अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे [Agnisar Pranayama Steps And Benefits in Hindi]

अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Agnisar Pranayama Steps And Benefits in Hindi) : क्या आपको पता है अग्निसार प्राणायाम करने का सही तरीका क्या है, अगर नहीं तो यहाँ हमने विस्तार में बताया है की अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और इसके फायदे क्या होते है।   

इसी लिए आज हम आपके लिए यह लेख लाये है, जिसे पढ़ने के बाद आपको यह ज्ञान हो जाएगा की अग्निसार प्राणायाम कैसे करते है और अग्निसार प्राणायाम के फायदे क्या होते है, तो चलिए शुरू करते है।

अग्निसार प्राणायाम क्या है? (What is Agnisar Pranayama in Hindi):

“अग्निसार प्राणायाम” प्राणायाम के सबसे महत्वपूर्ण रूपों में से एक है जिसका अभ्यास कोई भी व्यक्ति कर सकता है। अनुलोम-विलोम, कपालभाति, भस्त्रिका, भ्रामरी, उद्गीथ और बाह्या आदि प्राणायाम में भी इसे योग साहित्य में एक आवश्यक प्राणायाम माना जाता है।

यह क्रिया और इसकी श्वास प्रक्रिया मणिपुर चक्र को विनियमित और संतुलित करने में मदद करती है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने के लिए एक शानदार तरीके के रूप में कार्य करता है। मूलरूप से अग्निसार नाभि से संबंधित एक योग अभ्यास है जिसका नाभि के क्षेत्रफल पर अधिकतम प्रभाव पड़ता है।

“अग्निसार प्राणायाम” में अग्नि का अर्थ होता है अग्नि या आग और सार का अर्थ है मूल तत्व। अग्निसार एक सफाई योग है जो आपके पाचन तंत्र को स्वच्छ और स्वस्थ रखते हुए आपके शरीर को बीमारियों से बचाता है। यह आपके पेट को फिट रखकर पाचन क्रिया में मदद करता है और पाचन रस के स्राव में सहायक होता है। चलिए जानते है अग्निसार प्राणायाम कैसे करे।

यह भी पढ़े –

बाबा रामदेव द्वारा बताया गया अग्निसार प्राणायाम करने का सही तरीका या विधि (Agnisar Pranayama Step By Step Instructions in Hindi):

अग्निसार प्राणायाम कैसे करे या विधि (How to Do Agnisar Pranayama in Hindi):

जब भी आप इस आसन को करते हैं, तब अग्निसार प्राणायाम करने की क्रिया तकनीकों का बारीकी से पालन करें जो यहाँ निचे बताये गये है।

  1. अपनी योग चटाई पर पद्मासन की मुद्रा में बैठें और अपने दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रखें ध्यान मुद्रा में बेठे। अपनी आँखें बंद करें और अपने सामान्य श्वास पर ध्यान केंद्रित करें।
  2. साँस ले और साँस छोड़े फिर एक लम्बी साँस ले और धीरे-धीरे सांस छोड़ें और अपनी साँस को रोक कर रखे।
  3. अपने पेट को गहराई से अंदर छूने की कोशिश करते हुए अपने पेट को सिकोड़ना और आगे पीछे करना शुरू करें।
  4. इस स्थिति में अभी भी आप धीरे-धीरे श्वास छोड़ें। स्थिर रहने के साथ गहरी साँसें लेते रहें।
  5. पेट के विस्तार और संकुचन को कम से कम दस बार किया जाना चाहिए। आप इसे शुरुआती चरणों में लगभग 5 मिनट के लिए शुरू कर सकते हैं और फिर इसे धीरे-धीरे लगभग 15 मिनट तक बढ़ा सकते हैं।
  6. आप इस योग को खड़े हो कर भी कर सकते है, जिसमे आपको अपने टांगो के बिच आधा फूट का अंतर रखना होगा और अपने शरीर का उपरी हिस्सा 60 डिग्री पर झुका कर अपने हाथो को घुटनों पर रखे और आगे की किर्या में बेठने की प्रकिर्या को दोहराए।

अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे – Agnisar Pranayama steps and benefits in Hindi
अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Agnisar Pranayama Steps And Benefits in Hindi)

अग्निसार प्राणायाम करने के टिप्स (Tips for Agnisar Pranayama in Hindi):

अग्निसार प्राणायाम हमेशा सुबह के समय के दौरान किया जाना चाहिए, जब आप अपने आंत्र को साफ कर चुके हों और सुबह के सभी कामों को पूरा कर चुके हों। यदि आप शाम को इस क्रिया को करना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप अपना भोजन करने से कम से कम चार घंटे बाद ही इस प्राणायाम को करे।

सर्दियों के महीनों में, अग्निसार क्रिया को ऊपर उल्लिखित प्रक्रिया के अनुसार किया जाना चाहिए। गर्मियों के दिनों में, अग्निसार क्रिया को शीतली प्राणायाम करने के के बाद किया जाना चाहिए।

अग्निसार क्रिया का अभ्यास करते समय, एक व्यक्ति को केवल शुद्ध और सरल शाकाहारी भोजन करना चाहिए। किसी भी प्रकार के तैलीय, तले हुए, भारी, मांसाहारी खाद्य पदार्थों को खाने से बचना महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, धूम्रपान और शराब के सेवन से पूरी तरह बचना चाहिए।

