूपस (एक इन्फ्लामेंट्री विकार जो मस्तिष्क, हृदय, त्वचा, गुर्दे और रक्त कोशिकाओं को प्रभावित करता है), और गठिया (जोड़ों का दर्द और सूजन) जैसी समस्याएं शामिल हैं।
  5. अश्वगंधा थायराइड हार्मोन को भी सक्रिय करता है। हाइपरथायरायड की स्थिति में इसका सेवन न करने की भी सलाह दी जाती है।
  6. इतना ही नहीं अश्वगंधा और शतावरी का सेवन करते समय शराब जैसे नशीले पदार्थों से भी दूर रहने की सलाह दी जाती है।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi) क्या होते है?

Also Read:-

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi) पसंद आया होगा, अगर आपको भी अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi) जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी अश्वगंधा और शतावरी से वजन कैसे बढ़ाएं? (Ashwagandha and Shatavari for Weight Gain in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here