यह महत्वपूर्ण है कि आप अपनी क्षमता के अनुसार इस क्रिया का अभ्यास करें। कभी भी ऐसा करने के लिए खुद को मजबूर न करें क्योंकि इससे हानिकारक परिणाम हो सकते हैं। साँस छोड़ते समय हवा की कोई मात्रा अंदर नहीं जानी चाहिए।

यह भी पढ़े –

अग्निसार प्राणायाम के फायदे और लाभ (Benefits of Agnisar Paranayama in Hindi):

अग्निसार प्राणायाम (Agnisar Pranayama) के प्रमुख फायदे और लाभ यहाँ निचे बताये गए है जिन्हें आप नही जानते होंगे।

  1. पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए अग्निसार प्राणायाम सबसे अच्छे आसनों में से एक है। यह चिकित्सकिय रूप से पेट की विषाक्तता को बाहर निकालने पर ध्यान केंद्रित करता है जिससे पेट की मांसपेशियों में सुधार हो सकता है और पाचन संबंधी विकारों से छुटकारा मिल सकता है। यह उदर के लिए उत्कृष्ट प्राणायाम है।
  2. अग्निसार क्रिया फेफड़े के विकारों को ठीक करने में मदद कर सकती है क्योंकि इसमें साँस लेना और साँस छोड़ने की ज़ोरदार लय शामिल होती है। इस तरह की मजबूत साँस लेने की तकनीक कफ और खाँसी के फेफड़ों को खाली करती है और इस प्रकार यह स्वस्थ श्वास को सुनिश्चित करती है।
  3. यह पकिर्या शरीर के अग्नि तत्व को विनियमित करने में मदद करती है जो बदले में पूरे दिन ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने में मदद करती है। यह शरीर की गर्मी को भी बनाए रखता है और नींद को दूर करता है।
  4. यह क्रिया बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है जब अंगों को फिर से जीवंत करने की बात आती है जो उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में भी बाधा डाल सकती है। यह युवाओं को लंबे समय तक युवा बनाए रखने में भी मदद कर सकता है।
  5. अग्निसार क्रिया शरीर के भीतर रक्त प्रवाह को बढ़ाने में मदद करती है।
  6. अग्निसार मूल रूप से एक आंतरिक गतिविधि करता है जिसमें पाचन और पेट की मांसपेशियों को बाहर निकालने का काम किया जाता है। यह प्रक्रिया आंतरिक अंगों, खासकर पेट की मालिश करने में मदद करती है।
  7. इस प्राणायाम के नियमित अभ्यास से आपकी कब्ज और एसिडिटी जैसी शिकायत को दूर करने में सहायक है।
  8. यह अभ्यास अग्न्याशय और यकृत को उत्तेजित कर सकता है और मोटापे की समस्या और मधुमेह को ठीक कर सकता है।
  9. यह बुखार और अस्थमा जैसी समस्याओं को भी ठीक कर सकता है।

अग्निसार प्राणायाम करते समय क्या सावधानियां और एहतियात बरते (What Are The Precautions To Be Taken While Agnisar Pranayama in Hindi):

  • हर्निया, दस्त, आंतों की समस्याओं और उच्च रक्तचाप के रोगियों को कभी भी अग्निसार क्रिया (Agnisar Pranayama) का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपने हाल ही में पेट का ऑपरेशन करवाया है, तो आपको यह क्रिया नहीं करनी चाहिए। सुनिश्चित करें कि आप कम से कम कुछ महीनों के बाद ही किसी योग गुरु के व्यावसायिक मार्गदर्शन में इसका अभ्यास करना शुरू करे।
  • यदि आप इसका (Agnisar Pranayama) अभ्यास करते समय शारीरिक कष्ट और थकान की भावनाओं का अनुभव करते हैं, तो इसे तुरंत करना बंद कर दें।
  • कान, आंख और नाक की समस्या वाले मरीजों को इस क्रिया का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • अग्निसार क्रिया का अभ्यास आपके शरीर के स्वाभाविक रूप से मधुमेह को ठीक करने में मदद कर सकता है और आपके आंतरिक अंगों को मजबूत बनाने में मदद कर सकता है। एक पेशेवर योग शिक्षक के सख्त मार्गदर्शन में ही इस क्रिया का अभ्यास करें।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Agnisar Pranayama Steps And Benefits in Hindi) क्या होते है।

यह भी पढ़े –

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Agnisar Pranayama Steps And Benefits in Hindi) पसंद आया होगा ,अगर आपको भी अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Agnisar Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Agnisar Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी अग्निसार प्राणायाम कैसे करे और फायदे (Agnisar Pranayama Steps And Benefits in Hindi) के बारे में पता चलेगा।

हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमारे साइट को सब्सक्राइब कर सकते है, जिस से आपको हमारे लेख सबसे पहले पढ़ने को मिलेंगे। वेबसाइट को सब्सक्राइब करने के लिए आप निचे दिए गए बेल्ल आइकॉन को प्रेस कर अल्लोव करे, अगर आपने हमे पहले से ही सब्सक्राइब कर रखा है तो आपको यह बार बार करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Leave a comment

error: Content is protected !!